myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आम तौर पर लोगों में यौन इच्छा की डिग्री में भिन्नता होती है। यौन इच्छा का कोई भी एक मानक नहीं है और इच्छा न केवल एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग होती है बल्कि एक व्यक्ति के जीवनकाल में भी अलग-अलग होती है।

कामेच्छा (सेक्स ड्राइव) में कमी एक आम समस्या है जो कई पुरुषों और महिलाओं को उनके जीवन में किसी न किसी बिंदु पर प्रभावित करती है। कामेच्छा की कमी कम नींद लेने से लेकर बहुत अधिक शराब पीने तक, कई शारीरिक, भावनात्मक और जीवनशैली संबंधी कारकों के कारण हो सकती है।

(और पढ़े - कम सोने के नुकसान)

हर किसी का सेक्स ड्राइव अलग होता है - "सामान्य" कामेच्छा जैसी कोई चीज़ नहीं होती है। लेकिन अगर आपको यौन इच्छा की कमी से परेशानी महसूस हो रही है या यह आपके रिश्ते को प्रभावित कर रही है, तो सहायता प्राप्त करना जरुरी है।

इस लेख में कामेच्छा क्या है, महिलाओं और पुरुषों में कामेच्छा की कमी के लक्षण, कारण, निदान और इलाज के बारे में बताया गया है और यह भी बताया गया है कि आप सहायता कैसे प्राप्त कर सकते हैं।

(और पढ़े - कामेच्छा बढ़ाने के उपाय)

  1. कामेच्छा क्या है - What is Libido in hindi
  2. कामेच्छा की कमी क्या है - What is Low libido in hindi
  3. कामेच्छा की कमी के लक्षण - Low Libido symptoms in hindi
  4. कामेच्छा की कमी के कारण - Low Libido ke karan in hindi
  5. कामेच्छा की कमी का निदान - Low Libido diagnosis in hindi
  6. कामेच्छा की कमी का इलाज - Low Libido ka ilaj in hindi
  7. कामेच्छा की कमी के डॉक्टर

लिबिडो का शाब्दिक अर्थ है कामेच्छा, यह एक ऐसा शब्द है जिसे हम आमतौर पर यौन गतिविधि या यौन गतिविधि की इच्छा का वर्णन करने के लिए उपयोग करते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन कहता है कि यौन स्वास्थ्य सेक्सुअलिटी के संबंध में शारीरिक, भावनात्मक, मानसिक और सामाजिक कल्याण की एक अवस्था है, यही कारण है कि आधुनिक चिकित्सकों ने लिबिडो के महत्व को सामान्य स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता के मुख्य संकेतकों में से एक माना है।

(और पढ़ें - सेक्स के बारे में जानकारी)

हमारे सांस्कृतिक परिवेश में गहरी जड़ों के साथ मानव की कामेच्छा बहुत मानसिक विचार है। हालांकि मूल कामेच्छा मुख्य रूप से मानव की जैविक प्रकृति में व्याप्त है, लेकिन आकर्षण की विशेषताएं आपके सांस्कृतिक स्तर से प्रभावित होती है, विशेष रूप से जीवन काल के प्रांरभिक वर्षों में।

(और पढ़े - सेक्स पोजीशन के बारे में जानकारी)

पुरुषों और महिलाओं में समान रूप से, कामेच्छा सीधी एण्ड्रोजन हार्मोन (अर्थात् टेस्टोस्टेरोन) से जुड़ी हुई है। पुरुषों में महिलाओं से लगभग 40 गुना ज्यादा टेस्टोस्टेरोन होने के कारण, माना जाता है कि उनमें अधिक तीव्र कामेच्छा पायी जाती है, हालांकि इसके साथ पुरषों में अधिक आक्रामक व्यवहार भी जाहिर होता है। टेस्टोस्टेरोन के स्तर में इस तरह की असमानता अन्य स्तनधारियों में भी मौजूद है, इसलिए अधिकांश प्रजातियों में यह पूर्वाग्रह दिखता है कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक स्पष्ट कामेच्छा और आक्रामकता होती है।

(और पढ़ें - सेक्स करने के तरीके)

कम कामेच्छा का अर्थ है यौन संबंधों की कमी या संभोग करने में रुचि समाप्त हो जाना। यद्यपि कम कामेच्छा दोनों लिंगों को प्रभावित कर सकती हैं, परन्तु पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यह सामान्यतः अधिक देखी जाती है।

एक महिला की यौन इच्छा में स्वाभाविक रूप से उसकी आयु के विभिन्न वर्षों में उतार-चढ़ाव होता है। ये उतार-चढ़ाव आमतौर पर किसी रिश्ते की शुरुआत या अंत के साथ, जीवन में होने वाले प्रमुख परिवर्तनों जैसे गर्भावस्था, रजोनिवृत्ति या बीमारी के साथ मेल खाते हैं।

कुछ एंटीडिप्रेसेंट्स और उद्वेग विरोधी दवाएं भी महिलाओं में कम सेक्स ड्राइव का कारण बन सकती हैं। यौन इच्छा को खोने के अलावा, महिलाओं को मासिक धर्म में गंभीर परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है।

सेक्स में रुचि खोना पुरुषों के लिए उतनी आम घटना नहीं होती है, जीतनी यह महिलाओं के लिए होती है। क्योंकि यह लगभग 15% से 16% पुरुषों को प्रभावित करती है और कम से कम दुगुनी महिलाओं को प्रभावित करती है। (ध्यान दे की ये आंकड़े अमेरिका के लोगों पर आधारित हैं। इस संबंध में हमारे देश के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं।)

(और पढ़े - लंबे समय तक सेक करने के उपाय)

न्यूयॉर्क शहर के कपल्स थेरेपिस्ट और मैटिंग इन कैप्टिविटी के लेखक एस्थर पेरेल कहते हैं, " जब पुरुष सेक्स में रुचि खो देते हैं तो यह उन्हें महिलाओं की तुलना में अधिक डराता है - क्योंकि उनकी मर्दानगी उनकी कामुकताओं से इस हद तक जुड़ी हुई है।"

(और पढ़ें - पहली बार सेक्स कैसे करें)

पुरुषों और महिलाओं में कामेच्छा की कमी के लक्षण निम्नलिखित हैं:-

पुरुषों में कामेच्छा की कमी के लक्षण

  1. टेस्टोस्टेरोन का कम स्तर। (और पढ़ें - टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने के घरेलू उपाय)
  2. कमजोर पैरासिमिलैथेटिक तंत्रिका।
  3. विभिन्न प्रकार के स्तंभन दोष विशेष रूप से कमजोर लिंग, लिंग में टेढ़ापन, शीघ्रपतन, वीर्य और शुक्राणु का नुकसान, शुक्राणुओं की संख्या में कमी इत्यादि। (और पढ़ें – शीघ्रपतन के घरेलू उपाय)
  4. यौन उत्तेजना और इच्छा में कमी। (और पढ़े - सेक्स पॉवर बढ़ाने के उपाय)
  5. बिस्तर पर खराब प्रदर्शन।
  6. यौन क्रिया के दौरान मजबूत उत्तेजना और स्खलन में देरी
  7. थकान और ऊर्जा में कमी। (और पढ़े - ऊर्जा बढ़ाने के उपाय)
  8. आत्मसम्मान और आत्मविश्वास में कमी। (और पढ़े - आत्मविश्वास बढ़ाने के उपाय)
  9. शारीरिक फेट में वृद्धि। (और पढ़े - वजन कम करने के घरेलू उपाय)
  10. मांसपेशियों की समस्या।
  11. बाल झड़ना
  12. हड्डियों के द्रव्यमान में कमी।
  13. मूड स्विंग्स में वृद्धि।
  14. वीर्य की मात्रा में कमी। (और पढ़ें - पुरुषों के यौन (गुप्त) रोग और उनके समाधान)

 

महिलाओं में कामेच्छा की कमी के लक्षण

  1. कोई यौन रोग।
  2. संभोग के दौरान दर्द होना।
  3. मूत्र प्रणाली और जननांग विकार।
  4. योनि विकार। (और पढ़े - योनि को साफ और स्वस्थ कैसे रखें)
  5. सेक्स से संतुष्टि न मिलना। (और पढ़े - महिलाओं के जी स्पॉट को कैसे उत्तेजित करें)
  6. शारीरिक कमजोरी या थकान। (और पढ़े - कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय)
  7. ऊर्जा में कमी।
  8. हार्मोनल उतार चढ़ाव।
  9. मनोदशा में बदलाव।
  10. कम आत्मविश्वास और आत्मसम्मान।
  11. कम ऑर्गेज्म, निम्न टेस्टोस्टेरोन, मूत्र संक्रमण इत्यादि जैसे रजोनिवृत्ति से संबंधित विभिन्न लक्षण। (और पढ़ें – यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण)

कामेच्छा की कमी अक्सर रिश्ते के मुद्दों, तनाव या थकान से जुड़ी होती है अथवा किसी अंतर्निहित चिकित्सा समस्या का संकेत भी हो सकती है जैसे हार्मोन का निम्न स्तर। महिलाओं और पुरुषों में इसके कारण कुछ भिन्न हो सकते है। इसके लिए निम्नलिखित कारणों को जिम्मेदार माना जाता हैं।

पुरुषों में कामेच्छा की कमी के कारण

  1. टेस्टोस्टेरोन का निम्न स्तर
  2. अल्कोहल, दवाओं और स्ट्रिंग एंटीबायोटिक का अत्यधिक सेवन। (और पढ़े - शराब पीने के नुकसान)
  3. उच्च रक्तचाप भी कामेच्छा की कमी का मुख्य कारण हो सकता है।
  4. अत्यधिक हस्तमैथुन करना काफी हानिकारक है और यौन तंत्रिकाओं को कमजोर कर सकता है और इस प्रकार कम कामेच्छा उत्पन्न हो सकती है।
  5. अवसाद, तनाव और कई अन्य मनोविकार के साथ तनाव के स्तर में वृद्धि। (और पढ़े - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)
  6. अस्वास्थ्यकर जीवनशैली, खासकर अस्वस्थ खाद्य पदार्थों और धूम्रपान की आदत भी कामेच्छा कम करके आपके यौन जीवन में बाधा डाल सकती है। (और पढ़े - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय)
  7. व्यायाम न करना।
  8. हरी सब्जियां और ताजे फल सहित स्वस्थ आहार का कम सेवन। (और पढ़ें - फल खाने का सही समय)
  9. सर्जरी के बाद के किसी भी प्रकार के हानिकारक प्रभाव। (और पढ़े - सर्जरी से पहले की तैयारी)
  10. हार्मोनल असंतुलन भी कामेच्छा की कमी के प्रमुख कारणों में से एक हो सकता है।
  11. अनुचित नींद मुख्य रूप से दिमाग में गड़बड़ी से उत्पन्न होती है और इसलिए स्वतः ही कामेच्छा प्रवाह को प्रभावित करती है। (और पढ़े - अच्छी नींद के लिए क्या करें)
  12. गंभीर बीमारी या खतरनाक स्वास्थ्य की स्थिति आपकी प्रतिरक्षा शक्ति को कम कर सकती है जिसके परिणामस्वरूप आपमें में कामेच्छा गंभीर स्तर तक कम हो सकती है। (और पढ़े - प्रतिरक्षा शक्ति बढ़ाने के लिए आहार)
  13. साथी के साथ अत्यधिक सेक्स। (और पढ़ें - सेक्स की लत का इलाज)

महिलाओं में कामेच्छा की कमी के कारण

  1. रजोनिवृत्ति (और पढ़े - रजोनिवृत्ति के लक्षण)
  2. अन्य स्वास्थ्य समस्याएं (और पढ़े - महिलाओं की यौन स्वास्थ्य समस्याएं)
  3. यौन समस्याएं
  4. दवाएं
  5. सर्जरी
  6. स्तनपान और गर्भावस्था (और पढ़ें - गर्भावस्था में पेट दर्द और गर्भ में लड़का कैसे हो से जुड़े मिथक)
  7. संबंधो से जुड़ी समस्याएं जैसे साथी के साथ की कमी, अनसुलझे संघर्ष, खराब यौन व्यवहार, अविश्वास इत्यादि (और पढ़े - रिश्तों को बेहतर बनाने के उपाय)
  8. मनोवैज्ञानिक कारण विशेषकर चिंता, अवसाद, तनाव, अपने शरीर की मन में एक खराब छवि बन जाना, कम आत्मसम्मान, यौन उत्पीड़न का इतिहास इत्यादि।

महिला और पुरुष दोनों को कम कामेच्छा के निदान के लिए एक शारीरिक परिक्षण की आवश्यकता होती है। क्योंकि कई बार गठियामधुमेहहृदय रोग और अन्य पुरानी बीमारियों से पुरुषों या महिलाओं में कामेच्छा की कमी हो सकती है। सेक्स-विशिष्ट समस्याएं, जैसे महिलाओं में एंडोमेट्रियोसिस भी कम कामेच्छा पैदा कर सकती हैं।

सेक्स के दौरान योनि का कोई भी दर्द असामान्य है और कामेच्छा को प्रभावित कर सकता है और आपके चिकित्सक द्वारा इसका मूल्यांकन किया जा सकता हैं। महिला रोगियों को किसी भी योनि स्राव के बारे में पूछा जा सकता है, जो कि संक्रमण का संकेत हो सकता है और बदले में कम कामेच्छा का कारण हो सकता है।

(और पढ़े - सेक्स के दौरान दर्द का इलाज)

अपने डॉक्टर से चर्चा के दौरान, उनसे आप अभी जो भी दवाएं ले रहे हैं, उसके बारे में बताएं। एंटीडिप्रेसेंट्स, गर्भनिरोधक गोलियां और यहां तक ​​कि एंटीहिस्टामाइन भी कम कामेच्छा पैदा कर सकते हैं।

आपने डॉक्टर को यह बताना आवश्यक है कि आपको हमेशा से कामेच्छा की कमी थी या यह एक नई समस्या है। जिन महिलाओं में हमेशा यौन इच्छाओं का निम्न स्तर रहा हो, उनको हाइपोएक्टिव सेक्सुअल डिजायर डिसऑर्डर (एचएसडीडी) नामक यौन विकार हो सकता है।

अब तक इसके लिए कोई विशेषीकृत दवा उपलब्ध नहीं थी, लेकिन अच्छी खबर यह है कि वैज्ञानिक एक दवा पर काम कर रहे हैं जो शीघ्र ही हाइपोएक्टिव सेक्सुअल डिजायर डिसऑर्डर के इलाज के लिए उपलब्ध हो सकती हैं और महिलाएं अधिक संतोषजनक कामेच्छा प्राप्त कर सकेगी।

(और पढ़े - सेक्स के दौरान पुरुषों से क्या चाहती हैं महिलाएं)

आपको अपने मेडिकल इतिहास के बारे में सवाल पूछने के अलावा, आपका डॉक्टर निम्न तरीके भी उपयोग कर सकता है:

  • पेल्विक परिक्षण:
    पेल्विक परिक्षण के दौरान, आपका डॉक्टर कम यौन इच्छा में योगदान करने वाले शारीरिक परिवर्तनों के लक्षणों की जांच कर सकता है, जैसे आपके जननांग ऊतक, योनि का सूखापन या दर्द ट्रिगरिंग स्पॉट।
     
  • अन्य परीक्षण की सिफारिश:
    आपका चिकित्सक हार्मोन का स्तर जांचने के लिए ब्लड टेस्ट की सलाह दे सकता है और थाइरोइड की समस्याओं, मधुमेह, हाई कोलेस्ट्रॉल और लिवर संबंधी रोग के साक्ष्य भी देख सकता है।
     
  • विशेषज्ञ को रेफर करना:
    एक विशेषज्ञ परामर्शदाता या विशेषज्ञ सेक्सोलॉजिस्ट उन भावनात्मक और रिश्ते संबंधी कारकों का बेहतर मूल्यांकन कर सकते हैं जो कामेच्छा की कमी का कारण हो सकते हैं।

कम कामेच्छा के लिए इलाज की जरुरत पड़ने का सबसे आम कारण अपने यौन साथी का असंतोष होता है। जो साथी सेक्स में कम रूचि रखता है वह इसलिए इलाज करवा सकता है क्योंकि उसका यौन साथी उससे निराश, क्रोधित या नाराज है। इस स्थिति को कभी-कभी 'इच्छा विसंगति' (डिजायर डिस्क्रेपेन्सी) कहा जाता है।

(और पढ़े - क्रोध प्रबंधन थेरपी कैसे होती है)

कामेच्छा में कमी के कारण के आधार पर, निम्नलिखित संभावित उपचारों हो सकते हैं -

  • स्वस्थ जीवनशैली अपनाना - अपने आहार में सुधार करें, नियमित व्यायाम करें और पर्याप्त नींद लें, शराब पीना बंद कर दें और तनाव कम करें। (और पढ़े - तनाव कम करने के लिए योग)
  • अपनी दवा में बदलाव करना - यदि आप जिस दवा को ले रहे हैं वो आपकी कामेच्छा को प्रभावित कर रही है तो उसकी जगह अपने डॉक्टर से बात करके कोई अन्य विकल्प लें। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति डिप्रेशन में होता है तो एंटीड्रिप्रेसेंट सहायक हो सकते हैं, लेकिन वे कामेच्छा भी कम कर सकते हैं। (और पढ़े - डिप्रेशन दूर करने के लिए योग)
  • टेस्टोस्टेरोन प्रतिस्थापन (रिप्लेसमेंट) थेरेपी - यदि कामेच्छा की कमी एंड्रोजन की कमी (कम टेस्टोस्टेरोन) के कारण होती है जिसकी ब्लड टेस्ट द्वारा पुष्टि की जाती है, तो आपको टेस्टोस्टेरोन रिप्लेसमेंट चिकित्सा की आवश्यकता हो सकती है। (और पढ़े - हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी क्या है)
  • परामर्श - तनाव या थकावट से संबंधित कामेच्छा की कमी में तनाव प्रबंधन रणनीतियों या मनोवैज्ञानिक परामर्श से मदद मिल सकती है। व्यक्तिगत या कपल काउन्सलिंग किसी भी रिश्ते में परेशानी पैदा करने वाले मुद्दों का पता लगाने और कामेच्छा को बढ़ाने में मददगार हो सकती है। यदि समस्या मनोवैज्ञानिक है तो आपका डॉक्टर मनोचिकित्सा की सिफारिश कर सकते हैं।

आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि टीवी और पत्रिकाओं के विज्ञापनों में दी जाने वाली दवाओं का क्या करें, जो कामेच्छा की कमी के इलाज का दावा करती हैं, जैसे कि सियालिस, लेवित्रा और वियाग्रा? ध्यान रखें कि ये दवाएं कामेच्छा को बढ़ावा नहीं देती हैं। वे केवल आपको उत्तेजना प्राप्त करने और इरेक्शन बनाएं रखने में मदद करती हैं।

अपने शरीर के बारे में जानें और अपने डॉक्टर को बताएं कि आप क्या महसूस कर रहे हैं। यही वह एकमात्र तरीका है जिससे आप जान पायेंगे कि समस्या की जड़ शारीरिक अथवा मनोवैज्ञानिक है या दोनों है। जितनी जल्दी आप यह जानते हैं, उतनी जल्दी आप अपने आप को फिर से हासिल कर सकते हैं और सेक्स जीवन में रंग भर सकते हैं।

(और पढ़े - बेहतर सेक्स लाइफ के लिए योग)

Dr. Pranay Gandhi

Dr. Pranay Gandhi

सेक्सोलोजी

Dr. Tarun

Dr. Tarun

सेक्सोलोजी

Dr. Ghanshyam Digrawal

Dr. Ghanshyam Digrawal

सेक्सोलोजी

और पढ़ें ...