myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

वेंट्रिक्युलोस्टोमी एक सर्जिकल प्रक्रिया है जो कि हाइड्रोसिफेलस (जलशीर्ष) को कम करने में और इंट्राक्रेनियल दबाव पर नजर रखने में मदद करती है। हाइड्रोसिफेलस के लक्षणों में सिरदर्द, माथे में एक नरम उभार और संतुलन बनाने में समस्या आदि शामिल हैं। यदि व्यक्ति की खोपड़ी में रक्तस्त्राव विकार या संक्रमण है, तो यह सर्जरी नहीं की जा सकती है। यदि आप किसी भी तरह की दवाएं ले रहे हैं, आपको कोई एलर्जी है या कोई पेसमेकर जैसा कोई उपकरण लगा है तो इनके बारे में सर्जरी से पहले डॉक्टर को बता दें। सर्जरी से पहले आपको कुछ डायग्नोस्टिक और रेडियोलॉजिकल टेस्ट करवाने पड़ सकते हैं। यदि आप धूम्रपान करते हैं या फिर शराब पीते हैं तो सर्जरी से कुछ दिन पहले आपको इन्हे बंद करना होगा।

वेंट्रिक्युलोस्टोमी को या तो एंडोस्कोपी द्वारा या फिर एक बाहरी ड्रेनेज ट्यूब को मस्तिष्क में डालकर किया जाता है। सर्जरी के बाद एक बार उठने पर आपको हल्का सा सिरदर्द हो सकता है जिसके लिए आपको दर्द की दवा दी जाएगी। घाव पर लगी पट्टियों को सर्जरी के एक दिन बाद निकाल दिया जाएगा। सर्जरी के एक हफ्ते बाद डॉक्टर आपको मिलने के लिए बुलाएंगे।

(और पढ़ें - घाव भरने के उपाय)

  1. वेंट्रिक्युलोस्टोमी क्या है - Ventriculostomy Kya Hai
  2. वेंट्रिक्युलोस्टोमी क्यों की जाती है - Ventriculostomy Kyon Ki Jati Hai
  3. वेंट्रिक्युलोस्टोमी से पहले की तैयारी - Ventriculostomy se Pehle ki Taiyari
  4. वेंट्रिक्युलोस्टोमी कैसे होती है - Ventriculostomy Kaise Hoti Hai
  5. वेंट्रिक्युलोस्टोमी के बाद देखभाल - Ventriculostomy ke Baad Dekhbhal
  6. वेंट्रिक्युलोस्टोमी के खतरे - Ventriculostomy ke Khatre

वेंट्रिक्युलोस्टोमी एक सर्जरी है, जो कि बच्चों व वयस्कों के मस्तिष्क के वेंट्रिकल्स के अंदर जमा अतिरिक्त मस्तिष्कमेरु द्रव (सीएसएफ) को कम करने के लिए की जाती है। वेंट्रिकल मस्तिष्क में एक-दूसरे से जुड़ी कैविटी होती हैं, जिनमें मस्तिष्कमेरु द्रव भरा हुआ होता है। मस्तिष्क में चार वेंट्रिकल होते हैं। मस्तिष्क दो भागों में बंटा होता है और दोनों ही भागों में एक-एक वेंट्रिकल होते हैं, तीसरा वेंट्रिकल इन दोनों को जोड़ता है और चौथा वेंट्रिकल ब्रेन स्टेम में मौजूद होता है व तीसरे वेंट्रिकल से एक चैनल द्वारा जुड़ा होता है जिसे सेरिब्रल एक्वेडक्ट कहते हैं।

सीएसएफ मस्तिष्क को सुरक्षा प्रदान करता है और इसे पोषण देता है। आमतौर पर यह मस्तिष्क के चारों वेंट्रिकल में और स्पाइनल कॉर्ड में प्रवाहित होता है। यदि किसी भी वेंट्रिकल में कोई अवरोध आ जाता है तो यह ठीक तरह से प्रवाहित नहीं हो पाता है, जिससे खोपड़ी में अत्यधिक सीएसएफ जम जाता है इस स्थिति को हाइड्रोसिफेलस कहते हैं। चूंकि, खोपड़ी (क्रेनियम) में कम ही स्पेस होता है, तो इस जमाव के कारण खोपड़ी में दबाव पड़ने लगता है जिससे मस्तिष्क पर भी दबाव पड़ता है।

यह सर्जरी कैथेटर लगाकर भी की जा सकती है। यह कैथेटर वेंट्रिकल को खोपड़ी के बाहर द्रव को इकट्ठा करने के लिए रखे बैग से जोड़ता है।

वेंट्रिक्युलोस्टोमी की सलाह निम्न मामलों में दी जाती है -

  • जिन लोगों को ऑपरेशन के दौरान मस्तिष्क में सूजन हो जाती है, उनके मस्तिष्क से दबाव को कम करने के लिए
  • एक्यूट सिम्पटोमेटिक हाइड्रोसिफेलस जो कि स्ट्रोक या मैनिंजाइटिस के कारण हो सकता है
  • खराब या संक्रमित वेंट्रिक्युलोपेरिटोनियल शंट (एक मेडिकल उपकरण जिसका प्रयोग मस्तिष्क में पैदा हुए दबाव को कम करने के लिए किया जाता है) के लगे होने पर
  • इंट्राक्रेनियल दबाव (आईसीपी) पर नजर रखने के लिए, यह दबाव मस्तिष्क के ऊतक और खोपड़ी में अतिरिक्त सीएसएफ भर जाने के कारण पैदा होता है

हाइड्रोसिफेलस के कुछ सामान्य लक्षण इस तरह से हैं -

(और पढ़ें - बच्चों में भूख न लगने के कारण)

सर्जरी से पहले आपको निम्न तैयारी की जरूरत हो सकती है -

  • अपने डॉक्टर को इनके बारे में बताएं -
    • यदि आप रक्त को पतला करने वाली दवाएं जैसे एस्पिरिन, वार्फेरिन, हेपरिन, हर्ब्स, नशीली दवाएं या अन्य कोई दवा ले रहे हैं
    • यदि आपको स्लीप एप्निया है
    • यदि आपके शरीर में कोई हार्ट डिवाइस जैसे पेसमेकर या आटोमेटिक इम्प्लांटेबल कार्डिओवर्टर-डिफ्रिब्रिलेटर लगा हुआ है तो इसके बारे में भी डॉक्टर को बता दें
  • सर्जरी से कुछ दिन पहले आपको दवाएं लेना बंद करना होगा इनमें निम्न शामिल हैं -
    • विटामिन ई (सर्जरी से दस दिन पहले)
    • एस्पिरिन या दवाएं जिनमें एस्पिरिन हो, हर्बल दवाएं और कोई सप्लीमेंट (सर्जरी से सात दिन पहले)
    • नॉन स्टेरॉयडल एंटी इंफ्लेमटरी ड्रग जैसे ईबुप्रोफेन और नेप्रोक्सेन (सर्जरी से दो दिन पहले)
  • सर्जरी से कुछ दिन पहले शराब पीना व धूम्रपान करना बंद कर दें
  • डॉक्टर आपको ब्लड टेस्ट, चेस्ट एक्स रे और ईसीजी करवाने के लिए कह सकते हैं
  • यदि आप सर्जरी से पहले बीमार हैं तो इसके बारे में डॉक्टर को बता दें चाहे वह फिर बुखार, जुकाम या फ्लू ही हो
  • सर्जरी से एक रात पहले खाना-पीना बंद करने को कहा जाएगा। हालांकि, आप सर्जरी के दिन थोड़े से पानी के साथ दवा ले सकते हैं
  • डॉक्टर आपको सर्जरी के बारे में समझा देंगे और उससे जुड़े खतरों की जानकारी देंगे। इसके बाद आपको एक अनुमति फॉर्म भरने के लिए कहा जाएगा

अस्पताल पहुंचने के बाद आपको अस्पताल का गाउन पहनने को कहा जाएगा और नॉन स्किड सॉक्स भी दिए जाएंगे। सर्जरी ऑपरेशन थिएटर में की जाएगी। आपको ऑपरेशन टेबल पर लिटाया जाएगा और टांगों में कम्प्रेशन बूट पहनाए जाएंगे ताकि रक्त का प्रवाह ठीक तरह से चलता रहे। सर्जरी के लिए आपको जनरल एनेस्थीसिया दिया जाएगा ताकि आप सर्जरी के दौरान सो जाएं। इसके बाद जिस स्थान पर चीरा लगाया जाना है, वहां के बालों को शेव कर के हटाया जाएगा।

वेंट्रिक्युलोस्टोमी निम्न में से किसी भी तरह से की जा सकती है -

  • इंडोस्कोपिक थर्ड वेंट्रिक्युलोस्टोमी -
    सीएसएफ के प्रवाह में अत्यधिक अवरोध तीसरे व चौथे वेंट्रिकल के बीच में होते हैं। एंडोस्कोपिक थर्ड वेंट्रिक्युलोस्टोमी में सीएसएफ को तीसरे वेंट्रिकल से मस्तिष्क के बेस या सतह में मौजूद चैम्बर की तरफ मोड़ दिया जाता है। यह सर्जरी उन लोगों में की जाती है, जिनका सीएसएफ का प्रवाह हाइड्रोसिफेलस के कारण अवरुद्ध हुआ होता है। सर्जरी निम्न चरणों में की जाती है -
    • सर्जन आपकी खोपड़ी में एक छोटा छेद करेंगे और इसमें एक एंडोस्कोप डालेंगे, जो कि एक ट्यूब है, जिसमें कैमरा लगा होता है।
    • इसके बाद थर्ड वेंट्रिकल की मेम्ब्रेन या झिल्ली से लेकर मस्तिष्क के बेस में मौजूद द्रव के चैम्बर तक एक चीरा लगाया जाएगा। इसके बाद सीएसएफ वहां से मस्तिष्क की सतह तक आ जाता है और रक्त उसे वापस अवशोषित कर लेता है
    • इस चीरे से कोई स्थायी साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है
    • सीएसएफ का फ्लो मोड़ने के बाद सर्जन आपकी खोपड़ी को टाइटेनियम के कवर से ढकेंगे और चीरे को बंद कर देंगे
    • यह पूरी प्रक्रिया करने में एक घंटे का समय लग सकता है
       
  • वेंट्रिक्युलोस्टोमी जिसमें एक अन्य वेंट्रिक्युलर ड्रेन लगाया जाता है -
    यह निम्न तरह से किया जाता है -
    • सर्जन आपकी खोपड़ी पर एक चीरा लगाएंगे
    • एक विशेष ड्रिल की मदद से आपकी खोपड़ी में एक छेद करेंगे और मस्तिष्क के चारों तरफ एक प्रोटेक्टिव लेयर बनाएंगे
    • इसके बाद सर्जन चीरे के जरिए मस्तिष्क में पतली ट्यूब डालेंगे
    • इसके बाद आपके खोपड़ी पर टांके लगा दिए जाएंगे और घाव को पट्टी से ढक दिया जाएगा
    • ट्यूब का एक सिरा अतिरिक्त द्रव इकट्ठा करने के लिए रखे बैग से जुड़ा होगा

सर्जरी के बाद आपको पोस्ट एनेस्थीसिया रिकवरी रूम में भेज दिया जाएगा। आपके शरीर का तापमान, ब्लड प्रेशर, हृदय की दर और ऑक्सीजन के स्तरों पर नजर रखी जाएगी। आपके चेहरे पर ऑक्सीजन की सप्लाई के लिए एयर मास्क लगाया जा सकता है। एक बार जब आप उठ जाएंगे तो मेडिकल स्टाफ आपको हॉस्पिटल रूम में ले जाएंगे। उठने के बाद आपको थका हुआ महसूस हो सकता है।

अगले दिन एंडोस्कोपिक थर्ड वेंट्रिक्युलोस्टोमी के बाद डॉक्टर घाव पर ढकी पट्टी को हटा देंगे और इसे बिना ढके छोड़ दिया जाएगा। हालांकि, यदि वेंट्रिक्युलर ड्रेन लगी हुई है, तो डॉक्टर के निर्देश देने पर इसे हटाया जाएगा। हैल्थकेयर टीम लगातार बैग में इकट्ठे हो रहे द्रव की मात्रा पर नजर रखेगी और संक्रमण के संकेत के लिए द्रव की जांच की जाएगी।

नर्स आपसे बार-बार बांह, उंगली, टांग और पैर की उंगलियों को हिलाने के लिए कहेंगी ताकि यह पता लगाया जा सके कि आप स्वस्थ हैं। सर्जरी के अगले दिन आपको डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।

वेंट्रिक्युलोस्टोमी के बाद आपको घर पर निम्न तरह से देखभाल करनी होगी -

दवाएं -

सर्जरी के बाद कुछ दिनों तक आपको हल्का सा दर्द और बेचैनी हो सकती है। इसके लिए डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाएं ले लें।

घाव का ध्यान -

  • घाव से रिसाव व घाव पर हुए सूजन की जांच करें
  • घाव को सर्जरी के बाद साफ़ और सूखा रखें
  • यदि डॉक्टर आपसे नहाने के लिए कहते हैं, शावर कैप का प्रयोग करें। अपने बालों को धोने के लिए बेबी शैम्पू का प्रयोग करें और ऑपरेशन के स्थान को हल्के हाथों से साफ़ करें
  • छह हफ्तों बाद तक घाव पर किसी भी तरह के हेयर प्रोडक्ट, तेल, क्रीम, दवा आदि का प्रयोग न करें

काम -

  • डॉक्टर की अनुमति के बाद आप काम पर वापस जा सकते हैं। यह निर्णय आपकी उम्र, काम व अन्य कारकों के देखते हुए लिया जाएगा

एक्टिविटी -

  • आप जिम जाना शुरू कर सकते हैं और नॉन कांटेक्ट स्पोर्ट जैसे तैराकी, भागना आदि सर्जरी के दो हफ्ते बाद शुरू कर सकते हैं
  • कांटेक्ट स्पोर्ट जैसे किक बॉक्सिंग या फुटबाल खेलने के लिए डॉक्टर या सर्जन की अनुमति की आवश्यकता होगी

यात्रा -

  • एयरप्लेन में यात्रा करने से पहले सर्जन से अनुमति ले लें

डॉक्टर के पास कब जाएं?

यदि आपको निम्न में से कोई भी लक्षण दिखाई देते हैं तो इनके बारे में डॉक्टर को तुरंत बताएं

  • अत्यधिक उल्टी
  • तेज बुखार
  • तीव्र सिरदर्द जो दवा या आराम करने से भी ठीक न हो
  • घाव के स्थान से रिसाव या लालिमा
  • अत्यधिक नींद या उलझन महसूस होना
  • व्यवहार संबंधी बदलाव
  • थकान
  • दृष्टि संबंधी समस्याएं
  • शरीर का संतुलन बनाने में कठिनाई

इस सर्जरी के कुछ खतरे और जटिलताएं निम्न हैं -

  • सर्जरी का तकनीकी रूप से फेल हो जाना (वेंट्रिकल में प्रवेश न कर पाना)
  • सीएसएफ का लीक होना
  • इंट्राक्रेनियल रक्तस्त्राव, यह आमतौर पर बड़ी बात नहीं है और इसके लिए बहुत कम सर्जरी की जरूरत पड़ती है
  • रक्तवाहिकाओं को नुकसान होना
  • वेंट्रिक्युलाइटिस (वेंट्रिकल में संक्रमण)
  • वेंट्रिकल के क्रेनियम में हवा का जाना
  • कैथेटर का गलती से निकल जाना
और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. University of Kentucky College of Medicine [Internet]. Kentucky. US; Ventriculostomy
  2. Cincinnati Children's [Internet]. Cincinnati Children's Hosptial Medical Center. Ohio. US; Endoscopic Third Ventriculostomy
  3. Munakomi S, M Das J. Ventriculostomy. [Updated 2020 Jan 11]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan
  4. Memorial Sloan Kettering Cancer Center. Gerstner Sloan Kettering Graduate School of Biomedical Sciences [internet]. U.S. About your endoscopic third ventriculostomy (ETV) surgery for pediatric patients
  5. University of Rochester Medical Center [Internet]. Rochester (NY): University of Rochester Medical Center; Endoscopic Third Ventricullostomy
  6. UC San Diego Health [Internet]. University of California San Diego. California. US; Having an External Ventricular Drain (EVD)
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ