myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हम में से अधिकांश लोग पेशाब करते हुए इसके रंग को लेकर ज्यादा विचार नहीं करते हैं। हालांकि, पेशाब का रंग और स्थिरता आपको अपने स्वास्थ्य के बारे में मूल्यवान जानकारी प्रदान कर सकती है।

(और पढ़ें - बार-बार पेशाब आने का इलाज)

यूरिन शरीर से विषाक्त पदार्थों और अवांछित पदार्थों को हटाने का एक तरीका है। किडनी शरीर में रक्त के प्रवाह से अतिरिक्त पानी और साथ ही शरीर के अन्य क्षेत्रों से अपशिष्ट पदार्थों के साथ अन्य पदार्थ जिनमें कुछ दवाएं भी शामिल हो सकती हैं, को निकालने के लिए काम करती है।

(और पढ़ें - शरीर को डिटॉक्स कैसे करें)

पेशाब का ज्यादातर हिस्सा (आमतौर पर 95 प्रतिशत) वास्तव में पानी होता है, बाकी का हिस्सा खनिज, यूरिक एसिड, विटामिन, एंजाइम और यूरोबीलिन (एक पित्त एसिड जो यूरिन को पीला रंग देता है) का होता हैं। आपके पेशाब का रंग यह निर्धारित करने का एक विश्वसनीय तरीका है कि आप पूरे दिन के दौरान पर्याप्त पानी ले रहे हैं या नहीं।

(और पढ़ें - दिन में कितना पानी पीना चाहिए)

  1. यूरिन का कलर कैसा होना चाहिए - Urine ka colour kaisa hona chahiye in hindi
  2. पेशाब का रंग बदल जाना - Urine ka colour change hona in hindi
  3. यूरिन कलर चार्ट - Urine colour chart in hindi
  4. यूरिन का पीला होना - Urine ka colour yellow kyu hota hai in hindi
  5. पेशाब का रंग लाल होना - Urine ka colour red hona in hindi
  6. पेशाब का रंग काला होना - Peshab ka rang kala hona in hindi
  7. पेशाब का रंग सफेद होना - Peshab safed kyu hota hai in hindi
  8. पेशाब का रंग हरा होना - Peshab ka rang hara hona in hindi

जब यूरिन या पेशाब के सामान्य कलर की बात आती है तो हर किसी के पेशाब का रंग अलग हो सकता है, लेकिन यह पीले रंग की रेंज में ही पड़ना चाहिए। सामान्य पेशाब का रंग आम तौर पर एकदम पीले से शहद जैसा पीला भी हो सकता है। यह रंग मुख्य रूप से पेशाब में मौजूद वर्णक यूरोक्रोम के कारण होता है, जिसे यूरोबिलिन भी कहा जाता है।

आपके पेशाब का रंग पूरे दिन भर उतार-चढ़ाव भरा हो सकता है। सुबह में जागने के बाद पहला पेशाब अक्सर गहरा और सबसे अधिक कंसन्ट्रेटेड होता है। दिन में हम तरल पदार्थ पीना शुरू कर देते हैं, इसलिए ये हल्का होने लगता है।

(और पढ़ें - शरीर के वजन के हिसाब से कितना पानी पीना चाहिए)

पेशाब के रंग में गहरापन या हल्कापन भी बदलता रहता है। यदि आपके पेशाब का कोई रंग नहीं है या यह रंगहीन है, तो ऐसा इसलिए हो सकता है कि आप बहुत अधिक पानी पी रहे हैं या कोई मूत्रवर्धक दवा ले रहे हैं, जो आपके शरीर से तरल पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती है।

बहुत गहरा शहद जैसा या भूरे रंग का पेशाब डिहाइड्रेशन (पानी की कमी) का संकेत हो सकता है ऐसे में आपको तुरंत अधिक तरल पदार्थ पीने की आवश्यकता होती है। यदि आपके पेशाब का रंग पीले रंग के दायरे से बाहर जाता है, जैसे सफेद या भूरे रंग का पेशाब आता है तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

पेशाब आपके शरीर का तरल अपशिष्ट होता है, इसमें मुख्य रूप से पानी, नमक और यूरिया तथा यूरिक एसिड नामक रसायन होते हैं। जब आपकी किडनी आपके रक्त से विषाक्त पदार्थ और अन्य बुरी चीजें फिल्टर करती है तो पेशाब को बनाती हैं। आपके द्वारा ली जाने वाली दवाएं, खाद्य पदार्थ और बीमारियां जैसी चीजे आपके पेशाब के रंग पर प्रभाव डाल सकती हैं।

(और पढ़ें - यूरिक एसिड को कम करने के घरेलू उपाय)

जैसा की हमने ऊपर बताया है कि आपके मूत्र का रंग मुख्य रूप से इस बात से निर्धारित होता है कि आप कितना पानी पीते हैं। जब आप बहुत अधिक पानी पीते हैं, तो आपका यूरिन इतना हल्का हो सकता है कि यह लगभग साफ होता है। आप जितना कम पानी पीते हैं,  आपका मूत्र उतना ही गहरे रंग का बन जाएगा।

आपके द्वारा खाया जाने वाला भोजन भी पेशाब के रंग में बदलाव का एक कारक हो सकता है। सभी प्राकृतिक खाद्य पदार्थों (जैसे जामुन और चुकंदर) का रंग एक अलग रंग बनाने के लिए वर्णक के साथ क्रिया कर सकता है। अधिक संसाधित खाद्य पदार्थों में डाले जाने वाले रंग (फूड डाई) की मात्रा भी अधिक हो सकती है। यह डाई भी वर्णक के साथ क्रिया करती है।

यदि आप व्यायाम के बाद उचित रूप से अपने शरीर को हाइड्रेट नहीं करते हैं यानी पानी की कमी पूरी नहीं करते हैं, तो इससे आपको डिहाइड्रेशन के साथ पेशाब का रंग भी गहरा हो सकता है। उचित हाइड्रेशन के बिना अत्यधिक व्यायाम करने से गंभीर स्थिति पैदा हो सकती है जो मांसपेशियों के टूटने का कारण बन जाती है।

(और पढ़े - वर्कआउट के बाद मांसपेशियों में दर्द से राहत के लिए भोजन)

ओवर-द-काउंटर और डॉक्टर द्वारा लिखी दवाएं भी आपके पेशाब के रंग को बदल सकती हैं। इसमें एंटीबायोटिक्स, लेक्सेटिव और कैंसर के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली कुछ कीमोथेरेपी दवाएं शामिल हैं।

आपके यूरिन के रंग में परिवर्तन आपकी किडनी, लिवर या मूत्राशय की कार्यप्रणाली में परेशानियों का संकेत हो सकता है। यदि आपका पेशाब बादल के रंग जैसा हो जाता है या एक तेज गंध आती है, तो आपके पास मूत्राशय या किडनी में संक्रमण हो सकता है।

कुछ लोग बताते हैं कि चमकीले पीले रंग का मूत्र गर्भावस्था का प्रारंभिक लक्षण हो सकता है। हालांकि, इन दावों का समर्थन करने के लिए कोई अध्ययन उपलब्ध नहीं है।

रंग में कुछ बदलाव किसी अंतर्निहित बीमारी का संकेत हो सकता है। यह लिवर की समस्याओं की चेतावनी हो सकती है, इसलिए यदि पेशाब का रंग एक दिन के बाद भी सामान्य नहीं होता तो अपने डॉक्टर मिलें।

पेशाब का रंग                                                   संभावित कारण
पारदर्शी आप बहुत सारा पानी पी रहे हैं। आप पानी पीना थोड़ा कम कर सकते हैं।
पीला धूसर रंग आप सामान्य रूप से स्वस्थ और अच्छी तरह से हाइड्रेटेड हैं यानी आपके शरीर में पानी पर्याप्त मात्रा में है।
पीला या गहरा पीला आप सामान्य हैं लेकिन जल्दी ही आपको थोड़ा पानी पीना चाहिए।
एम्बर या शहद जैसा आपके शरीर को पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। तुरंत थोड़ा पानी पिये।
ऑरेंज आप पर्याप्त पानी नहीं पी रहे हैं या आपको लिवर या पित्त वाहिका (बाइल डक्ट) की कोई परेशानी हो सकती है या यह आपके भोजन में डाले जाने वाले रंग के कारण हो सकता है।
गुलाबी कुछ लोगों में, चुकंदर, ब्लूबेरी या रूबर्ब (एक प्रकार का फल) खाने से यूरिन का रंग गुलाबी हो सकता है। पेशाब का गुलाबी रंग किसी बड़ी समस्या का पहला संकेत भी हो सकता है। इसके लिए लाल रंग को पढ़ें।
लाल पेशाब में खून, जिसे हेमेचुरिया कहा जाता है, मूत्र पथ (यूरिनरी ट्रेक्ट) में संक्रमण या ट्यूमर का और किडनी स्टोन का एक हल्का, प्रारंभिक संकेत हो सकता है। यह प्रोस्टेट की समस्या या लेड या मरकरी की संभावित विषाक्तता का संकेत भी हो सकता है।
हरा कुछ लोगों में शतावरी खाने से, कुछ दवाओं या भोजन में डाले जाने वाले रंग से हरे रंग का हो सकता है, कभी-कभी यह मूत्र पथ में बैक्टीरियल संक्रमण का भी संकेत हो सकता है।
नीला कुछ दवाएं और भोजन में डाले जाने वाले रंग से पेशाब का रंग नीला हो सकता है। यह हाइपरकैल्सीमिया या ब्लू डायपर सिंड्रोम का भी संकेत हो सकता है।
गहरा भूरा या काला अधिक मात्रा में रूबर्ब, बाकला (फावा बीन्स) या एलो वेरा का सेवन करने से ऐसा हो सकता है। कुछ दवाएं भी पेशाब का रंग गहरा करती हैं। कॉपर या फिनोल विषाक्तता या मेलेनोमा, के कारण पेशाब का रंग काला हो सकता है जिसे मेलेनुरिया कहा जाता है।
सफेद या दूधिया यह कुछ खनिजों, जैसे कैल्शियम या फॉस्फेट, मूत्र पथ का संक्रमण या प्रोटीन की अत्यधिक मात्रा के कारण हो सकता है।
नोट ऊपर लिखे कारणों के अलावा कोई अन्य कारण भी हो सकता है। यदि आपको पेशाप का रंग असामान्य लगता हैं तो किसी अच्छे डॉक्टर से बात करें।

विटामिन बी 12 के कारण आपके यूरिन का रंग चमकदार पीला दिख सकता है, बीटा कैरोटीन (गाजर जैसे खाद्य पदार्थ) भी यूरिन के रंग में इस बदलाव का कारण बन सकते हैं। कभी-कभी यूरिन का रंग पीले रंग की तुलना में अधिक नारंगी (ऑरेंज) हो सकता है।

कुछ दवाओं के कारण भी आपके यूरिन का रंग गहरा पीला या नारंगी हो सकता हैं, जिसमें फेनाजोपाइरीडाइन, जिसे अक्सर मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई) के दर्द का इलाज करने के लिए दिया जाता है और सल्फासलाजाइन, जो अल्सरेटिव कोलाइटिस के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है, भी शामिल है।

अक्सर यूरिन का रंग लाल या गुलाबी होने का दोषी आपके द्वारा किये गए भोजन को ठहराया जा सकता है। विशेष रूप से चुकंदर ऐसे यूरिन उत्पादन का कारण बनते हैं जो गुलाबी से लाल रंग का हो सकता है।

ब्लैकबेरी और रूबर्ब भी इस प्रभाव का कारण बन सकते हैं। टीबी की दवा रिफांपिन तथा सेन्ना और मल को सॉफ्ट (मुलायम) करने वाली दवा भी गुलाबी या लाल रंग के यूरिन का कारण हो सकते हैं।

यदि आप अपनी भोजन की प्लेट को लाल या बैंगनी रंग वाले खाद्य पदार्थों से नहीं भर रहे हैं फिर भी आप अपने पेशाब का रंग लाल पाते हैं तो ऐसा आपके पेशाब में खून के कारण हो सकता है। यूटीआई, किडनी की पथरी या अन्य किसी स्थिति का पता करने के लिए अपने डॉक्टर से मिलकर बात करें।

(और पढ़ें - किडनी स्टोन के घरेलू उपाय)

मैक्रोबिड, फ्लैगाइल और रोबैक्सिन दवाएं आपके यूरिन के काले रंग का कारण मानी जाती है। स्वीटनर या लेक्सेटिव सॉर्बिटोल भी यूरिन के काले रंग का कारण हो सकते हैं।

इंट्रामस्क्यूलर (मांसपेशियों में दिया जाने वाला) आयरन इंजेक्शन को भी काले रंग के मूत्र से जुड़ा हुआ माना जाता है। ब्लैक यूरिन रोग, जिसे अल्काप्टोनुरिया भी कहा जाता है, एक ऐसी दुर्लभ स्थिति है जिसके कारण शरीर विशिष्ट प्रकार के एमिनो एसिड को संसाधित या प्रोसेस नहीं कर पाता है।

मूत्र पथ के संक्रमण और किडनी की पथरी आपके यूरिन का रंग बादल जैसा या धुंधला दिखने का कारण बन सकते हैं।

चिलुरिया एक अन्य संभावित परेशानी है, जिसके कारण आपका यूरिन सफेद रंग का दिख सकता है। चिलुरिया या वाइट यूरिन, आमतौर पर पेशाब के साथ लिम्फैटिक द्रव के मिश्रण का परिणाम होता है।

फाइलेरियल संक्रमण, एक प्रकार की परजीवी (पैरासाइटिक) बीमारी के कारण भी यूरिन का रंग सफेद हो सकता है। फाइलेरियल संक्रमण एक ऐसी स्थिति है जो अफ्रीका और भारतीय उपमहाद्वीप के लोगों के बीच अधिक प्रचलित है।

अक्सर भोजन में डाले जाने वाले रंग के कारण आपके यूरिन का रंग हरा हो सकता है। अधिक रंग वाले  खाद्य पदार्थों जैसे गहरे नीले रंग की फ्रॉस्टिंग के परिणामस्वरूप यूरिन के रंग में यह परिवर्तन हो सकता है, ऐसा शतावरी के उपयोग से भी हो सकता है।

आपके यूरिन का रंग हरा होना, मूत्र में स्यूडोमोनास बैक्टीरिया की उपस्थिति को भी इंगित कर सकता है, यह पोरफाइरिया नामक एक बहुत ही दुर्लभ स्थिति है या यह मेडिकल टेस्ट के लिए उपयोग किये जाने वाले रंग के कारण भी हो सकता है।

प्रोपोफोल, टैगमैट, मेथाइलिन ब्लू, एमिट्रिप्टाइलाइन और इंडोसिन समेत कुछ दवाएं हरे-नीले रंग के यूरिन का कारण मानी जाती हैं। यह आम तौर पर किडनी की किसी समस्या का संकेत नहीं होता है, लेकिन इन दवाओं को लेने वाले रोगी के लिए ये कोई खतरनाक संकेत हो सकता है।

शायद कभी कभार, नीला या हरा रंग एक जाने पहचाने रोग हाइपरकैल्सीमिया का संकेत हो सकता है, जिसे ब्लू डायपर सिंड्रोम भी कहा जाता है, जो एक दुर्लभ अनुवांशिक विकार है।

और पढ़ें ...