myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

सीने में जलन होना एक बहुत ही आम समस्या है जो हर व्यक्ति को कभी न कभी प्रभावित करती ही है। इसे आम भाषा में दिल में जलन होना भी कह दिया जाता है। हालांकि, इसका दिल से कोई संबंध नहीं होता। जब पेट के अंदर मौजूद एसिड वापिस खाने की नली में आने लगता है, तो इससे खाने की नली में जलन होने लगती है, जिसे हम छाती में जलन कहते हैं।

सीने की जलन के कई कारण हो सकते हैं, जैसे धूम्रपान करना, कैफीन युक्त पेय पदार्थ पीना, खट्टे फल खाना और मसालेदार खाना लेना आदि। वैसे तो ये एक बहुत ही आम समस्या है जिसके लिए डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं होती, लेकिन कभी-कभी सीने में जलन होना किसी गंभीर समस्या का संकेत हो सकता है। इसके लिए कई घरेलू उपाय और अन्य उपचार किए जा सकते हैं।

(और पढ़ें - कॉफी पीने के नुकसान)

इस लेख में सीने की जलन के लिए क्या करें और इसके लिए डॉक्टर के पास कब जाएं के बारे में बताया गया है।

  1. सीने में जलन होने पर क्या करे - Seene me jalan ho to kya karna chahiye
  2. छाती की जलन के लिए डॉक्टर के पास कब जाएं - Sine me jalan ho to doctor ke pas kab jana chahiye

सीने में जलन होने पर आप निम्नलिखित तरीके से प्राथमिक उपचार कर सकते हैं -

  • छाती में जलन तब होती है जब आपके पेट में मौजूद एसिड खाने की नली में आने लगता है और ऐसा हो सकता है कि टाइट कपडे या बेल्ट के कारण वह एसिड वापिस पेट में न जा पाए, इसीलिए आपको सीने में जलन हो। इसी वजह से ये जरुरी है कि अगर आपने टाइट कपडे पहने हैं, तो उन्हें उतारकर ढीले-ढाले कपडे पहन लें। (और पढ़ें - सीने की जलन के घरेलू उपाय)
  • दिन में 2 -3 बार ज्यादा खाना खाने की बजाय थोड़ी-थोड़ी देर में कम खाना खाएं। (और पढ़ें - खाना खाने का सही समय)
  • लेटने या बैठे रहने के कारण पेट का एसिड आपकी खाने की नली में आ सकता है, इसीलिए अगर आप लेटे या बैठे हैं, तो सीधे खड़े हो जाएं। (और पढ़ें - बदहजमी का इलाज)
  • ऐसे खाद्य या पेय पदार्थ न लें जिनसे आपकी समस्या बढ़ सकती है, जैसे मिर्च मसाले वाला खाना या गैस वाली कोल्ड ड्रिंक या सोडा आदि। (और पढ़ें - पेट की गैस दूर करने के घरेलू नुस्खे)
  • कोशिश करें कि सोते समय अपने सिर व गर्दन के नीचे तकिये रख लें ताकि आपका ऊपरी शरीर उठा रहे और सोते समय आपको छाती में जलन की समस्या न हो। (और पढ़ें - सीने में दर्द का इलाज)
  • सोने से पहले कम से कम 2 से 3 घंटे पहले खाना खा लें, ताकि खाने को पचने का पर्याप्त समय मिल सके। खाने के तुरंत बाद न सोएं। (और पढ़ें - पाचन तंत्र मजबूत करने के उपाय)
  • अदरक को सीने की जलन और इसके कारण होने वाली मतली या उल्टी आने की भावना के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। इसके लिए आप अदरक को काटकर अपने खाने में मिला सकते हैं या आप चाहें तो अदरक की चाय भी पी सकते हैं। (और पढ़ें - उल्टी रोकने के उपाय)
  • कई शोध में ऐसा पाया गया है कि ऐसे लोगों को छाती में जलन की समस्या अधिक होती है जिनका वजन ज्यादा होता है, इसीलिए अपना वजन सामान्य रखने का प्रयास करें। (और पढ़ें - वजन बढ़ाने के उपाय)
  • ऐसा माना जाता है कि खाने के बाद आधा घंटा च्विंगम चबाने से मुंह में अधिक लार बनने लगती है, जिससे खाने की नली में मौजूद एसिड से होने वाली समस्या कम होती है। हालांकि, इस बात का ध्यान रखें कि बहुत ज्यादा च्विंगम चबाने के कारण आपको पेट में गैस की समस्या भी हो सकती है। (और पढ़ें - पेट में गैस का इलाज)
  • आपको ये जानकर हैरानी होगी कि बेकिंग सोडा लेने से सीने में जलन की समस्या कम होती है। इसके लिए एक गिलास पानी में एक छोटा चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर धीरे-धीरे पिएं। (और पढ़ें - मुंहासों के लिए बेकिन सोडा का उपयोग)
  • ऐसा माना जाता है कि स्ट्रेस या टेंशन के कारण भी आपको सीने में जलन की समास्या हो सकती है, इसीलिए कम से कम टेंशन लें और अपने दिमाग को शांत रखें। (और पढ़ें - दिमाग शांत करने के तरीके)
  • मेडिकल स्टोर पर छाती की जलन दूर करने के लिए कई दवाएं उपलब्ध होती हैं, आप चाहें तो ये दवाएं ले सकते हैं। (और पढ़ें - सीने में दर्द हो तो क्या करना चाहिए)
  • शराब पीने से आपकी सीने में जलन की समस्या बढ़ सकती है, इसीलिए शराब का सेवन बिलकुल न करें। (और पढ़ें - शराब छुड़ाने के उपाय)
  • अगर आप धूम्रपान करते हैं, तो अपनी इस आदत छोड़ने का प्रयास करें, नहीं तो इससे आपको और अधिक जलन हो सकती है। ऐसे किसी व्यक्ति के पास खड़े भी न हों जो सिगरेट पी रहा हो, नहीं तो उनकी सिगरेट का धुआं भी आपको नुकसान पहुंचा सकता है। अगर आप इस आदत को छोड़ नहीं पा रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से इसके बारे में बात करें। (और पढ़ें - सिगरेट पीना कैसे छोड़ें)

(और पढ़ें - गुटखा छोड़ने के उपाय)

वैसे तो छाती की जलन के लिए आपको डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन निम्नलिखित लक्षण अनुभव करने पर आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए -

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल​ से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है।

और पढ़ें ...