myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मल्टीपल स्केलेरोसिस क्या है?

मल्टीपल स्केलेरोसिस (Multiple sclerosis; एमएस) एक तरह का रोग है, जिसमें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपकी तंत्रिकाओं को आवरण प्रदान करने वाले सुरक्षात्मक खोल (माइलिन: myelin) को नुकसान पहुंचाती है। इससे होने वाली माइलिन की क्षति आपके दिमाग और आपके शरीर के बाकी हिस्सों के बीच स्थापित होने वाले तालमेल को बाधित करती है। अंततः इससे आपकी नसें स्वयं खराब हो सकती हैं, जिनका ठीक हो पाना मुश्किल हो जाता है।

इसके संकेत और लक्षण व्यापक रूप से भिन्न होते हैं, यह क्षति की मात्रा के आधार पर नसों को प्रभावित करते हैं। मल्टीपल स्केलेरोसिस से गंभीर रूप से पीड़ित कुछ लोग स्वतंत्र रूप से या पूरी तरह से चलने की क्षमता खो सकते हैं, जबकि कई लोग इससे होने वाली समस्याओं से तब तक बच सकते हैं, जब तक इनमें कोई नया लक्षण न विकसित हो।

मल्टीपल स्केलेरोसिस के लिए कोई इलाज उपलब्ध नहीं है, लेकिन इसके उपचार से आपकी मौजूदा स्थिति में तेजी से सुधार हो सकता है और आप इस समस्या से अपना बचाव कर सकते हैं।

(और पढ़ें - बच्चों की इम्युनिटी बढ़ाने के उपाय)

  1. Multiple Sclerosis के प्रकार - Types of Multiple Sclerosis in Hindi
  2. Multiple Sclerosis के लक्षण - Multiple Sclerosis Symptoms in Hindi
  3. Multiple Sclerosis के कारण - Multiple Sclerosis Causes in Hindi
  4. Multiple Sclerosis से बचाव - Prevention of Multiple Sclerosis in Hindi
  5. Multiple Sclerosis का परीक्षण - Diagnosis of Multiple Sclerosis in Hindi
  6. Multiple Sclerosis का इलाज - Multiple Sclerosis Treatment in Hindi
  7. Multiple Sclerosis के जोखिम और जटिलताएं - Multiple Sclerosis Risks & Complications in Hindi
  8. मल्टीपल स्केलेरोसिस की दवा - Medicines for Multiple Sclerosis in Hindi
  9. मल्टीपल स्केलेरोसिस के डॉक्टर

Multiple Sclerosis के प्रकार - Types of Multiple Sclerosis in Hindi

मल्टीपल स्केलेरोसिस के कितने प्रकार होते हैं ?

मल्टीपल स्केलेरोसिस के चार प्रकार होते हैं

रिलाप्सिंग-रेमिटिंग (Relapsing-Remitting) मल्टीपल स्केलेरोसिस (आरआरएमएस: RRMS)
यह मल्टीपल स्क्लेरोसिस का सबसे आम प्रकार है। आरआरएमएस से ग्रस्त लोगों को अस्थायी रूप से यह बार-बार होता है।

सेकंडरी प्रोग्रेसिव (Secondary-Progressive) मल्टीपल स्केलेरोसिस (एसपीएमएस: SPMS)
एसपीएमएस में, समय के साथ लक्षण अधिक तेजी से खराब हो जाते हैं। अधिकांश लोग जो आरआरएमएस से ग्रस्त होते हैं, उन्हें एसपीएमएस भी हो जाता है।

प्राइमरी प्रोग्रेसिव (Primary-Progressive) मल्टीपल स्केलेरोसिस (पीपीएमएस: PPMS)
मल्टीपल स्केलेरोसिस का यह प्रकार बहुत आम नहीं है, यह मल्टीपल स्केलेरोसिस से ग्रस्त लोगों में से लगभग 10% लोगों में होता है। इसमें शुरूआत से ही लक्षण धीरे-धीरे खराब होते हैं और यह बार-बार नहीं होता।

प्रोग्रेसिव-रिलाप्सिंग (Progressive-Relapsing) मल्टीपल स्केलेरोसिस (पीआरएमएस: PRMS):
यह मल्टीपल स्केलेरोसिस का एक दुर्लभ रूप है। पीआरएमएस में शुरूआत से लगातार लक्षण खराब होते जाते हैं और यह बार-बार होता है व इसमें राहत नहीं मिलती।

(और पढ़ें - मानसिक रोग का इलाज)

Multiple Sclerosis के लक्षण - Multiple Sclerosis Symptoms in Hindi

मल्टीपल स्केलेरोसिस के क्या लक्षण होते हैं ?

प्रभावित तंत्रिका के फाइबर के स्थान के आधार पर मल्टीपल स्क्लेरोसिस के लक्षण भिन्न होते हैं।
इसके निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं -

(और पढ़ें - मूत्र असंयमिता का इलाज)

Multiple Sclerosis के कारण - Multiple Sclerosis Causes in Hindi

मल्टीपल स्केलेरोसिस के क्या कारण होते हैं ?

मल्टीपल स्क्लेरोसिस का कारण अभी अज्ञात है। इसे एक स्व-प्रतिरक्षित बीमारी माना जाता है जिसमें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपकी तंत्रिकाओं को आवरण प्रदान करने वाले सुरक्षात्मक खोल (माइलिन: myelin) को नुकसान पहुंचाती है।

माइलिन की तुलना बिजली की तारों की सुरक्षात्मक परत से की जा सकती है। जब माइलिन को नुकसान पहुंचता है और तंत्रिका खुल जाती है, तो उस तंत्रिका में आने जाने वाले संदेश धीमे या अवरुद्ध हो सकते हैं। तंत्रिका को भी नुकसान हो सकता है।

यह स्पष्ट नहीं है कि कुछ लोगों को मल्टीपल स्केलेरोसिस क्यों विकसित होता है और दूसरों को नहीं। अनुवांशिकता और पर्यावरणीय कारक इसके जिम्मेदार हो सकते हैं (और पढ़ें - प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करने के उपाय)


मल्टीपल स्केलेरोसिस के जोखिम कारक क्या होते हैं ?

मल्टीपल स्केलेरोसिस के निम्नलिखित जोखिम कारक हो सकते हैं -

  • उम्र:
    ल्टीपल स्केलेरोसिस किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन आमतौर पर यह 15 से 60 वर्ष की उम्र के लोगों को प्रभावित करता है।
     
  • लिंग:
    पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को मल्टीपल स्केलेरोसिस विकसित होने की संभावना दोगुनी होती है। (और पढ़ें - महिलाओं के लिए जरूरी लैब टेस्ट)
     
  • पारिवारिक इतिहास:
    यदि आपके माता-पिता या भाई बहनों में से किसी एक को मल्टीपल स्केलेरोसिस है, तो आपको भी इसका विकास होने का उच्च जोखिम है।
     
  • संक्रमण:
    विभिन्न प्रकार के वायरस से भी मल्टीपल स्केलेरोसिस होता है। (और पढ़ें - वायरस क्या है)
     
  • स्व-प्रतिरक्षित रोग:
    यदि आपको थायराइड, टाइप 1 शुगर या इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज (आईबीडी)  है, तो आपको मल्टीपल स्केलेरोसिस होने का अधिक जोखिम है। (और पढ़ें - थायराइड में परहेज)
     
  • धूम्रपान:
    धूम्रपान करने वालों में इसके लक्षण अपेक्षाकृत जल्दी नजर आते हैं।

(और पढ़ें - सिगरेट छोड़ने के तरीके)

Multiple Sclerosis से बचाव - Prevention of Multiple Sclerosis in Hindi

मल्टीपल स्क्लेरोसिस का बचाव कैसे हो सकता है ?

मल्टीपल स्क्लेरोसिस की शुरुआत को रोकने का कोई ज्ञात तरीका नहीं है। इससे ग्रस्त लोग कुछ तरीकों से अपने लक्षणों को प्रबंधित और कम कर सकते हैं। जैसे -

(और पढ़ें - व्यायाम करने का सही समय)

Multiple Sclerosis का परीक्षण - Diagnosis of Multiple Sclerosis in Hindi

मल्टीपल स्केलेरोसिस का निदान कैसे होता है ?

मल्टीपल स्केलेरोसिस का निदान करने के लिए कि आपके डॉक्टर को न्यूरोलॉजिकल परीक्षण, चिकित्सा ​​इतिहास और अन्य परीक्षणों की आवश्यकता होगी।

(और पढ़ें - लैब टेस्ट क्या है)

इसमें निम्नलिखित परीक्षण किए जा सकते हैं:

एमआरआई स्कैन
एक डाई के उपयोग से एमआरआई आपके मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में सक्रिय और निष्क्रिय घावों का पता लगाने में सहायता करता है। (और पढ़ें - एचबीए1सी टेस्ट क्या है)

इवोक पोटेंशिअल परीक्षण (Evoked potentials test)
इसके लिए आपके मस्तिष्क में विद्युत गतिविधि का विश्लेषण करने के लिए नसों के मार्गों की उत्तेजना की आवश्यकता होती है। (और पढ़ें - एलिसा टेस्ट क्या है)

लम्बर पंक्चर या स्पाइनल टैप (Lumbar puncture)
आपकी रीढ़ की हड्डी में असामान्यताओं को देखने के लिए आपके डॉक्टर इस परीक्षण का उपयोग कर सकते हैं। यह संक्रामक रोगों के निदान करने में मदद कर सकता है। (और पढ़ें - ईईजी टेस्ट क्या है)

रक्त परीक्षण
डॉक्टर इसी तरह के लक्षणों वाली अन्य स्थितियों के वहम को खत्म करने के लिए रक्त परीक्षण का उपयोग करते हैं। (और पढ़ें - क्रिएटिनिन टेस्ट क्या है)

मल्टीपल स्केलेरोसिस के निदान के लिए आपके मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी या नेत्र-संबंधी नसों में से एक से अधिक क्षेत्रों में अलग-अलग समय पर किसी तंत्रिका के माइलिन आवरण का नस से अलग होने के प्रमाण की आवश्यकता होती है।

(और पढ़ें - रीढ़ की हड्डी की चोट के इलाज)

Multiple Sclerosis का इलाज - Multiple Sclerosis Treatment in Hindi

मल्टीपल स्केलेरोसिस का इलाज कैसे होता है ?

मल्टीपल स्क्लेरोसिस का सबसे आम इलाज होता है दवा। दवा की खुराक लोगों के हिसाब से भिन्न हो सकती हैं। रोगी को यह दवा साप्ताहिक या मासिक तौर पर लेनी होती है। 

इलाज की प्रभावशीलता मल्टीपल स्केलेरोसिस के प्रकार पर निर्भर करती है। उदाहरण के लिए - आरआरएमएस (RRMS) और पीआरएमएस (PRMS) से ग्रस्त लोगों को ऐसी दवाएं दी जाती हैं जिससे यह बार-बार न हो। इन दवाओं से अक्षमता भी ठीक हो सकती है।

(और पढ़ें - दवाओं की जानकारी)

कुछ शोधकर्ताओं का मानना है कि विटामिन डी की कमी से भी मल्टीपल स्केलेरोसिस बढ़ सकता है। (और पढ़ें - विटामिन डी की कमी से होने वाली बीमारियां)

पीपीएमएस (PPMS) और एसपीएमएस (SPMS) से ग्रस्त लोगों को दवाओं से कम असर होता है।
इनसे ग्रस्त लोगों के उपचार के लिए दवाओं का प्रयोग कुछ लक्षणों को कम करने के लिए किया जाता है। पीपीएमएस और एसपीएमएस से ग्रस्त लोगों को डॉक्टर रोज़ाना व्यायाम करने, स्वस्थ भोजन करने और शारीरिक थेरेपी लेने की सलाह देते हैं। बायोटीन, एक बी विटामिन भी प्रचुर मात्रा में लेना कारगर होता है। 

(और पढ़ें - व्यायाम छोड़ने के नुकसान)

मल्टीपल स्केलेरोसिस से ग्रस्त लोगों को इन वैकल्पिक इलाजों से अपने लक्षणों में कमी दिखाई दे सकती है व उनके जीवन की गुणवत्ता बढ़ सकती है।

(और पढ़ें - थेरेपी क्या है)

Multiple Sclerosis के जोखिम और जटिलताएं - Multiple Sclerosis Risks & Complications in Hindi

मल्टीपल स्केलेरोसिस की क्या जटिलताएं होती हैं ?

मल्टीपल स्केलेरोसिस से ग्रस्त लोगों को निम्नलिखित जटिलताएं हो सकती हैं -

(और पढ़ें - मिर्गी के दौरे क्यों आते हैं)

Dr. Virender K Sheorain

Dr. Virender K Sheorain

न्यूरोलॉजी

Dr. Vipul Rastogi

Dr. Vipul Rastogi

न्यूरोलॉजी

Dr. Sushil Razdan

Dr. Sushil Razdan

न्यूरोलॉजी

मल्टीपल स्केलेरोसिस की दवा - Medicines for Multiple Sclerosis in Hindi

मल्टीपल स्केलेरोसिस के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
OtorexOtorex Drop60
WysoloneWysolone 10 Tablet DT14
Low DexLow Dex Eye/Ear Drops8
DexacortDexacort Eye Drop13
Dexacort (Klar Sheen)Dexacort (Klar Sheen) 0.1% Eye Drop14
4 Quin Dx4 Quin Dx Eye Drop13
SolodexSolodex 0.1% Eye/Ear Drops4
Apdrops DmApdrops Dm 0.5% W/V/1% W/V Eye Drop103
Lupidexa CLupidexa C Eye Drop7
CampathCampath 30 Mg Injection0
Dexcin MDexcin M Eye Drop59
Ocugate DxOcugate Dx Eye Drop8
Mfc DMfc D Eye Drop84
ZenapaxZenapax 25 Mg Injection19136
Mflotas DxMflotas Dx 0.5%W/V/0.1%W/V Eye Drop78
Mo 4 DxMo 4 Dx Eye Drop64
MitozanMitozan 20 Mg Injection274
Moxifax DxMoxifax Dx Eye Drop52

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. National Multiple Sclerosis Society [Internet]: New York,United States; What Is MS?
  2. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Multiple Sclerosis: Hope Through Research.
  3. Ghasemi N, Razavi S, Nikzad E. Multiple Sclerosis: Pathogenesis, Symptoms, Diagnoses and Cell-Based Therapy. Cell J. 2017 Apr-Jun;19(1):1-10. PMID: 28367411
  4. National Center for Complementary and Integrative Health [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Multiple Sclerosis.
  5. National Institute of Neurological Disorders and Stroke [internet]. US Department of Health and Human Services; Multiple Sclerosis Information Page.
और पढ़ें ...