myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

अंडाशय के द्वार के रूप में वल्‍वा काम करता है। ये 7 से 10 से.मी लंबा होता है। वल्‍वा एक पतली झिल्‍ली से ढका होता है एवं इस झिल्‍ली को हायमन कहा जाता है। वल्‍वा में कैंसर होने या इसमें कैंसर की आशंका होने या इस हिस्‍से की त्‍वचा में कैंसर होने की स्थिति में वल्‍वा को निकालने के लिए वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी की जाती है। इसके अलावा और भी कई कारण हैं जिनकी वजह से वल्‍वा को सर्जरी से निकालना पड़ता है।

वल्‍वा कैंसर की स्थिति में उपचार के विकल्‍पों में से एक वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी भी है। ये एक दुर्लभ प्रकार का कैंसर है जो कि वल्‍वा के किसी भी हिस्‍से में घाव होने की वजह से होता है। अगर वल्‍वा कैंसर शुरुआती चरण में (जिसमें लिम्‍फ नोड्स में कैंसर कोशिकाएं नहीं फैली होती हैं) है तो वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी के सफल होने की संभावना बहुत ज्‍यादा होती है।

  1. वल्वा निकालने की सर्जरी क्या है? - Vulvectomy kya hai?
  2. वल्वा निकालने की सर्जरी क्यों की जाती है? - Vulvectomy kab ki jati hai?
  3. वल्वा निकालने की सर्जरी से पहले की तैयारी - Vulvectomy se pehle ki taiyari
  4. वल्वा निकालने की सर्जरी कैसे होती है? - Vulvectomy kaise hoti hai?
  5. वल्वा निकालने की सर्जरी के बाद देखभाल और सावधानियां - Vulvectomy hone ke baad dekhbhal aur savdhaniya
  6. वल्वा निकालने की सर्जरी की जटिलताएं - Vulvectomy me jatiltaye

वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी में सभी या कुछ बाहरी यौन अंगों को निकाल दिया जाता है। कैंसर या कैंसर होने की आशंका या लीचेन स्‍केलेरोसिस (त्वचा पर और सफेद मोटे चकत्ते पड़ना) की स्थिति में यह सर्जरी की जाती है।

वल्वा में कई हिस्‍से आते हैं जैसे कि लेबिआ (योनि के दोनों ओर वल्‍वा के बाहरी और आंतरिक फोल्‍ड) और क्‍लिटोरिस (मूत्र छिद्र से ठीक ऊपर)। इसके अलावा वल्‍वा में योनि और मूत्र मार्ग की ओपनिंग भी आती है।

सर्जरी कई तरीके से की जा सकती है। किस तरह की वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी करनी है, ये इस बात पर निर्भर करता है कि कितने ऊतकों को निकालना है। सर्जन लेबिआ के बाहरी हिस्‍से की त्‍वचा के भाग को ही हटा सकते हैं या फिर अंदरूनी और बाहरी लेबिआ के कुछ या सभी हिस्‍सों को हटा सकते हैं। कई मामलों में क्‍लिटोरिस को नहीं निकाला जाता है, वहीं कुछ में ज्‍यादा ऊतकों को निकाला जा सकता है। कुछ दुर्लभ मामलों में रेडिकल वल्‍वेक्‍टोमी की जा सकती है। इस सर्जरी में ऊतकों के बड़े हिस्‍से को निकाला जाता है, जिसमें जांघों के ऊपरी हिस्‍से का अंदरूनी भाग, पेट का निचला हिस्‍सा और योनि एवं गुदा के बीच का हिस्‍सा (पेरिनअम) शामिल है। सर्जन ग्रोइन (पेट और जांघों के बीच का हिस्‍सा) में से छोटी ग्रंथियां (लिम्‍फ नोड्स) भी हटा सकते हैं।

वल्‍वेक्‍टोमी एक अन्‍य सर्जिकल विकल्‍प है। सर्जन या तो रेडिकल वल्‍वेक्‍टोमी से पूरा वल्‍वा निकाल देते हैं (रेडिकल वल्‍वेक्‍टोमी) या फिर पार्शियल वल्‍वेक्‍टोमी से वल्‍वा का कुछ हिस्‍सा निकाला जाता है।

कई स्थितियों के इलाज के लिए वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी की सलाह दी जा सकती है, जैसे कि -

अगर मरीज कोई और ट्रीटमेंट जैसे कि एब्‍लेशन (असामान्य ऊतकों को निकलने के लिए की जाने वाली छोटी सर्जरी) नहीं करवा सकता है या इससे उसकी प्रॉब्‍लम ठीक नहीं हुई है तो इस स्थिति में वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी की जाती है।

नर्स आपको सर्जरी से पहले ऑपरेशन के लिए तैयार करेंगी। इसके लिए सर्जरी से पहले नर्स आपको खून पतला करने का इंजेक्‍शन लगा सकती हैं, जिससे कि ऑप्रेशन के दौरान और बाद में खून के थक्‍के न बनें। इसके बाद आपको ऑपरेशन थिएटर में ले जाया जाएगा।

  • अगर आप कोई दवा ले रहे हैं तो डॉक्‍टर को उसके बारे में जरूर बताएं।
  • सर्जरी से एक दिन पहले सिर्फ सेब, संतरे (बिना गूदे के), अंगूर का जूस और नींबू पानी पीएं। बिना दूध या क्रीम के चाय या कॉफी भी पी सकते हैं। कोई ठोस आहार (मांस, सब्‍जियां और ब्रेड) या दूध से बनी चीजें न लें।
  • सर्जरी से पहले पेट साफ करने के लिए आपको एनिमा दिया जा सकता है।
  • सर्जरी से एक रात पहले 12 बजे के बाद कुछ भी खाएं या पिएं नहीं। सर्जरी से पहले डॉक्‍टर मरीज को बेहोश करने के लिए खाली पेट एनेस्‍थीसिया देंगे।
  • अगर सर्जरी से पहले डॉक्‍टर ने खाने के लिए कोई दवा दी है तो उसे लेते समय पानी घूंट-घूंट कर पीएं।

वल्‍वा कैंसर या वो ऊतक जो वल्‍वा कैंसर पैदा कर सकते हैं, उन्‍हें निकालने के लिए वल्‍वेक्‍टोमी की जा सकती है। जब पूरे वल्‍वा या उसके कुछ हिस्‍से को निकालने के लिए सर्जरी की जाती है तो उसे वल्‍वेक्‍टोमी कहते हैं।

वल्‍वेक्‍टोमी कई तरह की होती है। ट्यूमर के आकार और लिम्‍फ नोड्स के आसपास फैलने के आधार पर ये निर्णय लिया जाता है कि मरीज की किस प्रकार की वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी की जाएगी। वल्‍वेक्‍टोमी कई तरह की होती है, जैसे कि -

  • पार्शियल सिंपल वल्‍वेक्‍टोमी -  इसमें वल्‍वा के एक हिस्‍से और आसपास के ऊतकों की सबसे ऊपरी परत को निकाला जाता है।
  • पार्शियल रेडिकल वल्‍वेक्‍टोमी - इसमें वल्‍वा के एक हिस्‍से और आसपास के ऊतकों की अंदरूनी परत को निकाला जाता है।
  • कंप्‍लीट सिंपल वल्‍वेक्‍टोमी - इस सर्जरी में पूरे वल्‍वा को ही निकाला जाता है। कभी-कभी इसे सिंपल वल्‍वेक्‍टोमी कहा जाता है।
  • कंप्‍लीट रेडिकल वल्‍वेक्‍टोमी - इसमें पूरे वल्‍वा, आसपास के ऊतकों की अंदरूनी परत और आसपास के लिम्‍फ नोड्स को निकाला जाता है।

डॉक्‍टर आपकी जांच करने के बाद बताएंगे कि आपकी किस तरह की वल्‍वेक्‍टोमी सर्जरी करनी है।

कुछ महिलाएं इस सर्जरी में रीकंस्ट्रक्शन भी करवाती हैं। यदि आप वल्वा को दोबारा बनाने के सर्जरी करवा रही हैं तो प्लास्टिक सर्जन भी इस सर्जरी में हिस्सा लेंगे।

अगर आप मेनोपॉज से गुजर चुकी हैं तो डॉक्‍टर आपको सर्जरी से पहले कुछ हफ्ते तक एस्‍ट्रोजन क्रीम लगाने के लिए दे सकते हैं। इससे सर्जरी के लिए स्किन को तैयार करने में मदद मिलती है।

सर्जरी के दौरान

  • सर्जरी के दौरान सर्जन मरीज के पेट के निचले हिस्‍से को सुन्‍न कर देते हैं। अब वो खराब ऊतक (जिसमें बीमारी हो) वाले हिस्‍से पर चीरा लगाते हैं। सर्जन इस हिस्‍से के आसपास से थोड़ी मात्रा में और ऊतक भी निकाल सकते हैं। सर्जन त्‍वचा के अंदर से ऐसे ऊतकों की परत को भी निकाल देंगें, जिसमें फैट हो सकता है।
  • अब सर्जन इसे बंद करने के लिए टांके लगा देते हैं। कुछ मामलों में सर्जन यहां पर स्किन ग्राफ्टिंग भी कर सकते हैं जिसमें किसी स्‍वस्‍थ हिस्‍से से त्‍वचा को हटाकर शरीर के दूसरे हिस्‍से पर लगा दिया जाता है। अब स्किन ग्राफ्ट को वल्‍वा के उस हिस्‍से पर लगा दिया जाता है जिसे कवर करने की जरूरत होती है।
  • स्किन ग्राफ्ट के बाद जिस हिस्‍से से स्किन ली थी, उसे भी कवर कर दिया जाता है।
  • सर्जन आपके मूत्रमार्ग और मूत्राशय में कुछ हफ्तों के लिए कैथेटर लगा सकते हैं जिससे कि आपको सर्जरी के बाद रिकवर करने के दौरान पेशाब करने में दिक्‍कत न हो।

सर्जरी के बाद मरीज की देखभाल में कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ता है, जैसे कि -

  • आपको सर्जरी के बाद कुछ दिन तक अस्‍पताल में ही रहना पड़ सकता है। आपको नर्स या डॉक्‍टर बताएंगें कि आपको अपने यौन अंगों को कैसे साफ करना है और आपको सिट्ज बाथ लेने के लिए भी कहा जा सकता है।
  • आपको अपने यौन अंगों को सुखाने के मामले में बहुत सावधान रहना है। इसके लिए डॉक्‍टर आपको विशेष निर्देश देंगें। अगर चीरे वाली जगह पर पट्टी लगी है तो डॉक्‍टर रोज उसका निरीक्षण करेंगें और जरूरत पड़ने पर उसे बदलेंगें या हटाएंगें।
  • डॉक्‍टर आपको दर्द, खून के थक्‍के जमने, संक्रमण, कब्‍ज और अन्‍य समस्‍याओं को रोकने के लिए कुछ दवा देंगे।
  • वल्वा के आसपास के हिस्से की मुलायम और साफ तौलिए से सफाई करें और उसे अच्‍छी तरह से सुखाएं।
  • वल्‍वा को साफ रखने के लिए सिट्ज बाथ लें। अक्‍सर अस्‍पताल से घर जाने से पहले सिट्ज बाथ दिया जाता है।
  • अगर आपको सर्जरी के बाद इंफेक्‍शन होता है तो उससे बुखार भी आ सकता है। डॉक्‍टर को इस बारे में तुरंत बताएं।
  • सर्जरी के बाद रिकवरी के दौरान कुछ गतिविधियों से दूर रहने के लिए कहा जाता है। आपको कुछ समय के लिए बिस्‍तर पर आराम करने की जरूरत होती है।
  • सीढियां न चढ़ें और पैदल चलने से भी बचें।
  • दोनों पैरों में ज्‍यादा गैप न करें। इससे चीरे वाली जगह पर घाव को भरने में मदद मिलती है।
  • चीरे वाली जगह को साफ रखना बहुत जरूरी है। इससे घाव भरने और रिकवर करने में बहुत मदद मिलेगी। इसे साफ करने से पहले और बाद में हाथों को अच्‍छी तरह से धोएं।

सावधानियां

  • ज्‍यादा टाइट अंर्तवस्‍त्र न पहनें। टाइट कपड़े पहनने से वल्‍वा वाले हिस्‍से में हवा नहीं आ पाती है, जिसकी वजह से संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।
  • दिन के समय ढीले और सूती अंडरवियर पहनें।
  • वल्‍वा वाले हिस्‍से को ग्लिसरीन युक्‍त साबुन या सिर्फ गुनगुने पानी से साफ करें। खुशबूदार साबुन के इस्‍तेमाल से बचें।
  • इस हिस्‍से पर बेबी पाउडर या लोशन न लगाएं।
  • सर्जरी के बाद आप 6 से 8 हफ्ते तक सेक्‍स नहीं कर सकती हैं। सेक्‍स से पहले घाव वाले हिस्‍से को पूरी तरह से ठीक होने दें। डॉक्‍टर आपका चेकअप करने के बाद बता पाएंगे कि आप कब सेक्‍स के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।
  • पहली बार सेक्‍स करने पर आपको वल्‍वा वाले हिस्‍से में सुन्‍नपन या छूने पर दर्द महसूस हो सकता है। ये सामान्‍य बात है। इस बात का ध्‍यान रखें कि वल्‍वा की स्थिति बदली है लेकिन आपकी योनि पहले की ही तरह है।
  • अगर डॉक्‍टर ने क्‍लिटोरिस निकाला है तो आपको उस हिस्‍से में कम या न के बराबर कोई अहसास होगा। इस स्थिति में आप और आपके पार्टनर किसी और हिस्‍से को छूकर यौन सुख ले सकते हैं, जैसे कि होंठ, ब्रेस्‍ट, जांघों का अंदर का हिस्‍सा।
  • सेक्‍स के बाद पेशाब करके अपने मूत्राशय को जरूर खाली करें और गुदा एवं योनि के बीच के हिस्‍से यानी पेरिनियल एरिया को साफ करके सुखाना न भूलें।

वलवेक्‍टोमी सर्जरी करवाने के बाद निम्‍नलिखित जटिलताएं सामने आ सकती हैं -

  • ब्‍लीडिंग, संक्रमण या खून के थक्‍के बनना
  • घाव को भरने में देर लग सकती है या संक्रमण हो सकता है या ग्राफ्ट वाली जगह पर फ्लूइड से भरे सिस्‍ट बनना
  • मूत्र मार्ग में संक्रमण
  • लिम्‍फेडिमा (पैरों में सूजन)
  • वल्‍वा की दिखावट में बदलाव आना, लिबिडो कम होना, कुछ समय के लिए यौन अंगों में सुन्‍नपन महसूस होना
  • योनि की ओपनिंग (द्वार) का छोटा होना, यौन सुख पाने में कमी आना या संभोग के दौरान दर्द महसूस होना
  • बेचैनी या थकान महसूसन होना
  • पेशाब सीधे न निकलना
और पढ़ें ...

References

  1. Beth Israel Lahey Health: Winchester Hospital [Internet]. Winchester. Maryland. US; Vulvectomy.
  2. UW Health: American Family Children's Hospital [Internet]. Madison (WI): University of Wisconsin Hospitals and Clinics Authority; Vulvectomy Surgery
  3. National Cancer Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Vulvar Cancer Treatment (PDQ®)–Patient Version
  4. Canadian Cancer Society [Internet]. Toronto. Canada; Surgery for vulvar cancer
  5. Johns Hopkins Medicine [Internet]. The Johns Hopkins University, The Johns Hopkins Hospital, and Johns Hopkins Health System; Vulvar Cancer
  6. Harvard Health Publishing. Harvard Medical School [internet]: Harvard University; Vulvar Cancer
  7. National Health Service [internet]. UK; Vulval Cancer
  8. American Society of Clinical Oncology [internet]; Vulvar Cancer: Types of Treatment
  9. Saint Luke's Health System [Internet]. Kansas city. US; Understanding Vulvectomy
  10. American Cancer Society [internet]. Atlanta (GA). USA; Tests for Vulvar Cancer
  11. Cancer Research UK [Internet]. London. UK; Surgery for vulval cancer
  12. Von Voigtlander Women's Hospital: Michigan Medicine [Internet]. University of Michigan. US; Vulvectomy
  13. Oncolink [Internet]. Philadelphia: Trustees of the University of Pennsylvania; c2018. Surgical Treatments: Vulvectomy
  14. Royal Victoria Regional Health Centre [Internet]. Canada; Vulvar Area Skin Care Tips
ऐप पर पढ़ें