myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

विटामिन बी 5 शरीर के लिए अन्य विटामिन की तरह बेहद ही उपयोगी होता है। इससे आपके शरीर में हार्मोन का स्तर सही बना रहता है और तनाव भी कम होता है। इसके अलावा विटामिन बी 5 आपके हृदय को स्वस्थ बनाता है और आपकी थकान को कम करके शरीर की ऊर्जा शक्ति को बढ़ाता है। इतना ही नहीं इस विटामिन से बाल मजबूत होते हैं और त्वचा भी जवान बनी रहती है। रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया का एक प्रकार) को भी कम करने में भी यह महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

(और पढ़ें - थकान कम करने के उपाय)

विटामिन बी 5 की इन्ही खूबियों की वजह से आगे आपको इसके बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। इसके साथ आप विटामिन बी 5 क्या है, विटामिन बी 5 के फायदे, विटामिन बी 5 की अधिकता से नुकसान, विटामिन बी 5 कितनी मात्रा में लेना चाहिए और विटामिन बी 5 के स्त्रोत के बारे में भी जानेंगे।

(और पढ़ें - विटामिन बी 12 के फायदे)

  1. विटामिन बी5 क्या है - Vitamin B5 kya hai
  2. विटामिन बी 5 के फायदे - Vitamin B5 ke fayde
  3. विटामिन बी 5 की अधिकता - Vitamin B5 ki adhikta
  4. विटामिन बी 5 कितनी मात्रा में लेना चाहिए - Vitamin B5 kitni matra me lena chahiye
  5. विटामिन बी 5 के स्त्रोत - Vitmain B5 ke srot

शरीर के लिए आवश्यक विटामिन और खनिज में विटामिन बी 5 को भी शामिल किया जाता है। विटामिन बी समूह अन्य विटामिन की तरह विटामिन बी 5 भी पानी में घुलनशील होता है। यह वसा और कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा में परिवर्तित करने का काम करता है। यह आपकी त्वचा, बाल, आंखों और जिगर के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है।

इसकी कमी के मामले बेहद ही कम सामने आते हैं, इसी वजह से कई लोग इस विटामिन के बारे में नहीं जानते हैं।

विटामिन बी 5 को पैंटोथैनिक एसिड (Pantothenic acid) और पैंटोथैनेट (Pantothenate) के नाम से भी जाना जाता है। पैंटाथैनिक शब्द ग्रीक भाषा के शब्द “पैंटोऊ” (Pantou) से लिया गया है। इसका मतलब होता है "हर जगह मौजूद"। लगभग सभी खाद्य पदार्थों में विटामिन बी 5 मौजूद होता है।

(और पढ़ें - लिवर की बीमारी का इलाज)

विटामिन बी 5 शरीर के लिए उपयोगी होता है। शारीरिक कार्यों के लिए विटामिन बी 5 महत्वपूर्ण माना जाता है। इसकी निश्चित मात्रा को नियमित लेने से आपको ढेरों लाभ मिलते हैं। विटामिन बी 5 के फायदों के बारे में नीचे विस्तार से बताया जा रहा है। 

  1. हार्मोन को उत्तेजित करने में सहायक होता है
    विटामिन बी 5 के गुणों के कारण शरीर की विभिन्न ग्रंथियों से हार्मोन के निकलने की प्रक्रिया सही तरह से कार्य करती है। इसके साथ ही विटामिन बी 5 हार्मोन के स्तर को नियंत्रण में रखता है और हार्मोन के कार्यों को सरल बनाता है। शरीर के एंजाइम्स से संबंधित कई प्रक्रियाओं को विटामिन बी 5 प्रभावित करता है, जिसकी वजह से हार्मोन का स्तर नियंत्रण में बना रहता है।
    (और पढ़ें - महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए हार्मोन्स का महत्व)
     
  2. तनाव को कम करने में मददगार होता है
    विटामिन बी 5 की कमी के कारण आपको अवसाद और चिंता की समस्या हो सकती है। इसके अलावा जिन लोगों को मनोदशा (mood) से संबंधित समस्या होती है, उनको भी इस समस्या को कम करने के लिए विटामिन बी 5 की दवाएं व अन्य खाद्य पदार्थों के सेवन की सलाह दी जाती है। यदि आपको अवसाद का कारण विटामिन बी 5 की कमी न महसूस हो तो अपने डॉक्टर से इस बारे में विचार विर्मश करें। विटामिन बी 5 आपके मनोदशा (मूड) से संबंधित हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करता है, जिससे आपका मन शांत बना रहता है। 
    (और पढ़ें - तनाव के घरेलू उपाय)
     
  3. हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है
    हृदय शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक होता है। हृदय ही शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त के माध्यम से पोषक तत्वों को पहुंचाने में मदद करता है। विटामिन बी 5 हृदय के स्वास्थ्य के लिए जरूरी माना जाता है। इससे शरीर के लिए आवश्यक वसा को बनाए रखने में मदद मिलती है और शरीर से अत्यधिक खराब वसा हट जाती है, जिसके चलते रक्त वाहिकाएं कोलेस्ट्रॉल मुक्त होती है। 
    (और पढ़ें - हृदय रोग का इलाज)
     
  4. मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया के लिए आवश्यक होता है
    दिमाग और शरारीरिक सक्रियता की तरह ही चयापचय (मेटाबॉलिज्म) प्रक्रिया का सही और सक्रिय रहना बेहद आवश्यक होता है। शरीर में चयापचय (मेटाबॉलिज्म) प्रक्रियाओं के लिए विटामिन बी 5 महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। इससे आपके शरीर को भोजन से वसा और कार्बोहाइड्रेट को तोड़कर ऊर्जा ग्रहण करने मे आसानी होती है। विटामिन बी 5 के कारण मेटाबॉलिज्म प्रक्रिया में आई तेजी से जो ऊर्जा प्राप्त होती है, उससे दिमाग और शरीर को ठीक तरह से काम करने में मदद मिलती है। इससे थकान के लक्षणों से भी राहत मिलती है। 
    (और पढ़ें - मानसिक रोग दूर करने के उपाय)
     
  5. रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है
    शरीर से बीमारियों को दूर रखने के लिए मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली की आवश्यकता होती है। विटामिन बी 5 लगभग वह सभी गुण मौजूद होते हैं जो शरीर और मस्तिष्क के कार्यों को ठीक करके आपको कई रोगों से दूर रखते हैं। रिसर्च में इस बात का पता चला है कि विटामिन बी 5 के प्रभाव से सफेद रक्त कोशिकाओं में वृद्धि होती है। रक्त में मौजूद सेफद कोशिकाएं आपको बाहरी संक्रमण से सुरक्षित रखने में मदद करती है। 
    (और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)
     
  6. हिमोग्लोबिन के लिए जरूरी होता है विटामिन बी 5
    कोशिकाओं के बनने के लिए विटामिन बी 5 आवश्यक होता है। विटामिन बी 5 शरीर में आयरन (लौह) और कॉपर (तांबा) जैसे तत्वों के साथ मिलकर हिमोग्लोबिन को उत्पन्न करने में मदद करता है। 
    (और पढ़ें - तांबे के बर्तन में पानी पीने के फायदे)
     
  7. जख्म भरने में सहायक होता है
    कई रिसर्च में इस बात का पता चला है कि विटामिन बी 5 में जख्म को भरने के गुण मौजूद होते हैं। इतना ही नहीं विटामिन बी 5 से आप सांस संबंधी संक्रमण और बाहरी बैक्टीरिया से भी सुरक्षित रहते हैं। यह चोट के बाद खून को रोकने और जख्म को जल्दी ठीक करने में भी महत्वपूर्ण होता है।
    (और पढ़ें - बैक्टीरियल संक्रमण का इलाज)
     
  8. रूमेटाइड आर्थराइटिस से सुरक्षा प्रदान करने में मददगार होता है
    अध्ययन से पता चला है कि विटामिन बी 5 की कमी के कारण रूमेटाइड आर्थराइटिस हो जाता है। इस स्थिति में विटामिन बी 5 युक्त आहार खाने खाने से आपको न सिर्फ रूमेटाइड आर्थराइटिस में होने वाली सूजन से मुक्ति मिलती है, बल्कि इससे दर्द भी कम हो जाता है। 
    (और पढ़ें - गठिया को दूर करने वाले जूस)
     
  9. बालों और त्वचा को स्वस्थ रखता है
    विटामिन बी 5 से हार्मोन का स्तर सही बना रहता है, जिससे आपकी त्वचा और बाल स्वस्थ होते हैं। इस प्रक्रिया से आपको बालों में होने वाली पिग्मेंटेशन से सुरक्षा मिलती है। इसके साथ ही त्वचा का रंग हल्का होता है और यह लंबे समय तक स्वस्थ रहती है। भोजन में विटामिन बी 5 लेने से चेहरे की झुर्रियां और उम्र के साथ आने वाले दाग भी कम हो जाते हैं। 

(और पढ़ें - चेहरे की झुर्रियों को हटाने के घरेलू उपाय)

विटामिन बी 5 पानी में घुलनशील होता है। इस वजह से शरीर में विटामिन बी 5 की अधिकता होने पर, यह पेशाब के माध्यम से बाहर आ जाता है।

लेकिन कुछ दुर्लभ स्थितियों में विटामिन बी 5 की अधिकता के मामले भी पाए जाते हैं। शरीर में विटामिन बी 5 की अधिकता से निम्न लक्षण हो सकते हैं -

(और पढ़ें - दस्त रोकने के घरेलू उपाय)

विटामिन बी 5 की कितनी मात्रा आपको लेनी चाहिए इस बारे में आपको नीचे विस्तार से समझाया जा रहा है।

आयु  रोजाना ली जाने वाली मात्रा
शिशु 0 - 6 महीने 1.7 मिलीग्राम
शिशु 7 से 12 महीने 1.8 मिलीग्राम
बच्चे 1-3 साल 2 मिलीग्राम
बच्चे 4-8 साल 3 मिलीग्राम
बच्चे 9 -13 साल 4 मिलीग्राम
14 साल या उससे अधिक 5 मिलीग्राम
गर्भवती या स्तनपान करने वाली महिलाएं 7 मिलीग्राम

(और पढ़ें - विटामिन डी के फायदे)

विटामिन बी 5 को आप दवाओं और खाद्य पदार्थों के माध्यम से ले सकते हैं। विटामिन बी 5 युक्त खाद्य पदार्थों के बारे में निम्नतः जानें- 

  1. मशरूम
    मशरूम में कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। मशरूम की 100 ग्राम मात्रा खाने से आपको करीब 3.59 मिलीग्राम विटामिन बी 5 मिलता है। सभी तरह के मशरूम में विटामिन बी 5 पाया जाता है। अलग-अलग तरह के मशरूम में विटामिन बी 5 की मात्रा अधिक या कम हो सकती है। जंगल में होने वाले मशरूम जहरीले होते हैं, इनको खाने से बचना चाहिए। 
    (और पढ़ें - हरी सब्जियों के फायदे)
     
  2. अंडा
    अंडा विटामिन बी 5 का स्त्रोत माना जाता है। इसमें प्रोटीन भी अधिक मात्रा में होता है। एक अंडा खाने से आपको करीब 0.70 मिलीग्राम विटामिन बी 5 मिलता है। सुबह के नाश्ते में अंडे को शामिल करना एक बेहतर विकल्प होता है।
    (और पढ़ें - गर्मियों में अंडे खाना सेहत के लिए सही या गलत)
     
  3. सूरजमुखी के बीज
    सूरजमुखी के बीजों को अपने भोजन में शामिल करने से आपको कई तरह के विटामिन और खनिज प्राप्त होते हैं। सूरजमुखी के 100 ग्राम बीजों के सेवन से विटामिन बी 5 की करीब 7.06 मिलीग्राम जरूरत पूरी होती है। विटामिन बी 5 की रोजाना जरूरत का यह एक बड़ा भाग होती है। अलसी के बीज और कद्दू के बीजों में भी विटामिन बी 5 पाया जाता है, लेकिन इनमें सूरजमुखी के बीजों के मुकाबले विटामिन बी 5 बेहद कम होता है। 
    (और पढ़ें - अलसी के तेल का उपयोग)
     
  4. शकरकंद
    शकरकंद से आप विटामिन बी 5 की रोजाना जरूरत का कुछ भाग प्राप्त कर सकते हैं। भूनी हुई शकरकंद से आपको करीब 1.01 मिलीग्राम विटामिन बी 5 मिलता है। शकरकंद में कैलोरी अधिक मात्रा में और वसा बेहद कम मात्रा में मौजूद होती है। अपने खाने में इसे शामिल करके आप भोजन में विटामिन बी 5 की मात्रा को आसानी से बढ़ा सकते हैं।

(और पढ़ें - पौष्टिक आहार के गुण)

विटामिन बी 5 युक्त अन्य खाद्य पदार्थ

और पढ़ें ...