myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

शरीर को कई तरह के विटामिन और खनिज (मिनरल) की जरूरत होती है। इन विटामिन और खनिज की मदद से ही शरीर क्रियाशील होता है। इस सूची में एक जरूरी विटामिन है विटामिन बी1 है।

विटामिन बी1 को थायमिन के नाम से भी जाना जाता है। यह शरीर को कार्बोहाइड्रेट को ऊर्जा में परिवर्तित करने में मदद करता है। विटामिन बी1 ग्लूकोज चयापचय (मेटाबॉलिज्म) के लिए आवश्यक होता है और तंत्रिका, मांसपेशियों व हृदय के ठीक काम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

आगे इस लेख में विटामिन बी1 के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है - विटामिन बी1 क्या है,  विटामिन बी1 के फायदे, विटामिन बी1 की अधिकता के नुकसान और विटामिन बी1 के स्रोत क्या हैं।

(और पढ़ें - स्टेमिना बढ़ाने के उपाय)

  1. विटामिन बी 1 क्या है - Vitamin B1 kya hai in hindi
  2. विटामिन बी 1 के फायदे - Vitamin B1 ke fayde
  3. विटामिन बी 1 साइड इफेक्ट्स - Vitamin B1 ke side effects
  4. विटामिन बी 1 को दवा के रूप में लेने से किन रोगों में राहत मिलती है - Vitmanin B1 ki dava lene se kon se rog dur hote hai
  5. विटामिन बी 1 के स्त्रोत - Vitamin B1 ke srot
  6. विटामिन बी 1 की अधिकता - Vitamin B1 ki overdose in hindi

शरीर के सभी ऊतकों को कार्य करने के लिए विटामिन बी 1 की आवश्यकता होती है। विटामिन बी समूह में विटामिन बी 1 ही है जिसको वैज्ञानिकों ने सबसे पहले खोजा था। इसी वजह से इसको "विटामिन बी 1" के नाम से जाना जाता है।

इसको आहार व दवाओं के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है। इसकी कमी होने पर शरीर में कई तरह के रोग उत्पन्न हो सकते हैं।

विटामिन बी समूह के अन्य विटामिन की तरह बी1 भी पानी में घुलनशील होता है। विटामिन को उनकी घुलनशीलता के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। कुछ विटामिन पानी में घुलनशील होते हैं, जबकि कुछ वसा में घुलनशील होते हैं। पानी में घुलनशील विटामिन खून में मिल जाते हैं और जिन विटामिन का उपयोग शरीर नहीं कर पाता है, वह पेशाब के जरीए बाहर आ जाते हैं।

(और पढ़ें - संतुलित आहार किसे कहते है)

विटामिन बी 1 शरीर के संचालन के लिए सहायक होता है और यह शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों में से एक माना जाता है। इसके फायदों के बारे में नीचे विस्तार से बताया जा रहा है।

  1. विटामिन बी 1​ शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है
    चीनी शरीर की ऊर्जा का मुख्य स्रोत है। चीनी को पचाने की प्रक्रिया के लिए विटामिन बी 1 की आवश्यकता होती है। एंजाइम में मौजूद विटामिन बी 1 इस कार्य को करने में सहायक होता है। चीनी पचने के बाद शरीर को ऊर्जा मिलती है। (और पढ़ें - ताकत कैसे बढ़ाएं)
     
  2. विटामिन बी 1 नसों के बचाव में सहायक होता है
    विटामिन बी 1 नसों के चारों ओर "माइलिन शीथ" (Myelin sheath; नसों के चारों ओर मौजूद परत) बनाने में सहायक होता है। अगर शरीर में विटामिन बी 1 की कमी हो तो यह परत नष्ट होने लगती है, जिसकी वजह से नसों को गंभीर क्षति पहुँच सकती है। (और पढ़ें - विटामिन ए के फायदे)
     
  3. विटामिन बी 1 हृदय रोगों से सुरक्षा करता है
    विटामिन बी 1 शरीर में "एसीटाईलकोलीन" (Acetylcholine; शरीर में मौजूद एक तरह केमिकल) के बनने में मदद करता है। यह केमिकल तंत्रिकाओं और मांसपेशियों के बीच में संकेत लाने / ले जाने का काम करता है। अगर शरीर में इस केमिकल की कमी हो जाये तो हृदय के कार्य में बाधा भी आ सकती है।

    एक अध्ययन में सात दिनों तक दिल की विफलता (हार्ट फेलियर) से पीड़ित मरीजों को विटामिन बी 1 नसों के माध्यम से दिया गया। सात दिनों बाद इन मरीजों के स्वास्थ्य में काफी सुधार देखा गया और इसकी पुष्टि इको टेस्ट (हृदय स्वास्थ्य को जांचने वाला टेस्ट) से हुई। इस अध्ययन से इस बात का पता चला कि विटामिन बी 1 हृदय रोगों से सुरक्षा प्रदान करता है। (और पढ़ें - हृदय रोग का इलाज)
     
  4. विटामिन बी 1 मोतियाबिंद से बचाव करने में उपयोगी है
    अन्य पोषक तत्वों के साथ विटामिन बी 1 लेने से आपको मोतियाबिंद का खतरा कम हो जाता है, यहाँ तक कि मोतियाबिंद होने का खतरा पूरी तरह से टल भी सकता है। (और पढ़ें - मोतियाबिंद के घरेलू उपाय)
     
  5. विटामिन बी 1 एंटी एजिंग गुण से भरपूर है
    विटामिन बी 1 एक एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। एंटीऑक्सीडेंट आपकी त्वचा से झुर्रियों और ऐज स्पॉट (Age spot/ बढ़ती उम्र की वजह से त्वचा पर पड़ने वाले दाग धब्बे) जैसे बुढ़ापे के लक्षणों को दूर रखता है। इसके अलावा विटामिन बी 1 कुछ ऐसे विकारों से बचाता है जो उम्र बढ़ने पर होते हैं और अंदरूनी अंगों को प्रभावित करते हैं। (और पढ़ें - एजिंग के लक्षणों को कम करने के आयुर्वेदिक टिप्स)
     
  6. विटामिन बी 1 पाचन क्रिया के लिए उपयोगी है
    विटामिन बी 1 खाने को पचाने के लिए जरूरी "हाईड्रोक्लोरिक एसिड" (Hydrochloric acid) के स्त्राव को बढ़ता है, जिसकी मदद से पाचन क्रिया सही होती है और खाना आसानी से पच जाता है। (और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)
     
  7. विटामिन बी 1 अल्जाइमर रोग से बचाता है
    विटामिन बी 1 अल्जाइमर रोग के बढ़ने को धीमा करता है। एक शोध में पाया गया कि विटामिन बी 1 पूरक (सप्लीमेंट) की करीब 100 मिलीग्राम मात्रा रोजाना लेने से अल्जाइमर रोग के मरीजों को राहत मिलना शुरू हो जाती है। वर्तमान में इस खोज की पुष्टि करने के लिए अन्य अध्ययन किये जा रहें हैं। (और पढ़ें - अल्जाइमर रोग को कम करने वाले आहार)
     
  8. विटामिन बी 1 लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में सहायक
    विटामिन बी 1 लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाने में सहायक होता है, जिससे आप स्वस्थ, ऊर्जावान और क्रियाशील रहते हैं। 

(और पढ़ें - ब्लड बढ़ाने के उपाय)

उचित मात्रा में मौखिक रूप से विटामिन बी 1 का सेवन सुरक्षित होता है। लेकिन कुछ दुर्लभ मामलों में एलर्जी और त्वचा में जलन हो सकती है।

नसों के ज़रिये विटामिन बी 1 दिया जाए, जैसे कि ग्लूकोज चढ़ाया जाता है, तो भी ये सुरक्षित होता है। लेकिन ऐसा सिर्फ एक डॉक्टर द्वारा ही किया जाना चाहिए। 

अधिक शराब पीने और यकृत की समस्या वाले लोगों के शरीर में विटामिन बी 1 अवशोषित होने में कठिनाई आ सकती है।

वैसे तो विटामिन बी 1 गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित होता है, लेकिन इसके लिए गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओं को डॉक्टर के द्वारा बताई गई करीब 1.4 मिलीग्राम मात्रा का ही सेवन करना चाहिए। इस अवस्था में अधिक मात्रा में विटामिन बी 1  लेने के प्रभाव के बारे में पर्याप्त जानकारी मौजूद नहीं हैं।

(और पढ़ें - स्तनपान से जुड़ी समस्याएं)

विटामिन बी 1 को दवा के रूप में लेने से पहले आपको अपने डॉक्टर से इस बारे में अवश्य पूछ लेना चाहिए।

विटामिन बी 1 की कमी वाले मरीजों को विटामिन बी 1 दवा के रूप में इन स्थितियों में दी जा सकती है 

  • "पेरिफेरल न्यूरीटिस" (Peripheral neuritis; एक तंत्रिका संबंधी विकार) के लिए भी विटामिन बी1 की दवाओं को दिया जाता है। इसमें मस्तिष्क के बाहर की तंत्रिकाओं में सूजन हो जाती है।
  • आंतों में सूजन, दस्त और भूख कम लगने वाले लोगों को भी विटामिन बी 1 दिया जाता है। कोमा की स्थिति में भी विटामिन बी 1 के इंजेक्शन दिए जा सकते हैं।
  • कई खिलाड़ी अपने प्रदर्शन को बेहतर करने के लिए विटामिन बी 1 लेते हैं।

निम्न तरह की कई अन्य स्थितियां जिनमें थायमिन की दवा से लाभ हो सकते हैं-

विटामिन बी 1 को आप आहार से प्राप्त कर सकते हैं। गेहूं के आटे में विटामिन बी1 भरपूर मात्रा में होता है। रोजाना खाए जाने वाले आहार से आपको विटामिन बी1 की पूर्ति हो सकती है। विटामिन बी1 युक्त खाद्य साम्रगियों को नीचे विस्तार से बताया जा रहा है -

इनके अलावा जिन ब्रेकफास्ट सीरियल (जैसे कि कॉर्न फ्लेक्स) में अलग से विटामिन बी 1 मिलाया  गया होता है, उन्हें खाने से 1.5 मिलीग्राम तक विटामिन बी 1 मिल सकता है। यह आपकी दैनिक जरूरत के लिए पर्याप्त होता है। विटामिन बी 1 शरीर में संरक्षित नहीं हो पाता है, इसलिए आपको नियमित रूप से विटामिन बी 1 अपने आहार से प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।  

गौर करने की बात: खाद्य पदार्थों को ज्यादा गर्म करने से, या उन्हें पानी में ज्यादा देर तक उबालने से और ज्यादा प्रोसेस करने से विटामिन बी 1 नष्ट हो जाता है। विटामिन बी1 पानी में घुलनशील होता है, इसलिए यह खाना पकाते समय खाने के पानी में मिल जाता है।

(और पढ़ें - ब्राउन राइस के फायदे)

विटामिन बी 1 पानी में घुलनशील विटामिन होता है। पानी में घुलनशील होने के कारण यह शरीर में संरक्षित नहीं हो पाता है और शरीर में विटामिन बी 1 अधिक होने पर, यह पेशाब के माध्यम से बाहर आ जाता है।

सामान्य मामलों में अधिक मात्रा में विटामिन बी 1 लेने से आपको किसी प्रकार की कोई हानि नहीं होती है, लेकिन कुछ दुर्लभ स्थितियों में विटामिन बी 1 की अधिकता के मामले गए हैं। ऐसे में शरीर में विटामिन बी 1 की अधिकता के निम्न लक्षण देखने को मिल सकते हैं -

और पढ़ें ...