सर्दियों का मौसम आ चुका है और बीमारियों का भी। ज्यादातर लोगों को यही लगता है कि कॉमन कोल्ड यानी सामान्य सर्दी-जुकाम और वायरल की समस्या ठंड के मौसम में बढ़ जाती है। वैसे देखा जाए तो सर्दी में लोगों के बीमार होने के लिए मौसम सीधे तौर पर जिम्मेदार नहीं होता, बल्कि वह वायरस जो सर्दी-जुकाम फैलाने के लिए जिम्मेदार होता है वह ठंड के मौसम में तापमान कम होने पर तेजी से फैलने लगता है। इतना ही नहीं सर्दियों में बहने वाली ठंडी और रूखी हवा भी शरीर के इम्यून सिस्टम पर नकारात्मक असर डालती है जिसकी वजह से सर्दियों में लोग ज्यादा बीमार पड़ते हैं।

(और पढ़ें - सर्दियों में बीमारियों से रहना चाहते हैं दूर तो जरूर करें ये काम)

यही कारण है कि सर्दी के मौसम में हमें अपनी डाइट यानी खानपान में बदलाव करने की सलाह दी जाती है ताकि हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत बन सके और हम बीमार पड़ने से बच जाएं। न्यूट्रिशनिस्ट्स और वेलनेस एक्सपर्ट्स यही सलाह देते हैं कि लोगों को सर्दियों के मौसम में ड्राई फ्रूट्स, सूखे मेवे, तुलसी, अदरक, हरी पत्तेदार सब्जियां, मेथी, गुड़ आदि का अधिक सेवन करना चाहिए। सर्दी के मौसम में अपनी इम्यूनिटी को मजबूत बनाने के लिए हमें क्या-क्या खाना चाहिए इस बारे में तो हर किसी से आपको सलाह मिलती ही होगी। लेकिन ठंड के मौसम में बीमार पड़ने से बचने के लिए वे कौन सी चीजें हैं जिन्हें आपको नहीं खाना चाहिए, इस बारे में हम आपको यहां बता रहे हैं। 

(और पढ़ें - सर्दी-जुकाम में परहेज, क्या खाएं और क्या नहीं)

इन फूड आइटम्स को अगर आप सर्दी के मौसम में खाते हैं तो इससे आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाएगा और आप जल्दी संक्रमण की चपेट में आ जाएंगे जिससे आपके बीमार होने का खतरा बढ़ जाएगा। लिहाजा अपनी विंटर डाइट में इन चीजों को शामिल न करें।

  1. सर्दियों में न करें दूध का सेवन - Sardi me na piye doodh
  2. सर्दियों में न खाएं दही - Sardi me na khaye dahi
  3. सर्दियों में न खाएं केला - Sardi me na khaye kela
  4. सर्दियों में ठंडी चीजें न खाएं - Winters me thandi cheezen na khaye
  5. सर्दियों में न खाएं रेड मीट - Winter season me na khaye red meat
  6. सर्दियों में कैफीन वाली चीजों का सेवन कम करें - Sardi me caffeine wali cheezon se kare parhej
  7. सर्दियों में न खाएं ज्यादा तला-भुना - Sardi me na khaye deep fried
  8. सर्दियों में न खाएं ज्यादा मीठी चीजें - Sardi me na khaye zyada meetha

दूध को भले ही संपूर्ण आहार माना जाता है और दूध बेहद हेल्दी भी होता है लेकिन सर्दियों के मौसम में दूध का कम सेवन करना ही आपके लिए फायदेमंद होगा। इसका कारण ये है कि दूध कफ बनाने का काम करता है और अगर शरीर में पहले से कफ मौजूद है तो उसे भी दूध, गाढ़ा कर सकता है। ऐसा होने पर गले में जलन और उत्तेजना बढ़ सकती है और आपको असहज महसूस हो सकता है।

(और पढ़ें - दूध पीने का सही समय क्या है जानें)

दूध और दूध से बनने वाले उत्पाद जैसे क्रीम, चीज आदि का सेवन भी सर्दियों में कम ही करना चाहिए क्योंकि इनकी वजह से कंजेशन (सीने में कफ जमना) की समस्या हो सकती है और अगर आपको सर्दी-जुकाम है तो आपकी समस्या और ज्यादा बिगड़ सकती है। लिहाजा अगर आपको दूध पीना ही हो तो आप सर्दियों में सोया मिल्क या आमंड मिल्क का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आप चाहें तो सादा दूध पीने की बजाए उसमें हल्दी डालकर पिएं तो यह भी सर्दियों में इम्यूनिटी मजबूत करने में मदद कर सकता है।

आयुर्वेद की मानें तो सर्दियों में दही खाने से बचना चाहिए क्योंकि यह म्यूकस यानी बलगम के स्राव को बढ़ाता है जो शरीर की ओवरऑल सेहत को प्रभावित करता है। आयुर्वेद के मुताबिक, दही की प्रकृति कफ-कार होती है और इसलिए दही खाने के बाद जब शरीर में अतिरिक्त बलगम का निर्माण होने लगता है तो यह उन लोगों के लिए मुश्किलें बढ़ा सकता है जिन्हें पहले से ही श्वसन संक्रमण, अस्थमा, सर्दी और खांसी की समस्या है। इसलिए सर्दियों में और विशेष रूप से रात के समय तो दही का सेवन करने से पूरी तरह से बचने की सलाह दी जाती है।

(और पढ़ें - रात में दही खाना चाहिए या नहीं)

अक्सर लोगों के मन में ये सवाल आता है कि उन्हें सर्दी के मौसम में केला खाना चाहिए या नहीं। तो इसका जवाब ये है कि अगर आपको पहले से ही श्वसन संबंधी कोई बीमारी, सर्दी-जुकाम, खांसी या साइनस की समस्या है तो आपको ठंड के मौसम में केला नहीं खाना चाहिए। दरअसल केला प्राकृतिक रूप से मीठा होता है और भारी भी और इसलिए इसे पचाने में काफी समय लगता है। इसके अलावा खांसी और जुकाम की समस्या को बढ़ा सकता है केला। लिहाजा सर्दियों में केला ना ही खाएं तो बेहतर होगा। लेकिन अगर आपको सर्दी-जुकाम जैसी कोई समस्या नहीं है तो आप सर्दी के मौसम में केवल दिन के समय केला खा सकते हैं लेकिन सीमित मात्रा में।

(और पढ़ें - खाली पेट केला खाने के फायदे नुकसान)

वैसे तो कोल्ड ड्रिंक और सॉफ्ट ड्रिंक जैसी चीजें सेहत के लिए नुकसानदेह होती हैं इसलिए इनका सेवन नहीं करना चाहिए लेकिन सर्दियों के मौसम में खास तौर पर कोल्ड ड्रिंक या आइसक्रीम जैसी ठंडी चीजें बिलकुल नहीं खानी चाहिए। इससे सर्दी-जुकाम और खांसी होने का खतरा रहता है जिस कारण आपकी इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है और पाचन तंत्र पर भी इसका बुरा असर पड़ता है। सर्दियों में ठंडी चीजें खाने से शरीर का तापमान कम हो जाता है जिससे थकान और आलस बढ़ जाता है।

(और पढ़ें - ठंडा पानी पीने के फायदे नुकसान)

रेड मीट प्रोटीन का बेहतरीन सोर्स है और प्रोटीन मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है। लेकिन चूंकि रेड मीट में प्रोटीन की बहुत अधिक मात्रा पायी जाती है इस कारण आपके गले में म्यूकस बनने का खतरा बढ़ जाता है। लिहाजा रेड मीट, प्रोसेस्ड मीट और हाई फैट मीट जैसी चीजों का सर्दियों में सेवन कम करना चाहिए। इसकी जगह आप चाहें तो बिना चर्बी वाली मछली या पोल्ट्री का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें - रेड मीट सेहत के लिए कैसे हो सकता है खतरनाक, जानें)

ठंड के मौसम में गर्मा गर्म कॉफी, चाय या हॉट चॉकलेट का कप लेकर कंबल में घुसकर बैठने का मजा ही कुछ और है। लेकिन आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि इन चीजों में फैट और कैफीन की मात्रा बहुत अधिक होती है। अगर सर्दियों में कॉफी, चाय आदि का ज्यादा सेवन किया जाए इससे शरीर में पानी की कमी (डिहाइड्रेशन) हो सकती है जिससे शरीर में मौजूद कफ और ज्यादा गाढ़ा हो जाता है। लिहाजा सर्दियों में कैफीन वाले ड्रिंक्स की जगह गर्म और गुनगुना पानी और हर्बल टी आदि का सेवन करना बेहतर माना जाता है।

(और पढ़ें - शरीर पर कैफीन का होता है कैसा असर जानें)

बारिश का मौसम हो या फिर सर्दियों का मौसम चाय या कॉफी के साथ गर्मा-गर्म पकौड़े, समोसे या डीप-फ्राई की हुई चीजें हम सभी को पसंद आती हैं। लेकिन ठंड के मौसम में जब आप बीमार पड़ने से बचने की कोशिश कर रहे हों, ऐसे में आपको ज्यादा तली-भुनी चीजें खाने से परहेज करना चाहिए क्योंकि इनमें फैट की मात्रा बहुत अधिक होती है। फैट ज्यादा होने की वजह से न सिर्फ शरीर में इन्फ्लेमेशन (आंतरिक सूजन और जलन) का खतरा बढ़ जाता है बल्कि म्यूकस का उत्पादन भी अधिक होने लगता है। इन्फ्लेमेशन और म्यूकस ये दोनों ही चीजें शरीर के लिए कई तरह से नुकसानदेह हो सकती हैं। इसके अलावा इन्फ्लेमेशन इम्यून सिस्टम की सक्रियता कम कर देता है जिससे बीमारियों से लड़ने की क्षमता घट जाती है।

(और पढ़ें - आसान तरीकों से खत्म करें तला हुआ खाने की लत)

वैसे तो किसी भी चीज की अति बुरी होती है। फिर चाहे वह चीनी हो या फिर नमक। हमें हर चीज का सीमित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए। लेकिन एक्सपर्ट्स की मानें तो सर्दियों के मौसम में केक, पेस्ट्री, फ्रूट जूस आदि चीजें जिसमें चीनी की मात्रा अधिक होती है उनका भी सेवन नहीं करना चाहिए। इसका कारण ये है कि ज्यादा मीठी चीजें खाने के बाद आपका मन भले ही खुश हो जाए लेकिन ये चीजें शरीर में इन्फ्लेमेशन का कारण बनती हैं जिससे इम्यूनिटी कमजोर हो जाती है। एक स्टडी में यह बात सामने आयी थी कि जिन लोगों ने बहुत अधिक मात्रा में चीनी का सेवन किया था उनका शरीर बैक्टीरिया से लड़ने में सक्षम नहीं था उन लोगों की तुलना में जिन्होंने चीनी का सेवन नहीं किया था।

(और पढ़ें - चीनी की लत दूर करने के आसान उपाय)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ