किसी भी प्रकार का दर्द तभी शुरू होता है जब प्रभावित हिस्सा किसी असुविधा या चोट की वजह से हमारे मस्तिष्क को संकेत भेजता है। शरीर में दर्द होना एक प्रकार का लक्षण है, जो कि कई अंतर्निहित स्थितियों की वजह से हो सकता है। बदन दर्द के कुछ सामान्य कारणों में शामिल हैं :

  • मांसपेशियों, हड्डियों, जोड़ों, स्नायुबंधन (लिगामेंट), टेंडन या नसों में चोट पहुंचना
  • लंबे समय तक एक स्थिति में बने रहना या शरीर की मुद्रा (बॉडी पॉश्चर) सही न होना
  • फाइब्रोमायल्जिया (एक तरह का विकार जिसमें थकान, नींद, याद्दाश्त, मनोदशा से जुड़ी परेशानियों के साथ मासंपेशियों व हड्डियों में दर्द होता है)
  • सर्दी और फ्लू, टाइफाइड, टीबी और अन्य स्थितियां, जो बदन दर्द, थकान और कमजोरी का कारण बनते हैं
  • डिसमेनोरिया जैसे पीरियड्स के दौरान दर्द होना, यह महिलाओं में बदन के सामान्य कारणों में से एक है
  • गठिया

परंपरागत रूप से, शरीर के दर्द के इलाज में अंतर्निहित स्थितियों का प्रबंधन करना शामिल है। इसके उपचार में आमतौर पर दर्द निवारक, मांसपेशियों को आराम देने वाली, अवसाद रोधी और विटामिन की खुराक शामिल होती हैं।

(और पढ़ें - अवसाद की आयुर्वेदिक दवा)

हालांकि, बदन दर्द की होम्योपैथिक दवा भी ली जा सकती है। इसमें ली जाने वाली दवाएं न केवल व्यक्तिगत लक्षणों को ठीक करती हैं, बल्कि यह रोगप्रतिरोधक क्षमता में सुधार करती हैं। यह सीधे अंतर्निहित कारणों पर असर करती हैं, इन्हें निर्धारित करने से पहले व्यक्ति की आयु, उसकी मानसिक और शारीरिक स्थिति की जांच की जाती है। यही वजह है कि भले दो इंसानों को एक जैसी बीमारियां हों, लेकिन उनकी दवाइयां एक जैसी नहीं होती हैं। सही व सटीक उपाय जानने के लिए किसी अनुभवी होम्योपैथिक डॉक्टर से परामर्श करें।

शरीर के दर्द के इलाज में मदद करने वाले कुछ होम्योपैथिक उपचारों में वेराट्रम एल्बम, स्ट्रिचनिनम प्यूरम, रूटा ग्रेविओलेंस, रस टॉक्सीकोडेंड्रोन, रैम्नस कैलीफोर्निका, रेननक्यूलस बलबोसस, जेल्सेमियम सेम्परविरेन्स, डलकैमारा, मैग्नीशियम फॉस्फोरिकम, कैपरम मेटालिकम, सिमिसीफ्यूगा रेसीमोसा, ब्राओनिआ एल्बा, अर्निका मोंटाना एंड एकोनिटम नेपेलस शामिल हैं।

  1. बदन दर्द की होम्योपैथिक दवा - Body Pain ki homeopathic medicine
  2. बदन दर्द के लिए होम्योपैथी के अनुसार बदलाव - Diet according to homeopathy for Body Pain in Hindi
  3. बदन दर्द के लिए होम्योपैथिक दवाएं कितनी प्रभावी हैं? - How much effective homeopathic medicine for Body Pain in Hindi
  4. बदन दर्द के लिए होम्योपैथिक दवा और उपचार जोखिम - Disadvantages of homeopathic medicine for Body Pain in Hindi
  5. बदन दर्द की होम्योपैथिक दवा से जुड़े टिप्स - Tips related to homeopathic treatment for Body Pain in Hindi
बदन दर्द की होम्योपैथिक दवा और इलाज के डॉक्टर

नीचे कुछ होम्योपैथिक उपचार बताए गए हैं, जो बदन दर्द के उपचार के लिए उपयोग किए जाते हैं :

वेराट्रम एल्बम
सामान्य नाम :
व्हाइट हेलेबोर
लक्षण : इस उपाय का उपयोग मुख्य रूप से कमजोरी, मतली व उल्टी और हाथ व पैर में ऐंठन के उपचार के लिए किया जाता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मदद कर सकता है :

यह लक्षण ठंड के मौसम में और रात में खराब हो जाते हैं, जबकि गर्मी में और चलने पर इनमें सुधार होता है।

स्ट्रिचनिनम प्यूरम
सामान्य नाम :
एल्कालॉइड ऑफ नक्स वोमिका
लक्षण : स्ट्रिचनिनम प्यूरम मांसपेशियों की अकड़न, ऐंठन और अचानक से दर्द होना (जो विशेष अंतराल पर बार-बार होता है) के प्रबंधन के लिए एक बेहतरीन उपाय है। निम्नलिखित प्रबंधन में भी उपयोगी है :

  • जोड़ों, भुजाओं और टांगों में अकड़न
  • ऐंठन जैसा दर्द विशेषकर हाथ-पैर में
  • झटकों के साथ रीढ़ की हड्डी में दर्द होना
  • गर्दन के पीछे वाले हिस्से में दर्द (और पढ़ें - गर्दन में दर्द का इलाज)
  • पीठ में अकड़न
  • पेट की मांसपेशियों में दर्द
  • गंभीर रूप से उल्टी आना
  • छाती की मांसपेशियों में दबाव और दर्द

यह लक्षण सुबह, दर्द वाले हिस्से को छूने और खाने के बाद बिगड़ जाते हैं, लेकिन पीठ के बल लेटने पर रोगी को थोड़ी राहत मिलती है।

रूटा ग्रेविओलेंस
सामान्य नाम :
रू-बिटरवॉर्ट
लक्षण : तनाव, मोच और गंभीर रूप से कमजोरी के इलाज के लिए यह उपाय बहुत उपयोगी है। यह बदन दर्द का इलाज करने में भी मदद करता है। इस उपाय का उपयोग करके निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक किया जा सकता है :

यह लक्षण ठंडे मौसम में और लेटने पर बिगड़ जाते हैं।

रस टॉक्सीकोडेंड्रोन
सामान्य नाम :
पॉइजन-आइवी
लक्षण : गठिया और टाइफाइड जैसी अंतर्निहित स्थितियों की वजह से उठने वाले दर्द के इलाज में यह उपाय उपयोगी है। इसके अलावा यह निम्नलिखित स्थितियों को ठीक करने में भी प्रभावी है :

  • जोड़ों में सूजन
  • टेंडन और लिगामेंट में फटने जैसा दर्द होना
  • बेचैनी महसूस होना और रुक-रुककर बुखार आना
  • पीठ के निचले हिस्से और गर्दन के पिछले हिस्से में दर्द व अकड़न
  • ओवरएक्जरशन के बाद हाथ-पैर सुन्न होना
  • थकने पर कांपने लगना (और पढ़ें - कपकपी क्यों लगती है)
  • घुटने के जोड़ों को छूने पर दर्द होना

यह लक्षण रात में, सोते समय, मानसून और बारिश के मौसम में बिगड़ जाते हैं जबकि चलने, स्थिति (पोजिशन) बदलने, गर्म और सूखे मौसम और किसी एक हाथ या पैर को स्ट्रेच करने पर आराम मिलता है।

रैम्नस कैलीफोर्निका
सामान्य नाम : कैलिफोर्निया कॉफी-ट्री
लक्षण :
यह उपाय मांसपेशियों में दर्द व डिसमेनोरिया की वजह से होने वाले दर्द में असरदार है। यह जोड़ों की सूजन और गठिया के इलाज के साथ-साथ निम्न​लिखित लक्षणों के प्रबंधन के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

  • चिड़चिड़ापन और बेचैनी
  • हाथ-पैर की मांसपेशियों की क्रियाओं को नियंत्रित करने में दिक्कत होना

यह लक्षण शाम को बिगड़ जाते हैं।

रेननक्यूलस बलबोसस
सामान्य नाम :
बटरकप
लक्षण : यह उपाय मुख्य रूप से मांसपेशियों पर काम करता है और निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मदद करता है :

यह लक्षण शाम को, खुली हवा में रहने और बरसात व तूफानी मौसम में बिगड़ जाते हैं।

जेल्सेमियम सेम्परविरेन्स
सामान्य नाम :
येलो जैस्मिन
लक्षण : येलो जैस्मिन तंत्रिका तंत्र पर असर दिखाता है और यह लकवा के साथ-साथ निम्नलिखित लक्षणों का भी प्रबंधन कर सकता है :

  • मांसपेशियों में कमजोरी
  • कंपकंपी और सुस्ती
  • पीठ में ठंड लगना
  • चक्कर आनाबेहोशी के साथ बुखार
  • मांसपेशियों पर नियंत्रण की कमी और बाहों व टांगों में कमजोरी
  • पीरियड्स के दौरान दर्द जो पीठ और कूल्हे तक फैलने लगता है
  • पीठ में हल्का दर्द
  • जल्दी थकान आना

यह लक्षण तब बिगड़ते हैं जब रोगी अपने लक्षणों के बारे में सोचता है। नम या फॉगी (धुंधला) मौसम, धूम्रपान करना और कुछ निश्चित भावनाएं, उत्तेजित होना या कोई बुरी खबर भी इन लक्षणों को खराब कर सकती है। रोगी खुली हवा में और आगे झुकने पर बेहतर महसूस करता है।

डलकैमारा
सामान्य नाम :
बिटर-स्वीट
लक्षण : जोड़ो, लिगामेंट, हड्डियों, मांसपेशियों और टेंडन में सूजन को ठीक करने में यह उपाय असरदार है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों के इलाज में भी प्रभावी है :

यह लक्षण रात में, बारिश और उमसभरे मौसम में बिगड़ते हैं, जबकि बाहरी गर्मी और चलने-फिरने से इनमें सुधार होता है।

मैग्नीशियम फॉस्फोरिकम
सामान्य नाम :
फॉस्फेट ऑफ मैग्नेशिया
लक्षण : यह दवा इन्फ्लूएंजा, शारीरिक और मानसिक बेचैनी और आंतरिक अंगों में जलन के प्रबंधन में उपयोगी है। इस उपाय का उपयोग करके निम्नलिखित लक्षणों का भी इलाज किया जाता है :

  • पीठ में दर्द, अकड़न और सुन्न होना
  • अंडाशय और गर्भाशय में तेज दर्द
  • जोड़ों में सूजन और दर्द
  • घुटनों में अकड़न
  • बेचैनी
  • सिर में जलन

यह लक्षण गर्म कमरे में, शाम और रात में, धूम्रपान करने से, संगीत सुनने, ठंडी और शुष्क हवाओं से बिगड़ जाते हैं, जबकि गर्मी में यह लक्षण बेहतर हो जाते हैं।

(और पढ़ें - घुटनों में दर्द का इलाज)

कैपरम मेटालिकम
सामान्य नाम :
मांसपेशियों में फड़कन
लक्षण : यह उपाय विशेष रूप से ऐंठन और रुक-रुक कर होने वाले दर्द के इलाज में उपयोगी है। यह निम्नलिखित स्थितियों को भी ठीक करने में मदद करता है।

  • मांसपेशियों का फड़कना
  • हथेलियों, तलवों और पिंडलियों में ऐंठन
  • मतली, उल्टी और दस्त
  • पेट में ऐंठन और नसों में दर्द

यह लक्षण उल्टी के बाद, पीरियड्स से पहले और दर्द वाले हिस्से को छूने पर बिगड़ जाते हैं। रोगी ठंडा पानी पीने और पसीना आने के बाद ठीक महसूस करता है।

सिमिसीफ्यूगा रेसीमोसा
सामान्य नाम :
ब्लैक स्नेक-रूट
लक्षण : यह उपाय मुख्य रूप से दर्द के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों में भी इस्तेमाल किया जाता है :

यह लक्षण सुबह और पीरियड्स के दौरान बिगड़ जाते हैं जबकि खाने के बाद और गर्मी से इनमें सुधार होता है।

ब्राओनिआ एल्बा
सामान्य नाम :
वाइल्ड हॉप्स
लक्षण : वाइल्ड हॉप्स का उपयोग मुख्य रूप से चुभन जैसे दर्द व मांस फटने जैसे दर्द में किया जाता है। हालांकि, यह दर्द आराम करने पर बेहतर हो जाते हैं। यह लक्षणों के निम्नलिखित उपचार में भी उपयोगी है जैसे :

  • शारीरिक कमजोरी
  • चिड़चिड़ापन
  • पीरियड्स से पहले और बाद में दर्द होना
  • श्रोणि और पेट वाले हिस्से में दर्द
  • गर्दन के पिछले हिस्से और पीठ में दर्द व अकड़न
  • जोड़ों में सूजन
  • जोड़ों में चुभन जैसा व मांस फटने जैसा दर्द
  • पेट को छूने में दर्द होना

यह लक्षण प्रभावित हिस्से को छूने और खाने के बाद बिगड़ जाते हैं, जबकि आराम करने और दर्द वाले हिस्से के बल लेटने पर इन लक्षणों से राहत मिलती है।

अर्निका मोंटाना
सामान्य नाम :
लीपर्ड बेन
लक्षण : लीपर्ड बेन से इन्फ्लूएंजा, चोट, किसी अंग का सामान्य से ज्यादा उपयोग करना और तनाव के लक्षणों का प्रबंधन किया जाता है। इसके अलावा यह दवा निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक कर सकता है :

  • ऐसा एहसास होना, जैसे भुजा और टांगों में मोच व डिसलोकेशन की समस्या हो गई है
  • श्रोणि में दर्द उठना
  • सिर में गर्मी के साथ बुखार
  • पसलियों के नीचे चुभन जैसा दर्द
  • प्रसव के बाद जननांगों में दर्द
  • चोट के बाद स्तन में सूजन

यह लक्षण आराम करने, नम मौसम में हल्के से छूने पर, ठंडे मौसम में खराब हो जाते हैं। सिर को नीचे करके रखने और लेटने से इनमें सुधार होता है।

एकोनिटम नेपेलस
सामान्य नाम :
मॉन्कशूड
लक्षण : सूजन के प्रबंधन के लिए मॉन्कशूड एक कारगर उपाय है। इसका उपयोग निम्नलिखित स्थितियों में भी किया जा सकता है :

  • शरीर के आंतरिक अंगों में जलन
  • बेचैनी
  • पीठ में दर्द, सुन्न होना और अकड़न 
  • बाहों और टांगों का सुन्न होना, झुनझुनी और तेज दर्द

यह लक्षण शाम और रात में, गर्म माहौल में, प्रभावित हिस्से के बल लेटने और धूम्रपान करने से खराब होते हैं जबकि खुली हवा में इनमें सुधार होता है।

(और पढ़ें - बदन दर्द के घरेलू उपाय)

दवाओं के अलावा, होम्योपैथिक डॉक्टर अपने रोगियों को आहार और जीवन शैली में कुछ जरूरी बदलाव करने की सलाह देते हैं। वे ऐसा इसलिए करते हैं ताकि इन दवाइयों का असर सटीक व जल्दी हो सके। होम्योपैथिक उपचार बेहद घुलनशील होते हैं। कई बाहरी कारक इनके असर को बाधित कर सकते हैं, इसीलिए डॉक्टर से परामर्श करके दवाइयों के साथ-साथ खानपान के बारे में भी जान लेना चाहिए। इन सुझावों में शामिल है :

क्या करना चाहिए

क्या नहीं करना चाहिए

  • चाय और कॉफी जैसे कैफीन वाले पेय न लें।
  • तेज गंध/महक वाली चीजों का सेवन न करें।
  • औषधीय गुणों वाले खाद्य पदार्थों और पेय से बचें।
  • भोजन में किसी भी तरह की अधिकता से बचें, जैसे सामान्य से ज्यादा नमक, मसाले व चीनी
  • क्रोधित न हों या शोक न मनाएं, क्योंकि इन भावनाओं से ओवरएक्जरशन हो सकता है।

शरीर में दर्द के प्रबंधन के लिए कई होम्योपैथिक दवाओं का उपयोग किया जाता है। इन उपायों को सभी उम्र के लोगों जैसे बच्चों, युवाओं, गर्भवती महिलाओं और बुजुर्ग व्यक्तियों में सुरक्षित और प्रभावी बताया जाता है।

ऑस्टियोआर्थराइटिस से ग्रस्त 35 वर्ष या अधिक आयु के व्यक्तियों पर स्टडी की गई। इन सभी रोगियों को जोड़ों में दर्द और अकड़न की समस्या थी। इनके लिए लक्षणों और इनकी शारीरिक व मानसिक स्थिति के अनुसार होम्योपैथिक उपचार निर्धारित किए गए। शोध में पाया गया कि होम्योपैथिक उपचार ने सभी रोगियों में दर्द और अकड़न को काफी कम कर दिया, जिससे उनके जीवन की गुणवत्ता में सुधार हुआ।

(और पढ़ें - मानसिक रोग दूर करने के उपाय)

हालांकि, बदन दर्द में होम्योपैथिक दवाओं की दक्षता की पुष्टि करने के लिए पर्याप्त अध्ययन नहीं हैं, इसलिए बेहतर होगा कि इस बारे में अधिक जानने के लिए होम्योपैथिक डॉक्टर से परामर्श करें।

होम्योपैथिक उपचार बदन दर्द सहित कई स्थितियों और लक्षणों के उपचार में उपयोगी है। ये उपाय प्राकृतिक चीजों जैसे जड़ी-बूटियों, खनिजों या पशु उत्पादों से बनाए जाते हैं, इसीलिए इन्हें दुष्प्रभावों से मुक्त माना जाता है। इन दवाओं को घुलनशील रूप दिया जाता है, इसलिए इन्हें संवेदनशील भी माना जाता है। फिर भी, इन उपायों को बिना किसी डॉक्टर से पूछे अपने आप नहीं लेना चाहिए। एक होम्योपैथिक डॉक्टर व्यक्ति के लक्षणों के अलावा उसकी उम्र, मानसिक और शारीरिक स्थिति के अलावा मेडिकल और ​फैमिली हिस्ट्री चेक करते हैं।

(और पढ़ें - मांसपेशियों में दर्द की आयुर्वेदिक दवा)

बदन दर्द सबसे आम शिकायतों में से एक है, यह लगभग सभी को कभी न कभी होता है, और ऐसे में मेडिकल एडवाइस की जरूरत होती है। यह कई अंतर्निहित स्थितियों की वजह से हो सकता है। वैसे तो, परंपरागत दवाओं के साथ इसका प्रबंधन किया जा सकता है, यह दवाएं डॉक्टर द्वारा भी लिखी जा सकती हैं और इन्हें आप अपने आप किसी मेडिकल स्टोर से भी ले सकते हैं। इनमें पेन किलर, एंटी-डिप्रेसेंट और मसल रिलैक्सेंट शामिल हैं, लेकिन इन दवाओं के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, ऐसे में दुष्प्रभावों से बचने के लिए आप होम्योपैथी दवाएं ले सकते हैं।

होम्योपैथिक उपचार प्राकृतिक उत्पादों से बने होते हैं, इसलिए यह दुष्प्रभावों से मुक्त हैं। इन उपायों को एक बड़ी आबादी में सुरक्षित और प्रभावी माना जाता है। यह संबंधित लक्षणों के साथ-साथ पूरे शरीर को रोगमुक्त करता है।

Dr. Ajit Prasad Singh

Dr. Ajit Prasad Singh

होमियोपैथ
10 वर्षों का अनुभव

Priyanka Gupta

Priyanka Gupta

होमियोपैथ
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Varun Kapadia

Dr. Varun Kapadia

होमियोपैथ
2 वर्षों का अनुभव

Dr. Sangeeta Attri

Dr. Sangeeta Attri

होमियोपैथ
7 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Menstruation - pain (dysmenorrhoea)
  2. Cleveland Clinic. [Internet]. Cleveland, Ohio. Muscle Pain
  3. Office on Women's Health [Internet] U.S. Department of Health and Human Services; Fibromyalgia.
  4. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Tuberculosis
  5. Arthritis Foundation. What Causes Arthritis Pain. Atlanta; [internet]
  6. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ