गला बैठना एक आम समस्या है, इससे गले की आवाज असाधारण रूप से बदल जाती है। गला बैठने की समस्या अक्सर गला सूखने या गले में खुजली व जलन जैसी समस्याओं के साथ होती है। गला बैठने का सबसे मुख्य कारण सर्दी जुकाम या साइनस संक्रमण होता है। ये समस्याएं दो हफ्तों के भीतर अपने आप ठीक हो जाती हैं। गला बैठने का इलाज करने के लिए इसका कारण बनने वाली समस्याओं का पता लगा कर उनका इलाज किया जाता है। इसके अलावा आप कुछ घरेलू उपायों की मदद से भी गाला बैठने की समस्या को कम कर सकते हैं।

(और पढ़ें - गला बैठने का इलाज)

तो चलिए इस लेख में हम आपको गला बैठ जाने का उपाय और घरेलू नुस्खा -

  1. गला बैठने के घरेलू नुस्खे - Gala baithne ke gharelu nuskhe
  2. गला बैठ जाने के उपाय - Gala baith jane ke upay
  3. गला बैठने का नुस्खा - Gala baithne ka nuskha
  4. गला बैठ जाने पर अपना ध्यान रखने के लिए टिप्स - Gala baith jane par in tips ka rakhein dhyan

गला बैठने का उपाय करें अदरक से - Gala bethne ka upay kare adrak se

बैठे हुए गले के लिए अदरक बेहद अच्छी जड़ी बूटी है। अदरक गले के स्वर यंत्र के आसपास श्लेष्म झिल्ली को काफी आराम पहुंचाती है और सूजन को कम करती है। अदरक ऊपरी श्वसन तंत्र संक्रमण से भी बचाने में मदद करता है।

अदरक का इस्तेमाल दो तरीकों से करें –

सामग्री -

  1. एक कप गुनगुना पानी।
  2. चार से पांच अदरक के टुकड़े। (और पढ़ें - अदरक के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले एक कप पानी में अदरक के तीन से चार टुकड़ों को डाल दें।
  2. अब इन्हें उबालने के लिए रख दें।
  3. कम से कम पांच मिनट तक अदरक को उबलने के लिए छोड़ दें।
  4. जब अदरक अच्छे से उबल जाए तब मिश्रण को छानकर गर्म-गर्म पी जाएं।
  5. आप अदरक की चाय में चीनी भी मिला सकते हैं, जिससे उसका स्वाद थोड़ा बेहतर हो जाए।
  6. इस चाय को तब तक पिएं जब तक गला बैठने की समस्या पूरी तरह से चली न जाए।

दूसरा तरीका -

सामग्री -

  1. तीन से चार छोटा चम्मच अदरक का जूस।
  2. दो से तीन छोटा चम्मच नींबू का जूस। (और पढ़ें - नींबू के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले अदरक के जूस को नींबू के जूस के साथ मिला लें।
  2. दोनों मिश्रण को अच्छे से चलाएं।
  3. अब मिश्रण को पी जाएं।
  4. इस उपाय को पूरे दिन में एक से दो बार जरूर दोहराएं।  

(और पढ़ें - गले में दर्द के लक्षण

गला बैठने का नुस्खा है शहद - Gala baithne ka nuskha hai shehad

गला बैठने की परेशानी में शहद बहुत ही बेहतरीन उपाय है। शहद त्वचा, खूबसूरती और स्वास्थ्य के लिए बेहद अच्छा होता है। शहद में कई मात्रा में चीनी और एमिनो एसिड होता है, जो कि स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। शहद में कई मात्रा में खनिज पदार्थ होते हैं। यह प्राकृतिक एंटीबायोटिक की तरह कार्य करता है।

शहद का इस्तेमाल कैसे करें -

पहला तरीका -

सामग्री –

  1. एक कप गुनगुना पानी।
  2. दो से तीन चम्मच शहद। (और पढ़ें - शहद के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका –

  1. सबसे पहले गुनगुने पानी में शहद को डाल दें।
  2. अब पूरे मिश्रण को अच्छे से मिला लें। 
  3. फिर मिश्रण को पी जाएं।
  4. शहद की चाय को रोजाना सुबह पिएं, इससे गला बैठने की परेशानी धीरे-धीरे कम होने लगेगी। यह चाय आपके पेट के लिए भी काफी अच्छी होता है।

दूसरा तरीका –

सामग्री –

  1. दो से तीन छोटा चम्मच नींबू जूस।
  2. एक से दो छोटा चम्मच शहद।

बनाने व उपयोग करने का तरीका –

  1. सबसे पहले दोनों मिश्रण को एक साथ मिला लें।
  2. पूरे मिश्रण को अच्छे से मिलाकर पी जाएं।
  3. अच्छा परिणाम पाने के लिए इस मिश्रण को दो से चार बार पी लें। बड़ी उम्र के बच्चों के लिए एक छोटा चम्मच नींबू का जूस और एक छोटा चम्मच शहद काफी है।

(और पढ़ें - गले में दर्द के घरेलू उपाय

नमक के पानी से गला बैठना ठीक करें - Namak ke pani se gala baithna theek kare

पूरे दिन में कई बार गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारे करने से गला बैठने की परेशानी ठीक होती है। नमक श्वसन तंत्र से कफ को साफ करने में मदद करता है और गर्म पानी गले में सूजनगले में जलन को ठीक करता है। नमक में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो गले में इन्फेक्शन को दूर करते हैं।

नमक के पानी का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. एक छोटा चम्मच नमक। (और पढ़ें - नमक के पानी के फायदे)
  2. एक ग्लास गर्म पानी।

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले एक ग्लास गुनगुने पानी में नमक डालें।
  2. पूरे मिश्रण को अच्छे से चलाने के बाद मुंह में एक घूंट पानी लें।
  3. अब एक मिनट तक गरारे करें।
  4. गले बैठने की परेशानी को दूर करने के लिए इस प्रक्रिया को पूरे दिन में दो से तीन बार दोहराएं।

 (और पढ़ें - गले में खराश के लक्षण)

गला बैठने से छुटकारा पाने का तरीका है लहसुन - Gala baithne se chutkara pane ka tarika hai lehsun

गला बैठने की समस्या के लिए यह सामग्री बहुत बेहतरीन है। लहसुन गले में सूजन को दूर करता है, दर्द से छुटकारा दिलाता है और इलाज में तेजी लाती है।

लहसुन का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. दो से तीन लहसुन की फांकें।
  2. दो से तीन छोटा चम्मच शहद।

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले लहसुन को छीलकर उन्हें पीस लें।
  2. पीसने के बाद लहसुन को शहद के साथ मिलाकर खा जाएं।
  3. अच्छा परिणाम पाने के लिए इस उपाय को पूरे दिन में दो से तीन बार दोहराएं। इस मिश्रण को खाने के लिए पहले थोड़ा पानी पी लें। इस तरह लहसुन गले में अटकेगा नहीं।

(और पढ़ें - गले की खराश दूर करने के उपाय

गला बैठने पर करना चाहिए प्याज के सिरप का उपयोग - Gala baith jane par kare onion syrup ka upyog

खाने में व कच्चा खाने के अलावा प्याज का इस्तेमाल चिकित्सीय रूप में भी किया जाता है। प्याज में फेटोनाइट होता है जिसमें एंटीबायोटिक गुण होते हैं जो कफ, गले में दर्द और गला बैठने की समस्या में सहायक होते हैं।

प्याज में सूजनरोधी गुण होते हैं जो संक्रामक बैक्टीरिया को मारते हैं जैसे ई.कोली और साल्मोनेला (Salmonella)। यह कफ को दूर करता है और पाचन प्रणाली में सुधार करता है। इसलिए गला बैठने की समस्या का इलाज करने के लिए प्याज बहुत ही बेहतरीन उपाय है।

प्याज का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. 20 ग्राम चीनी।
  2. एक छोटा प्याज। (और पढ़ें - प्याज के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले प्याज को छीलकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
  2. अब उसमें चीनी मिलाएं और अच्छे से पूरे मिश्रण को चला लें।
  3. फिर इस मिश्रण को किसी बर्तन में रखें और बर्तन को फिर ढक दें।
  4. जब प्याज थोड़ी उबल जाए तब उसे किसी प्लेट में रखकर चम्मच से कुचल दें।
  5. अब उससे निकलने वाले जूस को किसी एक कटोरी में कर लें।
  6. फिर मिश्रण को एक चम्मच पी लें।
  7. अच्छा परिणाम पाने के लिए इस उपाय को पूरे दिन में एक से दो बार दोहराएं।

 (और पढ़ें - गले में खराश खुजली हो तो क्या करें)

गला बैठ जाने पर उपाय है काली मिर्च - Gala baith jane par upay hai kali mirch

गला बैठने की समस्या को जल्दी ठीक करने के लिए काली मिर्च का इस्तेमाल करें। यह गले में जलन, दर्द और सूजन से राहत दिलाने में मदद करता है और गले के इन्फेक्शन से भी लड़ता है।

काली मिर्च का इस्तेमाल कैसे करें -

पहला तरीका -

सामग्री -

  1. एक छोटा चम्मच काली मिर्च। (और पढ़ें - काली मिर्च के फायदे)
  2. एक से दो छोटा चम्मच मक्खन। (और पढ़ें - मक्खन के फायदे)

बनाने व उपयोग करना का तरीका -

  1. सबसे पहले काली मिर्च को मक्खन के साथ मिलाएं और मिश्रण को चबाकर खा जाएं।
  2. गला बैठने की समस्या से राहत पाने के लिए इस उपाय को पूरे दिन में तीन बार दोहराएं।

दूसरा तरीका -

सामग्री -

  1. एक छोटा चम्मच लाल मिर्च। (और पढ़ें - लाल मिर्च के फायदे)
  2. कुछ बूंद नींबू का जूस।
  3. एक ग्लास गर्म पानी।

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले लाल मिर्च और नींबू के जूस को पानी में मिला दें।
  2. अच्छे से मिलाने के बाद मिश्रण को धीरे-धीरे पी जाएं।

(और पढ़ें - गला या आवाज बैठ जाए तो क्या करे

गला बैठने का उपाय करें सेब के सिरके से - Gala bethne ka upay hai apple vinegar

गला बैठने के कारण होने वाले दर्द और असहजता को कम करने के लिए सेब के सिरके का इस्तेमाल करें। इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं जो संक्रमण से लड़ते हैं जिनकी वजह से गला बैठने की समस्या होती है।

सेब के सिरके का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. एक ग्लास गुनगुना पानी।
  2. एक से छोटा चम्मच सेब का सिरका। (और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले दोनों मिश्रण को एक साथ मिला लें।
  2. मिलाने के बाद मिश्रण को पी जाएं।
  3. इसे पूरे दिन में कई बार पिएं।
  4. इसके अलावा आप सेब के सिरके और पानी को एक साथ मिलाकर भी गरारे कर सकते हैं।

 (और पढ़ें - गले में जलन होने पर क्या करें)

गला बैठने का तरीका है भाप - Gala baithne ka tarika hai bhaap

गला बैठने का आम कारण गला सूखना भी होता है। हालांकि, स्टीम ट्रीटमेंट (Steam treatment) गला बैठने से होने वाली असहजता को कम करने में मदद करता है। इलाज को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए आप कुछ आवश्यक तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे नीलगिरी तेल या लैवेंडर का तेल

भाप कैसे लें -

  1. सबसे पहले एक बड़े बर्तन में पानी को उबाल लें।
  2. अब उसमें नीलगिरी तेल या लैवेंडर का तेल डाल दें।
  3. फिर बर्तन को किसी टेबल पर रखें और फिर अपने सिर को तौलिये से ढक लें।
  4. अब भाप लेना शुरू करें।
  5. कम से कम 15 मिनट तक भाप जरूर लें।
  6. इस उपाय को पूरे दिन में दो बार दोहराएं।

(और पढ़ें - गले के सूखने के लिए क्या करें

दालचीनी है गला बैठ जाने का उपाय - Dalcheeni hai gala baith jane ka upay

गला बैठने की परेशानी को कम करने के लिए आप दालचीनी का भी उपयोग कर सकते हैं। दालचीनी गला बैठने के लक्षणों के इलाज के लिए बेहद लाभदायक होती है। इसमें सूजनरोधी और एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं जो कब्ज की परेशानी को साफ करने में मदद करते हैं। इसके अलावा दालचीनी रक्त प्रवाह में भी सुधार करता है और लैरिंक्स के उत्तकों का भी इलाज करता है।

दालचीनी का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. एक छोटा चम्मच दालचीनी पाउडर। (और पढ़ें - दालचीनी के फायदे)
  2. एक छोटा चम्मच शहद। (और पढ़ें - दालचीनी और शहद के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले दालचीनी को शहद के साथ मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण को खा लें।
  3. इसी तरह अच्छा परिणाम पाने के लिए इस मिश्रण को पूरे दिन में कई बार दोहराएं।
  4. इसके आलावा आप दालचीनी को गुनगुने पानी में डालकर भी ले सकते हैं।

(और पढ़ें - गले के कैंसर के लक्षण

गला बैठ जाने के कुछ टिप्स इस प्रकार हैं -

  1. चिल्लाएं नहीं, क्योंकि इससे आपका गला और बैठ सकता है।
  2. गले को ज्यादा साफ न करें, इससे गला बैठने की समस्या और बढ़ सकती है।
  3. अगर आप धूम्रपान करते हैं तो न करें। साथ ही अगर आपके पास कोई भी व्यक्ति धूम्रपान करता है तो उसके साथ खड़े न हो।
  4. शराब का सेवन न करें इससे आपका गला सूख सकता है और स्थिति और भी बेकार हो सकती है।
  5. अपने कमरे में हुमिडिफायर का लगवाएं, इससे रातभर वातावरण में नमी बनी रहेगी।
  6. अगर आप चाहते हैं कि गला ज्यादा सूखा न रहे तो पूरे दिन ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। (और पढ़ें - पानी कब कितना और कैसे पीना चाहिए)
  7. रोजाना गुनगुने पानी से नहाएं। (और पढ़ें - गुनगुना पानी पीने के फायदे)
  8. एलर्जी वाले वातावरण से दूर रहें इससे आपका गला और बैठ सकता है।
  9. गला बैठने की परेशानी को दूर करने के लिए रोजाना गहरी सांस लेने की एक्सरसाइज करें।

(और पढ़ें - गले में छाले के लक्षण

और पढ़ें ...