myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पेट के कीड़े एक प्रकार के परजीवी होते हैं, जो हमारी आंतों में रहते हैं, वहीं से खाना खाते हैं और आंतों से खून चूसते हैं। परजीवी ऐसे प्राणी होते हैं जो किसी और जंतु पर आश्रित रहते हैं। ये परजीवी मानव की आंतों में जीवित तो रह सकते हैं, लेकिन प्रजनन नहीं कर सकते।

(और पढ़ें - परजीवी संक्रमण के लक्षण)

पेट में कीड़े होने की समस्या बच्चों में अधिक होती है। हालांकि, ये किसी को भी प्रभावित कर सकती है। पेट में कीड़े किसी भी कारण हो सकते हैं, जैसे दूषित पानी पीने या गंदा खाना खाने के कारण और जानवरों के मल के साथ संपर्क में आने के कारण। किसी जानवर का अधपका मांस खाने के कारण भी आपके पेट में कीड़े हो सकते हैं।

कई लोगों को पेट में कीड़े होने पर कोई लक्षण नहीं होते, लेकिन कुछ लोगों को इससे कई तरह की समस्याएं और परेशानियां हो सकती हैं। पेट के कीड़ों के लिए कुछ दवाएं और अपनी देखभाल करना ही पर्याप्त होता है। हालांकि, कभी-कभी कुछ जटिल मामलों में इसके लिए सर्जरी भी की जा सकती है।

इस लेख में पेट में कीड़े होने का पता कैसे चलता है, पेट में कीड़े हो तो क्या करना चाहिए और इसके लिए डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए के बारे में बताया गया है।

  1. पेट में कीड़े होने से क्या होता है - Pet me kide hone ki pehchan
  2. पेट में कीड़े हो जाए तो क्या करना चाहिए - Pet me kide pad jaye to kya karna chahiye
  3. पेट के कीड़ों के लिए डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए - Pet me keede ho to doctor ke pas kab jaye

पेट में कीड़े होने पर ऐसा भी हो सकता है कि आपको कोई लक्षण महसूस न हों, लेकिन इससे कई समस्याएं भी हो सकती हैं। पेट में कीड़े हों तो आमतौर पर निम्नलिखित समस्याएं होती हैं -

(और पढ़ें - पेट खराब होने पर क्या करें)

वैसे तो दवाओं से ही पेट के कीड़े निकल जाते हैं, लेकिन दवाओं के साथ आप निम्नलिखित उपाय या प्राथमिक उपचार कर सकते हैं -

  1. पेट के कीड़ों के लिए अच्छी व्यक्तिगत स्वछता रखना महत्वपूर्ण होता है और इसके लिए आवश्यक है कि आप अपने नाखून छोटे कर लें। (और पढ़ें -पर्सनल हाइजीन की आदतें)
  2. खाना खाने या बनाने से पहले अपने हाथ अच्छी तरह से धोएं। (और पढ़ें - हाथ धोने का तरीका)
  3. बच्चों को ऐसी जगह पर न खेलने दें जहां कुत्ते या बिल्ली ने मल किया हो।
  4. अपने नाखून न चबाएं और न ही उंगली मुंह में डालें। (और पढ़ें - नाखून खाने की आदत के नुकसान)
  5. घर में किसी के भी साथ अपना तौलिया शेयर न करें।
  6. मिट्टी को हाथ लगाने या टॉयलेट से आकर हाथ अवश्य धोएं। (और पढ़ें - बार बार पेशाब आने के कारण)
  7. अगर आप ऐसी जगह पर रहते हैं, जहां अस्वछता है या पेट में कीड़े होने का खतरा अधिक है, तो कच्चे फल या सब्जियां न लें। (और पढ़ें - फल खाने का सही समय)
  8. रात को सोते समय टाइट अंडरवियर पहनें।
  9. अपने बिस्तर पर या बैडरूम में खाना न खाएं।
  10. अगर आपके आस-पास सही नाले नहीं हैं, तो केवल बोतल का या उबला हुआ पानी ही पिएं। (और पढ़ें - पानी कैसे पीना चाहिए)
  11. अगर आप पेट के कीड़ों के लिए दवा ले रहे हैं, तो अपने साथ अपने परिवार के सदस्यों को भी ये दवा दें फिर चाहे उन्हें पेट के कीड़ों के लक्षण महसूस हो रहे हैं या नहीं।
  12. उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों में नंगे पैर न चलें। (और पढ़ें - घास पर नंगे पैर चलने के फायदे)
  13. अगर आपको रात को गुदा के क्षेत्र में खुजली होती है, तो कॉटन के दास्तानें पहन कर सोएं। (और पढ़ें - सिर में खुजली के कारण)
  14. अपने घर को अच्छी तरह से रोजाना साफ करें।
  15. अपने टॉयलेट व बाथरूम को भी साफ रखें।
  16. नहाते समय अपने निजी अंगों को सही तरीके से साफ करें। (और पढ़ें - निजी अंगों की सफाई कैसे करें)
  17. अगर आपके पास कोई पालतू जानवर है, तो उनमें मौजूद कीड़े निकलवाते रहें।
  18. ऐसा मांस न खाएं जो पूरी तरह से पका न हो। (और पढ़ें - मीट खाने के फायदे और नुकसान)
  19. अपने कपडे और बेड की चादर रोज बदलें और अच्छी तरह से धोएं।
  20. अगर आपके पास कोई पालतू जानवर है, तो उनके मल को पड़ा न रहने दें, उसे जल्द फेंक दें।
  21. ताजे पानी की मछली न खाएं। (और पढ़ें - मछली खाने के नुकसान)
  22. गार्डन में उगाए गए फल और सब्जियों को अच्छी तरह से धो लें। (और पढ़ें - हरी सब्जियों के गुण)

अगर आपको निम्नलिखित लक्षण या समस्याएं अनुभव होती हैं, तो अपने डॉक्टर के पास  अवश्य जाएं -

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल​ से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है।

और पढ़ें ...