ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल एक सर्जरी प्रोसीजर है, जिसका उपयोग ट्यूबल लिगेशन सर्जरी के प्रभाव को खत्म करने के लिए किया जाता है। ट्यूबल लिगेशन सर्जरी का उपयोग गर्भधारण को रोकने के लिए किया जाता है, जिसमें फैलोपियन ट्यूब को काट या बांध दिया जाता है। अंडाशय से गर्भाशय तक अंडे को पहुंचाने वाली नलियों को फैलोपियन ट्यूब कहा जाता है। हालांकि, जिन महिलाओं ने ट्यूबल लिगेशन सर्जरी करवाई हुई है, उन्हें भी कुछ परिस्थितियों में फिर से गर्भधारण करना पड़ जाता है। ऐसी स्थितियों में सर्जन ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी करने पर विचार करते हैं। ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल में फैलोपियन ट्यूब को काटकर अलग किए गए हिस्सों को फिर से आपस में जोड़ दिया जाता है। फैलोपियन ट्यूब का रास्ता खुलने के बाद अंडा फिर से अंडाशय से गर्भाशय तक जाने लगता है और महिला गर्भधारण कर पाती है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी रोकने के उपाय)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी के सफल होने की संभावना महिला की उम्र, पहले की गई ट्यूबल लिगेशन सर्जरी के प्रकार, पहली सर्जरी को हुआ समय और फैलोपियन ट्यूब के स्वास्थ्य पर निर्भर है। ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी से पहले पुरुष साथी के शुक्राणुओं के स्वास्थ्य की जांच भी की जाती है। यह सर्जरी एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाकर की जाती है और इसमें कम से कम दो से तीन घंटों का समय लगता है। आपको सर्जरी वाले दिन ही अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है। हालांकि, यह आपके स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। डॉक्टर आपको सर्जरी होने के एक हफ्ते बाद फिर से अस्पताल में आकर जांच करवाने की सलाह दे सकते हैं।

(और पढ़ें - गर्भधारण करने का सही तरीका)

  1. ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल क्या है - What is Tubal ligation reversal in Hindi
  2. ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल किसलिए की जाती है - Why is Tubal ligation reversal in Hindi
  3. ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल से पहले - Before Tubal ligation reversal in Hindi
  4. ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल के दौरान - During Tubal ligation reversal in Hindi
  5. ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल के बाद - After Tubal ligation reversal in Hindi
  6. ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल की जटिलताएं - Complications of Tubal ligation reversal in Hindi

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल किसे कहते हैं?

ट्यूबल लिगेशन महिलाओं में नसबंदी करने वाली सर्जिकल प्रोसीजर है, जिससे गर्भधारण की रोकथाम की जाती है। इस सर्जरी में अंडाशय से गर्भाशय तक अंडे ले जाने वाली ट्यूब को बीच से काट, जला या बांध दिया जाता है। इस ट्यूब को फैलोपियन ट्यूब कहा जाता है, जिसे बीच से रोकने पर अंडे गर्भाशय तक नहीं जा पाते हैं और परिणामस्वरूप गर्भधारण नहीं होता है।

(और पढ़ें - महिला नसबंदी कैसे होती है)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी की मदद से ट्यूबल लिगेशन के प्रभाव को खत्म किया जाता है। सरल भाषा में कहें तो जो महिलाएं ट्यूबल लिगेशन सर्जरी करवाने के बाद गर्भधारण करना चाहती हैं, वे ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल के बाद ऐसा कर पाती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल में फैलोपियन ट्यूब के काटकर अलग कर दिए गए हिस्सों को फिर से जोड़ दिया जाता है, जिससे अंडे गर्भाशय तक पहुंच पाते हैं।

जैसा कि ट्यूबल लिगेशन को महिलाओं में स्थायी नसबंदी करने के लिए किया जाता है, इसलिए ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी को भी एक बड़ी सर्जरी माना जाता है।

(और पढ़ें - पुरुष नसबंदी कैसे किया जाता है)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी को ट्यूबोप्लास्टी या ट्यूबल री-एनास्टोमोसिस सर्जरी के नाम से भी जाना जाता है।

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी की सफलता आपकी उम्र, पहले हुई ट्यूबल लिगेशन सर्जरी के प्रकार, पहली सर्जरी के बाद बीता समय और वर्तमान में फैलोपियन ट्यूब के स्वास्थ्य पर निर्भर करती है। ट्यूबल लिगेशन को अलग-अलग प्रकार से किया जाता है, जिनमें फैलोपियन ट्यूब को बंद करने के तरीके भी भिन्न होते हैं, जैसे काटना, बांधना, मोड़ कर क्लिप लगाना, छल्ला डालना, जलाकर बंद करना और विद्युत उपकरण की मदद से बंद करना आदि।

औसतन ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी के बाद महिला के गर्भधारण की संभावना लगभग 70 से 80 प्रतिशत है। हालांकि, यह सर्जरी बहुत ही कम मामलों में की जाती है, क्योंकि इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) तकनीक के सफल होने की दर इससे अधिक है। साथ ही ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल के बाद एक्टोपिक प्रेगनेंसी नामक एक जानलेवा रोग का खतरा बढ़ जाता है। एक्टोपिक प्रेगनेंसी में अंडा गर्भाशय की बजाए फैलोपियन ट्यूब में ही बढ़ने लगता है।

(और पढ़ें - फैलोपियन ट्यूब निकालने की सर्जरी)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल क्यों की जाती है?

सर्जन यह सर्जरी उन महिलाओं के लिए करते हैं, जो पहले ट्यूबल लिगेशन सर्जरी करवा चुकी हैं और अब गर्भधारण करना चाहती हैं। ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल आमतौर पर कुछ विशेष परिस्थितियों में ही की जाती है, जैसे पहले बच्चे की मृत्यु होना या फिर दूसरी शादी करना आदि। हालांकि, सर्जन आमतौर पर ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल से पहले आईवीएफ का सुझाव देते हैं।

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल किसे नहीं करवानी चाहिए?

सर्जन कुछ स्थितियों में ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल न करवाने की सलाह देते हैं, जिनमें इन स्थितियों को शामिल किया जाता है -

(और पढ़ें - एचआईवी टेस्ट कब करना चाहिए)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल से पहले क्या तैयारी करें?

सर्जरी से पहले आपका शारीरिक परीक्षण किया जाएगा और साथ ही कुछ अन्य टेस्ट भी किए जाएंगे, जिनमें फर्टिलिटी टेस्ट, ब्लड टेस्ट और एक्स-रे शामिल हैं। इन सभी टेस्टों की मदद से पता लगता है कि आप ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल करवाने के लिए पर्याप्त रूप से फिट हैं या नहीं।

आपके पुरुष साथी को भी शुक्राणु टेस्ट करवाने के लिए कहा जाएगा। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आपको ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल करवाने से कुछ लाभ मिल सकता है या नहीं। इसके अलावा सर्जरी से पहले कुछ अन्य सुझाव भी दिए जा सकते हैं, जैसे -

  • यदि आपको वर्तमान में या पहले कोई स्वास्थ्य समस्या रही है, तो डॉक्टर को इस बारे में अच्छे से बता दें।
  • यदि आपके पास पहले की गई ट्यूबल लिगेशन सर्जरी से संबंधी कोई भी रिपोर्ट्स हैं, तो उन्हें डॉक्टर को दिखाएं।
  • अगर आप किसी भी प्रकार की कोई दवा, हर्बल उत्पाद, विटामिन, मिनरल या फिर कोई अन्य सप्लीमेंट्स ले रही हैं, तो डॉक्टर को इस बारे में अवश्य बता दें। (और पढ़ें - सर्जरी से पहले की तैयारी)
  • रक्त के थक्के बनने की प्रक्रिया को प्रभावित करने वाली दवाएं न लें। इनमें रक्त पतला करने वाली दवाएं शामिल हैं जैसे एस्पिरिन, आइबुप्रोफेन और वार्फेरिन आदि।
  • यदि आप धूम्रपान या शराब का सेवन करती हैं, तो उन्हें छोड़ दें। (और पढ़ें - शराब छुड़ाने के उपाय)
  • सर्जरी के लिए अस्पताल खाली पेट जाएं, इसके लिए डॉक्टर आपको सर्जरी वाले दिन से पहली आधी रात के बाद कुछ भी न खाने की सलाह देते हैं। खाली पेट रहने से सर्जरी के दौरान आपको उल्टी की समस्या नहीं होती है, जो आमतौर पर एनेस्थीसिया के कारण होती है। (और पढ़ें - उल्टी रोकने के उपाय)
  • सर्जरी के लिए जाने से पहले नहा लें और मेकअप व अन्य सभी आभूषण उतार दें।
  • अपने साथ किसी करीबी रिश्तेदार या मित्र को अस्पताल ले जाएं जो सर्जरी से पहले आपकी मदद कर सकें और सर्जरी के बाद आपको घर ले जाएं।

सर्जन आपको ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल से संबंधी सभी जानकारी दे देते हैं, जिसमें सर्जरी से जुड़े लाभ, नुकसान और जोखिम आदि के बारे में बताया जाता है। इसके बाद आपको एक सहमति पत्र दिया जाता है, जिसपर हस्ताक्षर करके आप सर्जन को सर्जरी करने की अनुमति देती हैं। हालांकि, हस्ताक्षर करने से पहले सहमति पत्र को अच्छे से पढ़ लेना चाहिए।

(और पढ़ें - सिगरेट पीना छोड़ने के उपाय)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल कैसे की जाती है?

जब आप सर्जरी के लिए अस्पताल पहुंच जाती हैं, तो आपको एक विशेष ड्रेस पहनने को दी जाती है, जिसे हॉस्पिटल गाउन कहा जाता है। सर्जरी से पहले ही आपको कुछ दवाएं भी दी जा सकती हैं, जिन्हें कम से कम पानी के साथ लेना होता है। आपकी बांह की नस में सुई लगाकर इंट्रावेनस लाइन शुरू कर दी जाती है, जिसकी मदद से सर्जरी के दौरान आपको दवाएं व अन्य आवश्यक द्रव्य दिए जाते हैं। ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी को आमतौर पर निम्न के अनुसार किया जाता है -

  • सबसे पहले आपको इंट्रावेनस लाइन की मदद से जनरल एनेस्थीसिया दी जाएगी, जिससे आप सर्जरी के दौरान गहरी नींद में सोते रहेंगे।
  • नाभि के माध्यम से आपके शरीर में लेप्रोस्कोप डाला जाएगा, जिसकी मदद से यह पता लगाया जाता है कि फैलोपियन ट्यूब को फिर से जोड़ा जा सकता है या नहीं। लेप्रोस्कोप एक पतली व लचीली ट्यूब होती है, जिसके सिरे पर कैमरा और लाइट लगी होती है। (और पढ़ें - लेप्रोस्कोपी क्या है)
  • आपके पेट में एक विशेष गैस भर दी जाती है, ताकि पेट फूल जाए और सर्जरी करने के लिए अंदर पर्याप्त जगह मिल जाए।
  • यदि सर्जन को लगता है कि फैलोपियन ट्यूब को फिर से जोड़ना संभव है, तो लेप्रोस्कोप को निकाल दिया जाता है और आपके गुप्तागों के बालों के ठीक ऊपर एक छोटा सा तिरछा चीरा लगाया जाता है।
  • चीरे के माध्यम से फैलोपियन ट्यूब तक पहुंचा जाता है और ट्यूब के क्षतिग्रस्त हिस्से को निकालकर दोनों सिरों को जोड़ दिया जाता है। यदि ट्यूबल लिगेशन में पहले कोई छल्ला या क्लिप लगाया गया था, तो उसे भी निकाल दिया जाता है।
  • फैलोपियन ट्यूब के दोनों सिरों को माइक्रोस्कोप से देखते हुए विशेष उपकरणों की मदद से जोड़ा जाता जाता है। इसकी मदद से ट्यूब और उसके आसपास के ऊतक क्षतिग्रस्त नहीं होते हैं।
  • सर्जन विशेष टांकों की मदद से ट्यूब को दो सतहों के साथ फिर से जोड़ देता है, इन टांकों का व्यास मानव बाल से भी छोटा होता है। (और पढ़ें - टांके लगाने की विधि)
  • ट्यूब को जोड़ने के बाद उसमें इंजेक्शन की मदद से एक रंगीन डाई (आमतौर पर नीले रंग की) डाली जाती है, जिससे पता लगाया जाता है कि ट्यूब में कहीं रिसाव तो नहीं है। रिसाव का पता लगाकर यह सुनिश्चित हो जाता है कि ट्यूब सफलतापूर्वक जोड़ दी गई है या नहीं। (और पढ़ें - इंजेक्शन कैसे लगाते हैं)
  • अंत में डॉक्टर त्वचा में अवशोषित हो जाने वाले टांकों की मदद से सर्जरी के चीरे को बंद कर देते हैं।

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी को पूरा होने में कम से कम दो से तीन घंटे का समय लगता है। यदि आपके शारीरिक संकेत सही हैं, तो सर्जरी होने के तीन से चार घंटों बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा सकती है। हालांकि, कुछ स्थितियों में आपको एक दिन या उससे भी अधिक समय के लिए अस्पताल में रुकना पड़ सकता है, जो आपके स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। (और पढ़ें - एचएसजी क्या है)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल को ओपन सर्जरी के रूप में भी किया जा सकता है, जिसमें पेट में बड़ा चीरा लगाया जाता है। इस बड़े चीरे के माध्यम से ही फैलोपियन ट्यूब के दोनों सिरों को जोड़ दिया जाता है।

(और पढ़ें - फैलोपियन ट्यूब में रुकावट का इलाज)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल के बाद देखभाल कैसे करें?

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल के लगभग एक हफ्ते बाद आप कुछ हद तक स्वस्थ महसूस करने लगती हैं। सर्जन आपको सर्जरी के बाद अपनी देखभाल करने के लिए कुछ विशेष निर्देश देंगे, जिनमें निम्न शामिल हैं -

  • सर्जरी के कुछ दिन बाद तक आपको सर्जरी वाले घाव में दर्द और छूने पर अधिक दर्द होना आदि लक्षण महसूस हो सकते हैं। इन लक्षणों को कम करने के लिए डॉक्टर आपको विशेष दर्दनिवारक दवाएं देंगे, जिन्हें डॉक्टर की सलाह के अनुसार लेते रहें। (और पढ़ें - घाव सुखाने के उपाय)
  • आपको कुछ समय के लिए कंधे में दर्द भी रह सकता है, यह आमतौर पर सर्जरी के दौरान पेट में गैस भरने के कारण होता है। लेटने से दर्द में थोड़ा आराम मिल सकता है। (और पढ़ें - पेट की गैस के उपाय)
  • सर्जरी के बाद जब तक डॉक्टर आपको अनुमति न दें, तब तक कोई भी भारी वजन न उठाएं और न ही कोई ऐसी शारीरिक गतिविधि करें, जिसमें अधिक मेहनत हो।
  • सर्जरी के बाद कुछ निश्चित समय तक डॉक्टर आपको सेक्स न करने की सलाह देते हैं। (और पढ़ें - सेक्स करने का सही समय)
  • सर्जरी होने के दो दिन बाद आपको नहाने की सलाह दी जाती है। हालांकि, आपको कम से कम एक हफ्ते तक सर्जरी वाले घाव को सीधे पानी में डुबोने और रगड़ने से बचने के लिए कहा जाएगा। यदि घाव गीला हो गया है, तो उसे सूखे व स्वच्छ कपड़े के साथ सुखा लें।
  • ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल के बाद आमतौर पर आहार में कोई बदलाव करने के आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, फिर भी एक बार डॉक्टर से इस बारे में सलाह ले लें।

सर्जरी के बाद दो हफ्तों तक आपको थकानसुस्ती महसूस हो सकती है, जो कि सामान्य स्थिति है। अधिकतर महिलाओं को सर्जरी के बाद वापस अपनी दिनचर्या के सामान्य कार्य शुरू करने में दो से तीन हफ्तों का समय लग जाता है। हालांकि, आपके स्वास्थ्य के अनुसार यह समय कम या ज्यादा भी हो सकता है। (और पढ़ें - थकान दूर करने के उपाय)

डॉक्टर को कब दिखाएं?

यदि आपको ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी के बाद निम्न में से कोई भी लक्षण महसूस होता है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें -

(और पढ़ें - बुखार का आयुर्वेदिक इलाज)

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल से क्या जोखिम हो सकते हैं?

ट्यूबल लिगेशन रिवर्सल सर्जरी से बहुत कम मामलों में कोई जटिलता हो पाती है। हालांकि, फिर भी इस सर्जरी से निम्न जोखिम देखे जा सकते हैं -

(और पढ़ें - निमोनिया के घरेलू उपाय)

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Mount Sinai [Internet]. Icahn School of Medicine. New York. US; Tubal ligation reversal
  2. Cleveland Clinic [Internet]. Ohio. US; Tubal Reversal
  3. C.S. Mott Children's Hospital: Michigan Medicine [Internet]. University of Michigan. US; Tubal Ligation Reversal
  4. Yassaee F. Tuboplasty as a reversal macrosurgery for tubal ligation, is pregnancy possible? A case series. Iran J Reprod Med. 2014;12(5):361–364. PMID: 25031582.
  5. U Health [Internet]. University of Utah. US; Tubal ligation reversal
  6. Lucile Packard Children's Hospital Stanford [Internet]. Stanford Children's Health. Stanford University. California. US; Medical Conditions and Pregnancy
  7. National Health Service [Internet]. UK; Before surgery
  8. Moucha CS. Surgical site infection prevention. In: Browner BD, Jupiter JB, Krettek C, Anderson PA, eds. Skeletal Trauma: Basic Science, Management, and Reconstruction. 5th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2015:chap 22
  9. Kulaylat MN, Dayton MT. Surgical complications. In: Townsend CM Jr, Beauchamp RD, Evers BM, Mattox KL, eds. Sabiston Textbook of Surgery. 20th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2017:chap 12
  10. Webb TP. Surgical site infections. In: Cameron JL, Cameron AM, eds. Current Surgical Therapy. 12th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2017:1334-1340
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ