myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

अधिकांश समय, दवाएं हमारे जीवन को बेहतर बनाने का काम करती हैं। वे हमारे शरीर के दर्द एवं पीड़ा को कम करती हैं, संक्रमण से लड़ती हैं और हाई बीपी या मधुमेह जैसी कई बीमारियों को नियंत्रित करती हैं। लेकिन यही दवाएं कभी-कभी अवांछित प्रतिक्रियाएं (रिएक्शन) भी पैदा कर सकती हैं।

(और पढ़ें - सांस की बीमारियों के लिए योग)

दवाओं से प्रतिकूल प्रतिक्रियाएं या एडवर्स ड्रग रिएक्शन होना आम हैं, फिर भी हर किसी का शरीर अलग-अलग प्रतिक्रिया देता है। दवा से रिएक्शन किसी को भी हो सकता है। लेकिन ये उन लोगों में अधिक आम हैं जो हर दिन 3 से अधिक दवाएं लेते हैं। यदि एक दवा के साथ दूसरी दवा ली जाती है तो कोई एक दवा रिएक्शन कर सकती है।

ऐसा भी हो सकता है कि कोई निश्चित दवा लेते समय एक व्यक्ति को चकत्ते या अन्य कोई परेशानी होती है, जबकि उसी दवा से किसी अन्य व्यक्ति को कोई परेशानी नहीं होती है। इन प्रतिक्रियाओं में से केवल 5% से 10% का कारण ही दवाओं से होने वाली एलर्जी होती है।

दवा से ऐसे रिएक्शन तब हो सकते हैं जब आपका शरीर किसी दवा के प्रति नकारात्मक तरीके से प्रतिक्रिया देता है। यदि आपको लगता है कि आप या जिस व्यक्ति की आप देखभाल करते हैं, उसे दवा से रिएक्शन हो रही है तो आपको पता होना चाहिए कि दवा रिएक्शन होने पर क्या करें।

इसलिए इस लेख में ड्रग रिएक्शन क्या है, दवा रिएक्शन के लक्षण, कारण और ड्रग रिएक्शन से बचने के उपाय के साथ दवा के रिएक्शन की जांच और इलाज के बारे में विस्तार से बताया गया है।

  1. ड्रग रिएक्शन क्या है - Drugs Reaction kya hai in hindi
  2. दवा रिएक्शन के लक्षण - Medicine Reaction symptoms in hindi
  3. दवा रिएक्शन के कारण - Drug Reaction causes in hindi
  4. ड्रग रिएक्शन से बचने के उपाय - Drug Reaction prevention in hindi
  5. दवा के रिएक्शन की जांच - Drug Reaction diagnosis in hindi
  6. दवा रिएक्शन का इलाज - Drug Reaction treatment in hindi

ड्रग रिएक्शन एक ऐसी हानिकारक प्रतिक्रिया है जो सही खुराक में दवा देने के बावजूद होती है। इसे एडवर्स ड्रग इवेंट (एडीई), एडवर्स ड्रग रिएक्शन (एडीआर), प्रतिकूल प्रभाव (एडवर्स इफेक्ट) या प्रतिकूल घटना (एडवर्स इवेंट) भी कहा जाता है।

आपको कोई दवा लेने के तुरंत बाद रिएक्शन शुरू हो सकती है या दवा लेना बंद करने के बाद 2 सप्ताह तक के समय में कभी भी रिएक्शन हो सकती है। एडवर्स ड्रग रिएक्शन के कारण गंभीर टॉक्सिक एपिडर्मल नेक्रोलिसिस (टीईएन) और एनाफिलेक्सिस जैसी गंभीर स्थितियां पैदा हो सकती हैं।

टीईएन से आपकी त्वचा को गंभीर नुकसान हो सकता है। एनाफिलेक्सिस एक अचानक होने वाली जानलेवा एलर्जिक रिएक्शन है जिसका तुरंत इलाज करना जरुरी होता है। हालांकि, एनाफिलेक्सिस, होने की आशंका बहुत कम है।

(और पढ़ें - स्किन एलर्जी का इलाज)

जब आप एडवर्स ड्रग रिएक्शन और साइड इफेक्ट के बारे में सोचते हैं तो इन दोनों शब्दों के अर्थ को लेकर भ्रमित हो सकते हैं। कभी-कभी तो उन दोनों का मतलब एक ही होता है, लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता। साइड इफेक्ट्स का मतलब उन लक्षणों से है जो दवाओं के सेवन के बाद अपेक्षित हैं या अपेक्षित नहीं हैं। कई मामलों में, "एडवर्स ड्रग रिएक्शन" शब्द का प्रयोग उसी तरह किया जाता है। लेकिन कई मामलों में एडवर्स ड्रग रिएक्शन शब्द उन लक्षणों को संदर्भित करता है जिनकी अपेक्षा नहीं की जाती है।

(और पढ़ें - एलर्जी होने पर क्या करना चाहिए)

दवा के रिएक्शन के बारे में बात करते समय दवा से एलर्जी के बारे में जानना भी महत्वपूर्ण है। आम तौर पर शब्द एडवर्स ड्रग रिएक्शन या साइड इफेक्ट एलर्जी या गैर-एलर्जी दोनों को संदर्भित कर सकते हैं। दवा से एलर्जिक रिएक्शन या एडवर्स रिएक्शन का अर्थ है कि आपका शरीर दवा को बाहरी तत्व के रूप में पहचानता है और "इससे लड़ने" की कोशिश करता है।

(और पढ़ें - एलर्जी टेस्ट क्या होता है)

पहली खुराक के बाद या लंबे समय तक उपयोग के बाद ही लक्षण प्रकट हो सकते हैं। वे स्पष्ट रूप से दवा के उपयोग से पैदा हुए परिणाम हो सकते हैं या दवा से उनका संबंध जोड़ना मुश्किल हो सकता है। कभी-कभी यह जानना मुश्किल होता है कि एडवर्स रिएक्शन किसी बीमारी के कारण है या दवा के कारण।

(और पढ़ें - स्वस्थ रहने के कुछ नियम)

एडवर्स ड्रग रिएक्शन की घटना और गंभीरता रोगी की विशेषताओं, उदाहरण के लिए, उसकी आयु, लिंग, जातीयता, सह-संबंधी विकार (को-एक्सिस्टिंग डिसऑर्डर्स), अनुवांशिक या भौगोलिक कारकों और दवा से जुड़े कारकों, उदाहरण के लिए, दवा का प्रकार, उपयोग का तरीका, उपचार की अवधि, खुराक की मात्रा, दवा में तत्वों का अनुपात के आधार पर भिन्न होती है। एडवर्स ड्रग रिएक्शन के लक्षण निम्नलिखित हैं -

यदि आपको ऊपर लिखित लक्षणों का सामना करना पड़ता हैं तो अपने डॉक्टरों को बताएं कि आपके ये लक्षण कब शुरू हुए थे और क्या वे आपके पहले के अन्य लक्षणों से अलग हैं। आपके द्वारा ली जाने वाली सभी दवाओं के बारे में अपने डॉक्टर को पूरी जानकारी दें।

दवा से रिएक्शन की समस्या निम्नलिखित कारणों से हो सकती है -

  • दो दवाओं के आपस में रिएक्शन करने से, जैसे कि एस्पिरिन और खून पतला करने वाली दवा।
  • दवा और भोजन के बीच रिएक्शन होने से, जैसे कि स्टेटिन (खून में कोलेस्ट्रॉल घटाने वाली दवा) और अंगूर
  • दवा और सप्लीमेंट में रिएक्शन होने पर, जैसे कि गिंको (चाइनीज पर्णपाती वृक्ष) और खून पतला करने वाली दवा।
  • दवा और किसी बीमारी में रिएक्शन हो जाता है तो, जैसे एस्पिरिन और पेप्टिक अल्सर। (और पढ़ें - पेट के अल्सर के घरेलू उपाय)

ऐसे रिएक्शन दवाओं के कार्यों को बदल सकते हैं। जिससे दवाएं काम नहीं करती हैं या आप पर गंभीर साइड इफेक्ट हो सकते हैं। एक रोगी को दवा देने वाले में दवा और दवाओं के कार्य करने के तरीके के बारे में ज्ञान की कमी की वजह से भी आपको एडवर्स इवेंट का अनुभव हो सकता है।

कुछ वर्गों की दवाओं से रिएक्शन होने की आशंका अधिक होती है। इनमें नॉन-स्टेरॉयड एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडीएस), एंटी-माईक्रोबायल्स (बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करने वाली दवाएं), एंटीकनवल्सेंट्स (मिर्गी को नियंत्रित करने के लिए उपयोग की जाती हैं), एनेस्थेटिक एजेंट और मांसपेशियों और नसों को प्रभावित करने वाली दवाएं इत्यादि।

दवा के रिएक्शन होने से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि दिए गए निर्देशों के अनुसार सभी दवाएं लें। यदि संभव हो तो अपने डॉक्टर से बात करके अपनी दवाइयों की संख्या को भी सीमित करना चाहिए।

चाहे कम समय के लिए ली हो या लंबे समय के लिए, आपके द्वारा ली जाने वाली सभी दवाओं के बारे में अपने डॉक्टर को जानकारी दें। इसमें ओवर-द-काउंटर दवाएं, विटामिन और सप्लीमेंट भी शामिल हैं। इनसे भी रिएक्शन हो सकती हैं।

यदि हो सके तो आप केवल किसी एक फार्मेसी से ही हर बार दवा लें। इससे फार्मासिस्ट आपको और आपके द्वारा ली जाने वाली दवाओं के बारे में अच्छे से जानता है। फार्मासिस्ट दवाइयों में प्रशिक्षित होते हैं और जानते हैं कि क्या वे कोई एडवर्स ड्रग रिएक्शन पैदा कर सकती हैं।

कुछ प्रकार के भोजन से भी रिएक्शन हो सकती है। उदाहरण के लिए, अंगूर और अंगूर का रस इस बात को प्रभावित कर सकते हैं कि दवाएं कैसे काम करती हैं। शराब और कैफीन भी रिएक्शन का कारण बन सकते हैं।

(और पढ़ें - शराब छोड़ने के देसी नुस्खे)

जब भी आपके डॉक्टर कोई नई दवा देते हैं, तो सभी संभावित रिएक्शन के बारे में उनसे पूछें। जानें कि आपको कौन सी अन्य दवाएं और खाद्य पदार्थों से बचना जरूरी है। यदि आपके कोई अन्य प्रश्न भी हैं तो अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता या फार्मासिस्ट से पूछें।

आपको कभी भी किसी अन्य की दवाएं नहीं लेनी चाहिए। किसी मित्र या रिश्तेदार के लिए निर्धारित दवाओं का उपयोग करने से समस्याएं पैदा हो सकती हैं और एडवर्स ड्रग रिएक्शन हो सकती है। इसका कारण यह है -

  • आपका डॉक्टर आपके आकार, लिंग और आयु के अनुसार दवा निर्धारित करते हैं।
  • आपके द्वारा ली जाने वाली दवाएं शायद अन्य व्यक्तियों की दवाओं से भिन्न हो सकती हैं।
  • आपको किसी अलग तरह की रिएक्शन भी हो सकती है जो उस व्यक्ति को न हुई हों, उदाहरण के लिए दवा में मौजूद किसी तत्व से आपको एलर्जी हो सकती हैं। (और पढ़ें - एलर्जी में क्या खाना चाहिए)

एडीआर यानी एडवर्स ड्रग रिएक्शन के कारण का मूल्यांकन करते समय, डॉक्टर आपसे कुछ सवाल पूछ सकते हैं, जैसे कि आपने किन ​​लक्षणों का अनुभव किया गया, दवा के साथ उनका संबंध और समय अवधि इत्यादि।

दवा लेने के तुरंत बाद होने वाले लक्षण अक्सर दवा के उपयोग से जुड़े होते हैं। हालांकि, लंबे समय तक दवाओं के उपयोग के कारण होने वाले लक्षणों की जांच करते समय संदेह रहता है और अक्सर यह मुश्किल होती है।

दवा का उपयोग बंद करना कभी-कभी जरूरी होता है लेकिन अगर दवा आवश्यक है और उसका कोई स्वीकार्य विकल्प नहीं है, तो ऐसा करना मुश्किल हो सकता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली के विरोध से होने वाले संभावित एडीआर का पता लगाने के लिए एंटीबॉडी के स्तर को मापने के विशिष्ट टेस्ट और कुछ स्किन टेस्ट भी किये जा सकते हैं।

(और पढ़ें - एंटीबॉडी के स्तर को मापने के लिए एलिसा टेस्ट)

यदि आपको आशंका है कि दवा या उपचार से आपको रिएक्शन हो रहा है, तो अपने डॉक्टर को जितनी जल्दी हो सके इसके बारे में सूचित करें। डॉक्टर के पास इलाज के लिए आते समय यदि आप कोई विटामिन, ओवर-द-काउंटर दवा और पोषक तत्वों की खुराक ले रहे हैं तो उसकी भी जानकारी साथ में लाएं।

सभी संदिग्ध एडवर्स ड्रग रिएक्शन के लिए सबसे महत्वपूर्ण निर्णय संदिग्ध दवा को बंद करना है। कई दवाओं का उपयोग करने वाले मरीजों में, दवाओं को रोकने का निर्णय दवा की आवश्यकता और इसके प्रतिकूल प्रभावों की संभावना के बीच तुलना पर आधारित होना चाहिए।

कुछ दवाओं से लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती हैं -

यदि आपका इलाज फिर से उसी दवा से करने की आवश्यकता पड़ती है, तो रिएक्शन के बाद डॉक्टर डेसेंसिटाइजेशन कर सकते है। इस प्रक्रिया में आपका हेल्थकेयर प्रदाता आपको कुछ घंटों में दवा की छोटी-छोटी खुराक देता है। वह आपको होने वाली किसी भी एलर्जी का भी इलाज करता रहता है। दवा की खुराक के पूरी मात्रा तक पहुंचने और दवा से एलर्जी होना बंद हो जाने तक खुराक की थोड़ी-थोड़ी मात्रा बढ़ाई जाती है।

और पढ़ें ...