सरसों का साग ऐसी रेसीपी है जिसके बारे में ज्यादा बताने की आवश्यकता नहीं है। पंजाब की मशहूर डिश, मक्की की रोटी और सरसों का साग इतनी लोकप्रिय है कि इसे देशभर में पूरे शौक से खाया जाता है। सर्दी के मौसम में सरसों, चौलाई व बथुए जैसी हरी सब्जियों को मिलाकर साग बनाया जाता है, जो न केवल बेहद स्वादिष्ट लगता है बल्कि आपको पूरा पोषण भी देता है।

वैसे तो साग को गेहूं के आटे की रोटी के साथ भी खाया जा सकता है, लेकिन इसका पूरा स्वाद मक्की की गरमा-गरम रोटी के साथ ही आता है। सरसों का साग बनाना ज्यादा मुश्किल नहीं है, लेकिन इसे बनने में समय थोड़ा ज्यादा लगता है। इस लेख में सरसों का साग बनाने के लिए आवश्यक सामग्री और उसे बनाने के तरीके के बारे में बताया है।

संक्षेप में  
तैयारी करने का समय 15 मिनट
बनाने का समय एक घंटा
कुल समय एक घंटा पंद्रह मिनट
कितने लोगों के लिए है ये रेसिपी दो लोग
कब खाएं खाने में
कहां की है ये डिश पंजाब
टाइप वेज (शाकाहारी)
साग में कैलोरी (1 सर्विंग) 86Kcal

(और पढ़ें - सांबर बनाने की विधि)

  1. साग बनाने के लिए सामग्री - Ingredients for making saag in hindi
  2. साग बनाने की विधि - How to make saag in hindi
  3. मक्की की रोटी सरसों का साग - Makki ki roti sarson ka saag in hindi
  4. साग में मौजूद पोषक तत्वों की जानकरी - Nutritional information of saag in hindi
  5. साग बनाने के लिए कुछ टिप्स - Tips for making saag in hindi
  6. साग को हैल्दी बनाने का तरीका - How to make saag healthy in hindi
  7. साग बनाने की वीडियो - Saag recipe video in hindi

सरसों का साग बनाने के लिए आवश्यक सामग्री नीचे दी गई है:

इस सामग्री से आप दो लोगों के लिए साग बना सकते हैं।

(और पढ़ें - कचौड़ी बनाने की विधि)

साग बनाने का तरीका निम्नलिखित है:

साग तैयार करने के लिए:

  1. सबसे पहले सरसों, पालक और बथुए को साफ पानी में अच्छे से धो लें।
  2. अब इनकी पत्तियां उतार लें और उन्हें छोटा-छोटा काट लें। इनकी सख्त टहनियों को हटा दें।
  3. अब हरी मिर्च को काटें और अदरक का छिलका उतारकर उसको भी काट लें।
  4. इसके बाद लहसुन और प्याज का भी छिलका उतारकर उन्हें भी बारीक काट लें। (और पढ़ें - लहसुन के तेल के फायदे)
  5. अब सरसों, पालक, बथुआ और हरी मिर्च को नमक, अदरक और पानी के साथ किसी पतीले में रखें और उबलने दें।
  6. गैस को मध्यम आंच पर कर दें और इन्हें उबलने दें जब तक कि ये सब्जियां मुलायम न हो जाएं।
  7. मुलायम हो जाने के बाद इनका पानी निकाल दें और मिक्सी में डालकर थोड़ी मोटी प्यूरी बना लें।
  8. अब इस प्यूरी को एक कड़ाही में डालें और उसमें मक्की का आटा, लाल मिर्च पाउडर, अदरक, गुड़ और बची हुई हरी मिर्च डालकर अच्छे से मिला लें।
  9. इसे गैस पर रखें और पानी डालकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें। बीच-बीच में इसे हिलाना न भूलें। मसाले को अपने अनुसार कम-ज्यादा कर लें।

(और पढ़ें - मकई के फायदे)

तड़का बनाने के लिए:

  1. एक कड़ाही में घी गरम कर लें और उसमें हींग और प्याज को डालकर तब तक चलाएं जब तक प्याज न पकें।
  2. अब इसमें लहसुन डालकर उसके ब्राउन होने तक फ्राई करें फिर कड़ाही में हरी मिर्च, जीरा व लाल मिर्च पाउडर डालकर मध्यम आंच पर चलाएं और उसमें टमाटर डालकर तब तक चलाएं जब तक उसमें से घी न निकलने लगे।
  3. अब साग को भी उबाल लें और उसके ऊपर तड़का डालकर अच्छे से मिलाएं।
  4. साग को बाउल में निकाल लें और उसे मक्की की रोटी के साथ गरम-गरम परोसें।

(और पढ़ें - मिक्स वेज बनाने का तरीका)

साग को खाने का मजा सबसे ज्यादा मक्की की रोटी के साथ ही आता है। इसे परोसने से पहले साग में थोड़ा देसी घी डालें और गरम-गरम परोसें। आप इसके साथ थोड़ा सा गुड़ और मक्खन भी खा सकते हैं।

(और पढ़ें - घी या मक्खन - क्या खाना है बेहतर?)

सरसों के साग में मौजूद पोषक तत्व नीचे दिए गए हैं। ये पोषक तत्व 1 व्यक्ति को परोसे जाने वाले साग के आधार पर हैं।

पोषक तत्व मात्रा
कैलोरी 86Kcal
फैट 7.2 ग्राम
कोलेस्ट्रॉल 0 मिलीग्राम
सोडियम 130.1 मिलीग्राम
कार्बोहायड्रेट 3.9 ग्राम
प्रोटीन 3.5 ग्राम
नेचुरल शुगर 0.3 ग्राम

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय)

साग बनाने के लिए निम्नलिखित टिप्स आपके काम आ सकती हैं:

  • साग का रंग हरा रखने के लिए, इसे पकाते समय पतीले या कुकर को ढके नहीं। ऐसा करने से सब्जियों का रंग बरकरार रहेगा।
  • सरसों का स्वाद खाने में हल्का सा कड़वा होता है, इसीलिए इसे पहले पालक और बथुए के साथ उबाला जाता है ताकि इसकी कड़वाहट थोड़ी कम हो जाए। (और पढ़ें - पालक का सूप बनाने का तरीका)
  • साग में थोड़ा सा गुड़ या पालक डालने से भी सरसों की कड़वाहट थोड़ी कम होती है।
  • कोशिश करें कि साग के ऊपर बाजार के मक्खन की जगह घर पर बनाया जाने वाला सफेद मक्खन डालें क्योंकि बाजार के मक्खन में पहले से ही थोड़ा नमक होता है और इससे साग में नमक बढ़ जाएगा। (और पढ़ें - डेयरी प्रोडक्ट के नुकसान)
  • तीखा करने के लिए साग में हरी मिर्च ज्यादा डालें।
  • साग को आप अपने अनुसार गाढ़ा या पतला रख सकते हैं। अगर आपको ज्यादा गाढ़ा साग खाना पसंद नहीं है, तो इसे मिक्सी में डालकर ज्यादा पीस लें।
  • आप चाहें तो साग में एक मूली और एक गाजर भी डाल सकते हैं।
  • अगर आपको बथुआ न मिले, तो आप बथुए की जगह पालक का ही इस्तेमाल कर सकते हैं। कई लोग साग में चौलाई का उपयोग भी करते हैं।
  • साग को गाढ़ा बनाने के लिए आप इसमें ज्यादा मक्की का आटा मिला सकते हैं।
  • आप साग को बाद में खाने के लिए चार से पांच दिन तक फ्रिज में भी रख सकते हैं।

(और पढ़ें - लिट्टी चोखा बनाने की विधि)

सरसों का साग पहले से ही बहुत हैल्दी होता है क्योंकि इसमें हरी सब्जियां डाली जाती हैं। हालांकि, आप चाहें तो साग में और हरी सब्जियां मिलाकर इसे ज्यादा पौष्टिक भी बना सकते हैं। जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है, वे मसालों का उपयोग कम करें।

(और पढ़ें - ब्लड प्रेशर डाइट चार्ट)

सरसों का साग बनाने के लिए इस वीडियो को देखें।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ