myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

भांग का तेल या भांग के बीज से बनने वाला तेल कैनबिस सैटिवा पौधे के बीजों से निकाला जाता है। यह तेल पॉलिअनसैचुरेटेड फैटी एसिड से भरपूर होता है और इसे हृदय की सेहत के साथ ही त्वचा के लिए भी बेहद फायदेमंद माना जाता है। भांग के तेल को इम्यून फंक्शन और मस्तिष्क की सेहत को बढ़ावा देने के लिए भी जाना जाता है।

कुछ लोग भांग के तेल को कैनबिडिऑयल (सीबीडी) के साथ कन्फ्यूज हो जाते हैं। हालांकि, ये दोनों ही तेल एक समान नहीं हैं। सीबीडी तेल को भांग के पौधे के फूल, तने और पत्तियों से निकाला जाता है, तो वहीं भांग के तेल को पौधे के बीजों से तैयार किया जाता है। इसके अलावा, कुछ लोगों का यह भी कहना है कि सीबीडी ऑयल में भांग के तेल की तुलना में टीएचसी कॉन्टेंट अधिक होता है। हालांकि कनाडा में किए गए एक अध्ययन ने सुझाव दिया कि भांग के बीज के तेल में टीएचसी का उच्च स्तर हो सकता है। इसलिए, मौजूदा समय में यह दावा थोड़ा विवादास्पद लगता है। 

(और पढ़ें - भांग के फायदे और नुकसान)

टीएचसी टेट्राहाइड्रोकैनाबिनोल, कैनबिस का मुख्य साइकोऐक्टिव पदार्थ है। हालांकि भांग में गांजे (मारिजुआना) की तुलना में टीएचसी की मात्रा कम होती है। भांग के तेल के फायदे, नुकसान और उसमें मौजूद पोषक तत्वों के बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें।

  1. भांग के तेल में मौजूद पोषक तत्व - Hemp seed oil nutrients in hindi
  2. भांग के तेल के फायदे - Bhang ke tel ke fayde
  3. भांग के तेल के नुकसान - Bhang ke tel ke nuksan
  4. भांग के तेल के फायदे और नुकसान के डॉक्टर

भांग का बीज वास्तव में नट्स की कैटिगरी में आता है जिसमें करीब 30 प्रतिशत तेल और 25 प्रतिशत प्रोटीन होता है और इसके अलावा इसमें कुछ मिनरल्स, विटामिन्स और डायट्री फाइबर भी पाए जाते हैं। भांग के बीज से प्राप्त तेल में ज्यादातर पॉलिअनसैचुरेटेड फैट (लगभग 80%) होता है। यह विशेष रूप से लिनोलिक एसिड (ओमेगा-6 फैट) और अल्फा-लिनोलिक एसिड (ओमेगा-3 फैट) से समृद्ध होता है। 

(और पढ़ें - सैचुरेटेड फैट क्या है, लाभ और नुकसान)

वास्तव में, भांग के बीज के तेल में ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैट की जो मात्रा पायी जाती है वह उस आवश्यक सही अनुपात में होती है जो सेहत को बनाए रखने के लिए जरूरी है। इसके अलावा इस तेल में सभी महत्वपूर्ण एमिनो एसिड भी होते हैं, विशेष रूप से आर्जिनिन जो हृदय की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। इसके अतिरिक्त, इसमें टेरपीन्स और कैनाबिनॉयड्स भी होता है।

भांग के तेल का ऑक्सिडेशन तापमान कम होता है और इसलिए इसे प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों या लंबी शेल्फ लाइफ वाली चीजों के साथ उपयोग नहीं किया जा सकता है।

भांग के तेल के स्वास्थ्य लाभ के बारे में बहुत अधिक वैज्ञानिक सबूत मौजूद नहीं है। इस तेल से जुड़े अधिकांश लाभ या तो किस्से-कहानियों से जुड़े हैं या फिर इन फायदों का समर्थन करने के लिए सिर्फ कुछ ही अध्ययन मौजूद हैं। बहरहाल, हम आपको यहां भांग के बीज के तेल के उपयोग से जुड़े स्वास्थ्य लाभ के बारे में बता रहे हैं:

  1. भांग के तेल के फायदे त्वचा के लिए - Bhang ke tel ke fayde skin ke liye
  2. भांग के तेल के फायदे हृदय की सेहत के लिए - Bhang ke tel ke fayde heart ke liye
  3. भांग के तेल के फायदे आर्थराइटिस के लिए - Bhang ke tel ke fayde arthritis ke liye
  4. भांग के तेल के फायदे ब्रेन हेल्थ के लिए - Bhang ke tel ke fayde brain health ke liye
  5. भांग के तेल के कई अन्य फायदे - Bhang ke tel ke kai anay fayde

भांग के तेल के फायदे त्वचा के लिए - Bhang ke tel ke fayde skin ke liye

फार्माकॉग्नोसी रिव्यू नाम के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, भांग के बीज का तेल स्किन बैरियर यानी त्वचा की रुकावट को मजबूत बनाता है जिससे स्किन में बैक्टीरिया, वायरस और फंगस से होने वाले संक्रमण को रोकने में मदद मिलती है। यह सोरायसिस, डर्मेटाइटिस, एक्जिमा, लाइकेन प्लेनस और ऐक्ने रोजेशिया जैसी त्वचा की समस्याओं को दूर करने में भी मदद करता है। 20 लोगों पर किए गए रैन्डमाइज्ड (यादृच्छिक) तरीके से किए गए कंट्रोल ट्रायल में पाया गया कि भांग के तेल का आहार के रूप में सेवन करने से एटोपिक डर्मेटाइटिस से जुड़ी खुजली और स्किन ड्राइनेस की समस्या में सुधार हो सकता है। स्किन पर दिखने वाले इस प्रभाव को ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड के संतुलित सेवन के लिए जिम्मेदार ठहराया गया।

(और पढ़ें - स्किन इंफेक्शन के घरेलू उपाय)

भांग के बीज के तेल में कुछ मात्रा में कैनबिडिओल होता है। हंगरी में हुई एक लैब स्टडी ने यह संकेत दिया कि कैनबिडिओल सीबम के उत्पादन और इन्फ्लेमेशन को कम करके मुंहासे का प्रबंधन करने में मदद कर सकता है। साथ ही भांग का तेल त्वचा को मॉइस्चराइज करने और झुर्रियों सहित चेहरे पर उम्र बढ़ने के दिखने वाले कई संकेतों को कम करने के लिए जाना जाता है। हालांकि तेल के इन प्रभावों की पुष्टि करने के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

(और पढ़ें - इन गलतियों की वजह से चेहरे पर आती हैं झुर्रियां)

भांग के तेल के फायदे हृदय की सेहत के लिए - Bhang ke tel ke fayde heart ke liye

कार्डियोवस्कुलर यानी हृदय की सेहत को बनाए रखने के लिए भी भांग का तेल फायदेमंद माना जाता है। हालांकि, इन दावों की पुष्टि करने के लिए बहुत अधिक सबूत मौजूद नहीं हैं। इस तेल में आर्जिनिन नाम का एक अमिनो एसिड होता है, जो नाइट्रिक एसिड का एक अग्रदूत है जो होमियोस्टेसिस, ब्लड प्रेशर और रक्त वाहिकाओं की मजबूती को मेन्टेन रखने के लिए आवश्यक है। हालांकि, शोधकर्ताओं ने इन कारकों में से किसी पर भी भांग के तेल के सेवन महत्वपूर्ण प्रभाव का प्रमाण नहीं पाया। एक अध्ययन में भांग के तेल के सप्लिमेंट्स लेने पर खून में कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार और कोरोनरी धमनी रोग में कमी जरूर पाई गई। हृदय की अच्छी सेहत के लिए भांग के तेल के प्रभावों को समझने के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

(और पढ़ें - हृदय रोग से बचने के उपाय)

भांग के तेल के फायदे आर्थराइटिस के लिए - Bhang ke tel ke fayde arthritis ke liye

गठिया (आर्थराइटिस) इन्फ्लेमेशन यानी आंतरिक सूजन से जुड़ी स्थिति है जिसमें जोड़ों में दर्द और सूजन की समस्या देखने को मिलती है। आर्थराइटिस के दर्द को मैनेज करने के लिए ज्यादातर मरीज कई बार वैकल्पिक उपचार के तौर पर भांग के तेल का उपयोग करते हैं। जानवरों में हुए अध्ययन बताते हैं कि ऐंटी-इन्फ्लेमेटरी और दर्दनिवारक तत्वों से भरपूर भांग के बीज का तेल कैनबिडिओल आर्थराइटिस के लक्षणों को मैनेज करने में मदद कर सकता है। हालांकि, अगर आप गठिया के इलाज के लिए भांग के बीज के तेल का उपयोग करने की सोच रहे हैं, तो पहले अपने डॉक्टर से बात करना बेहतर रहेगा।

(और पढ़ें - गठिया का घरेलू इलाज)

भांग के तेल के फायदे ब्रेन हेल्थ के लिए - Bhang ke tel ke fayde brain health ke liye

भांग के तेल में अच्छी मात्रा में पॉलिअनसैचुरेटेड फैटी एसिड पाया जाता है विशेष रूप से ओमेगा-3 फैट जो चिंता और अवसाद को कम करने में मदद कर सकता है। 65 लोगों पर किए गए रैंडमाइज्ड (यादृच्छिक) डबल-ब्लाइंड परीक्षण में पाया गया कि प्रिमरोज़ तेल के साथ भांग के तेल का सप्लिमेंट मल्टीपल स्केलेरोसिस को मैनेज करने में और मरीजों में बीमारी के लक्षण के दोबारा दिखने में कमी करने में मदद करता है। माना जाता है कि भांग का तेल पॉलिफेनोल्स न्यूरोप्रोटेक्टिव (तंत्रिकाओं की रक्षा करने वाला) होता है। पशु अध्ययन से पता चलता है कि भांग के बीज में फेनिप्रोप्रियोनामाइड नाम का कम्पाउंड पाया जाता है जो स्मृति और संज्ञानात्मक कौशल पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। हालांकि, इस बात का पता लगाने के लिए और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है कि क्या भांग के बीज का तेल वास्तव में संज्ञानात्मक कार्य पर प्रभाव डालता है या नहीं।

(और पढ़ें - दिमाग को तेज करने के घरेलू उपाय)

भांग के तेल के कई अन्य फायदे - Bhang ke tel ke kai anay fayde

भांग के तेल के कई अन्य लाभ भी हैं:

  • माना जाता है कि भांग के बीज के तेल में मौजूद फैटी एसिड इम्यूनिटी को बेहतर बनाने में मदद करता है
  • एक छोटे अध्ययन ने संकेत दिया कि एचपीवी वायरस (ह्यूमन पैपिलोमावायरस) के टीके के कारण होने वाले दुष्प्रभाव को कम करने के लिए सीबीडी-समृद्ध भांग के बीज का तेल फायदेमंद हो सकता है।
  • बालों में नमी की मात्रा में सुधार करने के लिए भांग का तेल अच्छा माना जाता है (और पढ़ें- बालों की देखभाल कैसे करें)
  • माना जाता है कि भांग के बीज के तेल में मौजूद हेल्दी फैट मधुमेह को रोकने और मोटापा कम करने में मददगार है
  • मॉलेक्यूल्स नाम के जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी से संकेत मिलता है कि भांग के बीज के तेल में जीवाणुरोधी क्षमता होती है और यह स्टैफिलोकोकस ऑरियस के विकास को दबा सकता है। यह एक बैक्टीरिया है जो कई छोटी-मोटी स्वास्थ्य स्थितियों के लिए जिम्मेदार होता है- स्किन इंफेक्शन से लेकर निमोनिया तक।

भांग के बीज के तेल के उपयोग के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं:

  • कुछ लोगों को भांग के तेल के सेवन से पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं
  • कैनबिडिओल की उपस्थिति के कारण, भांग का तेल कुछ दवाओं के साथ परस्पर प्रतिक्रिया कर सकता है जैसे-खून को पतला करने वाली दवा। यदि आप एंटीकॉग्यूलेंट दवा लेते हैं या फिर किसी सर्जरी से गुजरने वाले हैं, तो भांग के तेल का इस्तेमाल न करें
  • गर्भावस्था में भांग के बीज के तेल के प्रभावों के बारे में ज्यादा जानकारी मौजूद नहीं है। ऐसे में अगर आप गर्भवती हैं या बच्चों को अपना दूध पिलाती हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श किए बिना भांग के तेल का सेवन न करें
  • यदि आपको किसी भी तरह की कोई पुरानी बीमारी है तो अपने आहार में भांग के तेल को शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से बात जरूर कर लें
Dr Shekhar Yadav

Dr Shekhar Yadav

आयुर्वेदा
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Namita Hooda

Dr. Namita Hooda

आयुर्वेदा
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Rekha

Dr. Rekha

आयुर्वेदा
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Puneet Bhardwaj

Dr. Puneet Bhardwaj

आयुर्वेदा
3 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

References

  1. Yi Yang, et al. Cannabis sativa (Hemp) Seeds, Δ9-Tetrahydrocannabinol, and Potential Overdose. Cannabis Cannabinoid Res. 2017; 2(1): 274–281. PMID: 29098190.
  2. Leonard William, Zhang Pangzhen, Ying Danyang, Fang Zhongxiang. Hempseed in food industry: Nutritional value, health benefits, and industrial applications. Comprehensive reviews in food science and food safety. 2020; 19(1):282-308.
  3. Tabassum Nahida, Hamdani Mariya. Plants used to treat skin diseases. Pharmacogn Rev. 2014 Jan-Jun; 8(15): 52–60. PMID: 24600196.
  4. Callaway J, Schwab U, Harvima I, Halonen P, Mykkänen O, Hyvönen P, Järvinen T. Efficacy of dietary hempseed oil in patients with atopic dermatitis. J Dermatolog Treat. 2005 Apr;16(2):87-94. PMID: 16019622.
  5. Oláh Attila, et al. Cannabidiol exerts sebostatic and antiinflammatory effects on human sebocytes. J Clin Invest. 2014 Sep 2; 124(9): 3713–3724. PMID: 25061872.
  6. Rodriguez-Leyva Delfin, Pierce Grant N. The cardiac and haemostatic effects of dietary hempseed. Nutr Metab (Lond). 2010; 7: 32. PMID: 20409317.
  7. Kiecolt-Glaser Janice K., et al. Omega-3 Supplementation Lowers Inflammation and Anxiety in Medical Students: A Randomized Controlled Trial. Brain Behav Immun. 2011 Nov; 25(8): 1725–1734. PMID: 21784145.
  8. Zhou Yuefang, et al. Hemp (Cannabis sativa L.) Seed Phenylpropionamides Composition and Effects on Memory Dysfunction and Biomarkers of Neuroinflammation Induced by Lipopolysaccharide in Mice. ACS Omega. 2018 Nov 30; 3(11): 15988–15995. PMID: 30556022.
  9. Palmieri B, Laurino C, Vadalà M. Short-Term Efficacy of CBD-Enriched Hemp Oil in Girls with Dysautonomic Syndrome after Human Papillomavirus Vaccination. Isr Med Assoc J. 2017 Feb;19(2):79-84. PMID: 28457055.
  10. Grayson Leslie, Vines Brannon, Nichol Kate, Szaflarski Jerzy P. An interaction between warfarin and cannabidiol, a case report. Epilepsy Behav Case Rep. 2018; 9: 10–11. PMID: 29387536.
ऐप पर पढ़ें