जैतून क्या है?

जैतून, जिसे अंग्रेजी में ओलिव कहा जाता है, अंडे के आकार का फल होता है। जैतून भूमध्य क्षेत्र, उष्णकटिबंधीय और मध्य एशिया, दक्षिण अमेरिका के गर्म क्षेत्रों और अफ्रीका के विभिन्न हिस्सों में अधिक उगाया जाता है। जैतून के दो मुख्य प्रकार होते हैं - काले जैतून और हरे जैतून।

हजारों वर्षों से जैतून का उपयोग इसके औषधीय गुण के लिए किया जा रहा है। आजकल इसे सलाद, सैंडविच, पिज्जा आदि के लिए उपयोग किया जाता है।

(और पढ़ें - जैतून के तेल के फायदे)

आइये आगे आपको बताएं जैतून के फायदे -

  1. जैतून के फायदे - Olive Benefits in Hindi
  2. जैतून के नुकसान - Zaitoon ke nuksan in Hindi

जैतून में मुख्य रूप से आयरन, कैल्शियम, फाइबर, तांबा, विटामिन ई, विटामिन के, कोलिन, सोडियम, फीनोलिक यौगिक और ओलिक एसिड पाए जाते हैं।

(और पढ़ें - एंटीऑक्सीडेंट के फायदे)

जैतून में एंटीऑक्सीडेंट क्षति कम करने, हृदय रोग से बचाने, हड्डियों को स्वस्थ रखने, विभिन्न तरह के कैंसर को रोकने, सूजन और आर्थराइटिस को कम करने और पाचन को स्वस्थ रखने की क्षमता होती है। जैतून एलर्जी प्रतिक्रियाओं को कम करने, रक्त परिसंचरण सुधारने, दिमाग तेज करने, संक्रमणों से बचाव करने और रक्तचाप को कम करने में भी सहायता करता है।

(और पढ़ें - बीपी कम करने का तरीका)

तो आइये जानते हैं इससे होने वाले इन लाभ के बारे में विस्तार से - 

जैतून खाने के फायदे ह्रदय को रखे स्वस्थ - Jaitun khane ke fayde rakhe hriday ko swasth in Hindi

हृदय रोग दुनिया भर में सबसे घातक बिमारियों में से एक है। इसलिए लोग हमेशा हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने, एथेरोस्क्लेरोसिस, दिल के दौरे, और स्ट्रोक से बचने के तरीके तलाश कर रहे हैं। जैतून में ओलिक एसिड नामक मोनोसैचुरेटेड फैट होता है, जो हृदय रोगों को रोकने में मदद करता है। जैतून के तेल में ओलिक एसिड होता है जो रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। इससे हृदय संबंधी समस्याओं की संभावना और सिस्टम पर तनाव कम होता है।

(और पढ़ें - हृदय रोग का इलाज)

जैतून फेनोलिक यौगिक में भरपूर होते हैं, जो कैंसर को रोकने में लाभकारी होते हैं। और साथ ही साथ ह्रदय को स्वस्थ रखते हैं। हाइड्रॉक्साइरसोल जैसे फेनोलिक यौगिक रक्त को पतला करने के लिए कार्य करते हैं जिससे खून के थक्के बनने की संभावना कम हो जाती है। इसके अलावा, यह रक्त वाहिकाओं को फैलाता है जिससे हृदय पर तनाव कम हो जाता है और शरीर के चारों ओर रक्त प्रवाह बढ़ जाता है। यह विभिन्न अंग प्रणालियों के उचित कार्य और ऑक्सीजनकरण को सुनिश्चित करता है।

(और पढ़ें - खून का थक्का जमने के कारण)

जैतून के गुण बचाएं कैंसर से - Zaitoon khane ke fayde bachaye cancer se in Hindi

जैतून में एंथोकायनिन (anthocyanin) होता है, जो कि एक एंटीऑक्सीडेंट और सूजन को कम करने वाला पदार्थ है। यह कैंसर की रोकथाम में असरदार होता है। एंटीऑक्सीडेंट शरीर की मुक्त कणों (जो स्वस्थ कोशिकाओं को कैंसर सेल्स में बदलते हैं) के खिलाफ  रक्षा करते हैं। और अपने भोजन में एंटीऑक्सीडेंट से युक्त चीजों का सेवन करना आपको कैंसर से बचने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

इसके अलावा, जैतून में ओलेइक एसिड होता है जो स्तन कैंसर को बढ़ाने वाले रिसेप्टर्स के विकास को कम करता है। जैतून में हाइड्रॉक्सीटीरोसोल (hydroxytyrosol) होता है जो डीएनए परिवर्तन और असामान्य कोशिका वृद्धि को रोकने का काम करता है।

(और पढ़ें - ब्लड कैंसर का इलाज)

जैतून फल के फायदे बनाए हड्डियों को मजबूत - Zaitoon ke fayde bataye haddi ko majbut in Hindi

जैतून में हाइड्रॉक्सीटीरोसोल (hydroxytyrosol) के साथ-साथ ऑलियोरोपिन (oleuropein) यौगिक भी होता है, जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं। इसके अलावा यह सकारात्मक रूप से कैल्शियम को बढ़ाने में मदद करता है जो हड्डियों को मजबूत रखने के लिए जरूरी होता है। एक स्टडी के अनुसार यह ऑस्टियोपोरोसिस और उसके खतरे को कम करने में मददगार पाया गया है।

(और पढ़ें - हड्डी को मजबूत करने के उपाय)

जैतून खाने से फायदे हैं सूजन कम करने में - Olive ke fayde kare sujan ko kam in Hindi

जैतून के पोषक तत्व न केवल एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं बल्कि ये सूजन भी कम करते हैं। ये शरीर के कई अंगों में सूजन कम करते हैं, जैसे कि जोड़ों, मांसपेशियों और टेंडन में। विशेष रूप से यह गठिया, और अन्य आमवाती समस्याओं के लिए लाभकारी हो सकता है और साथ ही यह इन समस्याओं से जुड़े दर्द को कम कर सकता है।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के उपाय)

जैतून फल का गुण रखे पाचन को अच्छा - Zaitoon ka phal ke fayde kare digestion accha in Hindi

जैतून फाइबर का एक स्वस्थ स्रोत है। एक कप जैतून फाइबर की दैनिक आवश्यकताओं का लगभग 20% प्रदान करता है। ज्यादा मात्रा में फाइबर खाना आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है। आहार में फाइबर अधिक होने से पेट साफ भी रहता है।

आहार में फाइबर अच्छी मात्रा होने से भूख कम लगती है, क्योंकिं यह उस हॉर्मोन को रिलीज़ नहीं होने देता जिससे भूख लगती है। इसके कारण आप अधिक खाने से बच जाते हैं। फाइबर न केवल आपके पाचन और जठरांत्र संबंधी स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है बल्कि यह आपका वजन कम करने में मदद कर सकता है।

फाइबर रक्त में अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, जिससे हृदय स्वस्थ्य रहता है।

(और पढ़ें - भूख कम करने के घरेलू उपाय और पाचन शक्ति कैसे बढाये)

 

जैतून खाने से लाभ है एलर्जी में - Zaitoon ke phal ke labh hai allergy me in Hindi

जैतून एलर्जी प्रतिक्रियाओं की तीव्रता या आवृत्ति को कम करने में मदद कर सकते हैं। जैतून के कुछ घटक हिस्टामाइन (histamine: एलर्जी प्रतिक्रियाओं को बढ़ाने वाले शारीरिक तत्व) के लिए रिसेप्टर साइट को अवरुद्ध करके एंटी-हिस्टामाइन के रूप में कार्य करते हैं। अपने आहार में जैतून का सेवन करने से, आप मौसमी एलर्जी के लक्षणों को कम कर सकते हैं, साथ ही साथ विशिष्ट एलर्जी प्रतिक्रियाएं भी कम कर सकते हैं। यह जैतून खाने का एक महत्वपूर्ण लाभ है जिसे अक्सर अनदेखा किया जाता है।

(और पढ़ें - एलर्जी का घरेलू उपाय)

जैतून का लाभ करें सर्कुलेशन में सुधार - Zaitoon phal ke gun kare circulation me sudhar in Hindi

जैतून आयरन और तांबा दोनों का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है। लोहा और तांबा लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए दो आवश्यक घटक होते हैं। इन दो खनिजों के बिना, शरीर में लाल रक्त कोशिका की गिनती कम हो सकती है जिससे एनीमिया हो सकता है। रक्त कोशिका की गिनती में कमी आना थकान, खराब पेट, सिरदर्द, संज्ञानात्मक खराबी आदि का भी कारण हो सकता है।

(और पढ़ें - ब्लड बढ़ाने के उपाय)

जैतून का उपयोग त्वचा के लिए - Zaitoon ke phal ke fayde skin ke liye in Hindi

जैतून का सेवन उम्र बढ़ने के लक्षण कम करने में मदद करता है जैसे झुर्रियाँ और अन्य त्वचा से संबंधित बीमारियां। जैतून एक बहुत ही प्रभावी स्किन क्लींजर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें मौजूद तांबा, लोहा, फाइबर और विटामिन ई त्वचा को नरम और स्वस्थ रखने में सहायता करते हैं।

(और पढ़ें - चेहरे की झुर्रियों के उपाय)

  1. जैतून आमतौर पर एक बहुत ही स्वस्थ भोजन है, लेकिन जैतून वृक्ष के पराग से कुछ मौसमी एलर्जी हो सकती है।
  2. इसके अलावा, जैतून और जैतून के तेल में शक्तिशाली एसिड और कार्बनिक यौगिक होते हैं। इसलिए गर्भवती या स्तनपान करा रहीं महिलाओं को जैतून कम खाने की सलाह नहीं दी जाती है।

(और पढ़ें - गर्भवती महिला का भोजन और स्तनपान के फायदे)


उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें जैतून है

ऐप पर पढ़ें