आज के समय में हमारी व्यस्त जीवनशैली और खाने पीने की गलत आदतों की वजह से पेट से सम्बन्धित कई समस्याएं होने लगती हैं, जैसे गैस, बदहजमी, पेट दर्द आदि। इन सबके अलावा एक और समस्या जिससे हर व्यक्ति को रोज़ सुबह सामना करना पड़ता है वो है पेट का साफ न होना। कुछ लोग पेट साफ करने के लिए चूर्ण का सहारा लेते हैं लेकिन कभी-कभी उससे भी कोई इलाज नहीं होता।

लेकिन आज हम आपको पेट साफ करने के कुछ ऐसे बेहतरीन उपाय बताने वाले हैं, जिनके इस्तेमाल से यकीन मानिये आपका पेट रोज़ अच्छे से साफ होगा और पूरा दिन खुशनुमा बीतेगा। 

तो आइये आपको बताते हैं, पेट से साफ रखने के उपाय -

  1. पेट साफ करने के तरीके में करें पुदीना का उपयोग - Peppermint for bowel movement in Hindi
  2. पेट साफ करें सौंफ से - Benefits of fennel seeds for bowel movement in Hindi
  3. पेट साफ करने के घरेलू उपाय हैं शहद और नींबू - Honey and lemon good for bowel movement in Hindi
  4. पेट साफ रखने के उपाय में करें चटनी का उपयोग - Eat chutney for bowel movement in Hindi
  5. पेट साफ करने के लिए उपाय है गर्म पानी - Hot Water helps get regular bowel movements in Hindi
  6. पेट साफ करने का देसी इलाज है इसबगोल - Isabgol good for bowel movement in Hindi
  7. पेट को साफ करें जीरा से - Benefits of caraway seeds for stomach problem in Hindi
  8. पेट साफ करने की विधि में करें अदरक का उपयोग - Ginger for bowel movement in Hindi
  9. पेट साफ करने का तरीका हैं नींबू - Lemon good for bowel movement in Hindi
  10. पेट साफ करने के उपाय में हींग है फायदेमंद - Asafoetida powder treats bowel movement in Hindi
  11. तुरंत पेट साफ करने का तरीका है अजवाइन का उपयोग - Ajwain for bowel movement in Hindi
  12. पेट साफ करने का नुस्खा तुलसी की पत्तियों के इस्तेमाल से - Basil leaves for regular bowel movement in Hindi
  13. पेट साफ रखने का घरेलू उपाय है एलोवेरा - Aloe vera leaves benefits for bowel movement in Hindi
  14. तुरंत पेट साफ करें सूखे आलूबुखारा से - Prunes relieve bowel movement problems in Hindi
  15. पेट साफ रखने के तरिके के लिए करें सेब का उपयोग - Apples promotes bowel movement in Hindi
  16. पेट साफ करने की दवाई है प्रोबायोटिक्स - Probiotics ease the bowel movement in Hindi
  17. पेट को साफ रखें सामान्य मलत्याग की पहचान करके - Know your bowel movements in Hindi

पुदीना बदहजमी से जुड़े लक्षणों को ठीक करने में मदद करता है और पेट को साफ़ करता है। पुदीने की पत्तियों की या तो आप चाय पी सकते हैं या फिर इन्हे पीसकर चटनी बनाकर खा सकते हैं। पुदीने को आप अपने खाने में भी डाल सकते हैं।

(और पढ़ें - पुदीने की चाय के फायदे)

 

सौफ और सफ़ेद जीरा पाउडर लें और उन्हें तवे पर भून लें। इस मिश्रण को पूरे दिन में आधा चम्मच ज़रूर लें। सौफ और सफ़ेद जीरा पाउडर के मिश्रण को हर तीन से चार घंटे बाद ले सकते हैं।

(और पढ़ें - सौंफ की चाय के फायदे)

 

पेट को साफ रखने के लिए, एक चम्मच शहद, एक चम्मच नींबू जूस और एक चम्मच अदरक के जूस को एक साथ मिला लें। फिर इस मिश्रण को पीयें। बदहजमी से लड़ने के लिए आप इस मिश्रण को पूरे दिन में दो से तीन बार ज़रूर लें।

(और पढ़ें - नींबू पानी के फायदे)

भारतीय भोजन में चटनी बेहद ज़रूरी सामग्री मानी जाती है। आप चटनी पुदीना, हरी मिर्च, नींबू का जूस और अदरक के मिश्रण से बना सकते हैं। ये सब आपके पाचन क्रिया को ठीक रखने में मदद करते हैं। ये सभी घटक शरीर को पोषक तत्व अवशोषित करने में मदद करते हैं, पाचन क्रिया को शांत करते हैं और पेट साफ रखते हैं।     

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

गर्म पानी पेट को साफ करता है, मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है और सभी विषाक्त पदार्थों को साफ करता है। गर्म पानी पाचन प्रणाली से अशुद्धियों को साफ करता है और इससे पेट का दर्द भी दूर हो जाता है। इसके साथ ही पेट को साफ करने में भी मदद मिलती है। इसके अलावा रोज़ 8 से 10 ग्लास पानी ज़रूर पीयें, इससे आपका शरीर हाइड्रेट रहेगा और मल त्यागने में भी आसानी होगी।

(और पढ़ें - खाली पेट पानी पीने के फायदे)  

आपने इसबगोल की भूसी तो सुनी होगी। अगर नहीं सुनी है तो जान लीजिये ये पेट को साफ करने का बेहद अच्छा उपाय है। रोज दो चम्मच इस भूसी को एक कप दूध में डालें और रोज़ रात को सोने से पहले पीयें।

(और पढ़ें - दालचीनी दूध के फायदे)

पेट साफ करने के लिए, एक ग्लास पानी लें और एक चम्मच जीरे को उसमे डाल दें। फिर मिश्रण को उबलने को रख दें और उबलने के बाद मिश्रण को गर्मा-गर्म पी जाएं। इस मिश्रण को पूरे दिन में दो से तीन बार पांच से छः दिन के लिए पीयें। काला जीरा एसिडिटी को भी ठीक करने में मदद करता है साथ ही इससे पेट भी अच्छे से साफ होगा।

(और पढ़ें - एसिडिटी के घरेलू उपाय)

अदरक, पुदीना और कैमोमाइल का मिश्रण पाचन क्रिया के लिए बेहद अच्छा होता है। बस आपको ये मिश्रण दस मिनट तक गर्म पानी में उबालना है, फिर छान लें और छानने के बाद पी जाएँ। इस मिश्रण को पूरे दिन में दो बार ज़रूर पीयें। इसे आमतौर पर खाना खाने के बाद पीयें।

(और पढ़ें - कैमोमाइल चाय के फायदे)

आप नींबू के रस को अपनी सब्ज़ी या सुबह नाश्ते में ऑमलेट में डालकर खा सकते हैं। नींबू में मौजूद एन्ज़ाइम्स पाचन प्रणाली से विषाक्त पदार्थों को निकालते हैं और पाचन क्रिया का इलाज करते हैं।

(और पढ़ें - बॉडी को डिटॉक्स कैसे करें)

पेट को साफ करने का तरीका है हींग पाउडर। एक ग्लास गर्म पानी में रोज़ाना एक चम्मच हींग पाउडर ज़रूर मिलाकर पीयें। इससे आपका पेट साफ भी रहेगा और अन्य समस्याएं भी नहीं होंगी।

तुरंत पेट साफ करने के लिए, अजवाइन के बीज को भून लें और भूनने के बाद बोतल में डाल लें। अब इन भुने बीजों को खाना खाने के बाद चबाएं। ये उपाय गैस और बदहजमी के लिए बहुत बेहतरीन है।

(और पढ़ें - बदहजमी के घरेलू उपाय)

रोज़ाना सुबह खाली पेट तुलसी की पत्तियों को खाने से न सिर्फ आपकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है बल्कि पाचन क्रिया भी अच्छी रहती है और इस तरह मल त्यागने में कोई दिक्कत नहीं आती।

(और पढ़ें - प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

रोज़ाना सुबह एलोवेरा की पत्ती लें और जेल को उसमे से निकाल लें। निकालने के बाद उसका जूस तैयार कर लें। फिर जूस को पी जाएँ। रोज़ाना इस जूस को पीने से आपके पेट में कब्ज नहीं होगी और पेट हमेशा साफ रहेगा।

(और पढ़ें - कब्ज के घरेलू उपाय)

 

बस रोजाना चार से पांच आलूबुखारा आपकी पाचन प्रणाली को बदल देता है और एंटीऑक्सीडेंट के स्तर को बढ़ाता है। आलूबुखारा से आँतों की प्रणाली में तरल पदार्थ बनता है, जिससे मल त्यागने में आसानी होती है।

(और पढ़ें - आंत में सूजन का इलाज)

अगर आपको कभी भी कब्ज की समस्या होती है तो सेब में मौजूद फाइबर आपकी मदद करेगा। सेब में पेक्टिन भी होता है जो पूरे शरीर में अच्छे से काम करता है और सभी अशुद्धियों और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। सेब से आपका पेट हमेशा साफ रहेगा।

(और पढ़ें - कब्ज में परहेज)

क्या आप अभी एंटीबायोटिक्स दवाइयां ले रहे हैं? या पहले कभी लेते थे? क्योंकि एंटीबायोटिक्स का प्रभाव आपके पेट पर पड़ता है। एंटीबायोटिक्स पेट की आँतों पर प्रभाव डालती हैं और पेट के अच्छे एसिड के बीच में अवरोध बनती है। जिसकी वजह से हमारा खाना पच नहीं पाता है। अगर आपको ऐसा कुछ लगता है कि पेट साफ नहीं हो रहा है तो उच्च मात्रा में प्रोबायोटिक्स ले सकते हैं। प्रोबायोटिक्स पेट को गर्म करते हैं और अच्छे बैक्टीरिया को बनाते हैं।

(और पढ़ें - एंटीबायोटिक दवा लेने से पहले रखें कुछ बातों का ध्यान)

सभी लोगों के लिए मल त्यागने की प्रक्रिया अलग-अलग होती है। किसी व्यक्ति के लिए जो मल त्यागने की प्रक्रिया सामान्य होती है, ऐसा हो सकता है कि वो किसी और के लिए सामान्य नहीं हो। आपको पूरे दिन में दो से तीन बार या सिर्फ एक बार भी मल त्याग हो सकता है।

(और पढ़ें - मल में खून आने का इलाज)

इसके अलावा ये तो आप सभी जानते हैं कि पाचन की शुरुआत मुँह से पेट तक होते हुए मल पर खत्म होती है। (और पढ़ें - बवासीर का इलाज)

डॉक्टर मगन का कहना है कि 'सामान्य मल त्याग में भूरे रंग का मल होता है जो न ही ज़्यादा ठोस होता है और न ही ज़्यादा दस्त जैसा होता है (और पढ़ें - दस्त रोकने के घरेलू उपाय)

अगर मल अधिक दस्त जैसे होता है तो उसे डायरिया कहते हैं। अगर वो बेहद ठोस और रूखा है तो इसका मतलब आपको कब्ज़ है। कब्ज़ के लक्षण जैसे तीन दिन से ज़्यादा पेट साफ न होना और एकदम ठोस और दर्द महसूस होने वाला मल त्याग होना।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में कब्ज का इलाज)

और पढ़ें ...