myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

छोले को वैज्ञानिक रूप से 'साइसर एरीटिनम' (Cicer arietinum) कहा जाता है। काबुली चना एक फली है, जो फेबैसी परिवार के अंतर्गत आता है। इसे बंगाल ग्राम, गारबन्जो बीन्स और मिस्र के मटर के रूप में भी जाना जाता है। काबुली चना प्रोटीन से भरपूर होता है। इसलिए अधिकतर लोग इसका सेवन करते हैं।

छोले के मुख्य दो प्रकार होते हैं - देसी और काबुली। देसी प्रकार के छोले आकर में छोटे और गहरे रंग के होते हैं, जबकि काबुली चने आमतौर पर आकर में बड़े और हल्के रंग के होते हैं।

(और पढ़ें - मटर के फायदे)

  1. काबुली चने (छोले) के फायदे - Kabuli chane (Chole) ke fayde
  2. काबुली चने (छोले) के नुकसान - Chickpea Side Effects in Hindi

काबुली चना, पौधों से प्राप्त होने वाले प्रोटीन का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो डायबिटीज को रोक सकता है और वजन घटाने में मदद कर सकता है। काबुली चने के अद्भुत लाभों में पाचन सुधारने, हृदय रोग को रोकने, रक्तचाप के स्तर को स्थिर करने और आनुवांशिक बीमारियों और कैंसर के जोखिम को कम करने की क्षमता शामिल है। ये हड्डी, त्वचा और बालों के स्वास्थ्य को मजबूत रखने में सहायक होता है। तो आइये जानते हैं काबुली चने के सेवन से होने वाले लाभों के बारे में -

(और पढ़ें - चने के फायदे)

  1. छोला है प्रोटीन का अच्छा स्रोत - Chickpeas is a Good Source of Protein in Hindi
  2. काबुली चने के फायदे बचाएं कैंसर से - Chickpeas Cure Cancer in Hindi
  3. सफेद चने के फायदे रखें पाचन को स्वस्थ - Chickpeas Good for Digestion in Hindi
  4. छोले खाने के लाभ डायबिटीज में - Chickpeas Benefits for Diabetes in Hindi
  5. सफेद चना खाने के फायदे वजन कम करने में - Chickpeas Benefits for Weight Loss in Hindi
  6. काबुली चना खाने के फायदे हड्डियों के लिए - Chickpeas for Bones in Hindi
  7. काबुली चने खाने के फायदे ह्रदय के लिए - Chickpeas for Heart Health in Hindi
  8. सफेद चना है एंटी एजिंग का उपाय - Chickpeas for Anti Aging in Hindi
  9. बालों के लिए छोले के फायदे - Chickpeas for Hair Loss in Hindi
  10. आँखों के लिए छोले खाने के फायदे - Chickpeas Benefits for Eyes Health in Hindi
  11. काबुली चना के फायदे गर्भावस्था में - Chickpeas for Pregnancy in Hindi
  12. काबुली चना का सेवन करे सूजन को दूर - Chickpeas for Inflammation in Hindi

छोला है प्रोटीन का अच्छा स्रोत - Chickpeas is a Good Source of Protein in Hindi

काबुली चने पौधों से प्राप्त होने वाले प्रोटीन का एक बहुत ही अच्छा स्रोत है। एक कप सफेद चना में लगभग 15 ग्राम प्रोटीन होता है। यह प्रोटीन शरीर के लगभग सभी कार्यों के लिए महत्वपूर्ण होता है। यह महत्वपूर्ण अंगों, मांसपेशियों और ऊतकों के स्वास्थ्य को सुधारने से लेकर उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है। इसके साथ ही साथ यह प्रोटीन रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। प्रोटीन चोटों और घावों को ठीक करने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें - घाव को ठीक करने के उपाय)

यह सुनिश्चित करें कि आप काबुली चने को प्रोटीन के अन्य स्रोतों के साथ संयोजित करके इसका प्रयोग करें, क्योंकि काबुली चने में पाया जाने वाला प्रोटीन एक अपूर्ण प्रोटीन होता है। (जिसका मतलब है कि इसमें आवश्यक सभी अमीनो एसिड नहीं पाए जाते हैं) हालांकि, छोले में प्रोटीन की गुणवत्ता को दालों से ज्यादा बेहतर माना जाता है।

(और पढ़ें - प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

काबुली चने के फायदे बचाएं कैंसर से - Chickpeas Cure Cancer in Hindi

हालांकि ज्यादातर फलों और सब्जियों में 'सेलेनियम' नहीं होता है। लेकिन आप इसे काबुली चना से प्राप्त कर सकते हैं। यह खनिज लिवर के कार्यों में मदद करता है, जिससे यह शरीर को कुछ कैंसर कारक यौगिकों को डिटॉक्सीफाई करने में सक्षम बनाता है। सेलेनियम, सूजन को भी कम करता है और ट्यूमर के विकास को रोकता है।

(और पढ़ें - मुंह के कैंसर का इलाज)

काबुली चने में मौजूद फोलेट, डीएनए संश्लेषण एवं उत्तकों के रिपेयर में बहुत ही सहायक होता है। यही कारण है कि यह डीएनए में परिवर्तनों से कैंसर कोशिकाओं के गठन को रोकता है। काबुली चने में 'सैपोनिन' नामक फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने और फैलने से भी रोकते हैं।

(और पढ़ें - ब्रेन कैंसर का इलाज)

काबुली चने में मौजूद फाइबर कोलोरेक्टल भी कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करता है। इसमें मौजूद विटामिन सी एक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है, जो मुक्त कणों से लड़ता है और कैंसर को पूरी तरह रोकता है।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

सफेद चने के फायदे रखें पाचन को स्वस्थ - Chickpeas Good for Digestion in Hindi

पाचन, मानव शरीर के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। इसलिए यह भी महत्वपूर्ण है कि आपका गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम ठीक से काम कर रहा है या नहीं। सफेद चने में पाया जाने वाला फाइबर का उच्च स्तर आपकी आँतों के कार्य को नियमित रखता है। इसके अलावा यह सूजन, ऐंठन और कब्ज को भी समाप्त करता है। इसके साथ ही साथ सफेद चने में पाया जाने वाला फाइबर पोषक तत्व पचाने में सुधार सकता है और यह सुनिश्चित करता है कि आप अपने भोजन के सभी पौष्टिक तत्वों को प्राप्त करें।

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

छोले खाने के लाभ डायबिटीज में - Chickpeas Benefits for Diabetes in Hindi

न केवल डायबिटीज से ग्रस्त, बल्कि हर किसी के लिए रक्त शर्करा को मैनेज करना महत्वपूर्ण होता है। छोले में पाचन के माध्यम से रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने की एक मजबूत क्षमता होती है। यह हमारे शरीर में इंसुलिन और रक्त शर्करा का सामान्य स्तर रखता है। छोले का 'ग्लाइसेमिक इंडेक्स' 28 है, जो कि बहुत कम है और यहीं एक कारण है कि यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाता नहीं है। कुछ प्रारंभिक शोध है, जिनसे पता चला है कि छोले का सेवन करने वाले व्यक्ति को डायबिटीज का जोखिम कम हो सकता है।

(और पढ़ें - डायबिटीज का घरेलू उपाय)

इसके साथ ही साथ छोले फाइबर में समृद्ध होते हैं (एक पोषक तत्व जो रक्त शर्करा के अवशोषण को धीमा कर देता है, जिससे टाइप 2 डायबिटीज का खतरा कम होता है)। यह फाइबर भी आपकी भूख को नियंत्रित करता है और इससे आपको उच्च जीआई वाले खाद्य पदार्थों से दूर रहने में मदद मिलती है।

(और पढ़ें - डायबिटीज में क्या खाना चाहिए)

सफेद चना खाने के फायदे वजन कम करने में - Chickpeas Benefits for Weight Loss in Hindi

इसमें पोषक तत्वों का उच्च घनत्व और आहार फाइबर सामग्री मौजूद होती है जो वजन कम करने वाले लोगों के लिए बहुत ही लाभकारी होती है। यह फाइबर शरीर को तृप्त और अधिक समय तक पूर्ण (पेट भरा हुआ महसूस करना) रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह 'घ्रालिन' (भूख हार्मोन) को रिलीज़ होने से रोकता है। सफेद चने में मौजूद पोषक तत्वों और खनिजों का मिश्रण भी शरीर को सक्रिय और ऊर्जावान बनाये रखता है। कम कैलोरी का सेवन करने के लिए सफेद चना बहुत ही लाभकारी होता है, क्योंकि सफेद चने के प्रति कप में 270 कैलोरी होने के बावजूद आपको भूख नहीं लगती है।

(और पढ़ें - वजन कम करने के आसान तरीके)

काबुली चना खाने के फायदे हड्डियों के लिए - Chickpeas for Bones in Hindi

काबुली चने में कई महत्वपूर्ण खनिज पाए जाते हैं, जिनमें लोहा, फास्फोरस, मैग्नीशियम, तांबा और जस्ता शामिल है। इसका मतलब यह है कि ये बीन्स (काबुली चने) हड्डीयों के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी हैं। 

(और पढ़ें - हड्डी टूटने का इलाज)

काबुली चने खाने के फायदे ह्रदय के लिए - Chickpeas for Heart Health in Hindi

हमारे कार्डियोवस्कुलर स्वास्थ्य को काबुली चने से दो अलग-अलग तरीकों से बढ़ावा मिलता है। सबसे पहले, घुलनशील फाइबर के उच्च स्तर कोलेस्ट्रॉल को स्क्रैप करने में मददगार है। जिसके कारण एथेरोस्क्लेरोसिस, दिल के दौरे और स्ट्रोक को रोकने में मदद मिलती है। इसके अलावा इसमें केवल ओमेगा -3 फैटी एसिड होते हैं, जो फायदेमंद 'पॉलीअनसेचुरेटेड' फैट होती है, जिसकी हमारे शरीर को आवश्यकता होती है। ओमेगा -3 फैटी एसिड हृदय की सुरक्षा करती है और पूरे शरीर में सूजन को कम करने में मदद करती है।

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं)

सफेद चना है एंटी एजिंग का उपाय - Chickpeas for Anti Aging in Hindi

सफेद चने में भरपूर मात्रा में मैंगनीज़ पाया जाता है, जो कोशिकाओं को ऊर्जा प्रदान करता है और मुक्त कण को नष्ट करता है। मुक्त कणों के कारण झुर्रियां पैदा हो सकती हैं। सफेद चने में मौजूद विटामिन बी कोशिकाओं के लिए ईंधन के रूप में कार्य करते हैं।

(और पढ़ें - झुर्रियों का इलाज)

आप अपने चेहरे को साफ करने के लिए सफेद चने का भी उपयोग कर सकते हैं। बस हल्दी के साथ सफेद चने का पेस्ट मिलाकर सुबह में अपने चेहरे पर लगाएं। इसे 15 मिनट के लिए लगाकर छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से धो लें। यह उपाय उम्र के धब्बे को कम करने और आपके चेहरे को चमकदार बनाये रखने में मदद करता है।

(और पढ़ें - एजिंग के लक्षणों को कम करने के आयुर्वेदिक टिप्स)

बालों के लिए छोले के फायदे - Chickpeas for Hair Loss in Hindi

काबुली चना प्रोटीन में समृद्ध होता है। इसके सेवन से बालों के झड़ने को रोका जा सकता है और इसमें मौजूद मैंगनीज आपके बालों को मजबूत करता है। मैंगनीज की कमी बालों की वृद्धि को धीमा कर सकती है। छोले में पाए जाने वाले विटामिन ए और जस्ता रूसी को नष्ट करते हैं। आप मैश छोले के 6 टेबल स्पूंस को पानी के साथ मिक्स करके अपने सर पर लगा सकते हैं। फिर 15 मिनट के बाद सिर धो लें। छोले में मौजूद जस्ता बालों को कमजोर होने से रोकता है।

(और पढ़ें - बाल झरने का उपाय)

आँखों के लिए छोले खाने के फायदे - Chickpeas Benefits for Eyes Health in Hindi

छोले में बीटा-कैरोटीन का उच्च स्तर पाया जाता है, जो आँखों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मददगार होता है। इसके अलावा जस्ता भी आँखों के लिए एक अन्य आवश्यक पोषक तत्व है। यह विटामिन ए को लिवर से रेटिना तक ले जाने में मदद करता है। जिंक से परिपूर्ण होने के कारण, सफेद चना मैक्यूलर डिएनेरेशन को रोकने में मदद करता है।

(और पढ़ें - आँखों की रौशनी कैसे तेज करे)

काबुली चना के फायदे गर्भावस्था में - Chickpeas for Pregnancy in Hindi

इसमें फोलेट पाया जाता है, लेकिन इसके साथ ही साथ इसमें फाइबर, प्रोटीन, लोहा और कैल्शियम भी शामिल होते हैं। ये सभी पोषक तत्व गर्भावस्था के दौरान अधिक आवश्यक होते हैं। फोलेट गर्भावस्था के दौरान सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। मां और भ्रूण के स्वास्थ्य के लिए यह अनिवार्य है। यह न्यूरल ट्यूब दोषों और जन्म के समय कम वजन के जोखिम को कम करता है।

(और पढ़ें - गर्भवती महिला को क्या खाना चाहिए और गर्भावस्था में पेट दर्द)

काबुली चना का सेवन करे सूजन को दूर - Chickpeas for Inflammation in Hindi

सफेद चना एक प्रकार की बीन्स फलियां हैं। एक अध्ययन से पता चला है कि एक हफ्ते में सफेद चना के कम से कम 4 सर्विंग्स का सेवन करने से सूजन की संभावना को कम किया जा सकता है। यह चयापचय में काफी सुधार कर सकता है। काबुली चने में अन्य पोषक तत्व जैसे विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन बी 6, फाइबर, प्रोटीन, मैग्नीशियम, सेलेनियम और लोहा पाए जाते हैं। ये सब तत्व सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के घरेलू उपाय)

छोले के सेवन से अधिकांश लाभ ही प्राप्त होते हैं, लेकिन इनमें 'प्यूरिन' नामक यौगिक भी होते हैं जो शरीर के यूरिक एसिड द्वारा टूट सकते हैं। यदि आप गुर्दे की पथरी, पित्त या गठिया से पीड़ित हैं, तो आपको छोले के सेवन से बचने की जरूरत हो सकती है, क्योंकि इनका अधिक सेवन इस समस्या को अधिक बढ़ा सकता है।x

(और पढ़ें - पथरी का घरेलू उपाय)

और पढ़ें ...