myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मूत्र पथ के संक्रमण (यूटीआई), जिसे मूत्राशय संक्रमण भी कहा जाता है, मूत्र पथ में एक प्रकार की बैक्टीरियल सूजन है। महिलाओं में गर्भावस्था के छटे हफ्ते से गर्भावस्था के 24वें सप्ताह तक यूटीआई से पीड़ित होने का जोखिम अधिक होता है।

गर्भावस्था के दौरान, मूत्र पथ में परिवर्तन होने के कारण यूटीआई होना अधिक आम है। गर्भाशय, मूत्राशय के ठीक ऊपर स्थित होता है। जैसे जैसे गर्भाशय बढ़ता है, इसका वजन भी बढ़ता है, जिससे मूत्राशय से मूत्र की निकासी रुक सकती है, जिससे संक्रमण होता है।

(और पढ़ें - योनि में बैक्टीरियल संक्रमण)

  1. गर्भावस्था में मूत्र पथ संक्रमण के लक्षण - Symptoms of UTI during pregnancy in Hindi
  2. प्रेग्नेंसी में मूत्र पथ संक्रमण होने के कारण - Uti during pregnancy causes in Hindi
  3. गर्भावस्था में मूत्र पथ संक्रमण का बच्चे पर प्रभाव - Urine infection during pregnancy effects baby in Hindi
  4. प्रेग्नेंसी में मूत्र पथ संक्रमण का निदान और उपचार - Uti in pregnancy diagnosis and treatment in Hindi
  5. प्रेग्नेंसी में मूत्र पथ संक्रमण से बचाव - Preventing uti during pregnancy in Hindi

यदि आपको प्रेग्नेंसी में मूत्र पथ संक्रमण हो जाता है, तो आप निम्न में से किसी एक या एक से अधिक लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं:

  1. पेशाब करते समय दर्द या जलन (असुविधा)।
  2. सामान्य से अधिक बार पेशाब आना।
  3. पेशाब करते समय और मूत्र त्यागने की ज़रूरत महसूस करना।
  4. मूत्र में रक्त या म्यूकस आना।
  5. निचले पेट में ऐंठन या दर्द का अनुभव। (और पढ़ें - पेट में दर्द का इलाज)
  6. संभोग के दौरान दर्द का अनुभव।
  7. ठंड लगना, बुखार, पसीना, मूत्र असंयमितता।  (और पढ़ें - गर्भावस्था में बुखार)
  8. नींद से मूत्र त्यागने के लिए उठना।
  9. मूत्र की मात्रा में परिवर्तन, अधिक या कम मूत्र होना।
  10. झागदार और तेज़ गंध वाला मूत्र।
  11. मूत्राशय में दर्द, दबाव या असहजता होना।
  12. जब बैक्टीरिया किडनी में फैल जाता है, तो आपको पीठ दर्द, ठंड लगना, बुखार, मतली और उल्टी जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में दर्द)

गर्भावस्था के दौरान यूटीआई कई कारणों से हो सकता है, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  1. आपके शरीर में होने वाले परिवर्तन: सभी महिलाओं को यूटीआई होने की सम्भावना होती है (बल्कि पुरुषों की तुलना में अधिक होने का जोखिम होता है क्योंकि उनका मूत्रमार्ग छोटा होता है, जिससे बैक्टीरिया को मूत्राशय में प्रवेश करने में आसानी होती है)। लेकिन गर्भवती महिलाएं अधिक जोखिम में होती हैं क्योंकि हार्मोन परिवर्तन, बैक्टीरिया को संक्रमण का कारण बनने का आसान मौका देते हैं। इसके अलावा आपका बढ़ता गर्भाशय, आपके मूत्राशय पर अतिरिक्त दबाव डालता है, जिससे पूरी तरह से मूत्राशय को खाली करना मुश्किल हो जाता है या जो महिलाएं एक से अधिक बच्चों को जन्म देने वाली होती हैं उनमे भी इससे संक्रमित होने का खतरा अधिक होता है।
  2. आंत में मौजूद बैक्टीरिया: यूटीआई जिन बैक्टीरिया के कारण होता है वो कई जगहों से आ सकते हैं। एक आम जीवाणु ई कोलाई (E.coli) आंत में पाया जाता है। चूंकि मूत्रमार्ग (Urethra), मलाशय (Rectum) के करीब स्थित है, इसलिए ये बैक्टीरिया मूत्रमार्ग में आसानी से जा सकते हैं। बाथरूम करने के बाद इस क्षेत्र को सामने से पीछे की ओर की ओर पोछने से बैक्टीरिया को दूर रखने में मदद मिलती है।
  3. संभोग: गर्भावस्था के दौरान सेक्स करना अच्छा होता है। लेकिन इसका एक नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है और वो है, यूटीआई से पीड़ित होने की संभावना। क्योंकि योनि के पास मौजूद बैक्टीरिया, संभोग के दौरान मूत्रमार्ग में धकेले जा सकते हैं। इसीलिए सेक्स के पहले और बाद में मूत्र त्याग करना महत्वपूर्ण होता है। (और पढ़ें - गर्भवती होने के तरीके और sex karne ke tarike)
  4. ग्रुप बी स्ट्रेप्टोकोकस: इस प्रकार के बैक्टीरिया आमतौर पर आंत में पाए जाते हैं, जो गर्भावस्था के दौरान यूटीआई का कारण बन सकते हैं। गर्भावस्था के अंत में, डॉक्टर इस संक्रमण के लिए आपकी जांच करेंगे और अगर आपको संक्रमण होगा तो एंटीबायोटिक दवाओं से आपका इलाज करेंगे। (और पढ़ें - गर्भावस्था में डॉक्टर से चेकउप

अगर यूटीआई का उपचार नहीं होता है, तो यह किडनी संक्रमण का कारण बन सकता है। गर्भावस्था में किडनी इन्फेक्शन से समय से पहले प्रसव और जन्म के समय बच्चे का वजन कम होने की सम्भावना होती है। यदि डॉक्टर मूत्र पथ के संक्रमण का जल्दी और ठीक से इलाज करते हैं, तो यूटीआई से आपके बच्चे को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं और प्रेगनेंसी टेस्ट)

यूरीनालिसिस (Urinalysis; मूत्र का रासायनिक परीक्षण) और यूरिन कल्चर (Urine culture- जीवाणुओं की पहचान करने के लिए किया जाने वाला टेस्ट) द्वारा गर्भावस्था के दौरान यूटीआई का पता लगाया जा सकता है।

गर्भावस्था के दौरान यूटीआई का एंटीबायोटिक दवाओं द्वारा सुरक्षित रूप से इलाज किया जाता है। डॉक्टर आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं का 3-7 दिनों का कोर्स लिखते हैं जो आपके और बच्चे के लिए सुरक्षित होता है। यदि आपको तीन दिनों तक दवा लेने के बाद भी बुखार, ठंड, हल्का पेट दर्द, मतली, उल्टी, संकुचन या पेशाब करते समय जलन महसूस होती है तो डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़ें - एंटीबायोटिक दवा लेने से पहले ज़रूर रखें इन बातों का ध्यान)

कभी कभी सब कुछ ठीक से करने के बाद भी मूत्र पथ संक्रमण हो जाता है, लेकिन फिर भी आप निम्न तरीके अपनाकर संक्रमण की संभावना कम कर सकती हैं:

  1. रोज़ाना 6-8 ग्लास पानी पीयें और बिना चीनी वाला क्रेनबेरी का रस नियमित रूप से पिएं।
  2. शुद्ध किये गए खाद्य पदार्थ (Refined foods) जैसे फलों के रस, कैफीन, शराब और चीनी का सेवन न करें।
  3. संक्रमण से लड़ने के लिए विटामिन सी (250 से 500 मिलीग्राम), बीटा कैरोटीन (25,000 से 50,000 अंतर्राष्ट्रीय इकाई प्रति दिन) और जिंक (30-50 मिलीग्राम प्रति दिन) लें।
  4. जैसे ही जरूरत महसूस हो तुरंत पेशाब करने की आदत डालें और जब आप पेशाब करते समय मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करें।
  5. संभोग से पहले और बाद में पेशाब ज़रूर करें।
  6. जब आप यूटीआई का उपचार करा रही हों तो सेक्स न करें।
  7. पेशाब करने के बाद अपने जननांग क्षेत्र को आगे से पीछे की ओर अच्छे से साफ़ करें।
  8. कठोर साबुन, डूश, एंटीसेप्टिक क्रीम, स्वच्छता वाले स्प्रे और पाउडर का उपयोग न करें।
  9. अंडरवियर और पेंटीहोज (Pantyhose ) को रोज़ बदलें।
  10. टाइट फिटिंग की पैंट न पहनें।
  11. कॉटन के अंडरवियर और पेंटीहोज पहनें।
  12. बाथटब में दिन में दो बार और 30 मिनट या उससे अधिक समय तक न रहें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में क्या करना चाहिए)

और पढ़ें ...