myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

चेहरे और शरीर के कई हिस्‍सों पर दाग-धब्‍बे पड़ जाते हैं जिन्‍हें देखकर सुंदर और बेदाग त्‍वचा पाना एक सपने जैसा लगता है। शरीर के किसी एक या कई हिस्‍सों पर पड़े गहरे दाग-धब्‍बों को पिगमेंटेशन या हाइपरपिगमेंटेशन कहा जाता है। त्‍वचा से संबंधित ये समस्‍या किसी भी उम्र में किसी भी लिंग के व्‍यक्‍ति को हो सकती है।

(और पढ़ें - खूबसूरत त्वचा के लिए आहार)

अधिक समय तक धूप में रहना पिगमेंटेशन का सबसे सामान्‍य कारण है। हालांकि, अन्‍य विभिन्‍न कारणों की वजह से भी शरीर पर पिगमेंटेशन हो सकती है जैसे कि हार्मोंस में बदलाव, प्रेगनेंसी, एंटीबायोटिक्‍स, हेयर रिमूवल, एलर्जी, गर्भनिरोधक गोलियों, आनुवंशिक दोष, विटामिन की कमी (विटामिन बी12 और फोलिक एसिड), त्‍वचा पर जलन और चोट आदि।

आप घर पर ही विभिन्‍न घरेलू नुस्‍खों की मदद से पिगमेंटेंशन से छुटकारा पा सकते हैं। हालांकि, अगर आपको पिगमेंटेशन की समस्‍या बहुत ज्‍यादा है तो त्‍वचा पर कुछ भी इस्‍तेमाल करने से पहले एक बार त्‍वचा विशेषज्ञ से सलाह जरूर लें।

किसी भी रोग या स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या के गंभीर रूप लेने पर चिकित्‍सक की सलाह लेना जरूरी होता है। आज हम आपको कुछ ऐसे आसान घरेलू नुस्‍खों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से आप घर पर ही पिगमेंटेशन से छुटकारा पा सकते हैं।

हालांकि, नीचे बताई गई सभी सामग्रियां प्राकृतिक हैं और इन्‍हें आप अपने रोज़ाना स्किन केयर रूटीन में शामिल कर सकते हैं। बेहतर होगा कि आप किसी भी नुस्‍खे का इस्‍तेमाल करने से पहले एक पैच टेस्‍ट कर लें। पैच टेस्‍ट कलाई पर किया जाता है जिससे ये पता चल जाता है कि आपकी त्‍वचा के लिए वो चीज़ सुरक्षित है या नहीं। अगर पैच टेस्‍ट के दौरान लालपन, खुजली या जलन महसूस होती है तो उसका इस्‍तेमाल न करें। 

  1. बाबा से जानिए चेहरे की झाइयों को हटाने का उपाय
  2. झाइयों को दूर करने के उपाय करें हल्दी पाउडर और नींबू से - Turmeric powder and lemon juice for pigmentation in Hindi
  3. झाइयों का घरेलू उपाय है कच्चे आलू - Raw potato for pigmentation in Hindi
  4. झाइयों का घरेलू नुस्खा है नींबू - Lemon for skin pigmentation in Hindi
  5. झाइयों के लिए घरेलू इलाज है सेब का सिरका - Apple cider vinegar good for pigmentation in Hindi
  6. झाइयों से छुटकारा पाने के लिए करें लाल प्याज का उपयोग - Red onion for pigmentation in Hindi
  7. झाइयों का आयुर्वेदिक इलाज है एलो वेरा - Aloe vera benefits for pigmentation in Hindi
  8. चेहरे की झाइयों का उपचार करें खीरा से - Cucumber for pigmentation in Hindi
  9. चेहरे की झाइयों का घरेलू इलाज है संतरे का छिलका - Orange peel for pigmentation in Hindi
  10. झाइयां हटाने के उपाय है बादाम - Almonds for pigmentation in Hindi
  11. झाइयों का ट्रीटमेंट करता है टमाटर - Tomato good for pigmentation in Hindi
  12. झाइयों से छुटकारा दिलाए चंदन की लकड़ी - Sandalwood for pigmentation in Hindi
  13. झाइयों का रामबाण इलाज है एवोकाडो - Avocado for pigmentation in Hindi
  14. चेहरे की झाइयों को दूर करने के उपाय है पपीता - Papaya benefits for pigmentation in Hindi
  15. झाइयों को दूर करने के उपाय में उपयोग करें केला - Banana for skin pigmentation in Hindi
  16. झाइयां हटाने के नुस्खे में उपयोग करें आवश्यक तेलों का - Essential oils for pigmentation in Hindi
  17. चेहरे की झाइयों के लिए करें मसूर दाल के फेस पैक का प्रयोग - Masoor dal face pack for pigmentation in Hindi
  18. झाइयों से बचने के आसान उपाय है दही - Yogurt for skin pigmentation in Hindi
  19. झाइयों को कम करने के लिए रखें अपनी त्वचा को सूरज से दूर - Protect your skin from the sun for pigmentation in Hindi
  20. झाइयों का इलाज करने के लिए खाएं स्वस्थ आहार - Foods to eat for pigmentation in Hindi
  21. झाइयों के लिए टिप्स में अपनाएं स्वच्छ आदतें - Hygiene habits help to reduce your skin pigmentation problems in Hindi
  22. Main image

चेहरे की झाइयां, झुर्रियां, चेहरे पर दाग धब्बे कई लोगों की परेशानी की वजह से होते हैं। पर आयुर्वेद में ऐसे कई तरीके हैं जिनसे इन परेशानियों से मुक्ति पायी जा सकती है। एलोवेरा के जेल को चेहरे पर लगा लें, झुर्रियां और पिगमेंटेशन नहीं होगा। आप एलोवेरा के पत्तों से जेल निकाल सकते हैं या बाजार से ताज़ा एलोवेरा जेल खरीद लें।

चेहरे पर झाइयां के लिए भी एलोवेरा बहुत कारगर है। पर ऐसा भी कई बार होता है कि एलोवेरा भी काम नहीं करता। ऐसे में एलोवेरा के पत्ते और नीम के ताज़ा पत्ते लें। इन पत्तों को मिक्सी में मिलाकर फ्रिज में रख लें, शाम को लगाकर सो जाएँ। आपकी झाइयां कुछ ही दिन में सौ प्रतिशत दूर हो जाएंगी। इसके बारे में स्वयं बाबा बता रहे हैं नीचे दी वीडियो में

सामग्री -

  1. एक चम्मच नींबू का जूस।
  2. एक चम्मच हल्दी पाउडर।

तैयारी का समय -

2 मिनट।
मिश्रण को लगाकर रखने का समय -
15 मिनट।

विधि -

  1. एक कटोरे में दोनों सामग्री को मिला लें और एक मुलायम पेस्ट तैयार कर लें।
  2. अब अपनी त्वचा को सबसे पहले साफ़ कर लें और फिर इस मिश्रण को अपनी त्वचा पर लगाएं।
  3. 15 मिनट तक इस मिश्रण को लगे रहने दें।
  4. फिर अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।

झाइयों पर हल्दी पाउडर और नींबू के जूस का इस्तेमाल कब तक करें  - 

इस मिश्रण को रात को सोने से पहले पूरे दिन में एक बार ज़रूर लगाएं।

हल्दी पाउडर और नींबू के जूस के फायदे -

हल्दी को आमतौर पर सभी के घरों में इस्तेमाल किया जाता है। ये धब्बों को साफ़ कर त्वचा पर एक चमक लाने में मदद करता है। ये त्वचा के PH स्तर को भी नियंत्रित रखता है।

(और पढ़ें - हल्दी के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. एक कच्चा आलू।
  2. कुछ मात्रा में पानी।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

10 मिनट।

विधि -

  1. सबसे पहले आलू को धो लें और उसे फिर आधे आधे हिस्से में काट लें।
  2. अब कटे हिस्से के ऊपर पानी की कुछ मात्रा डालें।
  3. फिर आधे आलू को प्रभावित क्षेत्रों पर सब तरफ से लगाएं।
  4. अब दस मिनट तक इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें और फिर प्रभावित क्षेत्र को गुनगुने पानी से साफ़ कर लें।

झाइयों पर कच्चे आलू का इस्तेमाल कब तक करें -

पूरे दिन में तीन से चार बार एक महीने के लिए इस प्रक्रिया को करते रहें।

कच्चे आलू के फायदे -

आलू को चेहरे पर रगड़ने से झाइयां, काले धब्बे जैसे निशान कम होते नज़र आएंगे। ये इसलिए क्योंकि आलू में एन्ज़ाइम होते हैं जिसे कैटेकोलेस (catecholase ) कहा जाता है जो मेलानोसाईट को रोकने में मदद करता है। इससे झाइयां जैसी समस्या दूर होती हैं।

(और पढ़ें - आलू के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. एक नींबू।
  2. दो चम्मच आर्गेनिक शहद

तैयारी का समय -

2 मिनट।
मिश्रण को लगाकर रखने का समय -
15 मिनट
विधि -
  1. नींबू को सबसे पहले कट करें और इसके जूस को एक कटोरे में डाल लें।
  2. नींबू के जूस में अब शहद को मिला लें और इस मिश्रण को अच्छे से चलाएं।
  3. अब इस मिश्रण को अपनी त्वचा के प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  4. 15 मिनट तक इसे लगाकर रखें।
  5. इसके बाद अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धोएं।​

झाइयों पर नींबू का इस्तेमाल कब तक करें -

जब तक आप नतीजा न देख लें तब तक इसे पूरे दिन में दो बार ज़रूर लगाएं।

नींबू के फायदे -

नींबू का जूस एक प्राकृतिक ब्लीचिंग पदार्थ है साथ ही शहद भी त्वचा को नमी देता है। ये गुण झाइयों को कम करने में मदद करते हैं। नींबू विटामिन सी का स्त्रोत होता है और इसमें प्रभावित एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं जो त्वचा को सूरज की किरणों से बचाते हैं।

(और पढ़ें - नींबू के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. एक चम्मच सेब का सिरका।
  2. दो चम्मच पानी।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

5 मिनट।

विधि -

  1. सबसे पहले सेब के सिरके को पानी में मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. इस मिश्रण को पांच मिनट के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. फिर अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।
झाइयों पर सेब का सिरका का इस्तेमाल कब तक करें -

जब तक आपको नतीजा न दिख जाये तब तक इसका इस्तेमाल पूरे दिन में दो बार ज़रूर करें।

सेब का सिरका के फायदे -

सेब के सिरके में मौजूद एस्ट्रिजेंट गुण त्वचा के प्राकृतिक रंग को बनाये रखने में मदद करते हैं। सिरके में बीटा केरोटीन के भी गुण होते हैं जो ख़राब होने वाली त्वचा का इलाज करते हैं। सेब का सिरका प्राकृतिक तरीकों से त्वचा को कोमल और चमकदार बनाता है।

(और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

एक ताज़ी प्याज।

तैयारी का समय -

2 से 5 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

10 मिनट।

विधि -

  1. प्याज के सबसे पहले टुकड़े कर लें।
  2. अब टुकड़ों को हाथों में लें और फिर उसे प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. दस मिनट तक इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें और फिर अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।
  4. इसके आलावा आप प्याज को मिक्स करके निचोड़ लें और जूस को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाए।

झाइयों पर लाल प्याज का इस्तेमाल कब तक करें -

जब तक आपको नतीजा न दिख जाये तब तक पूरे दिन में दो बार इसे ज़रूर लगाएं।

लाल प्याज के फायदे -

प्याज विटामिन सी का सबसे अच्छा स्त्रोत है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट के गुण झाइयों का इलाज करने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - प्याज के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  • दो चम्मच एलो वेरा जेल।
  • आधा चम्मच शहद।

तैयारी का समय -

10 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

20 मिनट।

विधि -

  1. एक कटोरे में शहद और एलो वेरा जेल को मिला लें।
  2. अब दस मिनट के लिए मिश्रण को ऐसे ही छोड़ दें।
  3. दस मिनट के बाद अपनी त्वचा पर मिश्रण को लगाएं।
  4. फिर इसे ऐसे ही 20 मिनट तक लगा हुआ छोड़ दें।
  5. अब अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से साफ़ कर लें।

झाइयों पर एलो वेरा का इस्तेमाल कब तक करें –

दो हफ्ते के लिए इस मिश्रण को पूरे दिन में एक बार ज़रूर लगाएं।

एलो वेरा के फायदे -

त्वचा के प्राकृतिक PH स्तर और तेल के स्तर को छेड़े बिना एलो वेरा को त्वचा को साफ़ करने के लिए जाना जाता है। ये काले धब्बों को दूर करता है साथ ही सूरज की किरणों से भी बचाता है।

(और पढ़ें - एलोवेरा के फायदे और नुकसान)

सामग्री-

  1. एक चम्मच खीरे का जूस।
  2. एक चम्मच शहद।
  3. एक चम्मच नींबू का जूस।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

10 मिनट

विधि-

  1. एक कटोरे में सबसे पहले सारी सामग्री को मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण को अपनी त्वचा पर लगाएं।
  3. अब मिश्रण को दस मिनट के लिए त्वचा पर ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. फिर अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से साफ़ कर लें।​

झाइयों पर खीरा का इस्तेमाल कब तक करें –

रोज़ाना इस मिश्रण को पूरे दिन में दो बार लगाएं।

खीरा के फायदे -

खीरा त्वचा को फिर से निखारने के लिए जाना जाता है। खीरे का इस्तेमाल झाइयों और काले धब्बों के लिए भी किया जाता है।

(और पढ़ें - खीरे के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. एक संतरा छिला हुआ
  2. 1 चम्मच नींबू का जूस।
  3. 1 चम्मच दूध।
  4. 1 चम्मच शहद।

तैयारी का समय -

3 से 4 दिन + 2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

20 मिनट।

विधि -

  1. संतरे के छिलकों को सूरज के सामने सूखने के लिए रख दें। तब तक रखें जब तक ये डिहाइड्रेटेड न हो जाएँ।
  2. जब एक बार सूख जाएँ फिर छिलकों को मिक्सर में डालकर एक पाउडर तैयार कर लें।
  3. पाउडर में अन्य बची सामग्रियों को भी डाल दें।
  4. अब इस मिश्रण को अच्छे से चलाने के बाद प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  5. इस मिश्रण को त्वचा पर 20 मिनट के लिए ऐसे लगा हुआ छोड़ दें।
  6. फिर अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।

एक आसान सलाह - 

तीन चार संतरों के छिलकों को एक साथ सूखाने के लिए रख दें। जिससे आपको ये प्रक्रिया रोज़ रोज़ न दोहरानी पड़े।

झाइयों पर संतरे का छिलका का इस्तेमाल कब तक करें -

हफ्ते में तीन से चार बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

संतरे का छिलका के फायदे -

संतरों के छिलकों में साइट्रिक एसिड होता है जो त्वचा से मेलानिन को दूर करता है और इससे झाइयों का इलाज धीरे धीरे होने लगता है।

(और पढ़ें - संतरे के छिलके के फायदे)

सामग्री -

  1. 5-6 बादाम।
  2. 1 चम्मच शहद।
  3. नींबू के जूस की कुछ बूँदें।
  4. 1/2 चम्मच दूध (वैकल्पिक)।

तैयारी का समय -

रातभर + 5 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

रातभर।

विधि -

  1. रातभर के लिए बादाम को पानी में डालकर सोखने के लिए रख दें।
  2. फिर सुबह को बादाम को मिक्सर में मिक्स कर लें और एक मुलायम पेस्ट तैयार कर लें।
  3. आप थोड़ा दूध भी मिला सकते हैं अगर पेस्ट मुलायम नहीं हो रहा है तो।
  4. अब अन्य बची सामग्रीयों को बादाम के पेस्ट में मिला दें।
  5. पेस्ट को अच्छे से मिलाने के बाद इसे अपनी त्वचा के प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  6. फिर इसे रातभर के लिए त्वचा पर ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  7. सुबह में त्वचा को ठंडे पानी से धो लें।

झाइयों पर बादाम का इस्तेमाल कब तक करें -

हर रात, सोने से पहले इसे दो हफ्ते तक अपनी त्वचा पर लगाएं। दो हफ्ते के बाद इलाज को थोड़ा कम कर दें। फिर इसे आप हफ्ते में दो बार लगा सकते हैं।

बादाम के फायदे -

बादाम विटामिन ई का एक अच्छा स्त्रोत होते हैं जिसे स्किन विटामिन भी कहा जाता है। इसमें प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट के गुण मौजूद हैं जो त्वचा की झाइयों का इलाज करने में मदद करते है और त्वचा को स्वस्थ भी रखते हैं।

(और पढ़ें - बादाम के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. 1 टमाटर का जूस।
  2. 2 चम्मच दलिया
  3. 1/2 चम्मच दही।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

30 मिनट।

विधि -

  1. एक कटोरे में ये सभी सामग्रियों को एक साथ मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. जब तक ये मिश्रण सूख न जाये तब तक इसे बीस मिनट तक लगाकर रखें।
  4. फिर अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।

झाइयों पर टमाटर का इस्तेमाल कब तक करें -

इस पेस्ट को पूरे दिन में एक बार ज़रूर लगाएं।

टमाटर के फायदे -

टमाटर में प्राकृतिक ब्लीचिंग उत्पाद होता है और टमाटर से बना फेस मास्क त्वचा को फिरसे निखारने में मदद करता है। दही में लैक्टिक एसिड होता है जो त्वचा में कसाव लाता है और धब्बों को दूर करता है। जई मृत त्वच को एक्सफोलिएट करता है, जवान दिखाता है साथ ही स्वस्थ परत भी बनाता है। ये सभी सामग्रियां आपकी झाइयों के लिए बेहद फायदेमंद हैं।

(और पढ़ें - टमाटर के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. दो चम्मच चंदन की लकड़ियों का पाउडर।
  2. दो चम्मच गुलाब जल।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय –

30 मिनट।

विधि -

  1. सभी सामग्रियों को एक साथ मिला लें और एक मुलायम पेस्ट तैयार कर लें।
  2. अब इस पेस्ट को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. पेस्ट को लगाने के बाद इसे आधे घंटे के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. अब इस पेस्ट को गुनगुने पानी से धो लें।

झाइयों पर चंदन की लकड़ी का इस्तेमाल कब तक करें –

इस पेस्ट को पूरे दिन में दो बार ज़रूर लगाएं।

चंदन की लकड़ी के फायदे -

चंदन एक बेहद प्रभावी ब्लड प्यूरीफायर है जो झाइयों का इलाज करने में मदद करता है। ये सामग्री आमतौर पर सनस्क्रीन में इस्तेमाल की जाती है। चंदन सूरज की किरणों से बचाने में बेहद लाभदायक सामग्री है।

(और पढ़ें - चंदन के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. एक पका हुआ एवोकाडो।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

30 मिनट।

विधि -

  1. एवोकाडो को तब तक मैश करें जब तक इसकी गुठली बनना कम न हो जाये।
  2. अब मैश एवोकाडो को त्वचा पर लगाएं और इसे फिर आधे घंटे के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  3. फिर अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।

झाइयों पर एवोकाडो का इस्तेमाल कब तक करें 

एक महीने के लिए इस पेस्ट को पूरे दिन में दो बार ज़रूर लगाएं।

एवोकाडो के फायदे -

एवोकाडो में विटामिन सी और ओलिक एसिड होता है जो झाइयों के लिए एक बेहतरीन उपाय है। ये त्वचा की स्थिरता को बनाये रखता है और त्वचा को नमी देने में मदद करता है।

(और पढ़ें - एवोकाडो के फायदे और नुकसान)

चेतावनी -

एवोकाडो में लेटेक्स एन्ज़ाइम होता है जो कुछ लोगो के लिए एलर्जी का कारण बन जाता है। तो इसका इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले पैच टेस्ट (patch test) कर लें।

सामग्री -

  1. 2 चम्मच पपीता का गूदा।
  2. 1 चम्मच शहद।
  3. 1 बड़ा चम्मच दूध।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

30 मिनट।

विधि -

  1. एक कटोरे में सारी सामग्रियां मिला लें और एक मुलायम पेस्ट तैयार कर लें।
  2. अब इस मिश्रण को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. अब अपनी त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।

झाइयों पर पपीता का इस्तेमाल कब तक करें -

इस पेस्ट को पूरे दिन में दो बार ज़रूर लगाएं।

पपीता के फायदे -

पपीते में पपाइन नामक एन्ज़ाइम होता है जिसमे बेहद प्रभावी एक्सफ़ोलीटिंग गुण होते हैं। ये मृत त्वचा को खत्म करता है और नयी कोशिकाओं को बढ़ावा देता है। इसकी मदद से झाइयों का इलाज होता है।

(और पढ़ें - पपीते के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. आधा केला।
  2. ¼ चम्मच शहद।
  3. 1 चम्मच दूध।

तैयारी का समय -

5 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

30 मिनट।

विधि -

  1. सबसे पहले केले को मैश कर लें और तब तक करें जब तक इसकी गुठली बनना कम न हो जाएँ।
  2. फिर इसमें शहद और दूध मिलाएं।
  3. फिर सारी सामग्रियां मिलाने के बाद एक मुलायम पेस्ट तैयार कर लें।
  4. इस मिश्रण को प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  5. अब इसे त्वचा पर आधे घंटे के लिए लगा हुआ छोड़ दें और फॉर अपनी त्वचा को गर्म पानी से साफ़ कर लें।

झाइयों पर केला का इस्तेमाल कब तक करें -

हफ्ते में दो बार करें। आपको परिणाम तीन हफ़्तों में ही नज़र आने लगेगा।

केला के फायदे -

केला एक प्राकृतिक एक्सफोलिएटर की तरह काम करता है जो त्वचा को साफ करता है, जिसकी मदद से झाइयों का इलाज होता है। इसमें विटामिन k और पोटैशियम भी होता है जो त्वचा को नमी देता है साथ ही स्वस्थ भी रखता है।

(और पढ़ें - केले के फायदे और नुकसान)

सामग्री -

  1. एक चम्मच तेल। (अपनी त्वचा के अनुसार आप तेल का चयन कर सकते हैं जैसे - जैतून का तेलनारियल का तेलअरंडी का तेलनीम का तेल या जोजोबा तेल। इसके अलावा आप इन तेलों को एक साथ भी मिलाकर इस्तेमाल कर सकते हैं।)

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय –

30 मिनट।

विधि -

  1. सबसे पहले अपनी त्वचा को साफ़ कर लें और तौलिये से अच्छे से सूखा लें।
  2. अपनी पसंद के तेल से आप अपनी त्वचा पर मसाज करें।
  3. कुछ मिनट मसाज करने के बाद आधे घंटे तक इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. अब अपनी त्वचा को क्लीन्ज़र से धो लें।

झाइयों पर आवश्यक तेलों का इस्तेमाल कब तक करें -

इन तेल का इस्तेमाल पूरे दिन में एक बार ज़रूर करें।

आवश्यक तेलों के फायदे -

जैतून का तेल - जैतून का तेल एक प्रभावी कंडीशनर है और ये आपकी त्वचा को नमी और स्वस्थ बनाने में मदद करता है। ये तेल एंटीऑक्सीडेंट से समृद्ध होता है जिसकी मदद से ख़राब त्वचा को ठीक करने में मदद करता है।

नारियल का तेल - नारियल तेल में त्वचा को नमी देने के गुण मौजूद होते हैं। इससे त्वचा सुधरती है। ये तेल आपकी त्वचा को सूरज की किरणों से बचाता है।

अरंडी का तेल - अरंडी के तेल को आमतौर पर निशान, काले धब्बों और झाइयों के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। यह इसलिए क्योंकि ये तेल फैटी एसिड और प्रोटीन से भरपूर होता है जिससे आपकी त्वचा ठीक होती है साथ ही पोषण भी देने में मदद करता है।

नीम तेल - नीम का तेल मेलानिन का उत्पादन कम कर देता है साथ ही दुबारा प्राकृतिक स्किन टोन दिलाने में भी मदद करता है।

जोजोबा तेल - अगर आपकी झाइयां तेलिये त्वचा की वजह से बढ़ रही हैं तो जोजोबा का तेल फिर आपके लिए ही बना है। जोजोबा तेल आपकी त्वचा के प्राकृतिक तेल को नियंत्रित करता है साथ ही सिबाशियस ग्लैंड्स (sebaceous glands) को कम करता है और आपकी त्वचा के प्राकृतिक तेल को संतुलित रखता है।

सामग्री -

  1. 1 बड़ा चम्मच मसूर दाल (लाल मसूर)।
  2. 3 चम्मच दूध।
  3. 1 चम्मच शहद।
  4. 1 चम्मच दही।
  5. 1 चम्मच नीबू का जूस।

तैयारी का समय -

रातभर + 5 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

15 मिनट।

विधि -

  1. दाल को दूध में डालकर रातभर के लिए सोखने के लिए रख दें।
  2. सुबह में, दाल को मिक्स कर लें और फिर मिक्स करने के बाद अन्य बची सामग्रियों को मिला लें।
  3. पूरे मिश्रण को अच्छे से मिक्सर में मिक्स कर लें।
  4. अब इस पेस्ट को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  5. 15 मिनट के लिए इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  6. फिर त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।

झाइयों पर मसूर दाल के फेस पैक का इस्तेमाल कब तक करें -

इस पेस्ट को हफ्ते में दो बार ज़रूर लगाएं।

मसूर दाल के फेस पैक के फायदे -

मसूर दाल प्रोटीन से भरपूर होती हैं और मृत त्वचा का इलाज करने में ये बेहद फायदेमंद होती है। ये आपकी त्वचा को नमी के साथ साथ स्वस्थ भी रखती है और झाइयों को भी दूर करती है।

(और पढ़ें - मसूर दाल के फायदे)

सामग्री -

एक चम्मच दही।

तैयारी का समय -

2 मिनट।

मिश्रण को लगाकर रखने का समय -

20 मिनट।

विधि -

  1. एक चम्मच फूल फैट दही लें।
  2. अब दही को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. फिर 20 मिनट के लिए इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  4. अब त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।

झाइयों पर दही का इस्तेमाल कब तक करें -

दही को हफ्ते में दो बार ज़रूर लगाएं।

दही के फायदे -

दही में लैक्टिक एसिड होता है जो त्वचा को एक्सफोलिएट करने में मदद करता है और मेलानोसाईट को धीरे धीरे कम करता है। ये झाइयों के दौरान खराब होने वाली त्वचा को भी ठीक करता हैं।

(और पढ़ें - स्वास्थ्य के लिए दही के फायदे)

सूरज आपकी झाइयों की समस्या को और भी खराब कर देता है और आपके मेलानोसाईट को और भी ज़्यादा बढ़ा देता है। झाइयां बहुत ही आम समस्या है और इसे ठीक होने में थोड़ा समय लगता है। सनस्क्रीन मिनिमम SPF 30 झाइयों को हटाने के लिए खासतौर पर बताई जाती है। इसके अलावा त्वचा को सीधे तौर पर सूरज के सामने न आने दें और अपनी त्वचा को समय समय पर साफ़ करते रहें।

आपका आहार त्वचा के स्वास्थ्य को बनाये रखने के लिए अहम भूमिका निभाता है। अपने आहार में हरी सब्ज़ियों को ज़रूर शामिल करें। सब्ज़ियां जैसे साग, धनियाकरी पत्ता और अन्य खाद्य पदार्थ जो विटामिन ए से समृद्ध होते हैं। इनसे आपकी त्वचा को बेहद लाभ पहुंचेगा। इसके अलावा खूब सारा पानी पियें और ज़्यादा से ज़्यादा फल खाने की कोशिश करें। इससे आपकी त्वचा हाइड्रेटेड रहेगी। ये आपके सिस्टम से विषाक्त पदार्थों को निकालने में भी मदद करेगा।

ये सारे घरेलू उपायों का पालन करने के साथ साथ ज़रूरी है स्वच्छ रहना। जब तक आप स्वच्छ नहीं है आपकी त्वचा कभी साफ़ नहीं रह सकती। अपनी त्वचा को तब तक न छुएं जब तक आप अपने हाथों को धो न लें। कभी भी एकदम गर्म पानी से न नहाएं। हमेशा गुनगुने पानी का ही इस्तेमाल करें। हमेशा एक स्किन केयर रूटीन बनाकर चलें। CTM (क्लींजिंग, टोनिंग, मॉइस्चरिंग) रूटीन को फोलो करें। हफ्ते में दो बार अपनी त्वचा को एक्सफोलिएट ज़रूर करें।

और पढ़ें ...

References

  1. Rashmi Sarkar, Pooja Arora, K Vijay Garg. Cosmeceuticals for Hyperpigmentation: What is Available?. J Cutan Aesthet Surg. 2013 Jan-Mar; 6(1): 4–11. PMID: 23723597
  2. Misra BB, Dey S. TLC-bioautographic evaluation of in vitro anti-tyrosinase and anti-cholinesterase potentials of sandalwood oil. Nat Prod Commun. 2013 Feb;8(2):253-6. PMID: 23513742
  3. Vaughn AR, Sivamani RK. Effects of Fermented Dairy Products on Skin: A Systematic Review. J Altern Complement Med. 2015 Jul;21(7):380-5. PMID: 26061422
  4. Mukherjee PK, Nema NK, Maity N, Sarkar BK. Phytochemical and therapeutic potential of cucumber. Fitoterapia. 2013 Jan;84:227-36. PMID: 23098877
  5. Pumori Saokar Telang. Vitamin C in dermatology. Indian Dermatol Online J. 2013 Apr-Jun; 4(2): 143–146. PMID: 23741676
  6. Tzu-Kai Lin, Lily Zhong,2, Juan Luis Santiago. Anti-Inflammatory and Skin Barrier Repair Effects of Topical Application of Some Plant Oils. Int J Mol Sci. 2018 Jan; 19(1): 70. PMID: 29280987
  7. Tahereh Eteraf-Oskouei, Moslem Najafi. Traditional and Modern Uses of Natural Honey in Human Diseases: A Review Iran J Basic Med Sci. 2013 Jun; 16(6): 731–742. PMID: 23997898
  8. Burlando B, Cornara L. Honey in dermatology and skin care: a review. J Cosmet Dermatol. 2013 Dec;12(4):306-13. PMID: 24305429
  9. Ahmad Z. The uses and properties of almond oil. Complement Ther Clin Pract. 2010 Feb;16(1):10-2. PMID: 20129403
  10. Kapuścińska A, Nowak I. [Use of organic acids in acne and skin discolorations therapy]. Postepy Hig Med Dosw (Online). 2015 Mar 22;69:374-83. PMID: 25811473
  11. Vaughn AR, Branum A, Sivamani RK. Effects of Turmeric (Curcuma longa) on Skin Health: A Systematic Review of the Clinical Evidence.. Phytother Res. 2016 Aug;30(8):1243-64. PMID: 27213821
  12. Rashmi Sarkar, Pooja Arora, K Vijay Garg. Cosmeceuticals for Hyperpigmentation: What is Available?. J Cutan Aesthet Surg. 2013 Jan-Mar; 6(1): 4–11. PMID: 23723597
  13. Elisa Panzarini, Majdi Dwikat, Stefania Mariano, Cristian Vergallo, Luciana Dini. Administration Dependent Antioxidant Effect of Carica papaya Seeds Water Extract. Evid Based Complement Alternat Med. 2014; 2014: 281508. PMID: 24795765
  14. Patricia OyetakinWhite, Heather Tribout, Elma Baron. Protective Mechanisms of Green Tea Polyphenols in Skin. Oxid Med Cell Longev. 2012; 2012: 560682. Oxid Med Cell Longev. 2012; 2012: 560682.
  15. Radava R. Korać, Kapil M. Khambholja. Potential of herbs in skin protection from ultraviolet radiation. Pharmacogn Rev. 2011 Jul-Dec; 5(10): 164–173. PMID: 22279374
  16. Paine C, Sharlow E, Liebel F, Eisinger M, Shapiro S, Seiberg M. An alternative approach to depigmentation by soybean extracts via inhibition of the PAR-2 pathway. J Invest Dermatol. 2001 Apr;116(4):587-95. PMID: 11286627
  17. Jasmine C. Hollinger, MD, Kunal Angra, MD, and Rebat M. Halder. Are Natural Ingredients Effective in the Management of Hyperpigmentation? A Systematic Review. J Clin Aesthet Dermatol. 2018 Feb; 11(2): 28–37. PMID: 29552273
  18. Yokota T, Nishio H, Kubota Y, Mizoguchi M. The inhibitory effect of glabridin from licorice extracts on melanogenesis and inflammation. Pigment Cell Res. 1998 Dec;11(6):355-61. PMID: 9870547
  19. Debabrata Bandyopadhyay. TOPICAL TREATMENT OF MELASMA. Indian J Dermatol. 2009 Oct-Dec; 54(4): 303–309. PMID: 20101327
  20. Khemchand Sharma, Namrata Joshi, Chinky Goyal. Critical review of Ayurvedic Varṇya herbs and their tyrosinase inhibition effect. Anc Sci Life. 2015 Jul-Sep; 35(1): 18–25. PMID: 26600663
  21. Ross D. Whitehead, Daniel Re, Dengke Xiao, Gozde Ozakinci, David I. Perrett. You Are What You Eat: Within-Subject Increases in Fruit and Vegetable Consumption Confer Beneficial Skin-Color Changes. PLoS One. 2012; 7(3): e32988. PMID: 22412966