myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

यदि आप गर्भ निरोधक के लिए विकल्पों की तलाश कर रही हैं, तो एक विधि जिसके बारे में आप विचार कर सकती हैं वह है आईयूडी। यह विकल्प सभी महिलाओं के लिए सही नहीं हैं, लेकिन वर्तमान में आईयूडी को अधिकांश महिलाओं के लिए प्रभावी और सुरक्षित माना जाता है।

(और पढ़े - गर्भनिरोधक इंजेक्शन क्या होता है)

आईयूडी एक छोटा, टी के आकार का प्लास्टिक डिवाइस होता है जो आपके गर्भाशय (गर्भ) में डाला जाता है और इसमें एक छोर पर प्लास्टिक की स्ट्रिंग (तार) होती है जो गर्भ द्वार से योनि की तरफ रहती है।

इसे लंबे समय तक रहने वाले गर्भ निरोधक के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ यह है कि एक बार इसे डालने के बाद आपको हर बार यौन संबंध बनाते वक्त याद रखने की आवश्यकता नहीं होती है।

(और पढ़े - सुरक्षित सेक्स कैसे करें)

इसके प्रभाव को पलटा भी जा सकता है इसका मतलब है कि आईयूडी हटा दिए जाने के बाद आपकी प्राकृतिक प्रजनन क्षमता वापस आ जाती है।

(और पढ़े - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय)

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि आईयूडी क्या है, प्रकार, कैसे काम करता है, क्या आईयूडी लगाना सुरक्षित है, लगाने और निकालने की विधि और आईयूडी की कीमत क्या है। इसके साथ ही आईयूडी के फायदे और नुकसान के बारे में भी बताया गया है।

  1. आईयूडी क्या है - IUD kya hai in hindi
  2. आईयूडी प्रकार - IUD types in india in hindi
  3. आईयूडी कैसे काम करता है - IUD how it works in hindi
  4. क्या आईयूडी लगाना सुरक्षित है - IUD is safe or not in hindi
  5. आईयूडी लगाने की विधि - IUD insertion in hindi
  6. आईयूडी निकालने की विधि - IUD removal in hindi
  7. आईयूडी के फायदे - IUD insertion benefits in hindi
  8. आईयूडी के साइड इफेक्ट - IUD ke nuksan in hindi
  9. आईयूडी कीमत - IUD insertion cost in india in hindi

"आईयूडी" का पूरा नाम है "इंट्रायूटरिन डिवाइस" है। यह महिलाओं के लिए उपलब्ध एक प्रकार का गर्भ निरोधक उपकरण है जो "टी" के आकार में होता है। यह प्लास्टिक से निर्मित होता है और इसको एक महिला के गर्भाशय के अंदर फिट किया जाता है। आईयूडी पुरुष साथी के शुक्राणु को अंडे तक पहुंचने और उर्वरक होने से रोक कर महिला की गर्भावस्था को बचाता है।

यदि आप सही ढंग से आईयूडी का उपयोग करते हैं, तो गर्भधारण होने की आशंका 1% से भी कम रह जाती है। यह एक प्रभावी और लंबे समय तक चलने वाली जन्म नियंत्रण विधि है। हालांकि, अगर आप कभी गर्भवती बनना चाहती हैं, तो आईयूडी को आसानी से हटाया जा सकता है क्योंकि वे नसबंदी की तरह स्थायी गर्भ निरोधक नहीं हैं।

(और पढ़े - गर्भवती होने से पहले महत्वपूर्ण जानकारी)

आईयूडी आपके द्वारा उपयोग किये जाने वाले प्रकार के आधार पर 3 वर्ष से लेकर 12 वर्षों तक गर्भ धारण से सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। आईयूडी, कॉपर और हार्मोनल दोनों प्रकार के होते हैं जिनका वर्णन आगे विस्तार से किया गया है।

आईयूडी यौन संपर्क से होने वाले संक्रमण (एसटीआई) से सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। अगर आपको एसटीआई के जोखिम की आशंका है तो आपके लिए इस जोखिम को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है कि अपने यौन साथी के साथ सेक्स करते समय कंडोम का उपयोग करें, यदि आपका साथी कंडोम उपयोग नहीं करना चाहता है तो आप महिला कंडोम का उपयोग कर सकती है।

महिलाओं के गर्भ निरोधक उपाय के रूप में आईयूडी के वर्तमान में निम्नलिखित दो प्रकार उपलब्ध हैं - 

1. हार्मोनल आईयूडी
हार्मोनल आईयूडी एक छोटे टी-आकार का उपकरण है इसमें एक सिलेंडर होता है जिसमें प्रोजेस्टोजेन नामक हार्मोन होता है। भारत में तीन हार्मोनल आईयूडी उपलब्ध हैं - स्काईला (Skyla), मिरेना (Mirena) और लिलेट्टा (Liletta) ये आपके शरीर में कृत्रिम हार्मोन प्रोजेस्टिन की एक छोटी मात्रा का स्राव करते हैं।

आप किस प्रकार के आईयूडी का उपयोग करते हैं इस आधार पर, हार्मोनल आईयूडी आपको 3 से 6 वर्ष तक के लिए गर्भधारण से सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं और यदि आप मेनोरेजिया (मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव, मासिक धर्म में खून अधिक आना) से परेशान है तो आपके लिए यह एक अच्छा विकल्प हो सकता है क्योंकि यह आपके मासिक धर्म में रक्तस्राव को कम कर सकता है।

(और पढ़े - गर्भधारण का सही समय)

हार्मोनल आईयूडी को प्रभावी होकर अपना काम शुरू करने में एक सप्ताह लग सकता है, इसलिए अपनी डॉक्टर से पूछें कि क्या आपको सेक्स करने के लिए एक सप्ताह तक इंतजार करना चाहिए या उस दौरान बैक-अप के तौर पर जन्म नियंत्रण की कोई अन्य विधि जैसे - कंडोम, का उपयोग करना चाहिए। इस प्रकार के आईयूडी को इंट्रायूटरिन सिस्टम (आईयूएस) भी कहा जा सकता है।

2. गैर-हार्मोनल आईयूडी
गैर-हार्मोनल आईयूडी एक छोटा प्लास्टिक डिवाइस है जिसमें इसके चारों ओर कॉपर लपेटा जाता है। भारत में गैर-हार्मोनल आईयूडी का एकमात्र प्रकार उपलब्ध है जिसे “पैरागार्ड” कहा जाता है। यह प्लास्टिक और एक छोटी मात्रा में प्राकृतिक व सुरक्षित कॉपर से निर्मित है।

पैरागार्ड आपकी मासिक धर्म अवधि को प्रभावित नहीं करता है और अगर सही तरह से इसका उपयोग किया जाये तो यह आपको 12 वर्ष तक गर्भधारण से सुरक्षा प्रदान कर सकता है। हार्मोनल आईयूडी की तुलना में यहाँ अवधी लगभग दुगुनी है।

(और पढ़े - माँ बनने की सही उम्र)

गैर-हार्मोनल आईयूडी की खासियत यह भी है कि यह आपको योनि के भीतर फिट करने के तुरंत बाद ही गर्भधारण से सुरक्षा प्रदान करना शुरू कर देता है। वास्तव में, कॉपर-टी आईयूडी आपातकालीन गर्भ निरोधक का एक बेहद प्रभावी तरीका है, अगर इसे असुरक्षित संभोग के पांच दिनों के भीतर फिट करवा लिया जाता है तो यह तब भी गर्भधारण को रोक सकता है।

(और पढ़े - प्रेग्नेंट होने का तरीका)

आईयूडी गर्भाशय (गर्भ) में शुक्राणु के प्रवेश और जीवित रहने की क्षमता को प्रभावित करते हैं ताकि वे अंडे को उर्वर करने के लिए उस तक नहीं पहुंच सकें। आईयूडी गर्भाशय की भीतरी परत (एंडोमेट्रियम) को भी बदलते हैं ताकि यह गर्भावस्था के लिए उपयुक्त न रहे और ताकि यदि अंडा उर्वरित हो भी जाए तो अंडे का विकास न हो सके।

कॉपर आईयूडी और हार्मोनल आईयूडी दोनों शुक्राणु कोशिकाओं के गति करने के तरीके को बदलकर गर्भावस्था को रोकते हैं ताकि वे अंडे तक नहीं जा सकें। यदि शुक्राणु अंडे तक नहीं पहुंच पाता है, तो गर्भधारण नहीं हो सकता है।

(और पढ़े - गर्भधारण कैसे होता है)

पैरागार्ड आईयूडी में गर्भावस्था को रोकने के लिए कॉपर का उपयोग होता है। शुक्राणु कॉपर को पसंद नहीं करते हैं, इसलिए पैरागार्ड आईयूडी शुक्राणु के अंडे तक पहुंचने को लगभग असंभव बना देता है।

स्काईला (Skyla), मिरेना (Mirena) और लिलेट्टा (Liletta) आईयूडी में पाए जाने वाले हार्मोन गर्भावस्था को दो तरीकों से रोकते हैं - पहला, वे गर्भाशय पर रहने वाले श्लेष्म (म्यूकस) को मोटा करते हैं, जो शुक्राणु के रास्ते को अवरुद्ध करता है।

दूसरा, हार्मोन कभी-कभी अंडों को आपके अंडाशय को छोड़ने (जिसे ओवुलेशन कहा जाता है) से रोकता है, जिसका मतलब है कि शुक्राणु को उर्वरक करने के लिए कोई अंडे नहीं मिलते हैं। अगर कोई अंडे उपलब्ध नहीं हैं, तो गर्भधारण संभव नहीं है।

(और पढ़े - ओवुलेशन से जुड़े मिथक)

ज्यादातर विशेषज्ञ इस तथ्य से सहमत हैं कि यदि आप स्वस्थ हैं और आपके पेट में गर्भाशय हैं, तो संभवतः आप आईयूडी को उपयोग करने के लिए फिट हैं। यह तब भी सही है जब भले ही आप जवान हों, कभी गर्भवती न हुई हों या अभी तक आपके बच्चे नहीं हैं। यह नई माताओं जिन्होंने अभी-अभी एक बच्चे को जन्म दिया है उनके लिए भी एक बेहतर विधि है, भले ही वे स्तनपान करा रही हों।

(और पढ़े - स्तनपान से जुडी समस्याओं का समाधान)

यह विधि ज्यादातर महिलाओं के लिए सुरक्षित है लेकिन कुछ स्थितियां जोखिम की आशंका को बढ़ा सकती हैं। यह देखने के लिए कि यह विधि आपके लिए सही है या नहीं, अपनी डॉक्टर से बात करें।

यदि आपको निम्नलिखित में से कोई परेशानी हो तो इस विधि का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए  -

कॉपर आईयूडी (पैरागार्ड) का उपयोग नहीं करें यदि आपको कॉपर से एलर्जी है, विल्सन रोग (आनुवंशिक रोग जो शरीर से कॉपर को बाहर नहीं जाने देता है और कॉपर शरीर में जमा होता रहता है ), रक्तस्राव विकार जो आपके खून का थक्का जमना मुश्किल बनाता है, जैसी कोई परेशानी है।

आपको हार्मोनल आईयूडी का उपयोग नहीं करना चाहिए यदि कोई गंभीर लिवर की बीमारी है या स्तन का कैंसर है। यदि उपरोक्त स्थितिया आपके लिए आईयूडी का उपयोग करना असुरक्षित बनाती है, तो जन्म नियंत्रण के अन्य प्रभावी तरीकों को उपयोग करने के बारे में सोचे और इसके लिए अपनी डॉक्टर से सलाह लें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में सेक्स)

यदि आप आईयूडी नामक गर्भ निरोधक के उपयोग के बारे में सोच रही हैं तो इसके लिए, आपको अपनी डॉक्टर से बात करने की आवश्यकता है। वे आपके शरीर, मेडिकल हिस्ट्री और जीवन शैली का आकलन करेंगी।

यदि यह विधि आपके लिए उचित हुई, तो एक मेडिकल जाँच की जा सकती है और आपकी एसटीआई या अन्य संक्रमणों के लिए के लिए भी जाँच करने की आवश्यकता हो सकती है। योनि और अन्य अंगों को आईयूडी फिट करने से पहले जांचा जा सकता है। आपकी डॉक्टर किसी भी प्रकार के पेल्विक संक्रमण की भी जांच करेगी। यदि पेल्विक संक्रमण पाया जाता है, तो पहले इसका उपचार करने की आवश्यकता होगी।

(और पढ़ें - prega news in hindi)

यह प्रक्रिया आपके मासिक चक्र के दौरान किसी भी समय की जा सकती है, लेकिन यह आपके मासिक धर्म चक्र के मध्य में की जाए तो अधिक अच्छा रहेगा। क्योंकि इस समय गर्भ द्वार सबसे अधिक खुला होता है। गर्भावस्था के बाद या गर्भ गिराने के ऑपरेशन के बाद भी यह प्रक्रिया की जा सकती है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए)

आईयूडी एक प्रशिक्षित डॉक्टर या नर्स द्वारा आपके गर्भाशय के अंदर डाला जाता है। परिवार नियोजन केंद्र जाने के बाद आपकी डॉक्टर आपके गर्भाशय में आईयूडी डालेगी। आपकी डॉक्टर प्रक्रिया से कुछ घंटे पहले प्रक्रिया के दौरान आपको दर्द न महसूस हो इसके लिए कोई ओवर-द-काउंटर दर्द की दवा लेने का सुझाव दे सकती है।

(और पढ़े - मासिक धर्म में गर्भधारण हो सकता है क्या)

आईयूडी को गर्भाशय के अंदर रखने के लिए, नर्स या डॉक्टर आपकी योनि में एक स्पेक्युलम लगाएंगे और फिर आईयूडी को आपके गर्भ द्वार से होते हुए गर्भाशय में डालने के लिए एक विशेष उपकरण का उपयोग करेंगे। इस प्रक्रिया में आमतौर पर पांच मिनट से भी कम समय लगता है।

यह प्रक्रिया आपको असहज कर सकती है और आपको ऐंठन या खून बहने की परेशानी हो सकती है, लेकिन ये कुछ दिनों में ठीक हो जाती है। कुछ महिलाएं योनि में दर्द के कारण चक्कर आने जैसा महसूस कर सकती हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण)

आपके आईयूडी को किसी भी समय एक प्रशिक्षित डॉक्टर या नर्स द्वारा हटाया जा सकता है। यदि आपने अपना आईयूडी निकला लिया है किंतु आप गर्भवती नहीं बनना चाहती है, तो इसे हटाए जाने से 7 दिन पहले से ही अतिरिक्त गर्भनिरोधक, जैसे कंडोम का उपयोग करना शुरू करें। जैसे ही आईयूडी बाहर निकाल लिया जाता है, गर्भवती होना संभव है।

अगर आपको लगता है कि आप गर्भवती हो सकती हैं, तो जल्द से जल्द अपना आईयूडी हटाने के लिए अपने डॉक्टर से मिलें। गर्भवती होने पर यदि आईयूडी को नहीं हटाया जाता है तो गर्भपात (मिसकैरेज) की संभावना बढ़ जाती है।

यदि आप तय करती हैं कि आपको आईयूडी को हटवाना है, तो आपके मासिक धर्म के दौरान का समय सबसे अच्छा होता है। स्ट्रिंग (तार) को खींचकर आपकी डॉक्टर आईयूडी को हटा देती है। आपको कुछ सेकंड के लिए दर्द महसूस हो सकता है।

(और पढ़े - योनि में जलन का इलाज)

गर्भ निरोधक के रूप में आईयूडी के फायदे निम्नलिखित हैं -

  • यह 5 साल या उससे अधिक समय तक रह सकता है।
  • जैसे ही आईयूडी हटा दिया जाता है, गर्भवती होना संभव है।
  • यह यौन संभोग के आनंद में हस्तक्षेप नहीं करता है। (और पढ़े - ऑर्गेज्म कैसे प्राप्त करें)
  • यदि आप स्तनपान करा रही हैं तो भी आईयूडी का उपयोग करना आपके लिए सुरक्षित है। (और पढ़े - स्तनपान के फायदे)
  • यदि आप गोली नहीं लेना चाहती हैं तो इसका उपयोग कर सकती है।
  • मिरेना नामक आईयूडी से, ज्यादातर महिलाओं में मासिक धर्म का दर्द कम हो जाता है और रक्तस्राव भी कम हो जाता है। कुछ महिलाओं में तो मासिक धर्म बंद हो जाता है।
  • कॉपर आईयूडी के कोई हार्मोनल दुष्प्रभाव भी नहीं होते है।

किसी भी जन्म नियंत्रण विधि के कुछ लाभ तो कुछ नुकसान हो सकते हैं , आईयूडी के निम्नलिखित नुकसान हो सकते हैं -

  • जब एक आईयूडी लगाया जाता है तो लगभग 1% संभावना होती है कि आपको योनि में संक्रमण हो सकता है। (और पढ़े - योनि में संक्रमण के घरेलू उपाय)
  • आईयूडी लगते समय लगभग 1000 में से 1 मामले में गर्भ में छेद होने की संभावना हो सकती है।
  • आईयूडी अपनी जगह पर हो तब भी आप गर्भवती हो सकती हैं लेकिन यह बहुत ही दुर्लभ मामलों में होता है।
  • आपको एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (फैलोपियन ट्यूबों में) हो सकती है।
  • कॉपर आईयूडी मासिक धर्म अवधि दौरान अधिक रक्तस्राव और दर्द का कारण बन सकता है।
  • कॉपर से कुछ लोगों को कभी-कभी एलर्जी भी हो सकती है।
  • IUD कभी-कभी लगभग 5% मामलों में स्वयं बाहर आ सकता है। आप प्रत्येक मासिक अवधि के बाद या प्रत्येक माह की शुरुआत में अपनी योनि के अंदर आईयूडी की स्ट्रिंग की जांच कर सकती हैं कि यह सही स्थिति में है या नहीं।
  • मिरेना नामक आईयूडी प्रारंभ में सामान्य से अधिक दिनों के लिए अनियमित मासिक धर्म, कम रक्तस्राव का कारण बन सकता है। (और पढ़े - मासिक धर्म कम आने का इलाज)

आईयूडी की लागत निजी परिवार नियोजन क्लिनिक या केंद्र पर लगभग 300 रुपये और 500 रुपये के बीच होती है। वास्तविक लागत आपके शहर और परिवार नियोजन केंद्र के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है। यदि आप निजी केंद्रों की सेवा नहीं लेना चाहते हैं तो भारत सरकार इसे अपने परिवार नियोजन केंद्रों पर मुफ्त में प्रदान करती है।

हालाँकि, एक अनुमान के अनुसार सरकार के परिवार नियोजन कार्यक्रम का लाभ उठाने वाले सभी जोड़ों में से केवल 6 प्रतिशत ही गर्भ निरोधक के रूप में आईयूडी का चुनाव करते हैं, वही नसबंदी का चुनाव 26 प्रतिशत जोड़े करते हैं। (और पढ़े - महिला नसबंदी क्या है)

वर्तमान में आईयूडी वास्तव में कई कारणों से लोकप्रिय नहीं हैं। लोगो को एक गलत धारणा यह है कि आईयूडी के लिए ऑपरेशन किया जाता है, जो कि सच नहीं है। महिलाओं के लिए गर्भ निरोधक विकल्प के रूप में, आईयूडी की लोकप्रियता गर्भनिरोधक गोलियों और महिला कंडोम की अपेक्षा काफी कम है।

हालांकि, इसमें कोई शक नहीं है कि आईयूडी महिलाओं के लिए उपलब्ध एक अत्यधिक प्रभावी गर्भ निरोधक विकल्प है। आईयूडी की सफलता दर लगभग 98 प्रतिशत से भी अधिक है।

नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।

और पढ़ें ...