ब्लड कैंसर में शरीर के सेल्स प्रभावित होते हैं. कुछ खास प्रकार की डाइट या खाद्य पदार्थों का इस दौरान सेवन फायदेमंद हो सकता है, जैसे फैट फ्री डेयरी प्रोडक्ट्स, हेल्दी ऑयल, अनाज, हरी सब्जियां आदि. वहीं, ग्रीन टी व मिर्च मसाला युक्त खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए.

इस लेख में आप जानेंगे कि ब्लड कैंसर में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं -

(और पढ़ें - कैंसर के लिए होम्योपैथिक दवा)

  1. ब्लड कैंसर में करें इन चीजों का सेवन
  2. ब्लड कैंसर में इनका न करें सेवन
  3. ब्लड कैंसर के दौरान अन्य सावधानियां
  4. सारांश
ब्लड कैंसर में क्या खाना चाहिए, क्या नहीं के डॉक्टर

ब्लड कैंसर ब्लड सेल्स को प्रभावित करता है. इस दौरान इम्यूनिटी बनाए रखने के लिए सही मात्रा में पोषक तत्व जरूरी होते हैं. इसलिए, आयरन से भरपूर फल व सब्जियां अपनी डाइट में जरूर शामिल करें और न्यूट्रोपेनिक डाइट से दूरी बनानी चाहिए. विस्तार से जानिए ब्लड कैंसर में क्या खाना चाहिए क्या नहीं-

फाइबर से भरपूर चीजें

कीमोथेरेपी का सबसे बड़ा साइड–इफेक्ट कब्ज है. कब्ज से राहत पाने के लिए अधिक फाइबर से युक्त चीजें खानी चाहिए. फाइबर खाने को ब्रेक डाउन करने में और अच्छे से पचाने में मदद करता है. इससे बाउल गतिविधियों में परेशानी नहीं होती. इसलिए सेब, आड़ू, ड्राई फ्रूट्स, साबुत अनाजओटमील आदि खाइए. ये सारी चीजें फाइबर का अच्छा स्रोत होती हैं.

(और पढ़ें - कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज)

आयरन के स्रोत

ब्लड कैंसर के दौरान कैंसर सेल्स हेल्दी ब्लड सेल्स को भी नष्ट कर देते हैं. इसलिए, शरीर में रेड ब्लड सेल्स की कमी हो जाती है. इनकी कमी पूरी करने के लिए आयरन से युक्त चीजों का सेवन करना चाहिए. लीन मीट, बीन्स, हरी और पत्तेदार सब्जियां आयरन का अच्छा स्रोत होती हैं और यह खून बनाने में मदद करती हैं.

फल और सब्जियां

ब्लड कैंसर एक प्रकार से शरीर की सेल्स को खत्म करता जाता है. फल और सब्जियों में ऐसे एंटी-ऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं, जो शरीर को फिर से स्वस्थ बनाने में मदद करते हैं. अगर सब्जियों का सेवन करना चाहते हैं, तो पकी हुई सब्जियां खाएं. कच्ची सब्जियों या फलों को खाने से इंफेक्शन होने का रिस्क बढ़ सकता है.

(और पढ़ें - जीभ के कैंसर का उपचार)

फैट मुक्त और लो डेयरी उत्पाद

ब्लड कैंसर में फैट से युक्त चीजें न खाएं. ज्यादा कैल्शियम से भरपूर डाइट का सेवन करना भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है. इसलिए, जब भी मन करे, तो लो फैट युक्त डेयरी की चीजें खा सकते हैं.

आसानी से चबाए जाने वाले फल

हो सकता है कैंसर के साइड–इफेक्ट्स में मुंह का दुखना भी शामिल हो. इसलिए, आसानी से चबाए जा सकने वाली चीजों को खाएं. जैसे दलिया, ओट्स या मैश किए गए आलू आदि. अगर डायरिया से जूझ रहे हैं, तो भी ये चीजें पाचन में सहायक हैं. इनका पाचन भी आसानी से हो जाता है.

(और पढ़ें - पेट के कैंसर का होम्योपैथिक इलाज)

विटामिन और मिनरल से भरपूर डाइट

डॉक्टर या न्यूट्रिशनिस्ट से ऐसी डाइट चार्ट बनवा लें, जिससे विटामिन और मिनरल्स की सारी आवश्यकता पूरी हो सकें. अगर डाइट से विटामिन्स की जरूरत पूरी नहीं हो रही है, तो सप्लीमेंट लें. कुछ जरूरी पोषण में आयरन, फोलेट, मछली का तेल और विटामिन-डी शामिल है.

(और पढ़ें - अंडाशय के कैंसर का ऑपरेशन)

ब्लड कैंसर में इम्यूनिटी कमजोर हो जाने की वजह से इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए, वही डाइट लें, जो शरीर के लिए फायदेमंद हो. ज्यादा मसाले, अल्कोहल, ज्यादा खट्टे फल आदि का सेवन करने से बचें. विस्तार से जानिए ब्लड कैंसर में क्या-क्या चीजें नहीं खानी चाहिए-

अधपका मीट

मीट और मछली प्रोटीन का अच्छा स्रोत हैं और यह कैंसर डाइट में एक अहम भूमिका निभाते हैं, लेकिन केवल तभी जब इन्हें अच्छे से पकाया गया हो. अगर यह आधे कच्चे रह जाते हैं, तो इनमें मौजूद पेथोजेन शरीर में प्रवेश करके इम्यून सिस्टम को और अधिक कमजोर कर सकते हैं. कीमोथेरेपी ले रहे मरीजों को इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए.

(और पढ़ें - मुंह के कैंसर का होम्योपैथिक इलाज)

अनपॉश्चराइज्ड ड्रिंक्स

अगर दूध या चाय जैसे पेय पदार्थों को अच्छे से न उबाला जाए, तो उनमें कुछ पेथोजेन मौजूद रह जाते हैं. वे शरीर में पहुंच कर इन्फेक्शन फैलाने के साथ-साथ इम्यूनिटी पावर को भी कम कर सकते हैं. इससे शरीर के लिए कैंसर से लड़ पाना और मुश्किल हो जाता है.

बिना धुली सब्जियां व फल

ब्लड कैंसर के दौरान अपने हाथों को भी बार-बार धोते रहना चाहिए, नहीं तो इन्फेक्शन फैलने का खतरा ज्यादा हो सकता है. इसी प्रकार बिना धोए गए फल और सब्जियों का भी सेवन न करें. इन पर लगे हुए केमिकल शरीर को नुकसान पहुंचा सकते हैं.

अन्य चीजें जो हैं नुकसानदायक

  • अधिक चीनी युक्त फूड
  • ज्यादा ऑयली फूड
  • ज्यादा गर्म या ज्यादा ठंडा
  • अल्कोहल
  • मिर्च मसाले युक्त फूड
  • कैफीन
  • सेब का जूस
  • ज्यादा खट्टे फल
  • टमाटर व टमाटर से बनी सॉस

(और पढ़ें - ब्रेस्ट कैंसर सर्जरी)

ब्लड कैंसर के मरीजों को निम्न बातों का ध्यान रखना भी जरूरी है-

  • रेडिएशन एक्स्पोजर से बचाव- कुछ बीमारियों के इलाज के दौरान हाई इंटेंसिटी रेडिएशंस के संपर्क में आने से ब्लड कैंसर की आशंका बढ़ जाती है. ऐसे में रेडिएशन एक्स्पोजर से बचाव जरूरी है.
  • केमिकल एक्स्पोजर से बचाव- कुछ केमिकल के संपर्क में आने से ब्लड कैंसर की आशंका बढ़ जाती है, जैसे कि पेस्टिसाइड या बेंजीन केमिकल एक्सपोजर.
  • तंबाकू से दूरी- तंबाकू या सिगरेट का अधिक प्रयोग कैंसर के खतरे को तो बढ़ाता ही है, साथ में अन्य बीमारियों का भी कारण बनता है.

उपचार के साथ लाइफस्टाइल में किए जाने वाले बदलाव भी कैंसर से यह जंग जीतने में काफी मदद कर सकते हैं. फल-सब्जियां, विटामिन और मिनरल से युक्त चीजें खाने से और थोड़ा बहुत एक्टिव रहने से एनर्जी वापिस आ सकती है. वहीं, अधपका मीट व मसालेदार खाने नुकसान पहुंचा सकते हैं. यही नहीं किसी भी प्रकार के रेडिएशन या केमिकल एक्स्पोजर से भी बचें. साथ ही किसी भी प्रकार की डाइट लेने से पहले डायटिशियन या डॉक्टर की सलाह लें.

Dr. Patil C N

Dr. Patil C N

ऑन्कोलॉजी
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Vinod Kumar Mudgal

Dr. Vinod Kumar Mudgal

ऑन्कोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Anoop Mantri

Dr. Anoop Mantri

ऑन्कोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Mehlam Kausar

Dr. Mehlam Kausar

ऑन्कोलॉजी
6 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ