myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पीलिया या जॉन्डिस रोग लीवर के खराब होने की वजह से होता है। इस रोग में इंसान के शरीर का रंग पीला होने लगता है। इसके अलावा थैलासीमिया और मलेरिया की वजह से भी पीलिया होता है। पीलिया होने का एक कारण अधिक शराब पीना भी है।

पीलिया को ठीक करने के लिए सबसे पहले इस बात का पता लगना चाहिए कि किसकी वजह से आपको पीलिया हुआ है। इसलिए यदि आप पीलिया से गंभीर रूप से ग्रस्त हैं तो अपने डॉक्टर को जल्द से जल्द दिखाएं।

जॉन्डिस के लिए चिकित्सीय इलाज के साथ-साथ आहार भी इसे ठीक करने में बहुत ज्यादा सहायक है। इसके साथ ही साथ पीलिया रोगियों को इस बात का पता होना बहुत जरूरी होता है कि पीलिया या जॉन्डिस में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। पीलिया में प्राकृतिक आहार का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए। इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता और लीवर दोनों मजबूत होगें।

(और पढ़ें - पीलिया के घरेलू उपाय)

  1. पीलिया में क्या खाना चाहिए - Jaundice me kya khana chahiye
  2. पीलिया में क्या नहीं खाना चाहिए - Jaundice me kya nahi khana chahiye
  3. जॉन्डिस में क्या करना चाहिए और परहेज - Jaundice me kya karna chahiye aur parhej

पीलिया में नारियल पानी पीना चाहिए - Jaundice me nariyal pani pina chahiye

पीलिया में नारियल पानी पीना बहुत फायदेमंद है। इस रोग में शरीर में पानी की कमी होना एक सामान्य लक्षण है। नारियल पानी एक प्राकृतिक पेय है और इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत कम होता है। इसके साथ ही साथ यह आपके शरीर में पानी की मात्रा बराबर बनाए रखता है और आपके शरीर को भी शीतलता प्रदान करता है। इसलिए पीलिया में नारियल पानी पीना चाहिए।

(और पढ़ें - कैलोरी क्या होती है)

पीलिया में पीएं गन्ने का जूस - Piliya me pina chahiye ganne ka juice

गन्ने का रस पीलिया में बहुत ज्यादा लाभदायक है। जॉन्डिस में डॉक्टर हमेशा गन्ने का रस पीने की सलाह देते हैं। यह एक प्राकृतिक पेय है, जो आपके लीवर को मजबूत बनाता है। गन्ने के रस में बहुत अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट मौजूद होते हैं, जो पीलिया के दौरान खोई हुई ऊर्जा की भरपाई करते हैं।

(और पढ़ें - कम कार्बोहाइड्रेट वाला भारतीय भोजन)

जॉन्डिस में तरबूज के बीज खाएं - Jaundice me tarbuj ke beej khaye

तरबूज के बीज को पानी में मिलाकर पीलिया के रोगियों को पीना चाहिए। यह पीलिया को ठीक करने में बहुत ज्यादा सहायक है। इस बीज में सूजन कम करने के गुण मौजूद होते हैं, जो लीवर के सूजन को ठीक करने में मदद करते हैं। इसके अलावा यह किडनी को ठीक रखने में भी सहायक हैं।

(और पढ़ें - लिवर को साफ के लिए आहार)

जब किडनी सही तरीके से काम करती है, तब आपके शरीर में बिलीरूबिन (बिलीरूबिन शरीर में भूरे-पीले रंग का एक द्रव्य होता है) का स्तर कम हो जाता है।

(और पढ़ें - बिलीरूबिन परीक्षण)

पीलिया में खाएं ताजी सब्जियां - Piliya me khaye taji sabjiya

जड़ वाली सब्जियों में विटामिन बी और बहुत अधिक मात्रा में लाइकोपीन मौजूद होते हैं। इन्हें खाने से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। इसलिए आलू, गाजर, शकरकंद और चुकंदर जैसी सब्जियों को उबालें और मसलकर खाएं। यह सब्जियां पीलिया को ठीक करने में बहुत ज्यादा फायदेमंद होती हैं क्योंकि ये वसा रहित होती हैं। इन्हें खाने से पीलिया रोगियों को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होता है और साथ ही साथ लीवर भी मजबूत होता है। इसके अलावा आप सब्जियों के सलाद भी खाएं और सूप भी पीएं।

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उपाय)

जॉन्डिस में करौंदा खाना चाहिए - Jaundice me karonda khana chahiye

पीलिया में करौंदा खाना भी बहुत ज्यादा लाभदायक है, क्योंकि इसमें बहुत अधिक एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं, जो आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। इसके साथ ही साथ इसमें विटामिन सी भी होता है, जो पीलिया के लक्षणों को कम करनें में मदद करता है। इसलिए यदि आप जॉन्डिस के मरीज हैं, तो करौंदा खाएं।

(और पढ़ें - एंटीऑक्सीडेंट युक्त भोजन)

पीलिया में पीएं नींबू पानी - Jaundice me piye nimbu pani

नींबू में विटामिन सी मौजूद होता है। इसलिए नींबू पानी पीलिया के रोगियों के लिए बहुत ज्यादा लाभदायक है। यह पीलिया का एक बहतु ही अच्छा घरेलू उपचार माना जाता है। इसके अलावा इसमें सूजन को कम करने के गुण भी मौजूद होते हैं, जो पित्त नली से ब्लाक या जाम को हटाने में मदद करते हैं। इसप्रकार नींबू पानी पीलिया को ठीक करने में मदद करता है।

(और पढ़ें - नींबू के रस के फायदे)

पीलिया में पीना चाहिए फलों का जूस - Falo ka juice pina chahiye piliya me

ताजा फल पीलिया को ठीक करने में अधिक समय लगाते हैं। इसलिए फलों के जूस पीएं, यह पीलिया को ठीक करने में मदद करते हैं। जूस को अपने आहार का हिस्सा बनाएं। फलों में एंटीऑक्सिडेंट, फोटोकैमिकल और खनिज मौजूद होते हैं, जो मनुष्य के भीतरी कार्य प्रणाली को साफ करने में मदद करते हैं। भीतरी कार्य प्रणाली सही होने से आपका लीवर मजबूत होता है, जिससे पीलिया को ठीक होने में मदद मिलती है।

इसके अलावा पीलिया में रोजाना 1 से 2 गिलास संतरे का जूस पीना बहुत फायदेमंद है, क्योंकि ये आपके लीवर को मजबूत बनाता है। इसके साथ ही साथ शरीर के विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें - लिवर खराब होने के लक्षण)

जॉन्डिस में खाएं बादाम - Jaundice me khaye badam

जॉन्डिस रोगियों के लिए बादाम बहुत लाभदायक। रोजाना पानी में भिगोकर सुबह 3 से 4 बादाम खाएं। बादाम में बहुत ज्यादा एंटीऑक्सिडेंट मौजूद होते हैं, जो आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके अलावा ये आपके रक्त प्रवाह को भी बेहतर बनाता है।

(और पढ़ें - बादाम खाने का सही तरीका)

जॉन्डिस में अधिक नमक नहीं खाना चाहिए - Jaundice me adhik namak nahi khana chahiye

पीलिया रोगियों को नमक से परहेज करना चाहिए। भोजन में रोजाना अधिक नमक इस्तेमाल करने से लीवर के कोशिकाओं पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए अधिक नमक वाले खाद्य पदार्थ जैसे अचार, चिप्स और कुछ मछलियां जिनमें नमक की बहुत अधिक मात्रा होती है को न खाएं। इसके अलावा अधिक नमक खाने से आपके शरीर में सूजन भी बढ़ता है।

(और पढ़ें - सूजन कम करने के उपाय)

जॉन्डिस में मीट न खाएं - Jaundice me meat na khaye

जॉन्डिस रोगियों को किसी भी प्रकार का मीट नहीं खाना चाहिए। मटन में बहुत अधिक मात्रा में संतृप्त वसा होती है, जो पीलिया के ठीक होने के समय को बढ़ाती है। जॉन्डिस पूरी तरह से ठीक होने के बाद आप मटन खा सकते हैं।

(और पढ़े - पौष्टिक आहार के फायदे)

पीलिया में अधिक फैट वाले खाद्य पदार्थ न खाएं - Jaundice me adhik fat wale khadya padarth na khaye

अधिक फैट वाले और तले हुए खाद्य पदार्थों को नहीं खाना चाहिए। इन्हें खाने से आपके लीवर में फैट जमा होने लगता है। संतृप्त वसा, जैसे मटन और डेरी उत्पादों को लीवर असंतृप्त वसा में परिवर्तित करता है, जो प्रक्रिया लीवर के लिए बहुत मुश्किल होती है। इसलिए डेरी उत्पाद जैसे दूध, पनीर और  बटर आदि से पीलिया के मरीजों को परहेज करना चाहिए।

इसके अलावा असंतृप्त वसा जैसे जैतून का तेल स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होते हैं, लेकिन इन्हें भी कम मात्रा में खाना चाहिए।

(और पढ़ें - फैटी लीवर के उपाय)

पीलिया में न खाएं चीनी - Piliya me na khaye chini

रिफाइंड चीनी में बहुत अधिक मात्रा में फ्रुकटोज कॉर्न सिरप होता है, जो आपके लीवर में फैट जमा करता है। अधिकतर प्रोसेस्ड फूड में अधिक मात्रा में चीनी और वसा होती है, जो लीवर को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाती है। मीठे खाद्य पदार्थ या मिठाई की जगह पर आप फल, कम शक्कर युक्त और कम फैट वाले खाद्य पदार्थों को खाएं। पीलिया में सीमित मात्रा में कृतिम स्वीटनर खाएं, क्योंकि इसे अधिक खाने से लीवर को इसे पचाने में मुश्किल होती है।

(और पढ़ें - पाचन क्रिया सुधारने के उपाय)

जॉन्डिस में अधिक प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ न खाएं - Jaundice me adhik protein yukt khyadya padarth na khaye

दाल और बीन्स में बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन और फाइबर मौजूद होते हैं, जो पाचन क्रिया को बहुत अधिक प्रभावित करते हैं। इसलिए जॉन्डिस में अधिक प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थों को न खाएं। इसके साथ ही साथ पीलिया में अंडे भी नहीं खाने चाहिए, इसमें भी बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन होता है। अधिक प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ आपके निचले आंत में सड़न पैदा करते हैं। इसलिए पीलिया के दौरान इस तरह के खाद्य पदार्थों को नहीं खाना चाहिेए।

(और पढ़ें - पाचन तंत्र मजबूत करने के उपाय)

पीलिया में कैफीन युक्त पेय न पीएं - Do not Drink caffeinated beverages in Jaundice in Hindi

पीलिया में कैफीन युक्त पेय जैसे चाय और कॉफी नहीं पीना चाहिए। इस प्रकार के पेय आपके लीवर को खराब करते हैं। ऐसे पेय को पीने से पीलिया को ठीक होने में अधिक समय लगाता है। इसके अलावा ये भूख मारने का काम करते हैं, जो आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक है।

(और पढ़ें - लिवर फंक्शन टेस्ट क्या है)

पीलिया में केला नहीं खाना चाहिए - Do not eat banana in Jaundice in Hindi

पीलिया के रोगियों को केला नहीं खाना चाहिए। केला में बहुत अधिक फाइबर मौजूद होते हैं, जो आपके पाचन क्रिया को बहुत ज्यादा प्रभावित करते हैं। इसके अलावा यह आपके शरीर में बिलीरुबिन के स्तर को भी बढ़ाते हैं, जिससे पीलिया की समस्या और बढ़ जाती है।

(और पढ़ें - केले के फूल के फायदे)

जॉन्डिस में न खाएं जंक फूड़ - Jaundice me na khaye junk food

जॉन्डिस में जंक फूड़ बहुत ज्यादा नुकसानदायक होते हैं। इन खाद्य पदार्थों में अधिक मात्रा में तेल, फैट और अन्य मिलावटी पदार्थ होते हैं, जो आपके शरीर और स्वास्थ्य दोनों के लिए बहुत अधिक हानिकारक होते हैं। इसलिए पीलिया के रोगियों को जंक फूड नहीं खाना चाहिए। 

(और पढ़ें - जंक फूड के नुकसान)

जॉन्डिस या पीलिया में निम्न बातों का ध्यान रखें - 

  • पीलिया में आपके शरीर में पानी कमी होना एक सामान्य बात है, इसलिए इस बीमारी में पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहें। इसके अलावा शरीर को अधिक से अधिक आराम दें।
  • पीलिया में अपने मन से कोई दवाई न खाएं। डॉक्टर से सलाह लेकर ही दवाईयां खाएं।
  • किसी प्रकार की जड़ी-बूटी और पूरक आहार न लें, पीलिया के दौरान इनका आपके शरीर पर नाकारात्म प्रभाव पड़ सकता है।
  • अपने डॉक्टर से इस बारे में सलाह लें कि पीलिया के दौरान शराब पीना चाहिए या नहीं पीना चाहिए। हालांकि, अधिक शराब पीना आपके लिए हर स्थिति में नुकसानदायक होता है।
  • हो सकता है आपका डॉक्टर आपको कुछ खास खाद्य पदार्थों को खाने लिए मना करें तो अपने डॉक्टर की बातों का पालन पूर्ण रूप से करें।
  • यदि छोटा बच्चा पीलिया से ग्रसित हुआ है तो उसे खिड़की के पास धूप में कुछ देर तक सुलाएं। ऐसा करने से बच्चे के शरीर में बिलीरुबिन (यह एक भूरे-पीले रंग का द्रव्य होता है) का स्तर कम होता है।
  • यदि हालत नहीं सुधर रही है और नये-नये लक्षण उत्पन्न हो रहे हैं तो ऐसे में अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें।
और पढ़ें ...