निस्सेन फंडोप्लिकेशन एक प्रकार की सर्जरी है, जिसका उपयोग गैस्ट्रोइसोफेजियल रिफ्लक्स डिजीज (जीईआरडी) का इलाज करने के लिए किया जाता है। इस सर्जरी में डॉक्टर पेट के ऊपरी सिरे को इसोफेगस (भोजन नली) पर लपेट देते हैं, जिससे पेट में मौजूद अम्लीय पदार्थ भोजन नली में नहीं जा पाते हैं।

यदि दवाओं और जीवनशैली में उपयुक्त बदलाव करके भी जीईआरडी (गर्ड) के लक्षणों ठीक नहीं हो पा रहे हैं, तो फिर निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी की जा सकती है। सर्जरी से पहले डॉक्टर आपको धूम्रपान छोड़ने और सर्जरी वाले दिन खाली पेट रहने की सलाह दे सकते हैं। सर्जरी करने से पहले डॉक्टर कुछ परीक्षात्मक टेस्ट भी कर सकते हैं। यदि आप किसी भी प्रकार की दवा या कोई उत्पाद लेते हैं, तो सर्जरी से पहले ही डॉक्टर को इस बारे में बता दें।

सर्जरी शुरू करने से ठीक पहले डॉक्टर आपको एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगा देंगे, जिससे आप सर्जरी के दौरान सो जाएंगे। सर्जरी के बाद आपको दो से तीन दिन तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है। जब आप घर आ जाते हैं, तो आपको कुछ विशेष खाद्य पदार्थ न खाने की सलाह दी जाती है, जैसे ब्रेड और ठोस बिस्कुट आदि, इसकी बजाय ढीला व पतला भोजन खाएं। निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी होने के कुछ दिन बाद ही आप अपने सामान्य कार्य कर सकते हैं। डॉक्टर सर्जरी के कुछ हफ्तों बाद आपको एक बार आकर जांच करवाने के लिए कहते हैं।

(और पढ़ें - धूम्रपान की लत के लक्षण)

  1. निस्सेन फंडोप्लिकेशन क्या है - What is Nissen fundoplication in Hindi
  2. निस्सेन फंडोप्लिकेशन किसलिए की जाती है - Why is Nissen fundoplication done in Hindi
  3. निस्सेन फंडोप्लिकेशन से पहले - Before Nissen fundoplication in Hindi
  4. निस्सेन फंडोप्लिकेशन के दौरान - During Nissen fundoplication in Hindi
  5. निस्सेन फंडोप्लिकेशन के बाद - After Nissen fundoplication in Hindi
  6. निस्सेन फंडोप्लिकेशन की जटिलताएं - Complications of Nissen fundoplication in Hindi

निस्सेन फंडोप्लिकेशन किसे कहते हैं?

निस्सेन फंडोप्लिकेशन एक प्रकार की लेप्रोस्कोपिक सर्जरी है, जिसकी मदद से गर्ड का इलाज किया जाता है। गर्ड को एसिड रिफ्लक्स भी कहा जाता है, जिसके कारण सीने में जलन होने लगती है। जब पेट में मौजूद अम्लीय द्रव वापस भोजन नली (इसोफेगस) में आ जाते हैं, तो ये अम्ल भोजन नली की अंदरूनी सतह में जलन पैदा कर देते हैं। एसिड रिफ्लक्स आमतौर पर इसोफेगस और पेट को आपस में जोड़ने वाली वाल्व (स्फिंक्टर) की मांसपेशियां कमजोर पड़ने के कारण होता है।

(और पढ़ें - मांसपेशियों की कमजोरी का इलाज)

इस सर्जिकल प्रोसीजर में पेट के ऊपरी हिस्से को भोजन नली के निचले हिस्से के चारों ओर लपेट दिया जाता है, जिस विधि को फंडोप्लिकेशन कहा जाता है। इस सर्जरी की मदद से इसोफेगस के निचले स्फिंक्टर को मजबूत बना दिया जाता है, जिसे एसिड रिफ्लक्स की समस्या नहीं होती या कम हो जाती है।

एसिड रिफ्लक्स का इलाज करने के लिए डॉक्टर शुरुआत में दवाएं या जीवनशैली में सुधार के सुझाव देते हैं। यदि इन दवाओं व उपचारों से स्थिति का इलाज न हो पाए, तो निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी करवाने का सुझाव दिया जा सकता है।

(और पढ़ें - मांसपेशियों की कमजोरी दूर करने के उपाय)

निस्सेन फंडोप्लिकेशन क्यों की जाती है?

यदि आपको एसिड रिफ्लक्स या गैस्ट्रोइसोफेजियल रिफ्लक्स डिजीज (गर्ड) है और दवाओं से यह ठीक नहीं हो पा रही है, तो यह सर्जरी की जा सकती है -

निस्सेन फंडोप्लिकेशन किसे नहीं करवानी चाहिए?

डॉक्टर आमतौर पर निम्न स्थितियों में निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी नहीं करते हैं -

  • यदि आपको एनेस्थीसिया से एलर्जी है या किसी अन्य कारण से आप एनेस्थीसिया नहीं ले पा रहे हैं
  • आपको कॉएग्युलोपैथी है, जिसमें रक्त का थक्का बनने की क्षमता प्रभावित हो जाती है

कुछ स्थितियों में निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी को करवाने की सलाह दी जाती है, लेकिन विशेष सावधानियों के साथ जिनमें निम्न शामिल हैं -

  • पहले कभी पेट की सर्जरी हुई होना
  • इसोफेजियल मोटीलिटी डिसऑर्डर
  • गंभीर मोटापा

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के उपाय)

निस्सेन फंडोप्लिकेशन से पहले की तैयारी

सर्जरी से पहले आपको निम्न तैयारियां करने की आवश्यकता हो सकती है -

डॉक्टर सबसे पहले आपका शारीरिक परीक्षण करेंगे और आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली जानकारी का पता करेंगे। सर्जरी से पहले कुछ टेस्ट किए जा सकते हैं -

  • एंडोस्कोपी/गैस्ट्रोस्कोपी -
    इस प्रक्रिया की मदद से पेट और भोजन नली के अंदर देखा जाता है, जिससे यह सुनिश्चित किया जाता है कि आपको महसूस हो रहे लक्षण एसिड रिफ्लक्स के अलावा किसी अन्य कारण से तो नहीं हैं। (और पढ़ें - भोजन नली में कैंडिडा संक्रमण के लक्षण)
     
  • इसोफेगस मेनोमेट्री -
    इस प्रक्रिया की मदद से इसोफेगस (भोजन नली) में दबाव की जांच की जाती है और इसोफेगस के नीचे वाले स्फिंक्टर की कार्यक्षमता की जांच की जाती है।
     
  • बेरियम स्वॉलो एक्स रे टेस्ट -
    इस टेस्ट की मदद से गर्ड की जांच की जाती है (और पढ़ें - एक्स रे क्या है)
     
  • 24 घंटे की पीएच स्टडी -
    इस टेस्ट की मदद से जांच की जाती है कि पेट के अम्ल इसोफेगस तक कितनी बार जाते हैं

सर्जरी वाले दिन आपको खाली पेट रहने की सलाह दी जाती है। आपको सर्जरी से पहले आधी रात के बाद कुछ भी न खाने या पीने की सलाह दी जाती है। (और पढ़ें - सर्जरी से पहले की तैयारी)

आपको एक सहमति पत्र दिया जाएगा, जिस पर हस्ताक्षर करके आप सर्जन को सर्जरी करने की अनुमति दे देते हैं।

सर्जरी से पहले ही निम्न के बारे में डॉक्टर को बता दें -

  • यदि आप किसी भी प्रकार की दवा, हर्बल उत्पाद, खनिज, विटामिन, सप्लीमेंट या प्राकृतिक दवा ले रहे हैं, तो डॉक्टर को इस बारे में बता दें।
  • यदि आप रक्त को पतला करने वाली दवा जैसे एस्पिरिन या वार्फेरिन ले रहे हैं, तो विशेष रूप से डॉक्टर को इसके बारे में बता दें।
  • यदि आपको किसी भी चीज से एलर्जी है या आपको लगता है कि आपको एलर्जी हो सकती है, तो डॉक्टर को इस बारे में बता दें। (और पढ़ें - एलर्जी होने पर क्या होता है)

यदि आप धूम्रपान या शराब का सेवन करते हैं, तो डॉक्टर को इस बारे में बता दें। डॉक्टर आपको कुछ दिन तक इनका सेवन न करने की सलाह दे सकते हैं

सर्जरी वाले दिन अस्पताल आते समय अपने साथ किसी मित्र या सगे संबंधी को ले आएं, ताकि सर्जरी से पहले और बाद में आपको मदद मिल सके

(और पढ़ें - शराब की लत छुड़ाने के घरेलू उपाय)

निस्सेन फंडोप्लिकेशन कैसे की जाती है?

निस्सेन फंडोप्लिकेशन को निम्न के अनुसार किया जाता है -

  • सर्जन आपको एनेस्थीसिया का इंजेक्शन देंगे, जिससे आप सर्जरी के दौरान सोते रहेंगे और आपको कुछ भी महसूस नहीं होगा (और पढ़ें - इंजेक्शन लगाने का तरीका)
  • पेट के ऊपरी हिस्से में पांच छोटे-छोटे चीरे लगाए जाते हैं, जिनमें एंडोस्कोप (एक उपकरण जिसमें कैमरा लगा होता है) और अन्य सर्जरी वाले उपकरण डाले जाते हैं।
  • इसके बाद पेट में कार्बन डाइऑक्साइड गैस भर दी जाती है, जिससे पेट फूल जाता है और सर्जरी करने के लिए पर्याप्त जगह बन जाती है। (और पढ़ें - पेट फूलने का कारण)
  • पेट के ऊपरी हिस्से को भोजन नली के निचले हिस्से के ऊपर लाकर उसके चारों ओर लपेट दिया जाता है।
  • इसके बाद टांकों की मदद से पेट को इसी प्रकार के स्थिर बना दिया जाता है, टांके आमतौर पर कुछ समय बाद अपने आप अवशोषित होने वाले होते हैं (और पढ़ें - टांके कैसे लगते हैं)

इस सर्जरी में आमतौर पर 60 से 90 मिनट का समय लगता है।

यदि सर्जन इस प्रक्रिया की मदद से निस्सेन फंडोप्लिकेशन को नहीं कर पाते हैं, तो ओपन सर्जिकल प्रोसीजर की मदद ली जाती है। ओपन निस्सेन फंडोप्लिकेशन में कई छोटे-छोटे चीरे लगाने की बजाय एक बड़ा चीरा लगाया जाता है।

सर्जरी प्रोसीजर के बाद आपको रिकवरी वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाएगा, जहां पर नर्स लगातार आपके ब्लड प्रेशर व अन्य शारीरिक संकेतों की जांच करेंगी। शुरुआत में आपको तरल खाद्य पदार्थ दिए जाएंगे जो नरम होते हैं और जल्दी पच जाते हैं। आपको सर्जरी के दो या तीन दिन बाद अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है। डॉक्टर आपको घर जाने के 10 दिन बाद फिर से आकर जांच करवाने के लिए कहते हैं, ताकि यह पता लगाया जा सके कि कोई समस्या तो नहीं हुई है।

(और पढ़ें - एंडोस्कोपी क्या है)

निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी के बाद

जब आप सर्जरी के बाद घर आ जाते हैं, तो आपको निम्न देखभाल करने की सलाह दी जाती है -

सर्जरी के बाद आहार संबंधी निम्न सलाह दी जाती हैं -

  • निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी के बाद शुरुआती कुछ हफ्तों तक डॉक्टर आपको नरम खाद्य पदार्थ लेने की सलाह देते हैं, जिन्हें आसानी से निगला जा सके।
  • खाद्य पदार्थों को धीरे-धीरे अच्छे से चबाकर और थोड़ी-थोड़ी मात्रा में निगलें
  • कोई भी ऐसी चीज न खाएं जो भोजन नली में चिपक सकती है, जैसे बिस्कुट या ब्रैड आदि
  • पेट में गैस व अन्य तकलीफें पैदा करने वाले खाद्य पदार्थ न लें जैसे प्याज, टमाटर, बीन और खट्टे फल आदि
  • सोने से कम से कम दो घंटे पहले तक कुछ न खाएं
  • भोजन के साथ तरल पदार्थ लेते रहें, ताकि निगलते समय भोजन पतला हो जाए
  • सर्जरी के बाद आपको कुछ समय के लिए डकार आदि से परेशानी हो सकती है, इसलिए सोड़ा वाले पेय पदार्थ (फिजी ड्रिंक) आदि न लें

यदि आपको अपने आहार में कुछ बदलाव करने हैं, तो डाईटीशियन से बात करें

सर्जरी के घावों की देखभाल -

  • घाव को हल्के साबुन और पानी के साथ साफ करें और फिर स्वच्छ कपड़े से हल्के-हल्के पौंछ कर सुखा लें
  • घाव को न तो पानी में डुबोएं और न ही कपड़े या किसी अन्य चीज के साथ रगड़ने की कोशिश करें
  • सर्जरी के एक या दो दिन बाद डॉक्टर आपको नहाने की अनुमति दे सकते हैं। हालांकि, आपको कई दिनों तक बाथटब में नहाने से परहेज करना होगा
  • सर्जरी के तीन से छह हफ्तों बाद आपको अपने सामान्य कार्य शुरू करने की अनुमति दी जा सकती है
  • कम से कम छह हफ्तों तक आपको जिम जाने, अधिक मेहनत वाली एक्सरसाइज करने या फिर किसी भी ऐसी शारीरिक गतिविधि को करने से मना किया जाता है, जिसमें शरीर का अधिक जोर लगता हो जैसे वजन उठाना आदि।

डॉक्टर को कब दिखाएं?

यदि आपको निम्न में से कोई भी समस्या हो रही है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए -

(और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)

निस्सेन फंडोप्लिकेशन से क्या जटिलताएं हो सकती हैं?

निस्सेन फंडोप्लिकेशन सर्जरी से निम्न जोखिम व जटिलाएं हो सकती हैं -

  • सर्जरी वाले स्थान के आस-पास मौजूद अन्य अंग क्षतिग्रस्त होना
  • पेट में गैस बनना (पेट फूला हुआ महसूस होना)
  • निगलने में कठिनाई होना (लंबे समय तक)
  • एसिड रिफ्लक्स की समस्या ठीक न होना
  • रक्तस्राव होना
  • घाव में संक्रमण होना
  • फेफड़ों में क्षति और न्यूमोथोरैक्स होना
  • हार्ट अटैक
  • पेट खाली होने में अधिक समय लगना
  • टांग या फेफड़ों की किसी नस में रक्त का थक्का बनना

(और पढ़ें - बैक्टीरियल संक्रमण का इलाज)

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. University College London Hospitals: NHS Foundation Trust [Internet]. National Health Service. UK; Laparoscopic fundoplication
  2. Hull University Teaching Hospitals [internet]: NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K., Laparoscopic Nissen’s fundoplication and hiatus hernia repair
  3. National Institute of Diabetes and Digestive and Kidney Diseases [internet]: US Department of Health and Human Services; Symptoms & Causes of GER & GERD
  4. Seeras K, Bittar K, Siccardi MA. Nissen Fundoplication (Anti-reflux Procedure) [Updated 2020 Mar 31]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan
  5. Smith SF, Duell DJ, Martin BC, Aebersold M, Gonzalez L. Perioperative care. In: Smith SF, Duell DJ, Martin BC, Gonzalez L, Aebersold M, eds. Clinical Nursing Skills: Basic to Advanced Skills. 9th ed. New York, NY: Pearson; 2016:chap 26.
  6. Neumayer L, Ghalyaie N. Principles of preoperative and operative surgery. In: Townsend CM Jr, Beauchamp RD, Evers BM, Mattox KL, eds. Sabiston Textbook of Surgery: The Biological Basis of Modern Surgical Practice. 20th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2017:chap 10.
  7. Oxford University Hospitals [internet]: NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K.; Laparoscopic Nissen fundoplication
  8. Sandwell and West Birmingham Hospitals NHS Foundation Trust [Internet]. National Health Service. UK; Your diet following Nissen’s fundoplication
  9. Michigan Medicine: University of Michigan [internet]. US; Incision Care After Surgery
  10. Cleveland Clinic. [Internet]. Cleveland. Ohio. US; Fundoplication Procedure for Children: Recovery and Outlook
  11. North Tees and Hartipool [internet]: NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K.; Laparoscopic Nissen fundoplication
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ