myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

सीताफल को 'शरीफा' भी कहा जाता है। इसका वानस्पतिक नाम अन्नोना स्क्वामोसा (Annona squamosa) है। यह एनोनेसीई (Annonaceae) परिवार से संबंधित प्रजाति है, जो उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में अधिक मात्रा में पाई जाती है और यह अपने रसदार, सुगंधित और स्वादिष्ट फल के लिए व्यापक रूप से उगाई जाती है। इसमें संतरे की तुलना में विटामिन सी की अधिक मात्रा पाई जाती है। यह एक शीत-असहिष्णु (सर्दी सहन न करने वाला पौधा) और अर्ध-सदाबहार झाड़ी है। जिसकी लम्बाई  8 मीटर (26 फीट) तक होती है। इस पर 2 से 3 साल के बाद फूल और फल आते हैं। इस फल का वजन 100 से 230 ग्राम तक होता है। फलों का गुदा सुगन्धित, मीठा और सफ़ेद होता है। फलों को 20 से 38 खंडों में विभाजित किया जाता है जिनमें से प्रत्येक में एक चमकदार भूरा, काला, बीज होता है।

(और पढ़ें - हनुमान फल के फायदे)

  1. सीताफल के फायदे - Sugar Apple Benefits in Hindi
  2. सीताफल के नुकसान - Sugar Apple Side Effects in Hindi

आम तौर पर यह फल ताजा रस या शर्बत या पेय पदार्थ बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह कैल्शियम, लोहा और फास्फोरस का एक बड़ा स्रोत है। इसके बीज विषाक्त होते हैं, लेकिन इसका उपयोग कीटनाशक के रूप में किया जाता है और सिर की जूँ के इलाज के लिए भी किया जाता है। यह बुखार, पेचिश, गठिया, दस्त और अन्य स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों के इलाज के रूप में एक बहुत ही प्रभावी फल है। इसकी पत्तियों और छाल और जड़ के अर्क को परंपरागत चिकित्सा में उपयोग किया जाता है। तो आइये जानते हैं इसके लाभों के बारे में –

(और पढ़ें - खजूर के फायदे)

 

  1. सीताफल के फायदे बालों और त्वचा के लिए - Sitafal for Hair and Skin in Hindi
  2. सीताफल के गुण दिलाएं अस्थमा से आराम - Sitaphal Ke Fayde for Asthma in Hindi
  3. सीताफल खाने के फायदे रखें ब्लड प्रेशर को कम - Sugar Apple for Blood Pressure in Hindi
  4. सीताफल का सेवन बचाएं हृदय रोगों से - Sitaphal Benefits for Heart in Hindi
  5. सीताफल खाने के लाभ कोलेस्ट्रॉल के लिए - Sugar Apple Good for Cholesterol in Hindi
  6. शरीफा के फायदे रखें पाचन को बेहतर - Sugar Apple for Digestion in Hindi
  7. शरीफा फल के गुण दिलाए डायबिटीज से राहत - Sitaphal for Diabetes in Hindi
  8. शरीफा का उपयोग है एनीमिया में सहायक - Sugar Apple Benefits for Anemia in Hindi
  9. सीताफल के औषधीय गुण बचाए कैंसर से - Sharifa Fruit for Cancer in Hindi
  10. सीताफल फॉर प्रेगनेंसी - Sitaphal for Pregnancy in Hindi
  11. शरीफा फल के फायदे हैं गठिया में उपयोगी - Sharifa Fal Ke Fayde Hain Gathiya Mein Upyogi in Hindi
  12. सीताफल है जूँ का में उपयोगी - Sugar Apple for Head Lice in Hindi

सीताफल के फायदे बालों और त्वचा के लिए - Sitafal for Hair and Skin in Hindi

सीताफल त्वचा और बालों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में सहायता करता है। सीताफल विटामिन ए और एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर होते हैं जो ऊतकों के पुनर्निर्माण में सहायता और सेल संरचना की रक्षा करते हैं, जो त्वचा की चमक और नरम को बनाये रखता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों की क्षति को रोकते हैं। यह त्वचा को बुढ़ापे के लक्षणों से बचाता है। यह झुर्रियों की उपस्थिति को कम करता है और आपको युवा दिखाने में मदद करता है। विटामिन ए शरीर में प्रोटीन के साथ मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए काम करता है। यह कोलेजन के उत्पादन में भी सहायता करता है। यह त्वचा की लचीलेपन को बेहतर बनाता है और बालों को मजबूत बनाता है। 

(और पढ़ें - बालों को घना करने के घरेलू उपाय)

सीताफल के गुण दिलाएं अस्थमा से आराम - Sitaphal Ke Fayde for Asthma in Hindi

सूजन से जुडी ब्रोन्कियल ट्यूब श्वसन समस्याओं से निपटने के लिए आहार में सीताफल का सेवन करना चाहिए। सीताफल में विटामिन बी 6 होता है, जो सूजन को कम करने वाले लाभ प्रदान करता है। यह शरीर या ब्रोन्कियल ट्यूबों के आसपास सूजन को कम करने में मदद करता है। यह अस्थमा के रोगियों या ब्रोन्कियल संक्रमणों के लिए सहायक होता है। इस फलों में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो वायुमार्ग संक्रमणों और समस्याओं को रोकने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली की सहायता करते हैं।

(और पढ़ें - अस्थमा के घरेलू उपाय)

सीताफल खाने के फायदे रखें ब्लड प्रेशर को कम - Sugar Apple for Blood Pressure in Hindi

खराब आहार और उच्च तनाव जैसे विभिन्न कारणों से हाई ब्लड प्रेशर एक आम स्वास्थ्य समस्या बन गई है। उच्च रक्तचाप एक साइलेंट किलर के रूप में कार्य करता है। सीताफल इस स्वास्थ्य समस्या के लिए उपयोगी साबित होती हैं। इसमें केले की तुलना में पोटेशियम की उच्च सामग्री होती है। हृदय स्वास्थ्य के लिए पोटेशियम आवश्यक होता है। पोटेशियम से समृद्ध आहार सोडियम स्तर को संतुलित और रक्तचाप को कम करते हैं।

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं)

 

सीताफल का सेवन बचाएं हृदय रोगों से - Sitaphal Benefits for Heart in Hindi

दिल की मांसपेशियों को आराम देने के लिए मैग्नीशियम आवश्यक होता है। आजकल के तनाव भरे जीवन से हृदय पर भार बढ़ता जा रहा है, इसलिए मैग्नीशियम दबाव के संतुलन और अधिक काम करने में सहायता करता है ताकि मांसपेशियों को थोड़ा आराम करने में मदद मिल सकें। यह दिल के दौरे और अन्य बीमारियों की संभावना को कम करता है। सीताफल एक मैग्नीशियम की जरूरत का 10% प्रदान करता है। रक्तचाप में कमी दिल का दौरा पड़ने की संभावना को कम करती है।

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं)

सीताफल खाने के लाभ कोलेस्ट्रॉल के लिए - Sugar Apple Good for Cholesterol in Hindi

कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर हानिकारक होता है। आहार और गतिहीन जीवन शैली के कारण, हम उच्च स्तर के कोलेस्ट्रॉल को पार कर रहे हैं। विटामिन बी 3 की कमी ने खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ाया है। नियासिन खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर 20% तक कम करने में मदद करता है। यह अच्छे कोलेस्ट्रॉल स्तर को बढ़ावा देता है जो एक चिकनी और सुरक्षात्मक परत के साथ धमनियों के लिए सहायक होता है। ह्रदय रक्त के प्रवाह के साथ-साथ ऑक्सीजन को भी प्राप्त करता है। यह आसान काम करने में सक्षम है, जो दिल के दौरे या हृदय रोग के विकास की संभावना को कम कर सकें।

(और पढ़ें - हाई कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय)

शरीफा के फायदे रखें पाचन को बेहतर - Sugar Apple for Digestion in Hindi

सीताफल तांबा और फाइबर का प्रचुर स्रोत होता है, जो पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। इससे कब्ज और आँतों की परेशानी कम हो जाती है। इसकी लुगदी को मैश करें और कुछ पानी लेकर इसे मिक्स कर लें। यह दस्त को रोकने के लिए मल को मजबूत करने में सहायता करता है।

(और पढ़ें - पाचन क्रिया सुधारने के उपाय)

शरीफा फल के गुण दिलाए डायबिटीज से राहत - Sitaphal for Diabetes in Hindi

सीताफल रक्त शर्करा के स्तर को नियमित करने में सहायता करता है। आहार फाइबर में भरपूर होने के नाते, यह टाइप 2 डायबिटीज के विकास की संभावना को कम करता है। यह फल शरीर में निहित रक्त शर्करा को अवशोषित करने में सहायता करता है। सीताफल का सेवन शरीर में रक्त शर्करा को बढ़ने से रोकता है।

(और पढ़ें - डायबिटीज कम करने के उपाय)

शरीफा का उपयोग है एनीमिया में सहायक - Sugar Apple Benefits for Anemia in Hindi

जो लोग एनीमिया से ग्रस्त होते हैं, वो सीताफल का सेवन कर सकते हैं। शरीर में आयरन की कमी के कारण यह रोग होता है। इस रोग के लक्षण भिन्न-भिन्न भी हो सकते हैं। हालांकि, सबसे अधिक होने वाले लक्षणों में चक्कर आना और थकान महसूस होना शामिल है। सीताफल एक बहुत अच्छा विकल्प है जिससे आपको एनीमिया को रोकने में मदद मिल सकती है, क्योंकि इसमें लोहे की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।

(और पढ़ें - एनीमिया के घरेलू उपाय)

सीताफल के औषधीय गुण बचाए कैंसर से - Sharifa Fruit for Cancer in Hindi

एक हालिया अध्ययन से पता चला है कि सीताफल में ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो कैंसर को रोकने वाले गुण के रूप में कार्य करते हैं। यह कैंसर के विकास की संभावनाओं को रोकता है। इसमें एसिटोजिनिन और एल्कोनॉइड होते हैं जो ट्यूमर कोशिकाओं के विकास को रोकते हैं।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

सीताफल फॉर प्रेगनेंसी - Sitaphal for Pregnancy in Hindi

स्वस्थ गर्भावस्था को बढ़ावा देने के लिए फोलेट आवश्यक होता है, क्योंकि यह तंत्रिका ट्यूब दोषों की संभावनाओं को रोकता है। सीताफल में फोलेट की उच्च मात्रा होती है, जो गर्भावस्था के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में मदद करती है। गर्भावस्था के दौरान सीताफल का सेवन गर्भस्राव की संभावना को कम करता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के लक्षण और लड़का पैदा करने के उपाय)

शरीफा फल के फायदे हैं गठिया में उपयोगी - Sharifa Fal Ke Fayde Hain Gathiya Mein Upyogi in Hindi

अनुसंधान से पता चला है कि सीताफल की पत्तियों का काढ़ा रूमेटिक गठिया में सहायता करता है। यह एसिड को नष्ट करके शरीर में जल संतुलन को बराबर करके दर्द को कम करता है। इसके अलावा, सीताफल में मैग्नीशियम होता है जो शरीर में सामान्य तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट संतुलन को नियंत्रित करता है। यह गठिया और गठिया के कारण सूजन की संभावना को कम करता है।

(और पढ़ें - गठिया के घरेलू उपाय)

सीताफल है जूँ का में उपयोगी - Sugar Apple for Head Lice in Hindi

सीताफल पाउडर जूँ को नष्ट करने में सहायक होता है। इसे नारियल के तेल या पानी में मिलाकर पेस्ट तैयार करें। फिर इसे खोपड़ी पर लगाएं और इसे 15 से 20 मिनट तक लगा रहने दें। आंखों को इस पाउडर के संपर्क से बचायें, क्योंकि यह आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है और अंधापन पैदा कर सकता है।

 

(और पढ़ें - सिर की जूँ के घरेलू उपचार)

  1. इसके बीज विषाक्त होते हैं। इसलिए इसके बीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। (और पढ़ें - फूड पाइज़निंग से बचने के उपाय)
  2. इसे मध्यम मात्रा में खाएं। अधिक मात्रा में सेवन करने से आपको अपच हो सकती है। (और पढ़ें - बदहजमी के घरेलू उपाय)
  3. कुछ लोगों को इसके सेवन से एलर्जी हो सकती है। इसलिए ऐसे लोगों को इसके सेवन से बचना चाहिए। (और पढ़ें - एलर्जी के घरेलू उपाय)
और पढ़ें ...