किडनी हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है जो रोजाना लगभग 190 लीटर खून को प्रोसेस करने का काम करती है। इसके अलावा शरीर में मौजूद अतिरिक्त पानी, अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को भी शरीर से बाहर निकालने का काम करती है ताकि हमारा शरीर सुचारू ढंग से कार्य करता रहे। किडनी, कोशिकाओं द्वारा उत्पादित एसिड को भी शरीर से बाहर निकालती है ताकि शरीर में पानी, नमक और खनिज का एक स्वस्थ संतुलन बना रहे। 

(और पढ़ें- किडनी को स्वस्थ रखने के 5 सीक्रेट)

अगर किडनी विषाक्त पदार्थों और शरीर में जमा कचरे को बाहर निकालने में असमर्थ हो जाए तो शरीर के विभिन्न अंग जैसे लिवर, गुर्दा और बाकी अंगों के सामान्य कार्य में भी रूकावट आने लगेगी जिससे व्यक्ति को कई तरह की बीमारियां जैसे- थकान, पेट दर्द, सिरदर्द, शरीर में पानी जमा होना (वॉटर रिटेंशन) और किडनी स्टोन का खतरा हो सकता है। ऐसे में हम आपको इस आर्टिकल में किडनी को साफ करने का तरीका और उसके घरेलू उपाय के बारे में बता रहे हैं।

(और पढ़ें - किडनी खराब करने वाली इन 10 आदतों से करें परहेज)

  1. किडनी को साफ रखना क्यों जरूरी है? - Why is Kidney detox important in hindi?
  2. किडनी को साफ रखने का घरेलू उपाय है पानी - Kidney ko saaf rakhne ka upay hai pani
  3. किडनी को साफ रखने का उपाय है अंगूर - Kidney ko saaf rakhta hai angoor
  4. किडनी को साफ और स्वस्थ रखती है चेरी और क्रैनबेरी - Kidney ko saaf rakhti hai cherry aur cranberry
  5. किडनी को साफ करने का घरेलू उपाय है सेब का सिरका - Kidney saaf karne ka upay hai apple cider vinegar
  6. किडनी को साफ रखने का आसान उपाय है फ्रूट जूस - Kidney ko detox karne ka tarika hai fruit juice
  7. किडनी को साफ करने के लिए पिएं हर्बल चाय - Kidney ki safai ke liye herbal tea
  8. किडनी को साफ करने का उपाय है तुलसी - Kidney ko detox kare tulsi se
  9. किडनी साफ करने का उपाय है कैल्शियम - Calcium wale foods khaye kidney rahegi saaf
  10. किडनी को साफ करने के लिए खाएं हरी पत्तेदार सब्जियां - Kidney ko cleanse karne ke liye hari sabziyaan
  11. किडनी को साफ करने के घरेलू उपाय के डॉक्टर

जब किडनी हमारे शरीर की सफाई करने और हमें स्वस्थ बनाए रखने में इतना महत्वपूर्ण रोल निभाती है तो जाहिर सी बात है कि हमें भी इसकी सफाई का पूरा ध्यान रखना चाहिए। वैसे तो हमारी किडनी खुद ही अपने आपको को डीटॉक्स करने या अपनी सफाई करने में सक्षम है लेकिन कई बार ऐसा होता है कि किडनी बेहतर तरीके से काम नहीं कर पाती जिस कारण व्यक्ति को थकान, पेट फूलना और नींद न आना जैसी समस्याएं हो जाती हैं। ऐसे में आप अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करके, किडनी के अनुकूल खाने-पीने की चीजों का सेवन कर, किडनी की सफाई या डीटॉक्स में मदद कर सकते हैं।

(और पढ़ें - बॉडी को डीटॉक्स (अंदर से साफ) कैसे करें)

अगर आपको किसी तरह की कोई बीमारी नहीं है तो सिर्फ संतुलित आहार और पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन कर अपनी किडनी को साफ और स्वस्थ रख सकते हैं। हालांकि कुछ खाद्य पदार्थ, जड़ी बूटियां और सप्लिमेंट्स ऐसे भी हैं जिनका सेवन कर आप अपनी किडनी को साफ और मजबूत बना सकते हैं। इन 4 वजहों से जरूरी है किडनी की सफाई:

  • अगर किडनी साफ और डीटॉक्स रहे तो न सिर्फ किडनी बेहतर तरीके से अपना कार्य कर पाती है बल्कि पेट फूलने की समस्या भी नहीं होती।
  • किडनी को साफ रखने से जो चीजें हम खाते हैं उन्हें प्रोसेस कर, पोषक तत्वों को अवशोषित करने और भोजन को ऊर्जा में बदलने की क्षमता में सुधार होता है, जिससे थकान महसूस नहीं होती। (और पढ़ें- थकान दूर करने के घरेलू उपाय)
  • जब अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थ शरीर से बाहर निकल जाते हैं तो शरीर में संभावित संक्रमण और मूत्राशय से जुड़ी समस्याओं का जोखिम कम हो जाता है।
  • किडनी को साफ रखने से किडनी में पथरी होने की आशंका भी कम हो जाती है, शरीर में हार्मोन्स का असंतुलन नहीं होता और मुंहासे, एक्जिमा और स्किन पर चकत्ते जैसी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है।

यह तो हम सभी जानते हैं कि इंसान का शरीर लगभग 60 प्रतिशत पानी से बना है। ब्रेन से लेकर लिवर तक शरीर के हर एक अंग को अपना कार्य सुचारू ढंग से करने के लिए पानी की जरूरत होती है। शरीर की छनाई या फिल्ट्रेशन सिस्टम का हिस्सा होने के नाते किडनी को पेशाब को शरीर से बाहर निकालने के लिए पानी की जरूरत होती है। जब हम कम पानी पीते हैं तो पेशाब की मात्रा कम होती है। पेशाब कम बनने से किडनी सामान्य रूप से काम नहीं कर पाती जिससे उसमें पथरी का निर्माण हो सकता है।

(और पढ़ें- ज्यादा पानी पीने से जुड़े जोखिम कारक)

लिहाजा यह बेहद जरूरी है कि हम पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं ताकि किडनी किसी भी अतिरिक्त अपशिष्ट पदार्थ को सही तरीके से शरीर से बाहर निकाल सके। पर्याप्त पानी पीना किडनी की सफाई के लिए भी विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। ऐसे में हर व्यक्ति को रोजाना कम से कम 3 से 4 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए।

अंगूर में रेजवेराट्रोल नाम का बेहद फायदेमंद प्लांट कम्पाउंड पाया जाता है। जानवरों पर की गई एक स्टडी में अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि रेजवेराट्रोल के साथ किया जाने वाला उपचार पॉलीसिस्टिक किडनी बीमारी से पीड़ित चूहों में किडनी के इन्फ्लेमेशन की समस्या को कम करने में सक्षम था। इसके अलावा अंगूर खासकर लाल वाले अंगूर में विटामिन सी और फ्लैवनॉयड्स नाम का एंटीऑक्सिडेंट्स भी पाया जाता है जो इन्फ्लेमेशन को कम करने में मदद करता है। अंगूर को किडनी फ्रेंडली फल माना जाता है क्योंकि उसमें पोटैशियम की मात्रा भी अधिक होती है।

(और पढ़ें- इस तरह से अंगूर खाएंगे तो नहीं होगी किडनी की बीमारी)

चेरी और क्रैनबेरी को अक्सर मूत्राशय (ब्लैडर) से जुड़े स्वास्थ्य लाभ के लिए जाना जाता है। कई स्टडीज में यह बात सामने आयी है कि अगर आप अपने डेली डायट में सिर्फ 2 हफ्ते तक रोजाना चेरी और क्रैनबेरी को शामिल करें तो यूरिन इंफेक्शन (यूटीआई) के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। चेरी और क्रैनबेरी में पर्याप्त मात्रा में एंटीऑक्सि़डेंट्स भी होते हैं जो किडनी को साफ करने के साथ ही शरीर को कई दूसरी बीमारियों से भी बचाते हैं। आप चाहें तो चेरी और क्रैनबेरी को यूं ही सूखा खा सकते हैं, उन्हें सलाद, ओट्स, मिल्कशेक या स्मूदी में मिलाकर खा सकते हैं।

(और पढ़ें - क्रैनबेरी जूस के फायदे)

ऐपल साइडर विनिगर या सेब का सिरका किडनी में होने वाले ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस की प्रक्रिया को रोकने में प्रभावी माना जाता है। यह शरीर में एंटीऑक्सिडेंट्स के स्तर को बढ़ाता है, ब्लड शुगर के लेवल को संतुलित करता है और ब्लड प्रेशर भी कम करता है जिससे किडनी की सेहत के लिए अनुकूल स्थिति बनती है। सेब के सिरके में साइट्रिक एसिड होता है जो किडनी की पथरी को समाप्त कर देता है। नियमित रूप से सेब के सिरके का सेवन करने से किडनी से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं।

(और पढ़ें - विशेषज्ञ की चेतावनी सेब के सिरके का सीधे सेवन न करें)

नींबू, संतरा, मौसंबी आदि के जूस में साइट्रिक एसिड होता है। यह साइट्रिक एसिड या साइट्रेट पेशाब में मौजूद कैल्शियम के साथ बंधन करके किडनी में पथरी के निर्माण को रोकने में मदद करता है। साथ ही यह कैल्शियम क्रिस्टल की वृद्धि को भी रोकता है जो किडनी में पथरी का कारण बन सकता है। इसके अलावा रोजाना एक कप ताजा फलों का जूस पीने से रोजाना तरल पदार्थों के सेवन की अनुशंसित मात्रा को पूरा करने में भी मदद मिलती है।

(और पढ़ें - जानिए जूस और स्मूदी के बीच का अंतर)

आपको यह सुनकर हैरानी होगी लेकिन यह सच है कि चाय किडनी को साफ करने में मदद कर सकती है। आप एक कप चाय की चुस्की का आनंद लेने के साथ ही अपनी किडनी की सेहत में भी सुधार कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए सामान्य दूध वाली चाय पीने की बजाए आपको कुछ ऐसी हर्बल चाय का सेवन करना होगा जो किडनी की सफाई में आपकी मदद करें जैसे- कंडाली या बिच्छू बूटी से बनने वाली चाय, हाइड्रैन्जिया से बनने वाली चाय, एक तरह का फूल सिंहपर्णी या कुकरौंधा की चाय आदि। किडनी की सफाई के लिए आप इन चायों को अपनी दिनचर्या में शामिल करें लेकिन बहुत अधिक मात्रा में इनका सेवन न करें।

तुलसी को एक प्रभावी मूत्रवर्धक औषधी के रूप में जाना जाता है। यह किडनी में मौजूद किसी भी तरह की पथरी को हटाने के साथ ही किडनी के कामकाज में सुधार करने में मदद करती है। साथ ही तुलसी, खून में यूरिक एसिड के स्तर को भी कम करती है और किडनी की सेहत में सुधार करती है। तुलसी में मौजूद अनिवार्य तेल और एसिटिक एसिड जैसे तत्व न सिर्फ किडनी की सफाई में मददगार हैं बल्कि पथरी को तोड़कर आसानी से शरीर से बाहर निकालने में भी मदद करते हैं। साथ ही तुलसी पेनकिलर के तौर पर भी काम करती है।

(और पढ़ें- तुलसी की चाय के फायदे नुकसान)

बहुत से लोगों को लगता है कि अगर वे कैल्शियम का सेवन नहीं करेंगे तो उन्हें किडनी में स्टोन की समस्या नहीं होगी। लेकिन हकीकत इससे ठीक उलट है। बहुत अधिक मूत्र ऑक्सिलेट किडनी की पथरी का कारण बन सकता है। ऐसे में इस पदार्थ के अवशोषण और उत्सर्जन को कम करने के लिए कैल्शियम को ऑक्सिलेट के साथ बांधने की जरूरत होती है। लिहाजा कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे- सोया मिल्क, बादाम मिल्क, टोफू आदि का सेवन करें ताकि शरीर में कैल्शियम की कमी न हो और किडनी भी साफ रहे।

पालक, केल और साग जैसी हरी पत्तेदार सब्जियां हमारी सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद हैं। इनमें एंटीऑक्सिडेंट्स और जरूरी विटामिन्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जिससे किडनी की सफाई करने में मदद मिलती है। लेकिन अगर आप पालक का सेवन कर रहे हैं तो इसका सीमित मात्रा में ही सेवन करें क्योंकि कई बार बहुत ज्यादा पालक खाने से भी किडनी में पथरी की समस्या हो सकती है।

(और पढ़ें- हरी सब्जियों के गुण और फायदे)

Dr. Pravin Verma

Dr. Pravin Verma

आयुर्वेदा
19 वर्षों का अनुभव

Dr. Aman Negi

Dr. Aman Negi

आयुर्वेदा
1 वर्षों का अनुभव

Dr Santosh Kumar Gupta

Dr Santosh Kumar Gupta

आयुर्वेदा
14 वर्षों का अनुभव

Dr. Anil Pratap Tanwar

Dr. Anil Pratap Tanwar

आयुर्वेदा
8 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ