myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गले में दर्द होना एक बेहद आम समस्या है जो कई कारणों से हो सकती है। ये समस्या सर्दी के मौसम में अधिक होती है क्योंकि तब हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली (रोग प्रतिरोधक क्षमता) कमजोर होती है और ऐसे में श्वसन सम्बन्धी रोग होने का जोखिम अधिक होता है।

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय)

गले में दर्द होना किसी बीमारी या समस्या का संकेत हो सकता है। आमतौर पर गले दर्द की समस्या अपने आप कुछ दिनों में ठीक हो जाती है, लेकिन कभी-कभी इसके लिए डॉक्टर से उपचार लेने की आवश्यकता भी हो सकती है।

इस लेख में क्या गला दर्द होना एक गंभीर स्थिति होती है, गला दर्द हो तो क्या करें और ऐसी स्थिति में डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए के बारे में बताया गया है।

  1. क्या गला दर्द होने एक गंभीर समस्या है - Kya gale ka dard gambhir hota hai
  2. गले में दर्द हो तो क्या करना चाहिए - Gale me dard hone par kya karna chahiye
  3. गला दर्द होने पर डॉक्टर के पास कब जाएं - Gale ke dard ke liye doctor ke pas kab jana chahiye

वैसे तो गले में दर्द होने के कारण बहुत ही सामान्य होते हैं, जिनके लिए किसी चिकित्सा की आवश्यकता नहीं होती, लेकिन कुछ मामलों में ये किसी गंभीर समस्या का संकेत हो सकते हैं और सही समय पर इलाज न करने पर इससे गंभीर समस्याएं हो सकती हैं, जैसे -

(और पढ़ें - पित्ती उछलने पर क्या करना चाहिए)

वैसे तो गले के दर्द का इलाज उसके कारण पर निर्भर करता है, लेकिन निम्नलिखित प्राथमिक उपचार से आपको आराम मिल सकता है -

  1. आराम करें और ज्यादा न बोलें। (और पढ़ें - गले में खराश के लक्षण)
  2. अगर गले में दर्द के साथ आपको नाक बंद या गले में जमाव महसूस हो रहा है, तो सोते समय अपनी गर्दन के नीचे सहारा देने के लिए तकिए रख लें, ताकि आपको सांस लेने में आसानी हो। (और पढ़ें - बंद नाक खोलने के उपाय)
  3. जितना हो सके उतने तरल पदार्थ पिएं। इससे आपका गला सूखेगा नहीं और आपके शरीर में पानी की कमी भी नहीं होगी। (और पढ़ें - शरीर में पानी की कमी के लिए फल)
  4. एक गिलास पानी में एक चम्मच नमक डालें और इससे दिन में दो से तीन बार गरारे करें। अगर आप पानी को हल्का सा गर्म करेंगे तो आपको गले दर्द से जल्दी आराम मिलेगा। (और पढ़ें - नमक के पानी के फायदे)
  5. कैफीन और शराब का सेवन न करें, इनसे आपके गले दर्द की समस्या बढ़ सकती है और आपके शरीर में पानी की कमी भी हो सकती है। (और पढ़ें - शराब की लत छुड़ाने के घरेलू उपाय)
  6. घर व कमरे में नमी बनाए रखने के लिए "ह्यूमिडिफायर" (Humidifier) का उपयोग करें, इससे कमरे में मौजूद हवा का सूखापन खत्म होगा जो गले के दर्द की समस्या बढ़ा सकती है। (और पढ़ें - गले के कैंसर के लक्षण)
  7. अगर आपके पास ह्यूमिडिफायर नहीं है, तो गर्म शावर से भाप लें या अगर आपके  बाथरूम में भाप है, तो कुछ देर वहां बैठ जाएं। इससे सूजन और दर्द दोनों में आराम मिलेगा। (और पढ़ें - सूजन कम करने के घरेलू उपाय)
  8. गले के दर्द के लिए आप कुछ ठंडा भी खा सकते हैं, जैसे आइस क्रीम। (और पढ़ें - गला बैठने के लक्षण, कारण)
  9. बाजार में गले दर्द के लिए चूसने वाली मीठी गोलियां मिलती हैं, आप इनका उपयोग भी कर सकते हैं, लेकिन ये गोलियां छोटे बच्चों को न दें क्योंकि ये उनके गले में फंस सकती हैं। (और पढ़ें - गले में कुछ अटक जाए तो क्या करें)
  10. मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली नॉन-स्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी (Nonsteroidal anti-inflammatory medicines) दवाएं, जैसे आइबुप्रोफेन (Ibuprofen) और नेप्रोक्सेन (Naproxen) गले में दर्द और सूजन से आराम दे सकती हैं। (और पढ़ें - पैरों में सूजन के कारण)
  11. अगर आपको ज्यादा दर्द हो रहा है, तो आप मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली पेन किलर दवाएं भी ले सकते हैं, जैसे टायलेनॉल (Tylenol) और एसीटामिनोफेन (Acetaminophen) अदि। हालांकि, कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना बेहतर होता है। (और पढ़ें - पेन किलर के साइड इफेक्ट)
  12. शहद खाने से भी गले का दर्द ठीक होता है। (और पढ़ें - शहद और गर्म पानी के लाभ)
  13. ऐसी कोई भी वस्तु से दूर रहें, जो आपके गले का दर्द बढ़ा सकती हैं या गले में लगती हैं, जैसे सिगरेट का धुआं या फिनाइल जैसे सफाई करने वाले पदार्थ। (और पढ़ें - धूम्रपान छोड़ने के घरेलू उपाय)
  14. लहसुन में एंटी-बैक्टीरियल पदार्थ होते हैं, जिनसे इन्फेक्शन में आराम मिलता है। गला दर्द होने पर लहसुन की एक फांक खाएं। (और पढ़ें - खाली पेट लहसुन खाने के फायदे)

(और पढ़ें - बैक्टीरियल संक्रमण के लक्षण)

जब स्वास्थय की बात होती है, तो थोड़ा सा भी संदेह होने पर आपको चिकित्स्कीय सलाह ले लेनी चाहिए। वैसे तो वायरल संक्रमण से होने वाले गले का दर्द आमतौर पर कुछ दिनों में अपने आप ठीक हो जाता है, लेकिन कुछ स्थितियों में आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए। ये स्थितियां निम्नलिखित हैं -

  1. दर्द बहुत ज्यादा होना।
  2. निगलने में कठिनाई होना।
  3. अगर आप गर्भवती हैं और आपको गले में दर्द हो रहा है। (और पढ़ें - गर्भावस्था में देखभाल)
  4. तेज बुखार होना। (और पढ़ें - बुखार भगाने के घरेलू उपाय)
  5. सांस लेने में दिक्कत होना। (और पढ़ें - सांस लेने में दिक्कत हो तो क्या करे)
  6. गला दर्द के साथ पेट दर्द होना या उल्टी आना। (और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)
  7. अगर आपको रोग प्रतिरोधक क्षमता कम करने वाली कोई बीमारी है, जैसे एचआईवी, डाइबिटीज या कैंसर। (और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता कैसे बढ़ायें)
  8. सांस लेने में दर्द होना। (और पढ़ें - छाती में दर्द के कारण)
  9. मुंह से लार निकलना। (और पढ़ें - मुंह सूखने के कारण)
  10. मुंह खोलने में दिक्कत होना। (और पढ़े  - चेहरे का लकवा के लक्षण)
  11. अगर आपके परिवार में किसी और व्यक्ति को भी हाल ही में गले खराब की समस्या हुई है।
  12. जोड़ों में दर्द होना। (और पढ़ें - जोड़ों में दर्द के घरेलू उपा)
  13. अगर आपको या आपके आस-पास किसी को डिहाइड्रेशन के लक्षण अनुभव हो रहे हैं।
  14. गर्दन में दर्द या अकड़न होना। (और पढ़ें - गर्दन में दर्द के घरेलू उपाय)
  15. अगर मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली दवाएं खाने के बाद भी गले का दर्द ठीक नहीं हो रहा है।
  16. कान में दर्द होना। (और पढ़ें - कान में दर्द के घरेलू उपाय)
  17. दर्द के कारण नींद न आना या सोने में दिक्कत होना। (और पढ़ें - नींद की कमी के कारण)
  18. थूक में या बलगम में खून आना। (और पढ़ें - बलगम के कारण)

 

नोट: प्राथमिक चिकित्सा या फर्स्ट ऐड देने से पहले आपको इसकी ट्रेनिंग लेनी चाहिए। अगर आपको या आपके आस-पास किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की आपातकालीन स्वास्थ्य समस्या है, तो डॉक्टर या अस्पताल ​से तुरंत संपर्क करें। यह लेख केवल जानकारी के लिए है।

और पढ़ें ...