• हिं

शरीर का वजन खानपान की गलत आदतों या शारीरिक गतिविधियों की कमी के कारण बढ़ सकता है। ऐसे में इन आदतों में बदलाव करके बढ़ते वजन को कम किया जा सकता है। लेकिन कुछ लोग थायराइड के कारण अपने बढ़ते वजन से काफी परेशान रहते हैं। उन्हें लगता है कि थायराइड के कारण बढ़ा हुआ वजन कम नहीं हो सकता. पर ऐसा नहीं है। अपनी डाइट और दिनचर्या में कुछ चीजों को जोड़कर या घटाकर थायराइड में वजन को कम कर सकते हैं। लेकिन सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि थायराइड में वजन बढ़ने का क्या कारण है। हम इस लेख में थायराइड में बढ़ते वजन का कारण और इसे कम करने के उपाय बताएंगे।

(और पढ़ें - थायराइड का इलाज)

  1. थायराइड में क्यों बढ़ता है वजन? - Why does weight increase in hypothyroidism in Hindi?
  2. थायराइड में वजन कम करने के लिए क्या खाना चाहिए? - Diet to reduce weight in thyroid in Hindi?
  3. थायराइड में वजन कैसे कम करें? जानें कुछ उपाय - Weight loss tips in thyroid in Hindi
थायराइड में वजन कैसे कम करें? के डॉक्टर

हमारे गले में एक थायराइड ग्रंथि मौजूद होती है, जिसका आकार अखरोट के समान होता है. यह  ग्रंथि मेटाबॉलिज्म यानि चयापचय को नियंत्रित करने का काम करती है. लेकिन जब इस ग्रंथि के काम में रुकावट आती है तब व्यक्ति का वजन बढ़ने लगता है. थायराइड भी दो तरह का होता है- हाइपरथायरायडिज्म (hyperthyroidism) और हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism). जब व्यक्ति को हाइपोथायरायडिज्म होता है तो मरीज को भूख कम लगती है और उसका वजन बढ़ता है. जबकि जो व्यक्ति हाइपरथाइरॉयडिज़्म से ग्रस्त होता है उसे भूख ज्यादा लगती है और लगातार वजन कम होने की परेशानी रहती है. हालांकि, इनके अन्य लक्षण भी होते हैं. लेकिन यह भूख और वजन मुख्य हैं.

(और पढ़ें - थायराइड कम करने के उपाय)

थायराइड में वजन कम करने के लिए कोई विशेष डाइट फॉलो करने की जरूरत नहीं है. बस अपनी रेगुलर डाइट में थोड़ा-सा बदलाव करके आप अपने वजन को कम कर सकते हैं. यह बदलाव निम्न प्रकार है -

  • फाइबर की ज्यादा मात्रा - अपनी डाइट में ऐसी चीजों को शामिल करें, जिसके अंदर भरपूर मात्रा में फाइबर हो. थायराइड रोगियों के लिए फाइबर का सेवन एकदम सुरक्षित है. ऐसे में व्यक्ति अपनी डाइट में एवोकाडो, स्ट्रॉबेरी, सेब, केला, गाजर, ब्रोकली, राजमा, ओट्स, बदाम, चिया सीड्स आदि फाइबर से समृद्ध चीजों को शामिल कर सकता है.

  • कार्बोहाइड्रेट और चीनी का सीमित मात्रा में सेवन - थायराइड से पीड़ित व्यक्ति लो ग्लाइसेमिक डाइट (glycemic diet) यानि जिस डाइट से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर सामान्य रहे, वजन कम हो, कैंसर का जोखिम कम हो और दिल से संबंधित समस्याओं की संभावना भी कम हो, उन चीजों को जोड़ सकते हैं. इसके लिए लोग अपनी डाइट में सेब, कीवी, ब्रोकली, गाजर, स्ट्रॉबेरी, चावल, डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे- दूध, दही, चीज, कोकोनट मिल्क, सोया मिल्क, बादाम का दूध, पास्ता, होल ग्रेन आदि को अपनी डाइट में जोड़ें. इन सभी को लो ग्लाइसेमिक डाइट में शामिल किया गया है. इनके अंदर कार्बोहाइड्रेट और चीनी की मात्रा सीमित होती है.

  • प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को जोड़ें - थायराइड के कारण बढ़ते वजन को रोकने में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ आपके बेहद काम आ सकता है. यह न केवल मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है बल्कि हाइपोथायरायडिज्म के कारण जो मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, उनको मजबूती देने में भी मददगार है. ऐसे में आप लोग अपनी डाइट में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे- अंडा, बादाम, ओट्स, दूध, ब्रोकली, पंपकिन सीड्स, मछली, पीनट आदि को अपनी डाइट में जोड़ सकते हैं.

  • हेल्दी फैट्स युक्त खाद्य पदार्थों को जोड़ें - अपनी डाइट में हेल्दी फैट को जोड़ने से व्यक्ति शरीर में लिपिड के स्तर को संतुलित रख सकता है और हाइपोथायरायडिज्म के प्रभाव को रोक सकता है. ऐसे में अपनी डाइट में हेल्दी फैट्स फूड्स के रूप में एवोकाडो, चीज़, डार्क चॉकलेट, अंडा, नट्स, चिया सीड्स, ऑलिव ऑयल, नारियल का तेल, नारियल आदि को अपनी डाइट में जोड़ सकते हैं.

    (और पढ़ें - थायराइड में क्या खाना चाहिए)

थायराइड में वजन कम करने के लिए डाइट में बदलाव करने के साथ-साथ एक्सरसाइज को दिनचर्या का हिस्सा बनाना जरूरी है. ऐसे में डंबल या संतुलित भार उठाने से मांसपेशियों को बढ़ने में मदद मिल सकती है. साथ ही हड्डियों को मजबूती और चयापचय में सुधार भी आ सकता है. हालांकि थायरॉइड में किस तरीके की एक्सरसाइज करना सही है, इसके लिए एक्सपर्ट की मदद लें. यदि आप अपनी डाइट में कैलोरी को जोड़ रहे हैं तो इसकी मात्रा का भी ख्याल रखें. आप सही डाइट का चयन करने के लिए न्यूट्रिशन एक्सपर्ट की मदद भी ले सकते हैं.

(और पढ़ें - महिलाओं में थायराइड का कारण)

Dr. Tanmay Bharani

Dr. Tanmay Bharani

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Sunil Kumar Mishra

Dr. Sunil Kumar Mishra

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
23 वर्षों का अनुभव

Dr. Parjeet Kaur

Dr. Parjeet Kaur

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
19 वर्षों का अनुभव

Dr. M Shafi Kuchay

Dr. M Shafi Kuchay

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान
13 वर्षों का अनुभव

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ