हम सभी मूली के पौष्टिक गुणों बारे में जानते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं, मूली के बीज भी पोषक तत्वों के स्रोत होते हैं और कुछ देशों में एक लोकप्रिय भोजन के रूप में उपयोग किये जाते हैं।

(और पढ़ें - मूली के पत्ते के फायदे)

मूली के बीज में विटामिन सी, फोलेट, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, मैंगनीज, कॉपर और प्रोटीन जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। साथ ही इन बीजों में एंटीऑक्सीडेंट और लिनोलेइक एसिड, लिनोलेनिक एसिड, एर्यूसिक एसिड व सिनपिन जैसे कई ऑर्गेनिक एसिड (कार्बनिक अम्ल) भी होते हैं। एक कप मूली के बीज में केवल 16 कैलोरी होती हैं।

  1. मूली के बीज के फायदे - Mooli ke Beej ke Fayde

कई स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के लिए सैकड़ों वर्षों से मूली के बीजों का उपयोग किया जा रहा है। ये बीज अपच को ठीक करने, थकान को कम करने के साथ-साथ रक्त और शरीर को शुद्ध करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इनका उपयोग माइग्रेन का सिरदर्द, गले में दर्द, एडिमा, बंद नाक और हैंगओवर का इलाज करने के लिए भी किया जा सकता है।

ये बीज पेट फूलना, डायबिटीज, मुहांसे और सेल्युलाईट के लिए भी लाभकारी होते हैं। मूली के बीज इम्युनिटी को मजबूत करने के साथ साथ किडनी के कार्यों में सुधार करने में भी मदद करते हैं। मूली के बीज के तेल को ड्राई और क्रैक त्वचा को नरम करने के लिए उपयोग किया जाता है। तो चलिए मूली के लाभों के बारे इस लेख में विस्तार से जानते हैं:

मूली के बीज के फायदे त्वचा के लिए - Mooli ke beej ke fayde tvcha ke liye

विटामिन बी और विटामिन सी के साथ साथ विभिन्न खनिज पदार्थ और एंटीऑक्सीडेंट में परिपूर्ण होने के कारण, ये बीज ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करके त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करते हैं। यह क्रैक और ड्राई स्किन से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकते हैं। और साथ ही फाइन लाइन्स और झुर्रियों जैसे बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने में लाभकारी पाया गया है। इसके अतिरिक्त, मूली के बीज का उपयोग त्वचा को मॉइस्चराइज करने के लिए भी किया जाता है।

(और पढ़ें - त्वचा को मुलायम रखने के घरेलू उपाय)

मूली के बीज के लाभ रखें ब्लड प्रेशर को नियंत्रित - Mooli ke beej ke labh rakhen blood pressure ko niyntrit

मूली के बीज में पाए जाने वाले कुछ फ्लैवोनोइड्स आपके कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम को हृदय रोगों से बचाने और ब्लड प्रेशर को नियत्रिंत रखने में मदद कर सकते हैं। इन बीजों के सेवन से हाई ब्लड प्रेशर, दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है।

(और पढ़ें - हाई बीपी में क्या खाएं)

इसके अलावा मूली के बीज में पोटैशियम पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर के स्तर को कम करने के लिए अच्छी तरह से कार्य करता है। पोटेशियम रक्त वाहिकाओं को चौड़ा ,करने के साथ साथ रक्त परिसंचरण को सक्रिय करता है। इसलिए हाई ब्लड प्रेशर के स्तर को नियंत्रित करने के लिए, आपको नियमित रूप से मूली के बीजों का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़ें - हाई ब्लड प्रेशर में क्या खाएं)

 

मूली के बीज का सेवन बनाएं हड्डियों को मजबूत - Mooli ke beej ka sewan banayen haddiyon ko majboot

मूली के बीज में पाए जाने वाले खनिजों में से एक है कैल्शियम। कैल्शियम हड्डी के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी तत्व होता है जो ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को रोकने में मदद करता है। इन बीजों में फॉस्फोरस, मैंगनीज और कॉपर जैसे तत्व हड्डी खनिज घनत्व में सुधार करने के लिए लाभकारी होते हैं।

मूली के बीजों का नियमित उपयोग हड्डियों को मजबूत करने के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। साथ ही हड्डियों से जुडी परेशानियों को दूर करने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए जूस रेसिपी)

मूली के बीज का उपयोग बचाएं किडनी स्टोन से - Mooli ke beej ka upyog bachayen kidney stone se

सदियों से, मूली के बीजों को मूत्रवर्धक गुणों के लिए, पारंपरिक घरेलू उपाय के रूप में उपयोग किया जा रहा है।ये किडनी में ऑक्सीलिक एसिड (पथरी के रूप में जमने वाला तत्व) और अन्य पथरियों को तोड़ने में मदद कर सकते हैं। साथ ही नियमित रूप से किडनी को साफ रखने में मदद करते हैं। इसलिए मूली के बीज का सेवन गुर्दे की पत्थरी की समस्या से निपटने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - किडनी स्टोन के घरेलू उपाय)

इसके अलावा, मूली मूत्राशय को साफ करने के साथ-साथ इसके कार्यों को सुचारु रूप से चलाने में भी बहुत उपयोगी हो सकती है। इन बीजों के सेवन से दस्त की समस्या का इलाज भी किया जा सकता है।

(और पढ़ें - पथरी में क्या खाएं)

मूली के बीज खाने के फायदे रखें लिवर को स्वस्थ - Mooli ke beej khane ke fayde rakhe liver ko swsth

जिस प्रकार से ये बीज किडनी के लिए लाभकारी होते हैं, उसी तरह लिवर के कार्य के लिए भी ये बीज लाभकारी होते हैं। इसके अलावा आपके रक्त में से विषाक्त पदार्थों के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। लिवर के माध्यम से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाला जाता है। एक रिसर्च के अनुसार मूली के बीज में कुछ सक्रिय तत्व होते हैं जो लिवर फिल्टर में रूकावट को दूर करने, समग्र स्वास्थ्य और चयापचय के कार्यों में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

(और पढ़ें - लिवर को स्वस्थ रखने के लिए 10 सर्वोत्तम आहार)

मूली के बीज रखें पाचन को स्वस्थ - Mooli ke beej rakhen paachan ko swsth

अन्य बीजों की तरह, मूली के बीज में भी आहार फाइबर भरपूर होता है, जो पाचन को स्वस्थ और बेहतर रखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है। यह ना केवल आंतों के सिस्टम को नियमित रखता है बल्कि दस्त को भी रोकता है। साथ ही पेरिस्टाल्टिक गति को भी बढ़ाने में मदद कर सकता है, जो नियमित रूप से आसानी से आंत के माध्यम से भोजन को आगे भेजती है। आहार फाइबर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम कर सकता है और ब्लड शुगर को भी नियंत्रित कर सकता है।

(और पढ़ें - दस्त रोकने के घरेलू उपाय)

मूली फाइबर का एक बहुत ही अच्छा प्राकृतिक स्रोत है। इसमें सूजन को कम करने वाले गुण होते हैं जो आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखते हैं। मूली के बीज अपच और आंतों की समस्याओं को कम करने में सहायता करते हैं।

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

मूली के बीज के औषधीय गुण बचाएं कैंसर से - Mooli ke beej ke aushdhiya gun bachyaen cancer se

कैंसर के खतरे से बचने के लिए मूली के बीज सबसे अच्छे तरीकों में से एक हैं। एक रिसर्च के अनुसार मूली के बीज कई प्रकार के कैंसर जैसे कोलन, गुर्दे, मौखिक, आंत और पेट के कैंसर आदि से बचाने में मदद कर सकते हैं।

ये बीज फ्लैवोनोइड्स और अन्य पॉलीफेनोलिक एंटीऑक्सिडेंट्स, मुक्त कणों को खत्म करते हैं। फोलिक एसिड और विटामिन सी से परिपूर्ण बीज ऑक्सीडेटिव तनाव को धीमा करने और सेलुलर उत्परिवर्तन को रोकने में भी मदद करते हैं।

( और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

रैडिश सीड्स फॉर हार्ट इन हिंदी - Radish seeds for heart in hindi

मूली के बीज फ्लवोनोइड्स से भरपूर होते हैं जो कई हृदय की बीमारियों को कम करने में मदद करते हैं। मूली के बीज का नियमित उपयोग धमनी को कठोर होने से रोकने में मदद करता है। इसके अलावा मूली के बीज का सेवन दिल के दौरे के खतरे को भी कम करता है। इसलिए आपको अपने भोजन में इन बीजों का सेवन जरूर करना चाहिए।

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के तरीके उपाय)

मूली के बीज के गुण हैं पीलिये में लाभकारी - Mooli ke beej ke gun hain piliye mein labhkari

मूली के बीज पीलिये का इलाज करने के लिए बहुत ही लाभकारी होते हैं। मूली के बीज के प्राकृतिक गुण, बिलीरुबिन को हटाकर इस समस्या को रोकने में मदद करते हैं। इसके अलावा, मूली के बीज का उपयोग ऑक्सीजन की आपूर्ति को बढ़ाने के साथ साथ लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या को बढ़ाने में भी किया जाता है।

(और पढ़ें - पीलिया में क्या खाएं)

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ