myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आपके द्वारा किसी कार्य को निश्चित तीव्रता के साथ लंबे समय तक करने की क्षमता को स्टेमिना के नाम से जाना जाता है। शारीरिक गतिविधियों को करने के लिए शक्ति की जरूरत होती है और यह शक्ति हमें स्टेमिना से मिलती है। अक्सर कहा जाता है कि स्टेमिना की आवश्यकता केवल एथलीट्स को होती है, लेकिन ऐसा नहीं है। एक मां को अपने नवजात शिशु को संभालने व अपने बड़े बच्चों के पीछे सुबह-सुबह दूध का गिलास लेकर दौड़ने के लिए भी स्टेमिना चाहिए होता है। इसके अलावा दिनभर घर के काम करने के लिए और कामकाजी महिला को घर व ऑफिस दोनों जगह के कामों को संभालने के लिए भी स्टेमिना की जरूरत पड़ती है। स्टेमिना को मानसिक व शारीरिक दो आधारों पर विभाजित किया जाता है। स्वस्थ जीवन के लिए सभी व्यक्तियों में दोनों तरह का स्टेमिना होना बेहद जरूरी होता है। स्टेमिना के महत्व को देखते हुए आगे बताया गया है कि स्टेमिना क्या है, स्टेमिना कैसे बढ़ायें और इसको बढ़ाने का तरीका व उपाय, स्टेमिना को बढ़ाने के लिए क्या व्यायाम करना चाहिए आदि। इसके साथ ही साथ आगे यह भी बताया गया है कि स्टेमिना बढ़ाने के लिए क्या खाएं और क्या करें। 

(और पढ़ें - कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय)

  1. स्टेमिना क्या है - What is stamina in Hindi
  2. स्टेमिना बढ़ाने का उपाय और तरीके - Methods of increasing stamina in Hindi
  3. कैसे बढ़ाएं रनिंग स्टैमिना

स्टेमिना को साधारण शब्दों में समझा जाए तो कह सकते हैं कि व्यक्ति की शारीरिक व मानसिक स्तर की वह क्षमता जिसके द्वारा किसी भी कार्य को लंबे समय तक किया जा सकता है। मुख्यतः इसको शारीरिक कार्य, जैसे - खेल या व्यायाम के लिए प्रयोग में लाए जाने वाली क्षमता के लिए उपयोग किया जाता है। इतना ही नहीं दिमागी स्तर पर किसी कार्य को करने के लिए उपयोग क्षमता को भी स्टेमिना ही कहा जाता है। जीवन को स्वस्थ तरीके से व्यतीत करने के लिए आपको मानसिक और शारीरिक दोनों ही तरह से अपने स्टेमिना को बढ़ाने के लिए निरंतर प्रयास करना चाहिए। स्टेमिना सही होने से आप किसी भी कार्य को बेहतर तरीके से जल्द पूरा कर सकते हैं।

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले के उपाय

स्टेमिना बढ़ाने वाली एक्सरसाइज - Stamina enhancing exercises in Hindi

आपको अपना शारीरिक स्टेमिना बढ़ाने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। यह आपकी ऊर्जा के स्तर में बढ़ोतरी करता है। व्यायाम करने से आप शारीरिक कार्यों को लंबे समय तक करने के लिए सक्षम हो पाते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि व्यायाम करने से हृदय, जिगर, तंत्रिका तंत्र सहित सभी मांसपेशियां क्रियाशील होती है। इसके साथ ही साथ व्यायाम से सभी मांसपेशियों की कार्यक्षमता में भी बढ़ोतरी होती है।

(और पढ़ें - व्यायाम करने का सही समय)

  • स्टेमिना बढ़ाने के लिए एरोबिक एक्सरसाइज-
    ऐसी एरोबिक गतिविधि चुनें जो आप प्रत्येक दिन आराम से कर सकें। एरोबिक व्यायाम करते समय लगभग सभी मांसपेशियां सक्रिय होती हैं। आप अपने हृदय को स्वस्थ रखकर अपने स्टेमिना में सुधार कर सकते हैं। उदाहरण के लिए आपको  साइकिलिंगवाकिंग, जॉगिंग, एरोबिक्स और स्विमिंग आदि को नियमित रूप से करना चाहिए। इनको प्रत्येक दिन करीब आधा से एक घंटा करें। धीरे-धीरे आप इसके समय को बढ़ा सकते है।

(और पढ़ें - पेट कम करने के लिए एक्सरसाइज)

  • स्टेमिना बढ़ाने के लिए अन्य एक्सरसाइज-
    प्रत्येक दिन कुछ वेट ट्रेनिंग करें। अमेरिकन मेडिकल कॉलेज ऑफ स्पोर्ट्स मेडीसिन के अनुसार, वेट ट्रेनिंग से न केवल आपकी मांसपेशियों की ताकत बढ़ती है, बल्कि इससे आपका रक्तचाप, हड्डियों के घनत्व (Bone density) और लचीलेपन में भी सुधार होता है, यह आपकी ऊर्जा के स्तर और स्टेमिना को बढ़ाता है। भार को उठाने से ताकत में वृद्धि होती है। इस व्यायाम की शुरूआत आप कम भार उठाने से करें और बाद में इसको बढ़ाते जाएं। कुछ दिनों बाद आप महसूस करेंगे कि आपके द्वारा भार को उठाने की क्षमता में बढ़ोतरी हो चुकी है।

(और पढ़ें - हाई बीपी के लिए योग)

स्टेमिना बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ - Building stamina through diet in Hindi

  • पौष्टिक आहार का सेवन करें - स्टेमिना बढ़ाने के लिए आपको पौष्टिक आहार का सेवन करना होगा। इस बात पर गौर करें कि आप जिस भी चीज का सेवन करें उसमें कार्बोहाइड्रेट, उच्च गुणवत्ता वाली फैटखनिजफाइबर और प्रोटीन शामिल हो। इसके अलावा ओमेगा-3 फैटी एसिड लेने के लिए आप हरी सब्जियों, फलोंमछली का सेवन कर सकते हैं। यह सभी आपके हृदय और रक्त संचार में सुधार करते हैं। इसके साथ ही आपके आहार में शामिल साबुत अनाज आपको ऊर्जा प्रदान करता है। इसके अलावा प्रोटीन मांसपेशियों में होने वाली क्षति को दूर करने का काम करता है। प्रोटीन के लिए आप अपने नाश्ते में अंडे, ताजे फल, कम वसा वाला दूधगेहूं से बनी रोटियों का सेवन कर सकते हैं।

(और पढ़ें - संतुलित आहार किसे कहते है)

  • पानी की कमी न होने दें – पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से शरीर को कई लाभ होते हैं। इससे न सिर्फ वजन कम होता है, बल्कि गुर्दे (किडनी) में पथरी होने से भी बचा जा सकता है। पानी पीने से मांसपेशियों की थकान को दूर किए जाने में सहायता मिलती है। व्यायाम के दौरान शरीर से लगातार पसीना निकलता है ऐसे में शरीर में पानी के स्तर को बनाए रखने के लिए आपको बीच-बीच में आराम लेते हुए पानी पीते रहना चाहिए।

(और पढ़ें - पानी की कमी कैसे पूरी करे)

स्टेमिना बढ़ाने के लिए करें आराम - Giving your body adequate rest increases stamina in Hindi

विशेषज्ञों द्वारा स्टेमिना को बढ़ाने के लिए पर्याप्त मात्रा में नींद लेने की सलाह दी जाती है। नेशनल स्लीप फाउंडेशन ने बताया है कि एथलेटिक प्रदर्शन के लिए नींद बहुत ही महत्वपूर्ण है। आपके शरीर को आरईएम (REM - रैपिड आई मूवमेंट - इसमें सोने वाले व्‍यक्ति की आंखें गतिशील नहीं होती है और मस्तिष्क सक्रिय रहता है। इस अवस्‍था में ही व्‍यक्ति सपने देखता है) नींद की आवश्यकता होती है। यह आपके शरीर और मस्तिष्क को आपकी गतिविधियों के माध्यम से शक्ति देने के लिए जरूरी मानी जाती है। आपके लिए आवश्यक नींद का समय आपकी आयु पर निर्भर करता है। वैसे सामान्य व्यक्ति को 7 से 9 घंटों की नींद लेनी चाहिए। बताया जाता है कि 6 से कम घंटों की नींद लेने से शरीर की ऊर्जा में कमी आती है और आप कोई भी कार्य सही तरह से नहीं कर पाते हैं। मानसिक स्टेमिना को बढ़ाने के लिए मस्तिष्क को आराम देना बेहद जरूरी होता है और यह पर्याप्त नींद लेने से ही किया जा सकता है।

(और पढ़ें - उम्र के हिसाब से कितने घंटे सोना चाहिए और अच्छी नींद के लिए क्या करें)

सेक्सुअल स्टेमिना कैसे बढ़ाएं - How to improve sexual stamina in Hindi

कई व्यक्ति स्टेमिना को सिर्फ अपनी सेक्स क्षमता के रूप में ही जानते हैं, जबकि यह सत्य नहीं है। सेक्स क्षमता, स्टेमिना का एक भाग है और यह कहीं न कहीं आपके शारीरिक स्टेमिना पर निर्भर करता है। अगर आपका शारीरिक स्टेमिना खराब है, तो आप सेक्स करने के दौरान थकान व सांस का फूलना अनुभव करेंगे। इसके अलावा कई अन्य कारणों के चलते आपके सेक्सुअल स्टेमिना पर बुरा असर पड़ता है। ऐसा होने पर आपको किसी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। पुरुषों के यौन संबंधी रोग होने से भी उनका सेक्सुअल स्टेमिना कम हो जाता है। इन रोगों में नपुंसकता, चिकित्सीय कारण व तनाव आदि को शामिल किया जा सकता है। ऐसा होने पर आपको सेक्सुअल स्टेमिना कम करने वाले रोगों को दूर करना होगा और इसके लिए आपको डॉक्टरी सलाह लेनी होगी। भवानात्मक रूप से कोई समस्या हो तो आपको अपने साथी से इस बारे में खुलकर बात करनी चाहिए।

(और पढ़ें - सेक्सुअल स्टेमिना​ बढ़ाने का उपाय और sex karne ka tarika)

मानसिक स्टेमिना बढ़ाने के उपाय - Improving mental stamina in Hindi

स्टेमिना को बढ़ाने के लिए जिस तरह से शारीरिक क्षमताओ को बढ़ाया जाता है, ठीक वैसे ही मानसिक स्टेमिना को बढ़ाने के लिए आपको कई तरह के कार्य करने होते हैं। मानसिक स्टेमिना को बढ़ाने के लिए जरूरी कार्यों के बारे में नीचे विस्तार से बताया जा रहा है।

  1. अपने लक्ष्य का निर्धारण करें – सबसे पहले आपको अपने जीवन के लक्ष्यों पर विचार करना होगा, इसके बाद आपको इनके महत्व के अनुसार वरीयता देनी होगी। इसके पश्चात वरीयता के अनुसार अपने लक्ष्य को पाने की योजना बनाएं। कोई भी परेशानी आने पर रूकें नहीं, बल्कि उसके समाधान के बारे में ठंडे दिमाग से विचार करें। (और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)
  2. समस्या के कारणों को समझे – आप समस्या पर समय बर्बाद न करें। इससे बेहतर होगा कि आप इसके कारणों को समझें और अपनी समस्यां को टुकड़ों में बांट लें। इसके बाद हर हिस्से को एक-एक करके पूरा करें। इससे आप बिना समय बर्बाद किए समस्या को आसानी से दूर कर पाएंगे। (और पढ़ें - दिमाग तेज करने के नुस्खे)
  3. काम को टालने के लिए बहाने न बनाएं – कई बार आप जब किसी समस्या में फंस जाते हैं तो आप उससे बचने के लिए बहाने बनाने लगते हैं। ऐसे में जरूरी होगा कि आप समस्याओं को समझे और उसके समाधान पर विचार करें, ना कि इससे बचने के लिए बहाने बनाना शुरू कर दें। (और पढ़ें - चिंता दूर करने के घरेलू उपाय)
  4. दूसरों से बात करें – कई बार हर संभव प्रयास और विचार करने के बाद भी आपको किसी समस्या का समाधान नहीं मिल पाता है। ऐसे में आपको किसी मित्र व साथी से मिलकर अपनी समस्या पर बात करनी चाहिए। अपने आसपास के लोगों, परिचितों व अनुभवी व्यक्तियों से बात करने के बाद मुश्किल समस्याओं का समाधान भी आसानी से मिल जाता है।   

(और पढ़ें - ध्यान के फायदे)

स्टेमिना बढ़ाने के लिए अन्य जरूरी बातें - Essential things to increase stamina in Hindi

स्टेमिना बढ़ाने के लिए जरूरी अन्य सलाह –

  1. धीर-धीरे शारीरिक एक्सरसाइज का समय बढ़ाएं। (और पढ़ें - वार्म अप करने के फायदे)
  2. कभी भी ज्यादा से ज्यादा वजन को उठाने के बारे में न सोचें। धीर-धीरे ही वजन को बढ़ाएं। (और पढ़ें - वजन बढ़ाने के तरीके)
  3. दौड़ते समय पैरों को जमीन पर जोर देते हुए न रखें और न ही बहुत तेजी से दौड़े। छोटे-छोटे कदमों से आगे बढ़े। (और पढ़ें - दौड़ने के फायदे)
  4. रोजाना व्यायाम करने के लिए खुद को दिमागी रूप से तैयार करें। (और पढ़ें - वर्कआउट से पहले क्या खाएं)
  5. मौसम के अनुसार फलों का सेवन करें। (और पढ़ें - फल खाने का सही समय)
  6. रात को खाने के बाद टहने जरूर जाएं। (और पढ़ें - सुबह की सैर के फायदे)

क्या सावधानी बरतनी चाहिए-

  1. किसी व्यायाम को करने से ठीक पहले खाना न खाएं।
  2. अधिक पानी पीकर दौड़ना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। (और पढ़ें - पानी पीने का सही समय)
  3. हृदयगति पर अधिक दबाव पड़ने पर थोड़ा बैठ जाएं या आराम करें। (और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं)
  4. दौड़ते समय एक बार में ही लंबी दूरी तय न करें।
  5. धूम्रपान व शराब आदि नशीले पदार्थों को सेवन न करें। (और पढ़ें - शराब की लत छुड़ाने के उपाय)
  6. फास्ट फूड व तैलीय चीजों के सेवन से दूरी बनाएं। (और पढ़ें - जंक फूड के नुकसान)

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट)

और पढ़ें ...