myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आज कई तरह के गर्भ निरोधक बाजार में उपलब्ध हैं। आप अपनी सुविधा, जीवनशैली और बजट के अनुकूल गर्भ निरोधक उपाय का चुनाव कर सकते हैं। महिलाएं सैकड़ों वर्षों से एक या दूसरे रूप में जन्म नियंत्रण के लिए डायाफ्राम का उपयोग करती आ रही हैं। 

डायाफ्राम गर्भ निरोधक की बाधा विधि (बैरियर मेथड) के रूप में कार्य करता है। कुछ अन्य बैरियर मेथड भी हैं जैसे कि पुरुष और महिला कंडोम इत्यादि। अन्य गर्भ निरोधक में गर्भनिरोधक इंजेक्शनकॉपर टीजन्म नियंत्रण गोलियांकंडोमपुरुष नसबंदीमहिला नसबंदी आदि शामिल हैं।

डायाफ्राम को महिला की योनि के अंदर फिट किया जाता है और यह अंडे को फर्टिलाइज होने से रोकने के लिए शुक्राणु के गर्भाशय ग्रीवा (गर्भाशय या गर्भ में प्रवेश का द्वार) में प्रवेश को बाधित करता है।

(और पढ़े - अनचाहा गर्भ रोकने के उपाय)

जब डायाफ्राम का सही तरीके से उपयोग किया जाता है, तो यह उन महिलाओं के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी विकल्प है जो जन्म नियंत्रण गोलियां लेने में समर्थ नहीं हैं या किसी अन्य विधि को पसंद करती हैं।

(और पढ़े - सुरक्षित सेक्स कैसे करें)

इसमें जोखिम भी बहुत कम हैं और यह 94% तक प्रभावी हो सकता है। इस लेख को पढ़कर आपके लिए यह तय करना आसान होगा कि यह उपाय आपके लिए सही है या नहीं।

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि डायाफ्राम क्या है, डायाफ्राम का कार्य क्या है और डायाफ्राम इस्तेमाल कैसे करें इसके साथ ही यह भी बताया गया है कि डायाफ्राम के फायदे, नुकसान और कॉस्ट क्या हो सकती है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण)

  1. डायाफ्राम क्या है - Diaphragm kya hai in hindi
  2. डायाफ्राम का कार्य क्या है - Diaphragm function in hindi
  3. डायाफ्राम का इस्तेमाल कैसे करें - Diaphragm use instructions in hindi
  4. डायाफ्राम के फायदे - Diaphragm benefits in hindi
  5. डायाफ्राम के नुकसान - Diaphragm side effects in hindi
  6. डायाफ्राम कॉस्ट - Diaphragm contraceptive cost in india in hindi
  7. डायाफ्राम क्या है, क्यों और कैसे उपयोग किया जाता है के डॉक्टर

डायाफ्राम एक मुलायम, पतला, गुंबद के आकार का लेटेक्स या सिलिकॉन से बना लचीली रिम वाला कप होता है, जिसका उपयोग महिला गर्भ निरोधक उपाय के रूप में किया जाता है। इसके साथ एक शुक्राणु नाशक (स्पर्मिसाइड) जेल का भी उपयोग किया जाता है। शुक्राणु नाशक जेल को कप के अंदर भरा जाता है।

(और पढ़े - शुक्राणु बढ़ाने के घरेलू उपाय)

गर्भाशय के द्वार की तरफ शुक्राणुनाशक को रखने के लिए डायाफ्राम को योनि में अंदर की ओर रखा जाता है। डायाफ्राम विभिन्न आकारों में आता है और इसके अधिकतम प्रभाव के लिए चिकित्सक द्वारा ही फिट करवाना चाहिए, किंतु यदि आपको अच्छे से फिट करना आता है तो आप स्वयं उपयोग कर सकती हैं पर पहले अपनी डॉक्टर से सलाह ले लें।

(और पढ़े - गर्भधारण कैसे होता है)

एक डायाफ्राम छह घंटों तक गर्भधारण के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करता है। छः घंटे की अवधि के बाद सेक्स के लिए या इस अवधि के भीतर बार-बार सेक्स के लिए योनि में हर बार फ्रेश शुक्राणुनाशक जेल का उपयोग किया जाना चाहिए। अंतिम सेक्स के कम से कम छह घंटे बाद तक डायाफ्राम को योनि में छोड़ा जाना चाहिए।

(और पढ़े - गर्भधारण का सही समय)

हालाँकि, टॉक्सिक (विषाक्त) शॉक सिंड्रोम (टीएसएस) के खतरे की वजह से डायाफ्राम को 24 घंटे से अधिक समय तक योनि के भीतर नहीं छोड़ाना चाहिए। टीएसएस एक दुर्लभ लेकिन संभावित रूप से घातक बीमारी है। टीएसएस के लक्षणों में अचानक बुखार, पेट में परेशानी, सनबर्न की तरह चकत्ते होना और रक्तचाप में कमी इत्यादि शामिल है।

(और पढ़े - लो बीपी के घरेलू उपाय)

डायाफ्राम महिलाओं के लिए जन्म नियंत्रण के एक तरीके के रूप में कार्य करता है। ऐसी 100 महिलाओं में से छह महिलाओं के गर्भवती होने की संभावना है जो डायाफ्राम का हर बार सही तरह से उपयोग करती हैं। अधिकांश लोग कभी न कभी गलतियां कर देते हैं, इसलिए सामान्य दर 100 महिलाओं में से 12 से 18 के बीच होती है।

(और पढ़े - गर्भावस्था की समस्याओं के उपाय)

डायाफ्राम कंडोम या अन्य प्रकार के बैरियर मेथड से अधिक प्रभावी है, लेकिन नसबंदी, इंट्रायूटरिन डिवाइस (आईयूडी) या जन्म नियंत्रण गोलियों से कम प्रभावी है।

डायाफ्राम सर्विक्स यानी गर्भ द्वार और वीर्य के बीच बाधा के रूप में कार्य करता है। डायाफ्राम को फिट करने से हो सकता है कि यह सभी शुक्राणुओं को रोकने के लिए पर्याप्त फिट न हो, इसलिए, शुक्राणु को मारने के लिए शुक्राणु नाशक जेल का प्रयोग किया जाता है।

(और पढ़े - शुक्राणु बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए)

किसी भी महिला के लिए, डायाफ्राम के उपयोग की संभावना का आकलन करने और संभावित विरोधाभासों का पता लगाने के लिए उसके मेडिकल इतिहास का उपयोग किया जाना चाहिए।

डॉक्टर द्वारा महिला को योनि और गर्भ द्वार के शरीर रचना विज्ञान, बैरियर मेथड किस तरह कार्य करता है, डायाफ्राम के साथ शुक्राणुनाशक का उपयोग करने का क्या महत्व है, डायाफ्राम को कितने समय तक योनि के भीतर छोड़ा जाना चाहिए, संभोग या सेक्स के दौरान इसके स्लीप होने या अपनी जगह से हटने की संभावना, पेट्रोलियम लुब्रिकेंट्स का प्रयोग न करने, उचित देखभाल, फटने या छेद की जांच, संभावित दुष्प्रभाव और डायाफ्राम को योनि के भीतर रखने की प्रक्रिया आदि के बारे में जानकारी दी जाती है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए)

डायाफ्राम विभिन्न आकारों में आते हैं, इसलिए आपको किस आकार का डायाफ्राम फिट होगा इसका पता लगाने के लिए आपको अपनी डॉक्टर से मिलना चाहिए और डायाफ्राम के सही आकार और प्रकार के लिए उनसे सलाह लेनी चाहिए। सबसे बड़े आरामदायक आकार का चयन किया जाना चाहिए।

इस सब के बाद डायाफ्राम का उपयोग करने के लिए या तो अपनी डॉक्टर की मदद ले या अगर आप स्वयं जानती हैं तो निम्नलिखित चरणों में इसका उपयोग करें -

  • अपने साफ हाथों से, डायाफ्राम (लगभग दो 2 सेमी स्ट्रिप्स) की ऊपरी सतह पर शुक्राणु नाशक जेल की थोड़ी मात्रा डालें।
  • कुछ महिलाओं को यह भी लगता है कि रिम पर थोड़ा शुक्राणु नाशक जेल डालने से डायाफ्राम को योनि के भीतर रखना आसान हो जाता है।
  • अपनी तर्जनी उंगली डायाफ्राम के ऊपर रखें और इसे अपने अंगूठे और अन्य उंगलियों के बीच में दबा लें।
  • अब डायाफ्राम को अपनी योनि के अंदर ऊपर की ओर धक्का दे। यह सुनिश्चित कर लें कि डायाफ्राम आपके गर्भ द्वार को पूरी तरह कवर कर रहा हो।
  • हमेशा यह जाँच ले कि यह आपके गर्भ द्वार को ढंक रहा है, अगर आप इसे छुएंगी तो यह आपकी नाक के छोर की तरह महसूस होता है। यदि आपका गर्भाशय कवर नहीं होता है, तो अपनी उंगली को रिम या लूप (यदि लूप है तो) के नीचे डाल कर डायाफ्राम को बाहर निकालें और दुबारा सही तरीके से फिट करने का प्रयास करें।
  • कुछ महिलाएं अपने डायाफ्राम को योनि के भीतर फिट करते समय बैठती हैं, तो वही कुछ महिलाएं लेट कर या कुर्सी पर एक पैर रख कर खड़ी हो कर डायाफ्राम फिट करती हैं। आपको यह पता लगाना होगा कि आपके लिए कौन सी स्थिति सबसे आसान है।

(और पढ़ें - प्रेगा न्यूज़ कैसे यूज़ करते हैं

यदि आप अपनी डॉक्टर से डायाफ्राम लगवा रही है तो वे योनि में इसको उचित फिटिंग को जांचने के लिए आपको कमरे में घूमने और 5 मिनट के लिए व्यायाम करने के लिए कह सकती हैं। ज्यादातर महिलाएं कोइल स्प्रिंग या आर्क स्प्रिंग डायाफ्राम का उपयोग कर सकती हैं।

यदि आप स्वयं इसे उपयोग कर रही हैं तो आपको डायाफ्राम को सही ढंग से डालने, कब उपयोग करना है इसका आकलन करने और बिना किसी कठिनाई के इसे निकालने में सक्षम होना चाहिए।

जो डॉक्टर से मदद ले रही हैं उन महिलाओं को डायाफ्राम की फिटिंग और स्थिति की पुन: जांच के लिए 2 सप्ताह में वापस डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

डायाफ्राम की सालाना या नुकसान के बाद या 6-7 किलो से अधिक वजन बढ़ जाने पर, योनि से डिलीवरी के बाद या दूसरी बार तीन माह के गर्भ को गिराने पर या पेट के निचले हिस्से की सर्जरी के बाद जांच करवानी चाहिए।

(और पढ़े - डिलीवरी के बाद सेक्स)

डायाफ्राम के उपयोग से होने वाले कुछ मुख्य फायदे निम्नलिखित हैं -

  • यह महिला या पुरुष की भावी प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करता है। (और पढ़े - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के उपाय)
  • इसका उपयोग करने की जरुरत तभी होती है जब यौन संभोग किया जाता है। (और पढ़े - सुरक्षित सेक्स कैसे करें)
  • यदि आप बच्चे को स्तनपान करा रही है तो इस दौरान भी इसका उपयोग करना सुरक्षित है। (और पढ़े - स्तनपान के फायदे बच्चों और माताओं के लिए)
  • यह जन्म नियंत्रण या गर्भ निरोध के हार्मोन आधारित उपायों से कम महंगा है। 
  • इसका उपयोग धूम्रपान करने वाली महिलाओं द्वारा और उन महिलाओं द्वारा भी किया जा सकता है जिनको ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं हैं जिसमें एस्ट्रोजन का उपयोग करना खतरनाक होता है।
  • यह आपके शरीर के प्राकृतिक हार्मोन को प्रभावित नहीं करता है। क्योंकि इसमें कोई हार्मोन नहीं पाया जाता है।
  • इसको एक से अधिक बार इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • यह गर्भावस्था के खिलाफ सीधे सुरक्षा कर सकता है।
  • आप डायाफ्राम का उपयोग तब भी कर सकती हैं जब आपका साथी कंडोम का उपयोग नहीं करना चाहता।
  • यदि सही तरीके से इसका उपयोग किया जाता है, तो सेक्स के दौरान आप और आपके साथी को यह महसूस भी नहीं होता है। (और पढ़े - सेक्स लाइफ के लिए योग)
  • अगर आप गर्भवती होने की कोशिश करना चाहती है, तो भी आसानी से इसे निकाल कर इसका इस्तेमाल करना बंद कर सकती हैं। (और पढ़े - माँ बनने की सही उम्र)

(और पढ़ें - टेस्ट ट्यूब बेबी का खर्च)

डायाफ्राम का उपयोग करने वाली कुछ महिलाओं या उनके साथी को निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं -

  • कुछ लोग लेटेक्स या शुक्राणु नाशक जेल के रसायनों के प्रति संवेदनशील होते हैं। इससे कुछ महिलाओं की योनि में जलन या उनके साथी के लिंग में जलन हो सकती है।
  • डायाफ्राम का उपयोग करने वाली महिलाएं मूत्राशय के संक्रमण (मूत्र पथ संक्रमण या यूटीआई) से अधिक प्रभावित हो सकती हैं। ऐसा शायद इसलिए है क्योंकि डायाफ्राम की रिम मूत्रमार्ग पर दबाव डालती है और इसमें परेशानी पैदा कर सकती है। यदि किसी महिला को लगातार यूटीआई की समस्या है तो उसे एक छोटे डायाफ्राम का उपयोग करना चाहिए या डायाफ्राम का उपयोग नहीं करना चाहिए। (और पढ़े - मूत्राशय के संक्रमण का घरेलू उपाय)
  • डायाफ्राम एसटीडी यानी यौन संपर्क से फैलने वाली बिमारियों के खिलाफ सुरक्षा नहीं करता है।
  • हर बार जब आप यौन संबंध बनाते हैं तो आपको शुक्राणु नाशक को दोबारा डालना होगा।
  • डायाफ्राम को योनि में डालना कठिन और अजीब लग सकता है और इसका सही ढंग से उपयोग करने के तरीके सीखने में आपको समय लग सकता है।
  • आप इसे अपने मासिक धर्म के दौरान उपयोग कर सकते हैं, लेकिन अगर यह सेक्स के तुरंत बाद हटाया नहीं जाता है तो यह आपको संक्रमण होने की आशंका बड़ा सकता है।
  • सेक्स करने के दौरान यह अपनी जगह से हट सकता है, जिससे स्पर्म गर्भ में प्रवेश कर सकते हैं।
  • आपको एक डायाफ्राम लेने के लिए किसी डॉक्टर के पास जाना पड़ता है, क्योंकि यह बिना पर्ची के नहीं मिलता है।

डायाफ्राम का उपयोग उन महिलाओं द्वारा नहीं किया जाना चाहिए जिनको कभी टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम की परेशानी हुई है। किसी भी दरार, छेद या अन्य क्षति के लिए अपने डायाफ्राम की जांच करना महत्वपूर्ण है जो इसकी प्रभावशीलता को कम कर सकते हैं।

किसी भी पेट्रोलियम आधारित योनि की क्रीम, तेल या मलम का उपयोग न करें, जो रबड़ को नुकसान पहुंचा सकते हैं। लेकिन एस्ट्रोग्लाइड और के-वाई जेली जैसे पानी आधारित लुब्रिकेंट्स का उपयोग करना सुरक्षित है।

(और पढ़ें - आईयूआई कैसे होता है)

आप किसी भी मेडिकल स्टोर, परिवार नियोजन केंद्र या क्लिनिक से इसे खरीद सकते हैं। कुछ ऑनलाइन साइट भी डायाफ्राम बेचती है, अगर आप इसका उपयोग करना अच्छी तरह से जानती हैं, तो ऑनलाइन खरीद सकती हैं।

डायाफ्राम विभिन्न आकारों और अलग-अलग ब्रांड में आते हैं इसलिए इनकी कीमत भिन्न हो सकती है और कुछ क्लीनिक भी इसे लगाने के लिए अतिरिक्त शुल्क ले सकते हैं। आपके लिए उपलब्ध विकल्पों और कूल खर्च पर चर्चा करने के लिए समय से पहले अपने डॉक्टर से चर्चा कर लें।

डायाफ्राम, स्पर्मिसाइड और फिटिंग करवाने की कीमत को मिलाकर आपको लगभग 3500 से 20,000 रुपये तक का खर्च हो सकता है।

नोट - ये लेख केवल जानकारी के लिए है। myUpchar किसी भी सूरत में किसी भी तरह की चिकित्सा की सलाह नहीं दे रहा है। आपके लिए कौन सी चिकित्सा सही है, इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करके ही निर्णय लें।

Dr. Pranay Gandhi

Dr. Pranay Gandhi

सेक्सोलोजी

Dr. Tarun

Dr. Tarun

सेक्सोलोजी

Dr. Ghanshyam Digrawal

Dr. Ghanshyam Digrawal

सेक्सोलोजी

और पढ़ें ...