myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

मलेरिया मादा मच्छर एनोफेलीज मच्छर के काटने से होता है। एनोफेलीज मच्छर जब किसी व्यक्ति को काटता है, तो उसके बॉडी में प्लाज्मोडियम (Plasmodium) नामक परजीवी को छोड़ जाता है। इस प्लाज्मोडियम परजीवी की वजह से आपका शरीर संक्रमित होने लगता है। मलेरिया में आपको बुखार, एनिमिया, सिरदर्द, मल में खून आना, उल्टी और ठंड लगना जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ता है।

(और पढ़ें - बुखार कम करने के उपाय)

मलेरिया में खाने-पीने का ध्यान रखना मलेरिया के उपचार का हिस्सा है। इसलिए मलेरिया के मरीजों को यह बात अच्छी तरह से पता होना चाहिए कि मलेरिया में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। इसके अलावा आपको यह भी पता होना चाहिए कि मलेरिया में किन चीजों से परहेज करना चाहिए।

(और पढ़ें - मलेरिया के घरेलू उपाय)

  1. मलेरिया में क्या खाना चाहिए - Malaria me kya khana chahiye
  2. मलेरिया में आहार चार्ट - Malaria diet chart in Hindi
  3. मलेरिया में क्या न खाएं और परहेज - Malaria me kya na khaye aur parhej
  4. मलेरिया ठीक होने के बाद क्या खाएं - Malaria theek hone ke bad kya khaye

मलेरिया में क्या खाये -

मलेरिया के तीन चरण होते हैं और आपको इन तीनों चरणों में अलग-अलग तरह के आहार को अपनाना होता है।​

  1. पहला चरण सबसे पहले आपको इस बात का पता लगाना चाहिए कि आप मलेरिया के मरीज हैं या नहीं। इसका पता चलने के बाद डॉक्टर आपको पहले चरण में संतरे का जूस पीने की सलाह देते हैं। खासकर तब, जब आपको मलेरिया में बहुत अधिक बुखार होता है। मलेरिया में होने वाला बुखार आमतौर पर 1 सप्ताह या 10 दिन तक रहता है। (और पढ़ें - संतरे के फायदे)
     
  2. दूसरा चरण  - मलेरिया के दूसरे चरण में डॉक्टर आपको केवल फल खाने की सलाह देते हैं। इस चरण में मरीज को ताजा फल खिलाना चाहिए। अनानास, पपीता, संतरा, अंगूर, सेब, चकोतरा और आम जैसे फलों को मलेरिया के मरीज को खाना चाहिए। यह बात अच्छी तरह से ध्यान रहे कि फ्रूट डाइट को लगातार तीन या उससे अधिक दिनों तक खाएं। तीसरे दिन मरीज को फ्रूट डाइट के साथ-साथ दूध भी पीना चाहिए। दूध में फैट और प्रोटीन होते हैं, जो रोगी को उर्जा प्रदान करते हैं। (और पढ़ें - प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)
     
  3. तीसरा चरण - तीसरे चरण में जब मरीज ठीक होने लगता है, तब उसे फल के साथ-साथ सब्जियां, साबुत अनाज और सूखे मेवे खाना चाहिए। एक तरह से रोगी को तीसरे चरण में संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए।

(और पढ़ें - प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ)

आप ये मलेरिया डाइट चार्ट अपना सकते हैं - 

  • सुबह-सुबह - मलेरिया के मरीज को सुबह-सुबह एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू रस मिलाकर पीना चाहिए। चीनी की जगह आप नींबू पानी में शहद मिला सकते हैं। (और पढ़ें - नींबू के रस के फायदे)
  • सुबह का नाश्ता - सुबह के नाश्ते में एक कटोरी फल के साथ एक गिलास दूध पीना चाहिए। (और पढ़ें - फल खाने का सही समय)
  • दोपहर का भोजन - दोपहर के भोजन में उबली सब्जियां खानी चाहिए। यदि रोगी को अधिक भूख लगता है, तो वह गेहूं की 2 रोटी भी खा सकता है। इसके अलावा 1 गिलास छाछ पीना मलेरिया के मरीज के लिए और भी लाभदायक होगा। (और पढ़ें - उबली हुई सब्जी खाने के फायदे)
  • दोपहर के भोजन के बाद - 1 गिलास सब्जी या फल का जूस पीएं। (और पढ़ें - चुकंदर का जूस के फायदे)
  • रात का भोजन - रात के भोजन में घर पर बना हुआ कॉटेज पनीर, अंकुरित अनाज और एक कटोरी हरी सब्जी खाएं। आप चाहे तो सलाद और सब्जी में थोड़ा सा नीबूं निचोड़ सकते हैं।

इस डाइट प्लान को अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें। कुछ लोग डायबिटीज, हृदय रोग और लिवर के मरीज होते हैं, उन लोगों को खास डाइट प्लान की अवाश्यकता होती है। इसलिए ऐसी स्थिति में मलेरिया के मरीजों को बिना डॉक्टर की सलाह के किसी डाइट प्लान को नहीं अपनाना चाहिए।

(और पढ़ें - डायबिटीज में परहेज)

जितना जरूरी ये पता होना है कि मलेरिया में क्या खाना चाहिए, उतना ही जरूरी यह पता होना भी है कि मलेरिया में क्या नहीं खाना चाहिए -

मलेरिया में निम्म खाद्य पदार्थों को न खाएं -

मलेरिया में निम्म पेय पदार्थों को न पीएं -

(और पढ़ें - संतुलित आहार चार्ट)

मलेरिया ठीक होने के बाद आप सब्जियां, चिकन, मछली खा सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे इनकी मात्रा धीरे-धीरे करके बढ़ाएं। इसके साथ ही साथ ठीक होने के बाद कम मात्रा में लाल मांस भी खा सकते हैं। इन सब को खाने से आपको भरपूर मात्रा में प्रोटीन मिलता है, जिससे आपके बॉडी की मरम्मत में सहायता मिलती है।

(और पढ़ें - प्रोटीन की कमी से होने वाले रोग)

इसके अलावा आपको भरपूर हरी सब्जियां, साबुत अनाज, चावल और आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को खाना चाहिए। यह खाद्य पदार्थ मलेरिया से ठीक होने में मदद करते हैं। मलेरिया से ठीक होने के बाद या रिकवरी पीरियड के दौरान आपको भूख कम लगती है, इसलिए अपनी मन पसंद चीजों को अधिक खाएं।

(और पढ़ें - मच्छरों से कैसे बचें)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें