रूमेटाइड आर्थराइटिस सबसे आम ऑटोइम्यून बीमारियों में से एक है, जो मुख्य रूप से जोड़ों को प्रभावित करती है। बता दें, कोई भी ऑटोइम्यून रोग तब होता है, जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली उचित तरीके से कार्य नहीं करती है। अब समझते हैं कि ऑटोइम्यून रोग क्या होता है?

जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ ऊतकों पर हमला करने लगती है, तो ऐसी स्थिति को ऑटोइम्यून रोग कहा जाता है। ऑटोइम्यून बीमारियों के उदाहरण में सिस्टमिक ल्यूपस एरिथेमेटोसस, इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज, मल्टीपल स्क्लेरोसिस, एलोपेसिया इत्यादि शामिल हैं।

रूमेटाइड आर्थराइटिस में होने वाली सूजन जोड़ों के अंदरूनी ऊतकों (टिशू) को मोटा कर देती है, जिसकी वजह से जोड़ों में दर्द और सूजन हो जाती है। इसके अलावा फेफड़ों में नोड्यूल्स और त्वचा में भी सूजन देखी जाती है। बता दें, नोड्यूल्स का मतलब फेफड़ों में एक स्पॉट या शैडो से है। यह स्पॉट दिखने में गोल होते हैं, जो सामान्य फेफड़ों के ऊतकों की तुलना में अधिक घने होते हैं।

रूमेटाइड आर्थराइटिस (आरए) पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक आम है। यह किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन 40 और 60 वर्ष की आयु के बीच अधिक देखा जाता है। रूमेटाइड आर्थराइटिस के मुख्य लक्षण में जोड़ों को हिलाने में कठिनाई शामिल है। हालांकि, मरीजों को बुखार, वजन कम होने और थकान का भी अनुभव हो सकता है। आरए के पारंपरिक उपचार के लिए दर्द निवारक, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी रूमेटाइड ड्रग्स का इस्तेमाल किया जाता है, जो रोग की प्रगति और इसमें होने वाली सूजन को धीमा कर देती है।

रूमेटाइड आर्थराइटिस के लिए होम्योपैथिक उपचार का भी विकल्प मौजूद है। डॉक्टर होम्योपैथिक उपाय निर्धारित करने से पहले मरीज की उम्र, स्वास्थ्य और मानसिक व शारीरिक स्थिति के अलावा लक्षणों पर विचार करते हैं। यही वजह है कि भले दो व्यक्तियों को एक जैसी समस्या हो, लेकिन उनके लिए होम्योपैथिक उपाय आमतौर पर एक जैसा नहीं होता है। लंबे समय तक बीमारी से राहत पाने के लिए पेशेवर होम्योपैथिक उपचार लेने का सुझाव देते हैं।

कुछ होम्योपैथिक दवाएं एक्यूट आर्थराइटिस से राहत प्रदान करने में मदद कर सकते हैं, इनमें दवाओं में शामिल हैं रस टॉक्सोडेंड्रोन, ब्रयोनिआ, एपिस, बेलाडोना, रुटा ग्रेविओलेंस, रोडोडेंड्रोन, कैल्मिया, कॉलोफिलिम और पल्सेटिला।

(और पढ़ें - इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय)

  1. रूमेटाइड आर्थराइटिस के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Homeopathic medicines for rheumatoid arthritis in Hindi
  2. होम्योपैथी के अनुसार रूमेटाइड आर्थराइटिस के लिए आहार - Diet for rheumatoid arthritis according to homeopathy in Hindi
  3. रूमेटाइड आर्थराइटिस के लिए होम्योपैथिक उपचार कितने प्रभावित हैं - How affected are homeopathic remedies for rheumatoid arthritis in Hindi
  4. रूमेटाइड आर्थराइटिस के लिए होम्योपैथिक दवा के नुकसान - Disadvantages of homeopathic medicine for rheumatoid arthritis in Hindi
  5. रूमेटाइड आर्थराइटिस के लिए होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Tips related to homeopathic treatment for rheumatoid arthritis in Hindi
  6. रूमेटाइड आर्थराइटिस की होम्योपैथिक दवा और इलाज के डॉक्टर

यहां कुछ होम्योपैथिक उपचार बताए गए हैं, जिनका उपयोग रूमेटाइड आर्थराइटिस के लक्षणों के प्रबंधन के लिए किया जाता है :

रस टॉक्सीकोडेंड्रोन (Rhus Toxicodendron)
सामान्य नाम :
प्वॉइजन-आइवी
लक्षण : रस टॉक्सीकोडेंड्रोन मुख्य रूप से जोड़ों के आसपास फाइब्रोस टिश्यू पर असर करता है और इसका उपयोग जोड़ों में अकड़न, जोड़ों में दर्द और रूमैटिक पेन (गठिया संबंधी जोड़ों का दर्द) के इलाज के लिए किया जाता है। इस उपाय का उपयोग अक्सर खिंचाव या भारी समान उठाने की वजह से होने वाली समस्याओं के इलाज के लिए भी किया जाता है। इसके अतिरिक्त, यह निम्नलिखित लक्षणों को दूर करने में मदद करता है :

यह लक्षण रात में, पीठ के बल या दाईं तरफ लेटने पर बढ़ जाते हैं। ठंड और उमस भरा मौसम भी इन लक्षणों को खराब करता है। हाथ पैरों में स्ट्रेचिंग करने, चलने-फिरने और गर्म सिकाई से लक्षणों से राहत मिलती है।

लेडम पौलस्टर
सामान्य नाम :
मार्श-टी (लेडम)
लक्षण : लेडम पैलस्टर को मुख्य रूप से रूमेटाइड डिजीज और जोड़ों के दर्द में इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मदद करता है :

  • हाथ पैरों में तेज दर्द, मुख्य रूप से छोटे जोड़ों में
  • गाउट के साथ मोतियाबिंद
  • गठिया जो पैरों से शुरू होती है और फिर ऊपरी अंगों को भी प्रभावित करती है
  • कंधे में थ्रोबिंग (धमक जैसे किसी के मारने पर महसूस होता है) पेन और भारी महसूस करना, यह लक्षण गतिविधि करने से खराब हो जाते हैं।
  • जोड़ों में क्रैक या दरार, यह स्थिति बिस्तर पर लेटने के बाद गर्मी लगने से खराब हो जाती है
  • तलवों में दर्द के साथ टखनों की सूजन व आसानी से मोच आना

ठंडे पानी में कुछ देर पैर डालने से इन लक्षणों से राहत मिलती है, लेकिन बिस्तर पर लेटने के बाद लगने वाली गर्मी से यह लक्षण खराब हो सकते हैं।

ब्रयोनिआ अल्बा
सामान्य नाम :
वाइल्ड हॉप्स (ब्रयोनिआ)
लक्षण : ब्रयोनिआ अल्बा का इस्तेमाल चुभन जैसे तेज दर्द के उपचार के लिए किया जाता है। यह स्थिति रोगी के चलने-फिरने से खराब हो जाती है, जबकि आराम करने से ठीक हो जाती है। इस उपाय द्वारा निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक किया जाता है :

यह लक्षण सुबह में, थकावट के बाद, थोड़ी गतिविधि करने पर और भोजन करते समय खराब हो जाते हैं, जबकि आराम करने और दर्द वाले हिस्से के बल लेटने से इन लक्षणों से आराम मिलता है।

एपिस मेलिफिका
सामान्य नाम :
दि हनी-बी
लक्षण : जिन्हें चुभने वाले दर्द, एडिमा और हल्के से छूने पर भी दर्द होता है, उनके लिए यह उपाय लाभकारी है। ये निम्नलिखित लक्षणों से राहत दिलाने में भी फायदेमंद है :

ये लक्षण दोपहर में, प्रभावित हिस्से को छूने या दबाव पड़ने पर और सोने के बाद खराब हो जाते हैं, जबकि ठंडे पानी से नहाने और खुली हवा में रहने से इन लक्षणों में सुधार होता है।

बेलाडोना
सामान्य नाम :
डेडली नाइटशेड
लक्षण : बेलाडोना ज्यादातर तंत्रिका तंत्र पर असर करता है और दर्द व ऐंठन जैसे लक्षणों से राहत देता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी मदद करता है :

ये लक्षण दोपहर में, लेटने पर और प्रभावित हिस्से को छूने पर बढ़ जाते हैं, लेकिन जब रोगी सेमी इरेक्ट पोजिशन (लेटने व बैठने के बीच वाली स्थिति) में रहता है तो इन लक्षणों में सुधार होता है।

कैल्केरिया फॉस्फोरिका
सामान्य नाम :
फॉस्फेट ऑफ लाइम
लक्षण : यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों में फायदेमंद है :

ये लक्षण ठंड और नमी वाले मौसम में बढ़ जाते हैं, लेकिन शुष्क और गर्म वातावरण में इनसे राहत मिल सकती है।

रूटा ग्रेवोलेंस
सामान्य नाम :
रू​-बिटरवर्ट (Rue-bitterwort)
लक्षण : रूटा ग्रेवोलेंस मुख्य रूप से कार्टिलेज और पेरीओस्टेम (हड्डियों को ढंकने वाली परत) पर असर करता है और यह टेंडन में खिंचाव की वजह से होने वाली स्थितियों के उपचार के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा निम्न लक्षणों के ट्रीटमेंट में भी यह मददगार साबित हो सकता है :

  • सही से न चल पाने के कारण मोच आ जाना
  • बदन दर्द
  • हाथ पैर और रीढ़ में चोट का एहसास
  • हाथ और कलाई में दर्द और अकड़न
  • साइटिका की समस्या, यह लक्षण लेटने पर बढ़ जाते हैं
  • अकिलिस टेंडन में दर्द
  • पैर को खींचने पर जांघों में दर्द
  • पैरों और टखने की हड्डियों को छूने पर दर्द होना

यह सभी लक्षण ठंडे और नम मौसम में और लेटने पर बिगड़ जाते हैं।

कॉलोफिलम थैलिक्ट्रोइड्स (Caulophyllum Thalictroides)
सामान्य नाम :
ब्लू कोहोश (कॉलोफिलम)
लक्षण : ब्लू कोहोश विशेष रूप से छोटे जोड़ों पर असर करता है। इसके अलावा, यह निम्नलिखित लक्षणों को भी दूर करने में मदद कर सकता है :

  • थ्रश (मुंह और त्वचा के अन्य भागों को प्रभावित करने वाला संक्रमण)
  • पैर की उंगलियों, उंगलियों और टखनों में दर्द के साथ अकड़न
  • कलाई में तेज दर्द
  • दर्द जो एक स्थान से दूसरे स्थान तक फैल सकता है।

पल्सेटिला प्रेटेंसिस
सामान्य नाम :
विंड फ्लावर (पल्सेटिला)
लक्षण : विंड फ्लावर नामक उपाय मुख्य रूप से व्यक्ति के स्वभाव और मानसिक स्थिति के आधार पर निर्धारित किया जाता है। जिन्हें यह उपाय दिया जाता है, उनमें निम्नलिखित लक्षण दिखाई दे सकते हैं :

ये लक्षण शाम को खाने के बाद, गर्मी से और दर्द वाले हिस्से के बल लेटने या बायीं तरफ लेटने पर बढ़ जाते हैं, जबकि चलने-फिरने, ठंडा खाने-पीने और खुली हवा में रहने से इन लक्षणों में सुधार हो सकता है।

कैल्मिया लैटिफोलिया
सामान्य नाम :
माउंटेन लॉरेल
लक्षण : गठिया की स्थिति में कैल्मिया लैटिफोलिया को प्रभावी उपाय माना जाता है। यह निम्नलिखित लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है :

  • देखने की क्षमता में कमी
  • कमर दर्द (पीठ के निचले हिस्से में दर्द) (और पढ़ें - कमर दर्द के लिए योगासन)
  • रूमेटाइड आईराइटिस (आंख के रंगीन वाले हिस्से की सूजन)
  • आंख हिलाने पर कड़ापन महसूस होना
  • गर्दन का दर्द जो बांह तक फैल सकता है
  • बाहों और पैरों में कमजोरी और सुन्नता
  • जोड़ों में सूजन (और पढ़ें - सूजन कम करने के तरीके)

खुली हवा में, आगे की ओर झुकने, चलने और नीचे देखने पर यह लक्षण खराब हो जाते हैं।

होम्योपैथिक दवाओं की खुराक कम मात्रा में ली जाती है, रोगी का आहार औषधीय गुणों वाले पदार्थों से मुक्त होना चाहिए, क्योंकि यह पदार्थ दवाओं के प्रभाव को कम कर सकते हैं और उपचार में बाधा डाल सकते हैं।

क्या करना चाहिए :

  • गर्म मौसम में लेनिन के कपड़ों के बजाय सूती कपड़े पहनें।
  • क्रोनिक मामलों में तेजी से स्थिति को ठीक करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें और उचित आहार लें (डॉक्टर द्वारा सुझाए गए अनुसार)।
  • एक्यूट मामलों में, रोगी को कुछ खाद्य पदार्थों और पेय की इच्छा होती है। यदि उन्हें उनके मनपसंद की चीजें सीमित या कम मात्रा में खाने पीने दी जाएं तो इससे ट्रीटमेंट में कुछ खास फर्क नहीं पड़ता है। इसलिए, किसी भी भोजन या पेय को मना किए बगैर रोगी की इच्छाओं को पूरा करने की सलाह दी जाती है।

क्या नहीं करना चाहिए :

  • पारंपरिक टीकाकरण के विकल्प के रूप में होम्योपैथिक उपाय का प्रयोग न करें।
  • हर्बल टी, कॉफी और शराब या बीयर जैसे पेय से बचें।
  • मसालेदार भोजन, प्याज से बने सूप और सॉसेज, अजमोद, मीट और पुराना या रखे हुए चीज का इस्तेमाल न करें। 
  • होम्योपैथिक दवाओं को इत्र, कपूर, ईथर या अन्य खुशबूदार उत्पादों के पास नहीं रखना चाहिए, क्योंकि वे दवाओं के प्रभाव को बेअसर कर सकते हैं।
  • अस्वस्थ जीवन शैली और अस्वच्छता से बचना चाहिए।

रूमेटाइड आर्थराइटिस (संधिशोथ) के मामले में जब एक उपयुक्त होम्योपैथिक उपचार दिया जाता है, तो ऐसे में कुछ राहत की उम्मीद की जा सकती है। संधिशोथ शरीर में कई ऊतकों को प्रभावित करता है, इस स्थिति में होम्योपैथिक उपाय काफी प्रभावी हैं। ब्रिटिश जर्नल ऑफ क्लिनिकल फार्माकोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि गठिया के लगभग 82% रोगियों ने होम्योपैथिक उपचार से गठिया में होने वाले दर्द से राहत महसूस की।

(और पढ़ें - अर्थराइटिस में आहार)

172 रोगियों में किए गए एक रैंडम स्टडी से पता चला है कि क्रोनिक ऑस्टियोआर्थराइटिस में इस्तेमाल की जाने वाली पाइरोक्सिक जेल की तरह टॉपिकल होम्योपैथिक जेल के उपयोग से 4 सप्ताह के अंदर दर्द से राहत मिली।

(और पढ़ें - रूमेटाइड फैक्टर टेस्ट क्या है)

होम्योपैथिक उपचार का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। यह उपाय पौधों, जानवरों और खनिजों जैसे प्राकृतिक पदार्थों से प्राप्त होते हैं और इन्हें घुलनशील रूप में लिया जाता है, इसलिए इन्हें सुरक्षित और गैर-विषैला माना जाता है। इसके अलावा इन उपायों को सभी उम्र के रोगी इस्तेमाल कर सकते हैं। जब इन उपायों को पूरक यानी कॉम्प्लीमेंट्री थेरेपी के रूप में उपयोग किया जाता है, तो वे पारंपरिक दवाओं के असर में बाधा उत्पन्न नहीं करते हैं। इन दवाओं को सुरक्षित रूप से संधिशोथ से ग्रस्त बच्चों और बुजुर्गों दोनों को दिया जा सकता है। हालांकि, होम्योपैथिक उपाय करने से पहले किसी अनुभवी होम्योपैथिक डॉक्टर से परामर्श करना हमेशा सबसे अच्छा होता है।

(और पढ़ें - आर्थराइटिस के लिए योग)

रूमेटाइड आर्थराइटिस एक ऑटोइम्यून स्थिति है, जो तब होती है जब प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर के स्वस्थ ऊतकों पर हमला करती है और उन्हें नुकसान पहुंचाती है। इस स्थिति का उपचार आमतौर पर लक्षणों का प्रबंधन करके किया जाता है, जो रोग की प्रगति को धीमा कर देता है।

होम्योपैथिक उपचार गठिया के उपचार में सुरक्षित और प्रभावी माना गया है। ये उपचार प्राकृतिक पदार्थों से तैयार किए जाते हैं और घुलनशील व कम मात्रा में इनका सेवन किया जाता है, यही वजह है ​इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

ध्यान रहे, भले इनका दुष्प्रभाव नहीं होता, लेकिन इन्हें अपने आप कभी न लें, क्योंकि एक अनुभवी होम्योपैथिक डॉक्टर किसी मरीज की मानसिक और शारीरिक जांच के बाद ही दवा का निर्धारण करते हैं, ताकि उसे जल्द से जल्द और सटीक ट्रीटमेंट मिल सके।

(और पढ़ें - महिलाओं में पुरुषों से अधिक गठिया होने का कारण)

Dr. Sangeeta Attri

Dr. Sangeeta Attri

होमियोपैथ
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Prabha Naik

Dr. Prabha Naik

होमियोपैथ
32 वर्षों का अनुभव

Dr. Umesh Verma

Dr. Umesh Verma

होमियोपैथ
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Sabita Singh

Dr. Sabita Singh

होमियोपैथ
2 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Arthritis Foundation. What is Rheumatoid Arthritis?. Atlanta; [internet]
  2. Malaviya AN, Kapoor SK, Singh RR, Kumar A, Pande I. Prevalence of rheumatoid arthritis in the adult Indian population.. Rheumatol Int. 1993;13(4):131-4. PMID: 8310203
  3. National Centre of Homeopathy. Arthritis relief - Healing stiff and painful joints with homeopathy. Mount Laural NI; [Internet]
  4. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
  5. British Homeopathic Association. Is homeopathy safe? Is homeopathy safe?. London; [Internet]
  6. National Center for Complementary and Integrative Health [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Homeopathy
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ