myUpchar सुरक्षा+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

काली खांसी को पर्टुसिस (Pertussis) भी कहा जाता है, यह अत्यधिक संक्रामक बैक्टीरियल इन्फेक्शन है। यह बैक्टीरियम बोर्डटेला पर्टुसिस (Bacterium bordetella pertussis) के कारण होता है, जिसमें श्वसन मार्ग की लाइनिंग जैसे वायु नली (Trachea) और ब्रांकाई (Bronchi) प्रभावित होते हैं। काली खांसी से प्रभावित व्यक्ति को खांसते समय कफ (बलगम) आता है और सांस लेते समय सांस में से एक पेनी आवाज़ आती है जो "वूप" जैसी सुनाई देती है। काली खासी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है।

(और पढ़ें - बलगम की जांच कैसे होती है)

अगर आप काली खांसी से पीड़ित हैं तो इलाज के लिए अपने डॉक्टर से एक बार जांच जरूर करवाएं। साथ ही काली खांसी के शुरूआती लक्षणों में आप कुछ घरेलु उपायों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह बेहतरीन उपाय आपकी काली खांसी को जल्द से जल्द ठीक करने में मदद करेंगे।

(और पढ़ें - काली खांसी की दवा)

तो चलिए इस लेख में जानते हैं काली खांसी के कुछ बेहतरीन घरेलू उपाय -

  1. काली खांसी के घरेलू उपाय - Kali khansi ke gharelu upay
  2. काली खांसी के लिए घरेलू नुस्खे - Kali khansi ke liye gharelu nuskhe
  3. काली खांसी का उपाय - Kali khansi ka upay
  4. काली खांसी के जरूरी टिप्स - Kali khansi ke jaroori tips

काली खांसी का घरेलू उपाय है अदरक - Kali khansi ka gharelu upay hai adrak

अदरक बहुत ही बेहतरीन एक्सपेक्टोरैंट (Expectorant) है जो काली खांसी का इलाज करने में मदद करती है। इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं जो बैक्टीरिया का सफाया करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के भी गुण होते हैं जो इन्फेक्शन से लड़ते हैं और तेजी से इसका इलाज करते हैं।

अदरक का इस्तेमाल दो तरीकों से करें:

पहला तरीका:

सामग्री:

  1. दो बड़ा चम्मच अदरक का जूस। (और पढ़ें - अदरक के फायदे)
  2. दो बड़ा चम्मच कच्चा शहद। (और पढ़ें - शहद के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले इन दोनों सामग्रियों को अच्छे से मिला लें।
  2. मिलाने के बाद मिश्रण को खा लें।
  3. इस उपाय को कुछ दिनों तक इसी तरह रोजाना पूरे दिन में दो बार दोहराएं।

(और पढ़ें - सूखी खांसी का इलाज)

दूसरा तरीका:

सामग्री:

  1. दो बड़ा चम्मच अदरक का जूस।
  2. दो बड़ा चम्मच नींबू का जूस। (और पढ़ें - नींबू के फायदे)
  3. दो बड़ा चम्मच प्याज का जूस। (और पढ़ें - प्याज के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले सभी सामग्रियों को एक साथ मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण का एक चम्मच पूरे दिन में दो से तीन बार लें।

(और पढ़ें - खांसी के लिए घरेलू उपाय)

काली खांसी का उपाय है हल्दी - Kali khansi ka upay hai haldi

हल्दी में एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण होते हैं जो काली खांसी का इलाज करने में मदद करते हैं। इसमें इलाज करने वाले गुण होते हैं जो खांसी के लिए प्रभावी होते हैं, खासकर सूखी खांसी। हल्दी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करती है और शरीर में मौजूद इन्फेक्शन से लड़ती है। (और पढ़ें - वायरल इन्फेक्शन का इलाज)

हल्दी का इस्तेमाल दो तरीकों से करें:

पहला तरीका:

सामग्री:

  1. एक बड़ा चम्मच कच्चा शहद।
  2. एक छोटा चम्मच हल्दी। (और पढ़ें - हल्दी के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले दोनों सामग्रियों को एक साथ मिला लें।
  2. फिर मिश्रण को खा लें।
  3. इस मिश्रण को पूरे दिन में दो बार लें।

(और पढ़ें - खांसी आने पर क्या करे)

दूसरा तरीका:

सामग्री:

  1. एक ग्लास गर्म दूध। (और पढ़ें - दूध के फायदे)
  2. एक छोटा चम्मच हल्दी।

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. एक ग्लास गर्म दूध में हल्दी मिला लें।
  2. मिलाने के बाद दूध को पी जाएं।
  3. इस उपाय को पूरे दिन में दो बार करें।
  4. इसके अलावा आप हल्दी के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं, लेकिन लेने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार बात जरूर कर लें।

(और पढ़ें - खांसी में क्या खाएं

काली खांसी का नुस्खा है लहसुन - Kali khansi ka nuskha hai lehsun

लहसुन में प्राकृतिक एंटीबायोटिक गुण होते हैं जो बैक्टीरिया से लड़ते हैं, जिनकी वजह से काली खांसी होती है। इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण होते हैं जो पर्टुसिस इन्फेक्शन के प्रभाव को कम करते हैं।

लहसुन का दो तरीकों से इस्तेमाल करें:

पहला तरीका:

सामग्री:

  1. एक बड़ा चम्मच लहसुन। (और पढ़ें - लहसुन के फायदे)

बनाने व उपयोग करने के तरीके:

  1. एक हफ्ते तक पूरे दिन में दो से तीन बार लहसुन के जूस को पिएं। (और पढ़ें - खाली पेट लहसुन खाने का तरीका)

दूसरा तरीका:

सामग्री:

  1. एक बड़ा चम्मच कटा हुआ लहसुन। (और पढ़ें - लहसुन और शहद खाने के फायदे)
  2. एक बड़े बर्तन में पानी।

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले बर्तन में मौजूद पानी को गर्म करें और फिर उसमें लहसुन को भी मिला दें।
  2. अब अपने सिर को किसी कपड़े से ढकें और फिर गर्म पानी से भाप लेना शुरू करें।
  3. यह उपाय बेहद छोटे बच्चों के लिए ठीक नहीं है। 

(और पढ़ें - नवजात शिशु की खांसी का कारण

काली खांसी का नुस्खा है शहद - Kali khansi ka nuskha hai shehad

शहद काली खांसी के लिए बेहद लाभदायक उपाय है। इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो काली खांसी का इलाज तेजी से करते हैं। शहद बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है और संक्रमण के प्रभाव को कम करता है।

शहद का इस्तेमाल दो तरीकों से करें:

पहला तरीका:

सामग्री:

  1. एक बड़ा चम्मच कच्चा शहद। (और पढ़ें - शहद और गर्म पानी के लाभ)
  2. एक ग्लास पानी।

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले एक ग्लास पानी को गर्म कर लें।
  2. अब उसमें शहद डाल लें।
  3. डालने के बाद मिश्रण को आराम से पी जाएं।
  4. इस उपाय को पूरे दिन में कई बार दोहराएं।
  5. यह उपाय आपके गले को आराम पहुंचाने में मदद करेगा।

दूसरा तरीका:

सामग्री:

  1. एक छोटा चम्मच कच्चा शहद।
  2. एक छोटा चम्मच दालचीनी। (और पढ़ें - दालचीनी के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले शहद और दालचीनी को एक साथ मिला लें।
  2. मिलाने के बाद रात को सोने से पहले इस मिश्रण को खा लें।
  3. यह उपाय काली खांसी के लिए बेहद प्रभावी है।

(और पढ़ें - सूखी खांसी दूर करने के उपाय

नमक के पानी से काली खांसी ठीक करें - Namak ke pani se kali khansi theek kare

गर्म पानी में नमक मिलाने से कफ साफ होता है और काली खांसी की समस्या भी ठीक होती है। नमक को सोडियम क्लोराइड भी कहा जाता है, जिसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं और यह तेजी से काली खांसी का इलाज करने में मदद करता है।

नमक के पानी का इस्तेमाल कैसे करें:

सामग्री:

  1. दो से तीन छोटा चम्मच नमक। (और पढ़ें - नमक के फायदे)
  2. एक कप पानी। (और पढ़ें - गर्म पानी पीने के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले पानी को गर्म कर लें।
  2. अब उसमें नमक मिलाएं।
  3. अच्छे से नमक को पानी में मिलाने के बाद गरारे करना शुरू करें। (और पढ़ें - गरारे करने के फायदे)
  4. इस उपाय का उपयोग पूरे दिन में एक बार करें।

(और पढ़ें - बच्चों की खांसी के लिए शहद

काली खांसी के लिए ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल करें - Kali khansi ke liye humidifier ka istemal kare

काली खांसी को कम करने के लिए आप ह्यूमिडिफायर का उपयोग कर सकते हैं। ह्यूमिडिफायर कमरे में नमी बनाए रखता है और कफ की गंभीरता को भी कम करता है। अच्छा परिणाम पाने के लिए ह्यूमिडिफायर में आप थोड़ा जड़ी बूटी का तेल भी डाल सकते हैं।

(और पढ़ें - कफ निकालने के उपाय)

काली खांसी का नुस्खा है मुलेठी - Kali khansi ka nuskha hai mulethi

मुलेठी में ग्लाइसिराइजिक एसिड (Glycyrrhizic acid) होता है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। इसमें डीमुलसेंट (Demulcent) घटक होते हैं जो उत्तकों का इलाज करते हैं। काली खांसी के कारण उत्तकों को काफी नुकसान पहुंचता है।

मुलेठी का इस्तेमाल दो तरीकों से करें:

पहला तरीका:

सामग्री:

  1. एक बड़ा चम्मच सूखी मुलेठी का पाउडर। (और पढ़ें - मुलेठी के फायदे)
  2. दो कप पानी।

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले एक कप पानी को गैस पर रखें।
  2. अब उसमें एक बड़ा चम्मच मुलेठी का पाउडर डालें।
  3. मिश्रण को पांच मिनट तक गर्म होने को रख दें।
  4. अब बर्तन को गैस से हटाएं और दस मिनट के लिए ऐसे ही रहने दें।
  5. फिर मिश्रण को छानकर पी जाएं।
  6. इस प्रक्रिया को कुछ दिनों तक पूरे दिन में दो से तीन बार दोहराएं।

दूसरा तरीका:

सामग्री:

  1. एक छोटा चम्मच मुलेठी पाउडर।
  2. एक छोटा चम्मच शहद।

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले मुलेठी के पाउडर और शहद को एक साथ मिला लें।
  2. मिलाने के बाद मिश्रण को खा लें।
  3. इस उपाय को कुछ दिनों तक पूरे दिन में दो बार दोहराएं।

(और पढ़ें - सर्दी जुकाम के इलाज)

काली खांसी के लिए ओरीगेनो का उपयोग करें - Kali khansi ke liye oregano ka upyog kare

श्वसन संक्रमण जैसे काली खांसी के लिए ओरगेनो बहुत ही बेहतरीन उपाय है। इस जड़ी बूटी में एंटीस्पास्मोडिक (Antispasmodic), एंटीबैक्टीरियल और एक्सपेक्टोरैंट के गुण मौजूद होते हैं। यह गुण फेफड़ों से बलगम को साफ करते हैं और सूखी खांसी से राहत दिलाते हैं। (और पढ़ें - फेफड़ों के रोग का इलाज)

ओरगेनो का इस्तेमाल दो तरीकों से करें:

पहला तरीका:

सामग्री:

  1. एक बर्तन में पानी।
  2. 6-7 बूंद ओरगेनो तेल।

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले पानी के बर्तन में ओरगेनो तेल डालें।
  2. अब बर्तन को गैस पर रख दें और मिश्रण को कुछ देर तक गर्म होने के लिए रख दें।
  3. जब मिश्रण अच्छे से गर्म हो जाए, तब अपने सिर को किसी तौलिये से ढक लें और फिर दस मिनट तक भाप लें।
  4. काली खांसी को ठीक करने के लिए इस उपाय को कुछ दिनों तक पूरे दिन में दो से तीन बार दोहराएं। 

(और पढ़ें - भाप लेने का तरीका)

दूसरा तरीका:

सामग्री:

  1. 15 से 20 बूंद ओरगेनो तेल।
  2. दो से तीन बड़ा चम्मच जैतून का तेल या जोजोबा तेल

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले ओरगेनो तेल और जोजोबा तेल या जैतून के तेल को एक साथ मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण को उंगलियों पर लें और छाती पर लगाना शुरू करें। इस बात का ध्यान रखें कि आपको इस उपाय का इस्तेमाल रात को सोने से पहले करना है। 

(और पढ़ें - ब्रोंकाइटिस से बचने के उपाय

बादाम से काली खांसी होती है ठीक - Badam se kali khansi hoti hai theek

बादाम में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। बादाम के छिलकों में पॉलीफेनोल्स पाए जाते हैं जिनमें एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। यह गुण बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं। इन बैक्टीरिया के कारण ही काली खांसी होती है।

बादाम का इस्तेमाल कैसे करें:

सामग्री:

  1. 7-8 बादाम। (और पढ़ें - बादाम के फायदे)
  2. एक छोटा चम्मच मक्खन। (और पढ़ें - मक्खन के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका:

  1. सबसे पहले बादाम को रातभर के लिए पानी में भिगोकर रख दें।
  2. अब सुबह में बादाम को मिक्सर में डालें।
  3. साथ में मक्खन को भी मिक्सर में डाल दें।
  4. दोनों मिश्रण को अच्छे से मिलाने के बाद इसे खा लें।
  5. इस उपाय को पूरे दिन में दो से तीन बार दोहराएं।

(और पढ़ें - दम घुटने की दवा

काली खांसी के टिप्स इस प्रकार हैं -

  • रोजाना एक से दो ग्लास अंगूर का जूस पिएं। इससे इलाज की प्रक्रिया में तेजी आएगी। (और पढ़ें - अंगूर के बीज के तेल के फायदे)
  • दो चम्मच सेब का सिरका एक कप पानी में मिलाएं, इसमें शहद की कुछ बूंदें ड़ालें और दिन में दो से तीन बार पी लें (और पढ़ें - लहसुन और शहद खाने का तरीका)
  • रोजाना अपने रूमाल में कपूर के टुकड़े रखकर उसे समय-समय पर सूंघते रहें। 
  • एकदम ठंडी या नमी वाली जगह पर न रहें इससे काली खांसी की समस्या और बढ़ सकती है। 
  • जितना हो सके उतना आराम करें। 
  • ज्यादा से ज्यादा पानी, जूस और सूप पिएं। 
  • धूम्रपान या तंबाकू का सेवन न करें। 
  • जब बाहर जाएं तो मुंह पर कपड़ा बांधकर निकलें। 
  • काली खांसी की समस्या कम करने के लिए विटामिन सी से समृद्ध खाद्य पदार्थ खाएं। 
  • ऐसे खाद्य पदार्थ न खाएं जिनसे एलर्जी बढ़ सकती है जैसे चीनी वाले आहार, डेयरी प्रोडक्ट और स्टार्च फ़ूड।  
  • काली खांसी कम करने के लिए कैमोमाइल चाय पिएं।   

(और पढ़ें - गुटखा छोड़ने के आसान उपाय)

और पढ़ें ...