myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्भावस्था की तीसरी तिमाही और तीसवें सप्ताह के दौरान, आपको और अधिक कष्टों का अनुभव हो सकता है। अब आपकी प्रेगनेंसी के पूरे होने में सिर्फ कुछ ही और हफ्ते बचते हैं, लेकिन आप अपनी डिलीवरी की निर्धारित तारीख का बेसब्री से इंतज़ार करने लगती हैं। वास्तव में ऐसा प्रत्येक गर्भवती महिला के साथ होता है इसलिए थोड़ा धैर्य रखें और कोई भी समस्या होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं और गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द)

  1. 30वें हफ्ते की गर्भावस्था में शरीर में होने वाले बदलाव - Body changes during 30 week of pregnancy in Hindi
  2. तीसवें हफ्ते की गर्भावस्था में शिशु का विकास - Baby development in 30th week of pregnancy in Hindi
  3. तीसवें हफ्ते के गर्भ का अल्ट्रासाउंड - Ultrasound at 30 weeks of pregnancy in Hindi
  4. 30वें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स - Tips for 30th week pregnancy in Hindi
  5. प्रेगनेंसी के तीसवें हफ्ते में डाइट - Diet for 30th week of pregnancy in Hindi

गर्भवती महिलाओं का सबसे अधिक वजन 20वें से 30वें सप्ताह के दौरान ही बढ़ता है। लेकिन इस समय से शारीरिक बदलाव होने थोड़े कम हो जाते हैं। आपका वजन बढ़ने के कारण आप असहज महसूस कर सकती हैं और गर्भावस्था में होने वाले दर्द की वजह से आपकी दिनचर्या पर भी असर पड़ता है। पीठ के निचले हिस्से में होने वाले दर्द पर नियंत्रण रखने के लिए उठने बैठने की सही स्थिति का अभ्यास करें। प्रेगनेंसी हार्मोन आपके जोड़ों को हानि पहुंचा सकते हैं। गर्भ में बच्चे के बढ़ने पर एम्नियोटिक द्रव की मात्रा कम होती जाएगी। अधिक से अधिक आराम करें, इससे प्रेगनेंसी में होने वाले दर्द और हार्मोनल असंतुलन आदि से बचने में मदद मिलेगी।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में वज़न बढ़ना)

इस सप्ताह में बच्चे में थोड़ी सी झुर्रियां दिखाई देती हैं। लेकिन त्वचा के नीचे वसा ऊतकों के बनने के कारण ये झुर्रियां चिकनी हो जाती हैं और कुछ समय बाद चली जाती हैं। लैन्यूगो (Lanugo) नामक गर्भरोम अभी भी आपके बच्चे के शरीर पर मौजूद होते हैं जो उसके पैदा होने तक रहेंगे। इस हफ्ते बच्चा लम्बाई में लगभग 17 इंच और वजन में 1.8 किलो का हो जाता है। बच्चा गर्भ के बाहर सांस लेने के लिए अभ्यास करना शुरु कर देता है। इस अभ्यास और बच्चे को हिचकी आने के कारण आपको गर्भाशय में खलबली महसूस हो सकती है। बच्चा इस समय तक लगभग पूरी गर्भाशय गुहा के आकार का हो जाता है। जैसे जैसे मस्तिष्क का विकास होता जाता है, यह आंखों, मांसपेशियों और फेफड़ों को कार्य करने के लिए संकेत देना शुरू कर देता है। पाचन तंत्र इस तीसवें सप्ताह में पूरी तरह से कार्य करना शुरु कर देता है, क्योंकि बच्चा आपसे सभी पोषक तत्वों को ग्रहण करता है।

(और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास)

इस हफ्ते के अल्ट्रासाउंड में बच्चे की छवि और उसके शरीर तथा चेहरे की आकृतियां बिलकुल साफ़ दिखाई देती हैं। उसके होंठ और छोटी सी नाक भी आप देख सकती हैं। बच्चे के हाथ उसके माथे और आँखों के सामने होते हैं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी टेस्ट कब करे और test tube baby in hindi)

जैसे जैसे डिलीवरी का समय निकट आता जाये आप नियमित रूप से डॉक्टर से अपना चेकअप, अल्ट्रासाउंड और ब्लड टेस्ट कराती रहें। अच्छा और संतुलित भोजन करें। यदि आपको कब्ज का अनुभव हो तो अधिक फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ खाएं और अधिक से अधिक आराम करें। प्रेगनेंसी क्लासेज जाएं। ऐसा करने से आपको सुस्ती दूर करके सक्रिय रहने में मदद मिलेगी। अगर आपको आराम करने में परेशानी हो रही है, तो प्रेगनेंसी तकिया (Pregnancy pillow) का उपयोग करें। ये बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं और मुख्यतः गर्भवती महिलाओं के लिए ही बनायीं गयी हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर से चेकअप)

(और पढ़ें - गर्भावस्था में व्यायाम)

प्रेगनेंसी के तीसवें हफ्ते अर्थात तीसरी तिमाही की डाइट 29वें हफ्ते की डाइट के लगभग समान ही होती है। इस हफ्ते से आपको अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होगी। इसके लिए आपको अब प्रतिदिन अधिक कैलोरी का सेवन करने की जरूरत है। पर्याप्त मात्रा में पानी पीकर अपने शरीर को नम बनाये रखें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी डाइट चार्ट)

  1. जिन खाद्य पदार्थों में पानी की मात्रा अधिक हो उनका सेवन करें जैसे करेला, तरबूज आदि। (और पढ़ें - लड़का होने के लिए उपाय और गोरा बच्चा पैदा करना)
  2. शरीर को ठंडक पहुंचाने के लिए नींबू पानी, लस्सी आदि का सेवन करें। (और पढ़ें - गर्भवती महिला के लिए भोजन)
  3. अधिक कैलोरी का सेवन करने के लिए सब्ज़ियों के साथ दो रोटी पर्याप्त हैं। दिनभर में करने वाले भोजन के अलावा इनका सेवन करें।
  4. अंगूर का शरबत, सेबगाजर का रस आदि आपके स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होते हैं। (और पढ़ें - गर्भावस्था में ये हेल्दी जूस हैं काफी फायदेमंद)

 

(और पढ़ें - पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे)

और पढ़ें ...