गर्भावस्था के 23वें सप्ताह के दौरान माँ और बच्चे दोनों का वजन बढ़ना चाहिए। महिला को अपना और बच्चे का स्वास्थ्य जानने के लिए नियमित रूप से प्रसव पूर्व जांचों (Antenatal check ups) के लिए जाना चाहिए। जैसे जैसे दूसरी तिमाही समाप्त होने वाली होती है डॉक्टर के लिए ये जांचें करना आवश्यक हो जाता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर से चेकअप)

  1. 23वें हफ्ते की गर्भावस्था में शरीर में होने वाले बदलाव - Changes in body during 23rd week of pregnancy in Hindi
  2. तेईसवें हफ्ते की गर्भावस्था में शिशु का विकास - Baby development in 23rd week of pregnancy in Hindi
  3. तेईसवें हफ्ते के गर्भ का अल्ट्रासाउंड - Ultrasound at 23 weeks of pregnancy in Hindi
  4. 23वें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स - Tips for 23 weeks pregnancy in Hindi
  5. प्रेगनेंसी के तेईसवें हफ्ते का डाइट प्लान - Diet plan for 23 weeks pregnancy in Hindi
  6. गर्भावस्था का 23वां सप्ताह के डॉक्टर

जैसे जैसे बच्चा अधिक सक्रिय होता जायेगा, आपको उसके किक करने और घूंसे मारने का अनुभव जल्दी जल्दी और अधिक होगा। जैसे ही आपकी कोख की मासपेशियां खिंचने लगेंगी आपका गर्भाशय लगभग 1½ इंच ऊपर आ जायेगा। आपके शरीर के निचले हिस्से में खून की मात्रा में वृद्धि होने की वजह से आपको अधिक बार मूत्र या योनिस्राव का अनुभव हो सकता है। लेकिन ऐसा होना सामान्य है। संदेह होने पर अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं और पीरियड के कितने दिन बाद प्रेगनेंसी टेस्ट करे)

आपके बच्चे का वज़न 23वें हफ्ते में आधा ग्राम और लम्बाई लगभग 11.4 इंच तक पहुंच सकती है। अल्ट्रासाउंड में बच्चा आपको एक छोटी गुड़िया जैसा दिखाई देगा। बच्चे की त्वचा का रंग लाल और वसा ऊतकों का विकास हो जाता है लेकिन त्वचा अभी भी ढीली होती है क्योंकि वसा की तुलना में त्वचा अधिक तेजी से बनती है। आप गर्भाशय की दीवारों पर बच्चे की किक और घूंसे महसूस कर सकती हैं। यह वास्तव में बहुत ही रोमांचक समय होता है।

(और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास, वीडियो के साथ)

सोनोग्राफी में बच्चे के पैर उसकी छाती की ओर होते हैं। आप उसकी लगभग पूरी छवि देख सकती हैं। बच्चे के पूरे शरीर का चित्र निकालना अब मुश्किल हो सकता है क्योंकि अब वह लंबाई में 8 इंच से अधिक लम्बा हो जाता है। आने वाले हफ्तों में उसका वजन बढ़ सकता है लेकिन अभी के लिए वह अपेक्षाकृत काफी पतला होता है।

(और पढ़ें - गर्भ में लड़का या लड़की होने के लक्षण से जुड़े मिथक)

प्रेगनेंसी में आपको जितना हो सके खुश और उत्साहित रहने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि तनाव आपके बच्चे को प्रभावित कर सकता है। जहां जरूरत महसूस हो, परिवार के सदस्यों, दोस्तों या अन्य किसी की सहायता लेने से न कतराएं। आप जितना अधिक से अधिक अच्छा समय बिताती हैं उसका असर आपके बच्चे पर भी पड़ता है और ये अच्छा समय आपके बुरे दिनों में तनावमुक्त रहने में आपकी मदद कर सकता है। पिछले लेखों में बताई गयी बच्चे की औसत लम्बाइयां और वज़न चिकित्सकीय आंकड़ों और विश्लेषणों पर आधारित हैं। सभी महिलाओं और बच्चों के विकास की दर अलग अलग होती है इसलिए किसी भी चीज़ के बारे में संदेह होने पर अपने डॉक्टर से ज़रूर परामर्श लें।

(और पढ़ें - आयुर्वेद के अनुसार बच्चे के जन्म से पूर्व होने वाली माताओं को करना चाहिए इन बातों का पालन)

23वें हफ्ते का डाइट प्लान 21वें और 22वें हफ्ते की तरह ही होता है। अपने भोजन में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और डेयरी खाद्य पदार्थों को शामिल करें। इसके अलावा, विटामिन ए और कोलेस्ट्रॉल का सेवन भी ज़रूर करना चाहिए।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाएं और क्या ना खाएं)

  1. शरीर में कोलेस्ट्रॉल स्तर को बनाए रखना बहुत आवश्यक होता है क्योंकि यह प्लेसेंटा को स्वस्थ रखने में मदद करता है। 
  2. तरल पदार्थों में तरबूज का रस, खुबानी शेक, चुकंदर और गाजर का रस पिएं लेकिन घर के बने जूस का ही सेवन करें इससे संक्रमण से बचने में मदद मिलती है। (और पढ़ें - गर्भावस्था में ये हेल्दी जूस हैं काफी फायदेमंद)
  3. बीटा कैरोटीन के लिए गाजर, शकरकंद, पपीते और संतरों का सेवन करें। (और पढ़ें - प्रेगनेंसी डाइट चार्ट)
  4. विटामिन ए लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद करता है। अपने दैनिक आहार में अंडे की जर्दी, मक्खन और दूध आदि को शामिल करके आप विटामिन ए की पूर्ति कर सकती हैं। (और पढ़ें - गर्भावस्था में खून की कमी)
Dr. Venkatesh

Dr. Venkatesh

सामान्य चिकित्सा

Dr. Neethu Mary

Dr. Neethu Mary

सामान्य चिकित्सा

Dr. Archana Singh

Dr. Archana Singh

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...