myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्भावस्था का छठा सप्ताह में प्रवेश करने का मतलब है कि आप पहली तिमाही आधी पार कर चुकी हैं। निश्चित रूप से बच्चे की वृद्धि और विकास होता है जिस कारण आपके शरीर में भी अनेकों परिवर्तन होते हैं। इस सप्ताह से, पेट के आकार में भी परिवर्तन आता है। गर्भवती महिला को इस दौरान गर्भावस्था के सभी लक्षण महसूस होने लगते हैं। और प्रेगनेंसी की सभी जांचों का भी सकारात्मक परिणाम आता है। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण)

  1. छः हफ्ते की गर्भवती महिला के शरीर में होने वाले बदलाव - Body changes when 6 weeks pregnant in Hindi
  2. छः हफ्ते की गर्भावस्था में भ्रूण का विकास - Baby development in 6th week of pregnancy in Hindi
  3. छः हफ्ते के गर्भ का अल्ट्रासाउंड - Ultrasound 6th week pregnancy in Hindi
  4. छठे सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स - Week 6 pregnancy tips in Hindi
  5. प्रेगनेंसी के छठे हफ्ते का डाइट प्लान - Diet plan for 6 week pregnancy in Hindi

जैसे जैसे बच्चे का विकास होता है आपको महसूस होने वाले लक्षणों में भी बढ़ौतरी होती है। जैसे आपको जल्दी जल्दी मूड बदलने, खाद्य पदार्थों के प्रति लालसा, मॉर्निंग सिकनेस, थकान, वजन बढ़ना, स्तनों में छूने पर दर्द का अनुभव होना और मतली आदि लक्षण महसूस होंगे। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में बदलते मूड के कारण और उपाय)

गर्भावस्था के ये लक्षण आपके बच्चे के बढ़ने के साथ साथ और तेज़ी से महसूस होंगे। इनको ख़त्म तो नहीं किया जा सकता लेकिन कुछ उपायों द्वारा इनको कम ज़रूर किया जा सकता है। पहली तिमाही के दौरान कई महिलाओं का वज़न लगभग 2 किग्रा. तक बढ़ जाता है। लेकिन कई महिलाएं गर्भावस्था के पहले छह सप्ताह के दौरान उलटी और मतली के कारण कई का वजन कम भी हो जाता है। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में सुबह उल्टी और मतली आना)

हालांकि इसमें चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि सभी महिलाओं की शारीरिक रचना अलग प्रकार की होती है और सभी को गर्भावस्था के दौरान वजन से सम्बंधित अलग अलग प्रकार का अनुभव होता है।

ज्यादातर महिलाएं गर्भावस्था में डॉक्टरी जांच के लिए पहली बार छठे सप्ताह में ही जाती हैं। डॉक्टर उनका अल्ट्रासाउंड करेंगे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि माता और बच्चे का स्वस्थ्य ठीक है या नहीं। और इस अल्ट्रासाउंड टेस्ट में विकासशील भ्रूण की पहली झलक भी देखने को मिलती है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर से चेकअप)

छठे सप्ताह में, आपके बच्चे में होने वाले परिवर्तन जैसे कान, मुंह और नाक में होने वाले विकास आपको अल्ट्रासाउंड में दिखाई देने लगेंगे। प्रमुख बदलाव और अल्ट्रासाउंड इन आसानी से चुन सकते हैं। आँखें और नथुने (Nostrils) भी बनने लगते हैं जो अल्ट्रासाउंड में काले बिंदुओं के रूप में दिखाई देते हैं।

(और पढ़ें - आयुर्वेद के अनुसार नई माताओं को इन बातों का रखें ध्यान)

आपके बच्चे के हाथ और पैर आकार लेने लगते हैं और अपने जोड़ों से बाहर निकलने लगते हैं। शिशु के दिल की धड़कन 100-160 बीट्स प्रति मिनट अर्थात वयस्क मनुष्य की तुलना में दोगुनी होती है।

रक्त परिसंचरण होने लगता है और फेफड़े, आतें, लिवर और अग्न्याशय (Pancreas) सभी का निर्माण हो रहा होता है। बच्चा लगभग ¼ इंच लंबा एक दाल के दाने जैसा दिखाई देता है।

छह हफ्ते की प्रेगनेंसी में, बच्चा कुछ गतिविधियां करने में सक्षम हो जाता है लेकिन ये गतिविधियां इतनी शांत और धीमी होती हैं कि गर्भवती महिला को अकसर इनका पता नहीं चलता। 

(और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास, वीडियो के साथ)

विकासशील भ्रूण की इस 3डी (3D) छवि में आप पिछले सप्ताह की तुलना में एक बड़ा बदलाव देख सकती हैं। बच्चा गर्भ के अंदर ही अंदर गर्भनाल के चारों ओर अपनी स्थिति बदलता रहता है और छवि में उसका सर दायीं ओर ऊपर दिखाई देता है। हाथ और पैरों के विकसित होने के स्थान पर छोटे छोटे उभार दिखाई देने लगते हैं। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली प्रॉब्लम और प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग केसे करें)

छठे सप्ताह के दौरान भोजन के सम्बन्ध में सावधानी बरतना अत्यंत महत्वपूर्ण है सिर्फ इसलिए कि आप गर्भवती हैं इसका मतलब यह नहीं है कि आपको दो लोगों की खुराक खाने की आवश्यकता है।

प्रति दिन केवल 300 अतिरिक्त कैलोरी का सेवन करने की कोशिश करें। और अपना वजन अधिक न बढ़ने दें उसपर नियंत्रण रखें। इसके अलावा, एक बार में अधिक भोजन करने के बजाय थोड़ी थोड़ी मात्रा में दिन में तीन बार भोजन करें साथ में स्नैक्स भी खाती रहें। इससे आपको मॉर्निंग सिकनेस को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी, जो अधिकतर खाली पेट होने पर होती है। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाएं और क्या ना खाएं)

पहले तिमाही से ही भविष्य की योजना करना भी ज़रूरी होता है। इनमें आप अपने साइज के बढ़ने के अनुसार कपड़ों का चुनाव कर सकती हैं या अगर आप घर पर सिलना चाहें तो खुद भी तैयार कर सकती हैं। हालांकि इनकी ज़रूरत आपको अभी नहीं होगी। कम से कम 12वें हफ्ते के अंत तक वज़न बढ़ने पर आपको इनकी आवश्यकता होगी। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में वज़न बढ़ना)

गर्भावस्था अपने आप में बहुत महत्वपूर्ण शब्द है और गर्भावस्था का कोई भी हफ्ता अपने आप में प्रमुख होता है। गर्भवती महिला को अन्य सावधानियों के साथ साथ अपने आहार  सावधानी बरतने की ज़रूरत होती है। (और पढ़ें - प्रेगनेंसी डाइट चार्ट)

  1. इस दौरान बच्चे के अंगों का विकास बहुत तीव्रता से होता है। आपको फोलिक एसिड, विटामिन्स, खनिज, प्रोटीन आदि का सेवन पर्याप्त मात्रा में करना चाहिए।
  2. अपना खाना समय पर और उचित मात्रा में सभी पोषक तत्वों को शामिल करते हुए खाएं। रोटी, चावल, ज्वार-बाजरा, मक्का आदि का सेवन करें।
  3. प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करें।
  4. थकान और डिहाइड्रेशन से बचने के लिए तरल पदार्थों का सेवन पर्याप्त मात्रा में करती रहें। (और पढ़ें - गर्भावस्था में थकान)
  5. कैफीन युक्त पदार्थों का सेवन कम करें। 
और पढ़ें ...

References

  1. St George’s University Hospitals. The pregnancy book. NHS Foundation Trust. [internet].
  2. American College of Obstetricians and Gynecologists. Exercise During Pregnancy. Washington, DC; USA
  3. Unim Hans, Byamukama Edward. Regular vitamin C supplementation during pregnancy reduces hospitalization: outcomes of a Ugandan rural cohort study. Pan Afr Med J. 2010; 5: 15. PMID: 21293742
  4. Rajavel Elango, Ronald O Ball. Advances in Nutrition. Volume 7, Issue 4, July 2016.
  5. Oxford Vaccine Group. Flu vaccine in pregnancy. Churchill Hospital; University of Oxford. [internet].
  6. American College of Obstetricians and Gynecologists. The Rh Factor: How It Can Affect Your Pregnancy. Washington, DC; USA
  7. National Health Service [Internet]. UK; You and your baby at 6 weeks pregnant
  8. MedlinePlus Medical: US National Library of Medicine; Fetal development
  9. National institute of health. Mothers' High Normal Blood Sugar Levels Place Infants at Risk for Birth Problems. U.S. Department of Health & Human Services. [internet].
  10. American College of Obstetricians and Gynecologists. Obesity and Pregnancy. Washington, DC; USA
  11. The Eunice Kennedy Shriver National Institute of Child Health and Human Development. Does PCOS affect pregnancy?. United States Department of Health and Human Services. [internet].
  12. American pregnancy association. Gestational Hypertension: Pregnancy Induced Hypertension (PIH). Irving,Texas. [internet]
  13. Lai C, Coulter SA, Woodruff A. Hypertension and Pregnancy. Tex Heart Inst J. 2017 Oct 1;44(5):350-351. PMID: 29259508
  14. Office on women's health [internet]: US Department of Health and Human Services; Pregnancy loss