गर्भावस्था का 27वां हफ्ता माँ और बच्चे के लिए बहुत महत्वपूर्ण हफ्ता होता है। यह गर्भावस्था के अंतिम चरण या तीसरी तिमाही की शुरुआत का प्रतीक है। जैसे जैसे प्रेगनेंसी, डिलीवरी की तिथि के करीब पहुंचती है, माता-पिता, दादा दादी, भाई बहन, परिवार के अन्य सदस्य और दोस्त आदि का इंतज़ार और तेज़ी से बढ़ने लगता है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में क्या करें और क्या ना करें)

  1. 27वें हफ्ते की गर्भावस्था में शरीर में होने वाले बदलाव - Body changes during 27 weeks of pregnancy in Hindi
  2. सत्ताइसवें हफ्ते की गर्भावस्था में शिशु का विकास - Baby development in 27th week of pregnancy in Hindi
  3. सत्ताइसवें हफ्ते के गर्भ का अल्ट्रासाउंड - Ultrasound of 27 weeks pregnancy in Hindi
  4. 27वें सप्ताह के गर्भधारण के लिए टिप्स - Tips for 27 weeks pregnancy in Hindi
  5. प्रेगनेंसी के सत्ताइसवें हफ्ते में डाइट - Diet for 27th week of pregnancy in Hindi
  6. गर्भावस्था का 27वां सप्ताह के डॉक्टर

प्रेगनेंसी के 27वें हफ्ते में आपको भोजन की लालसा (Food cravings- मीठा या खट्टा अधिक खाने का मन करना) से निपटना पड़ सकता है। ध्यान रखें कि आपको अपने और बच्चे के स्वास्थय के लिए पर्याप्त पोषक तत्वों के साथ प्रतिदिन 300-500 अतिरिक्त कैलोरी की आवश्यकता होती है। जैसे जैसे आपका गर्भाशय बढ़ता जायेगा, वैसे वैसे आपकी ऊपरी छाती पर दबाव पड़ने की वजह से आपको सीने में दर्द या सांस की तकलीफ का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि यह सामान्य है, लेकिन फिर भी इस समस्या के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। आप अपने चेहरे, गर्दन, हाथ, पैर, टखनों, जांघों और अन्य जगह भी सूजन का अनुभव कर सकती हैं। इस सामान्य समस्या से निपटने के लिए अपनी बाईं ओर आराम करने का प्रयास करें।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं और प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए)

(और पढ़ें - गर्भावस्था में सोते समय इन खास बातों का ध्यान रखें)

इस सप्ताह में आपके बच्चे की लम्बाई 15 इंच तक और वजन 900 ग्राम से अधिक होना चाहिए। जैसे जैसे उसकी आंखों का विकास होता जाता है, रेटिना की परतें भी बनती जाती हैं और आंखों को कवर करने वाली झिल्ली अलग होकर पलकों का रूप ले लेती है। डॉक्टर आपको इस समय ये सुझाव देंगे कि आप जितना संभव हो उतना आराम करने की कोशिश करें क्योंकि इस दौरान बच्चा भी आराम कर रहा होता है। शिशु के मस्तिष्क में ऊतकों आदि का निर्माण होता रहता है। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि बच्चा इस चरण से सपने देखना शुरु कर देता है लेकिन इस बात की पुष्टि के लिए कोई ठोस सबूत आज तक नहीं मिला है। इस दौरान आप अपने बच्चे की हिचकी भी महसूस कर सकती हैं क्योंकि बच्चे के फेफड़े परिपक्व हो रहे होते हैं और वो एम्नियोटिक द्रव (Amniotic fluid) को साँस के रूप में अंदर लेता और बाहर निकालता है।

(और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास, वीडियो के साथ)

अब जब बच्चा तेजी से बढ़ रहा होता है, तो गर्भ में बच्चे की पूरी छवि प्राप्त कर पाना कठिन हो जाता है (उसकी तस्वीर आधी आ पाती है)। हालांकि इस तिमाही के शुरू होने के बाद उसका वज़न प्रारंभिक वजन से तीन गुना ज्यादा बढ़ जाता है, फिर भी उसमें अभी काफी बढ़ोतरी होनी बाकी होती है। इस हफ्ते के बाद से दूसरी तिमाही का अंत हो जाता है और प्रेगनेंसी की एक और तिमाही बचती है।

(और पढ़ें - गर्भ में लड़का या लड़की होने के लक्षण से जुड़े मिथक)

यदि आपने अभी तक आने वाले नए मेहमान का कमरा नहीं सजाया है, तो अब उसको सजाने के लिए थोड़ी खरीदारी कर लें। यह हल्का फुल्का व्यायाम आपके और बच्चे के लिए अच्छा साबित हो सकता है। अपने बच्चे के नए कमरे को सजाने में अधिक से अधिक समय वहां बिताएं। ऐसा करने से आपको अंदरूनी सुकून मिलेगा। इसके अलावा, आप जो डायरी अपनी प्रेगनेंसी की शुरुआत से लिख रही थीं उसे बोलकर पढ़ें ऐसा करने से बच्चा आपकी आवाज़ से परिचित होगा और आपको भी इस बात की सुखद अनुभूति होगी कि आप प्रेगनेंसी में कितनी आगे बढ़ आयी हैं। समय समय पर मधुर संगीत सुनें इससे बेचैन बच्चे को शांत करने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़ें - आयुर्वेद के अनुसार बच्चे के जन्म से पूर्व होने वाली माताओं को करना चाहिए इन बातों का पालन)

गर्भावस्था के 27वें सप्ताह का खान पान 25वें और 26वें हफ्ते की तरह ही होता है। हर प्रकार के पोषक तत्वों का सेवन करें और कुछ पोषक तत्व केवल खाद्य पदार्थों से ही प्राप्त होते हैं उन्हें भी खाएं। कैल्शियम एक ऐसा पोषक तत्व है जो आपके बच्चे के सम्पूर्ण विकास में योगदान करता है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी डाइट चार्ट)

  1. दुग्ध उत्पाद और हरी सब्जियां जैसे हरी बीन्स आदि कैल्शियम के बहुत अच्छे स्रोत हैं।
  2. विटामिन डी का सेवन करने के लिए आप विटामिन ऑयली मछली (Vitamin oily fish), अंडे और दूध का सेवन करें।
  3. राजमादालेंबादाम और अखरोट आदि में कैल्शियम उचित अनुपात में पाया जाता है। (और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाएं और क्या ना खाएं)
  4. छाछ आदि पानी के अलावा पीने योग्य पेय पदार्थों के अच्छे विकल्प हैं। (और पढ़ें - गर्भावस्था में ये हेल्दी जूस हैं काफी फायदेमंद)
Dr. Venkatesh

Dr. Venkatesh

सामान्य चिकित्सा

Dr. Neethu Mary

Dr. Neethu Mary

सामान्य चिकित्सा

Dr. Archana Singh

Dr. Archana Singh

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...