myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बच्चे का तेज़ी से विकास होने के कारण आप गर्भावस्था के पांचवे महीने में थोड़े ज्यादा दर्द और पीड़ा महसूस कर सकती हैं और यह कोई आश्चर्य की बात भी नहीं है। आपका पेट भी बच्चे को विकास करने देने के लिए बढ़ जायेगा और पहले से अधिक दिखने लगेगा।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में दर्द)

इस महीने के अंत तक, आप आधी गर्भावस्था पार कर चुकी होती हैं। शायद इस उत्साह की ही वजह से, आपकी ऊर्जा पहली तिमाही से अधिक होती है और आपके चेहरे पर प्रेग्नेंसी "ग्लो" आने लगता है। इस लेख में पांचवे महीने में आपके शरीर और बच्चे के विकास का वर्णन किया गया है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के हफ्ते)

 

  1. गर्भावस्था के पांचवे महीने में बच्चे का विकास - Baby growth during fifth month of pregnancy in Hindi
  2. प्रेग्नेंसी के पांचवे महीने में शरीर में होने वाले बदलाव - Changes in body during 5th month of pregnancy in Hindi
  3. पांचवे महीने की गर्भावस्था के बारे में टिप्स - Things to know about fifth month of pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के पांचवे महीने के अंत तक आपका बच्चा 8-12 इंच लंबा होगा और करीब 453 ग्राम उसका वज़न हो सकता है।

(और पढ़ें - गर्भवती होने के घरेलू उपाय)

बच्चा वर्निक्स (Vernix) नामक मोटे से सफेद पदार्थ का उत्पादन करता है जो उसके पैदा होने तक, एम्नियोटिक द्रव (Amniotic fluid) से उसकी पतली त्वचा की रक्षा के लिए उसके शरीर को ढकने करने का काम करता है। बच्चे की हड्डियां और मासपेशियां अब पूरी तरह से विकसित हो जायेंगी इसके साथ ही वो अंगड़ाई लेना, जम्हाई लेना और तरह तरह के मुंह बनाना भी सीख जाता है।

वह किक भी मार सकता है और कई गतिविधियां जैसे करवट लेना, हिलना डुलना आदि भी शुरु कर देता है। इन हरकतों को आप  थोड़ा थोड़ा महसूस भी कर सकती हैं। वो नियमित रूप से सोने जागने का कार्यक्रम भी करने लगता है और इसी महीने में उसकी उंगलियों के निशान (Fingerprints) भी विकसित होते हैं।

अगर गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है, तो उसके अंडकोष (Testicles) इसी महीने में विकसित होते हैं और यदि वो लड़की है, तो इस महीने में उसका गर्भाशय पूरी तरह से विकसित हो जाता है और उसके अंडाशय में अंडे भी आ जाते हैं।

(और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास)

इस महीने में आपका गर्भाशय, खरबूजे के आकार का हो जाता है और आप संभवतः मातृत्व कपड़े अर्थात ढीले ढाले कपड़े पहनना शुरु कर देती हैं। आपके पेट में लिगामेन्ट (Ligaments; हड्डियों को जोड़ने वाले संयोजी या रेशेदार ऊतक) खिंचने लगते हैं और इनकी वजह से पड़ने वाले खिंचाव के निशान आपको अब दिखाई देने लगेंगे। अगर आपने अभी तक कोई स्ट्रेच मार्क्स क्रीम लगानी शुरु नहीं की है तो अब से उसका उपयोग करना शुरु कर दें।

पेट में दर्द के अलावा, आप पैरों में सूजन, ऐंठन और पीठ दर्द भी महसूस कर सकती हैं। इन सारी असुविधाओं से बचने या दूर करने के लिए आप प्रेग्नेंसी तकिया का उपयोग कर सकती हैं। जैसे जैसे आपकी गर्भावस्था बढ़ेगी, ये असुविधाएं आपको और अधिक परेशान करेंगी। एक गर्भावस्था तकिया और पैल्विक समर्थन (Pelvic support) आपको गर्भावस्था के बाकी के समय में बेहतर और कम दर्द महसूस करने में मदद करेगी।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में सूजन)

इस महीने से आपको पहले से अधिक भूख लग सकती है। कुछ महिलाएं सब कुछ खाने में समर्थ होती हैं जबकि कुछ को एक विशेष प्रकार का आहार खाने का मन करता है जैसे केवल खट्टा या मीता या चटपटा आदि। इस दौरान कुछ महिलाओं को निम्नलिखित शिकायतें शुरू हो जाती हैं -

आपके बाल और नाखून इस दौरान पहले से अधिक मजबूत और स्वस्थ हो जाते हैं। आप इस महीने के इन लाभों का जी भरकर आनंद ले सकती हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में होने वाली परेशानी और प्रेगनेंसी टेस्ट कब करना चाहिए)

भले ही आपको इस महीने अधिक भूख लगती है और यह महत्वपूर्ण भी है लेकिन भूल कर भी आप दो लोगों का खाना, अस्वास्थ्यकर स्नैक या कोई अन्य अनावश्यक चीज़ें न खाएं। बेशक, प्रेग्नेंसी के दौरान आपका वजन बढ़ता है, लेकिन आवश्यकता से अधिक आपके और आपके बच्चे, दोनों के लिए अस्वस्थ हो सकता है। इस समय आप गर्भावस्था में क्या खाएं और क्या न खाएं लेख में दिए गए दिशानिर्देशों का पालन करें और मीठा या जंक फूड खाने के लिए ये बहाना करना छोड़ दें कि "प्रेग्नेंसी में दो लोगों का भोजन करना चाहिए।"

(और पढ़ें - गर्भावस्था में वजन बढ़ना)

यदि आपके पैरों में दर्द और ऐंठन लगातार हो रही है, तो प्रीनेटल कैल्शियम-मैग्नीशियम सप्प्लिमेंट्स खाने से उनमें आराम मिल सकता है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए)

अल्ट्रासाउंड में अब बच्चे का लिंग भी डॉक्टर को पता चल जाता है लेकिन उसे जानने की कोशिश न करें क्योंकि ऐसा करना भारत में कानूनन जुर्म है और ऐसा करते पकड़े जाने पर जेल भेज दिया जाता है।

(और पढ़ें - गर्भ में लड़का होने के लक्षण से जुड़े मिथक)

अभी भी आपमें योजना बनाने और शॉपिंग करने के लिए काफी ऊर्जा होती है। आप बच्चे के लिए अपना कमरा सजा सकती हैं। लेकिन ध्यान रखिये कि आपको सीढ़ियां नहीं चढ़नी उतरनी हैं इसलिए ऐसे काम दूसरों को ही सौंपें।

(और पढ़ें - बच्चों के नाम)

 

 

और पढ़ें ...

References

  1. Juan Pablo Peña-Rosas et al. Intermittent oral iron supplementation during pregnancy (Review) Cochrane Database Syst Rev. Author manuscript; available in PMC 2014 Jun 12. PMID: 22786531.
  2. Benja Muktabhant et al. Interventions for preventing excessive weight gain during pregnancy . Cochrane Database Syst Rev. Author manuscript; available in PMC 2014 Sep 15. PMID: 22513947
  3. Marilyn Lacroix et al. Higher maternal leptin levels at second trimester are associated with subsequent greater gestational weight gain in late pregnancy . BMC Pregnancy Childbirth. 2016; 16: 62. PMID: 27004421
  4. Hong Yang et al. Screening Strategies for Thyroid Disorders in the First and Second Trimester of Pregnancy in China . PLoS One. 2014; 9(6): e99611. PMID: 24925135
  5. Juan Pablo Peña-Rosas et al. Daily oral iron supplementation during pregnancy . Cochrane Database Syst Rev. 2012; 12: CD004736. PMID: 23235616
  6. Ramesh Verma et al. Vaccination during pregnancy: Today's need in India . Hum Vaccin Immunother. 2016 Mar; 12(3): 668–670. PMID: 26619155
  7. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Guidelines for Vaccinating Pregnant Women