अंजीर क्या है?

दुनियाभर में अंजीर को औषधीय और खाने का स्‍वाद बढ़ाने वाले गुणों के लिए जाना जाता है। इस कुरकुरे और मीठे फल का इस्‍तेमाल कई वर्षों से रोगों के इलाज में किया जाता रहा है। अंजीर को स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फायदेमंद माना जाता है।

पुराने समय में मानव द्वारा उगाए जाने वाले फलों में अंजीर का नाम भी शामिल है। इतना ही नहीं इस फल का उल्‍लेख बाइबिल तक में किया गया है। अब इसी बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अंजीर सेहत के लिए कितनी लाभकारी है।

अंजीर रसीला और गूदेदार फल होता है। दिलचस्‍प बात है कि अंजीर का स्‍वाद इस बात पर निर्भर करता है कि इसे कहां उगाया गया है एवं यह कितना पका है। कब्‍ज, जुकाम और फेफडों से संबंधित रोगों के इलाज में अंजीर को लाभकारी माना गया है।

अंजीर के बारे में तथ्‍य:

  • वानस्‍पतिक नाम: फिकस कैरिका
  • वंश:  मोरेसी
  • सामान्‍य नाम: फिग, कॉमन फिग, अंजीर
  • संस्‍कृत नाम: अंजीरम्
  • उपयोगी भाग: फल, पत्तियां, छाल और जड़
  • भौगोलिक विवरण: अंजीर की उत्‍पत्ति एशिया के भूमध्य और पश्चिमी भाग में मानी जाती है एवं इसे भारत, चीन तथा अफ्रीका समेत कई देशों के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय भागों में उगाया जाता है। अमेरिका और यूरोप के कुछ हिस्‍सों में भी अंजीर की खेती की जाती है। तुर्की दुनिया में अंजीर का सबसे बड़ा उत्पादक है।
  • गुण: शीतल 
  1. अंजीर खाने का सही समय - Anjeer khane ka sahi samay in Hindi
  2. अंजीर की तासीर - Anjeer ki taseer in Hindi
  3. अंजीर खाने के फायदे - Anjeer Benefits in Hindi
  4. अंजीर के नुकसान - Anjeer ke Nuksan in Hindi
  5. अंजीर खाने के तरीके - Anjeer Khane ka Tarika in Hindi

अंजीर का उपयोग आप किसी भी समय हलके आहार के रूप में कर सकते हैं, लेकिन अंजीर खाने का सबसे अच्छा समय सुबह का ही माना जाता है। सुबह के समय अंजीर का उपयोग आपके शरीर के लिए ज़्यादा लाभदायक होता है। रात के समय अंजीर का उपयोग करना ज़्यादा लाभदायक नहीं माना जाता है।

(और पढ़ें - सुबह का नाश्ता छोड़ने के नुकसान)

अंजीर की तासीर गर्म होती है और अधिक मात्रा में सेवन करने से यह शरीर में रक्तस्राव का कारण भी बन सकती है। अंजीर का उपयोग करने से रेटिना रक्तस्राव, रेक्टल रक्तस्राव और योनि में हल्का रक्तस्राव हो सकता है और हेमोलिटिक एनीमिया जैसी समस्या भी हो सकती है। यदि अंजीर खाने के बाद आपको गुदा या योनि रक्तस्राव हो रहा है तो इसका सेवन करना बंद करें और यह देखें की उपयोग न करने से रक्तस्राव कम हो रहा है या नहीं, यदि नहीं, तो अपने डॉक्टर से जांच करवाएं।

(और पढ़ें - योनि से रक्तस्राव के कारण)

अंजीर आज हर रसोई में अपना घर बना चुका है। इसकी मिठास की वजह से आप इसे कई मिठाईयों में तो शामिल कर ही सकते हैं, लेकिन इसके पौष्टिक होने और कई स्वास्थ्य के लिए कई फायदे होने की वजह से इसकी मिठास और बढ़ जाती है। इस लेख में, हम कुछ ऐसे स्वास्थ्य लाभ की चर्चा करेंगे जैसे कि आपके बालों, जिगर, मस्तिष्क, यौन स्वास्थ्य और समग्र स्वास्थ्य के लिए।

अंजीर के फायदे वजन घटाने के लिए - Figs for Weight Loss in Hindi

अंजीर वजन घटाने में अत्यंत सहायक होता है, इस वजह से इसको मोटे लोगों को खाने की सलाह भी दी जाती है। परंतु इसके अधिक सेवन से सावधान रहें क्योंकि इससे आपका वजन बढ़ भी सकता है, ख़ासकर यदि आप इसे दूध के साथ लें तो। 

(और पढ़ें - वजन घटाने के आसान तरीके)

अंजीर के लाभदायक गुण यौन रोगों का उपचार करें - Anjeer for Sexual Health in Hindi

परंपरागत रूप से भारतीय उपमहाद्वीप में अंजीर का इस्तेमाल यौन रोगों को ठीक करने के लिए किया गया है। यह यौन संचारित रोगों के लिए भी एक सफल उपचार माना जाता है, हालांकि अनुसंधानो से इसके सकारात्मक प्रभाव की पुष्टि अभी तक नहीं हुई है। यह स्तंभन दोष के उपचार में भी इस्तेमाल किया जाता है। पौराणिक कथाओं में अंजीर को एक शक्तिशाली यौन पूरक के रूप में देखा गया है। यौन शक्ति बढ़ाने के लिए 2-3 अंजीर पूरी रात दूध में सोखने के लिए छोड़ दें और सुबह खा लें। यह प्रजनन स्वास्थ्य (reproductive health) को भी बढ़ाता है। जिस तरह गर्भावस्था में अंजीर अच्छा है, गर्भवती स्त्रियों में लौह की कमी को भी पूरा करता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के दौरान पेट दर्द और प्रेग्नेंट होने के उपाय)

अंजीर का उपयोग कब्ज़ से छुटकारा दिलाये - Anjeer for Constipation in Hindi

अंजीर में उच्च मात्रा में फाइबर पाया जाता है। एक मध्यम आकार (50 ग्राम) के अंजीर में 1.45 ग्राम फाइबर होता है, जो ना केवल कब्ज़ से राहत दिलाता है अपितु उससे बचाव भी करता है। यह मल-त्यागने की क्रिया को बहुत ही आसान बना देता है और उसे नियमित भी करता है। दो अंजीर को रात भर पानी में भिगोकर सुबह खाने से और ऊपर से उसी पानी को पीने से पेट साफ हो जाता है। अंजीर का सेवन करने से डायरिया से भी बचा जा सकता है। अंजीर पाचन शक्ति में सुधार करके उससे सम्बंधित समस्याओं का अंत करता है। 

(और पढ़ें – कब्ज के रामबाण इलाज)

अंजीर का उपयोग हड्डियों के लिए - Anjeer for Bones in Hindi

अंजीर कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम से प्रचुर होता है जो हड्डियों को मज़बूत बनाने के लिए प्रमुख तत्व हैं। इसका सेवन करने से ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) जैसे हड्डियों के विकारों से भी संरक्षण मिलता है। चूँकि यह फॉस्फोरस का भी एक समृद्ध स्रोत है, इसलिए यह हड्डियों के विकास को बढ़ाता है और उनके पतन को भी रोकता है।

(और पढ़ें – हड्डियों को मजबूत बनाने के उपाय)

अंजीर के लाभ कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए - Anjeer Treatment for Cholesterol in Hindi

अंजीर में पेक्टिन (pectin) नामक एक घुलनशील फाइबर होता है जो कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में बहुत प्रभावी होता है। अंजीर में मौजूद फाइबर आपके पाचन तंत्र में अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को साफ़ करता है और उसे खत्म करने के लिए कोलेस्ट्रॉल को आंतों तक ले जाता है। सूखे अंजीर समग्र कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं क्योंकि उनमें ओमेगा -3, ओमेगा -6 फैटी एसिड और फाइटोस्टेरॉल मौजूद होते हैं जो शरीर में प्राकृतिक कोलेस्ट्रॉल संश्लेषण को कम करने के साथ-साथ ब्लड प्रेशर को भी नियमित रखते हैं। अंजीर में विटामिन बी 6 भी मौजूद होता है जो शरीर में सेरोटोनिन (serotonin) के उत्पादन का कारण बनता है। यह सेरोटोनिन आपके मूड को अच्छा करता है और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के घरेलू उपाय)

अंजीर के लाभ उच्च रक्तचाप को घटायें - Anjeer for High Blood Pressure in Hindi

अध्ययनों से पता चलता है कि दैनिक आहार में अंजीर का सेवन आपके रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। अंजीर में फाइबर ज़्यादा मात्रा में पाया जाता है जो रक्तचाप के जोखिम को कम करने में मदद करता है इसके साथ-साथ अंजीर में ओमेगा - 3 और ओमेगा -6 भी होते हैं जो रक्तचाप को नियंत्रित रखने में मदद करते हैं। अंजीर में पोटैशियम ज़्यादा मात्रा में और सोडियम कम मात्रा में पाया जाता है इसलिए इसके ये पोषक गुण इसको हाइपरटेंशन के रोगियों के लिए सर्वोत्तम बनाते हैं। यह आपकी नसों को शांत रख कर आपको स्ट्रैस-फ्री जीवन जीने में सहायता करता है।

(और पढ़ें – ब्लड प्रेशर कम करने के उपाय)

अंजीर खाने के फायदे हृदय रोग से बचाव में - Figs for Heart Patients in Hindi

कोरोनरी हृदय रोग एक घातक ह्रदय रोग है जो मुख्य रक्त वाहिकाओं को अपना शिकार बना कर रक्त-प्रवाह को बाधित करता है। अंजीर आपके रक्त में ट्राइग्लिसराइड (triglyceride) के स्तर को कम करने में मदद करती है और आपके ह्रदय के स्वास्थ्य में सुधार करता है। ट्राइग्लिसराइड्स रक्त में मौजूद वसा के कणों को कहते हैं जो हृदय रोगों का एक प्रमुख कारण हैं। सूखे अंजीर में फिनोल, ओमेगा 3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड्स पाया जाता  है। ये फैटी एसिड कोरोनरी हृदय रोग के जोखिम को कम करने में अति सक्षम होते हैं।

(और पढ़ें - हृदय रोग का इलाज)

अंजीर के लाभदायक गुण कैंसर से संरक्षण करें - Figs help prevent Cancer in Hindi

रजोनिवृत्ति के बाद, शरीर में अक्सर हार्मोन का उतार-चढ़ाव होता रहता है और ये उतार-चढ़ाव हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रभाव डालते हैं, जो मुक्त कणों (कैंसर के विकास के प्रमुख स्रोत) से लड़ने के लिए एंटीऑक्सीडेंट की क्षमता को प्रभावित करता है। इस प्रकार, अंजीर हॉर्मोन्स को संचालित कर महिलाओं में रजनोवृत्ति (menopause) के बाद होने वाले स्तन कैंसर की संभावना को बहुत हद तक कम कर देता है।

अंजीर का नियमित रूप से सेवन करने पर कोलन कैंसर का खतरा कम हो सकता है। अंजीर में मौजूद फाइबर शरीर के मल को जल्दी त्यागने में मदद करता है, जो कोलन कैंसर की रोकथाम के लिए फ़ायदेमं हो सकता है। अंजीर के बीजों में श्लेष्म का स्तर भी अधिक होता है जो कोलन में जमा मल को एकत्र करता है और उसे बाहर निकालने में मदद करता है।

(और पढ़ें – कैंसर से लड़ने वाले आहार)

अंजीर के फायदे मधुमेह के रोगियों के लिए - Figs for Diabetes in Hindi

अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन के अनुसार अंजीर मधुमेह को कंट्रोल करने में अति-सक्षम होता है। अंजीर की पत्तियों का सेवन शुगर के रोगियों की इन्सुलिन के इंजेक्शन पर निर्भरता को कम करता है। अंजीर पोटैशियम का एक समृद्ध स्रोत है जो शरीर द्वारा किए जाने वाले शुगर के अवशोषण (absorbtion) पर नियंत्रण रखता है। यह ब्लड शुगर के स्तर में आने वाले उतार-चढ़ाव पर रोक लगा कर मधुमेह के रोगियों को एक आम जिंदगी जीने में मदद करता है। 

(और पढ़ें – डायबिटीज डाइट)

अंजीर का उपयोग मूत्र समस्याओं के लिए - Figs for urinary tract infection in Hindi

अंजीर में अधिक मात्रा में पोटैशियम होता है जो मूत्र द्वारा शरीर से बाहर निकलने वाले तत्व को नियंत्रित करता है। यह कैल्शियम के पतन को रोकता है और विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकाल फेंकता है।

(और पढ़ें - यूरिन इंफेक्शन क्यों होता है)

अंजीर का सेवन आँखो के लिए - Figs for Macular Degeneration Treatment in Hindi

उम्र के साथ आँखो में मैक्युलर डीजेनेरेशन (Macular Degeneration) होना बहुत ही आम बात है और यह आँखों की दृष्टि में कमी आने की एक वजह होती है। अंजीर खाने से यह प्रतिक्रिया बहुत ही धीमी हो जाती है। 

अंजीर में विटामिन ए अधिक मात्रा में पाया जाता है। इसलिए यह आपकी दृष्टि को बढ़ाने और मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकने में मदद करता है। विटामिन ए एक एंटीऑक्सीडेंट है जो आंखों के स्वास्थ्य में सुधार करने के साथ-साथ आंखों को मुक्त कणों से भी बचाता है और रेटिना में क्षति होने से रोकता है।

 

(और पढ़ें – आँखों की रौशनी कैसे बढ़ायें)

अंजीर खाने के फायदे गले के दर्द से राहत दिलाएं - Figs For Sore Throat in Hindi

अंजीर ना केवल गले में होने वाले दर्द से राहत दिलाता है अपितु गले की सूजन (Cheek inflammation) के उपचार के लिए भी उपयोगी है। यह स्वरतंत्री (vocal-chords) पर पड़ रहे स्ट्रैस को कम कर, उसमें हो रहे दर्द को भी कम करता है। यह खांसी एवं अन्य श्वसन प्रणाली से सम्बंधित विकारों का इलाज करने में भी अत्यंत सक्षम है। अंजीर गले की सूजन और जलन को कम करने में मदद करते हैं। अंजीर के पेस्ट को गर्म पानी के साथ घोलें और इसे अपने गले पर लगाएं। यह दर्द को कम करेगा और आपके गले को राहत देगा।

 

(और पढ़ें - खांसी के लक्षण)

अंजीर में कई पोषक तत्व होते हैं जो त्वचा, बालों और समग्र स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। किंतु अंजीर के अधिक सेवन से कई प्रकार के दुष्प्रभाव हो सकते हैं इसलिए आपको इसके दुष्प्रभावो से बचने के लिए इसका उचित मात्रा में सेवन करना चाहिए -

(और पढ़ें – पेट दर्द के घरेलू उपचार)

अंजीर एक अच्छा भोजन है जो अकेले भी खाया जा सकता है या नाश्ता में भी शामिल किया जा सकता है। इसे आप सलाद में काटकर भी खा सकते हैं। अंजीर विशेष रूप से मीठी डिश, जैम, स्मूथी और मिठाई बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। डिब्बाबंद अंजीर खाना अच्छा नहीं है क्योंकि इनमें चीनी अलग से डली होती है। सूखे और ताज़ा अंजीर दोनों के स्वास्थ्य लाभ हैं। ताजे अंजीर में कैलोरी कम होती है। आपकी आवश्यकता पर निर्भर करता है कि आप सूखे या ताज़ा अंजीर खाएं। सूखे अंजीर सोखकर भी खाए जा सकते हैं। तीन या चार सूखे अंजीर को धो लें और उन्हें रात भर पानी में भिगो दें। उन्हें खाली पेट सुबह खा लें और जिस पानी में वे भीगे हुए थे, उसे भी पी लें। सुबह में भिगोए हुए अंजीर खाने से पित्त शांत होता है और पाचन अच्छा होता है। अंजीर का दूध के साथ भी सेवन कर सकते हैं। रोज़ दो से तीन अंजीर खाने की कोशिश करें।

(और पढ़ें - दूध पीने का सही समय)


उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें अंजीर है

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Russo F1, Caporaso N, Paduano A, Sacchi R. Phenolic compounds in fresh and dried figs from Cilento (Italy), by considering breba crop and full crop, in comparison to Turkish and Greek dried figs.. J Food Sci. 2014 Jul;79(7):C1278-84. PMID: 24888706
  2. Sergio D. Paredes, et al. Melatonin and Tryptophan Affect the Activity–Rest Rhythm, Core and Peripheral Temperatures, and Interleukin Levels in the Ringdove: Changes With Age. J Gerontol A Biol Sci Med Sci. 2009 Mar; 64A(3): 340–350. PMID: 19211547
  3. Glenda Lindseth, Brian Helland, Julie Caspers. The Effects of Dietary Tryptophan on Affective Disorders. Arch Psychiatr Nurs. 2015 Apr; 29(2): 102–107. PMID: 25858202
  4. Simon N. Young. How to increase serotonin in the human brain without drugs. J Psychiatry Neurosci. 2007 Nov; 32(6): 394–399. PMID: 18043762
  5. Inam QU1, Ikram H1, Shireen E1, Haleem DJ2. Effects of sugar rich diet on brain serotonin, hyperphagia and anxiety in animal model of both genders.. Pak J Pharm Sci. 2016 May;29(3):757-63. PMID: 27166525
  6. National Institute of Arthritis and Musculoskeletal and Skin Diseases [Internet]. National Institute of Health; Healthy Bones Matter.
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ