myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने शरीर के ऊतकों में असामान्य रूप से वसा इकट्ठा होने की स्थिति को अधिक वजन और मोटापे के रूप में परिभाषित किया है। यह दोनों ही स्थितियां स्वास्थ्य को खराब कर सकती हैं। इसे बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की मदद से मापा जाता है। बीएमआई शरीर की ऊंचाई और वजन के आधार पर शरीर में अनुमानित फैट होता है। बीएमआई यह निर्धारित करने में मदद करता है कि व्यक्ति का वजन सही है या नहीं।

ऐसे लोग जिनका BMI 25 से अधिक या इसके बराबर है, उन्हें अधिक वजन की श्रेणी में गिना जाता है और जिनका BMI 30 या इसके बराबर है वे मोटापे की श्रेणी में आते हैं। अधिक वजन का मुख्य कारण कैलोरी की खपत और इसके उपयोग के बीच असंतुलन है। यदि कोई व्यक्ति अपने शरीर की आवश्यकता से अधिक कैलोरी का सेवन कर रहा है, तो वह धीरे-धीरे मोटापे की चपेट में आ रहा है।

अधिक वजन और मोटापे से जूझ रहे लोगों को मस्कुलोस्केलेटल और कुछ कैंसर जैसे एंडोमेट्रियल, स्तन, डिम्बग्रंथि, प्रोस्टेट, लिवर, पित्ताशय की थैली, किडनी और कोलन होने का खतरा अधिक होता है। मस्कुलोस्केलेटल विकार ऐसी स्थितियों को कहते हैं, जो मांसपेशियों, हड्डियों और जोड़ों को प्रभावित कर सकती हैं।

अधिक वजन और मोटापे के उपचार में जिन होम्योपैथिक उपचार का प्रयोग किया जाता है, उन्हें वर्गीकृत (वयस्कों और बच्चों दोनों में) किया जा सकता है। वयस्कों में अधिक वजन और मोटापे के लिए उपयोग किए जाने वाले कुछ उपाय अमोनियम ब्रोमैटम, कैल्केरिया आर्सेनिकोसा, फ्यूकस वेसिक्यूलोसिस, फाइटोलेका डेसेंड्रा और थायरॉइडिनम हैं, जबकि जो उपचार बच्चों में प्रभावी है उनमें बैरिटा कार्बोनिका, कैल्केरिया कार्बोनिका और कैलियम बिचक्रोमिकम शामिल हैं। एक होम्योपैथिक चिकित्सक रोगी के शारीरिक और मानसिक पहलुओं के साथ-साथ उसमें बीमारी के लक्षणों और बीमारी से पीड़ित होने की प्रवृत्ति पर विचार करने के बाद ही दवाई निर्धारित करता है।

  1. मोटापे के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Motape ke liye homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार मोटापे के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Motape kam karne ke liye diet chart in Hindi
  3. मोटापे के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - Motape ke liye homeopathic medicine kitni effective hai
  4. मोटापे के लिए होम्योपैथिक दवा के साइड इफेक्ट्स, जोखिम और उपचार - Motape ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. मोटापे के होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Motape ki homeopathic treatment se jude tips

अमोनियम ब्रोमैटम
सामान्य नाम :
ब्रोमाइड ऑफ अमोनिया
लक्षण : इसका उपयोग नाक और गले से अत्यधिक बलगम निकलने और मोटापे की स्थिति में किया जाता है। इसके अलावा निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में भी अमोनियम ब्रोमैटम का प्रयोग किया जाता है :

कैल्केरिया आर्सेनिकोसा
सामान्य नाम : आर्सेनाइट ऑफ लाइम
लक्षण : यह मोटापे से जुड़ी शिकायतों के प्रबंधन के लिए एक शानदार उपाय है, खासकर यह रजोनिवृत्त महिलाओं में अच्छा असर दिखाता है। इस दवा की आवश्यकता को इंगित करने वाले लक्षणों में शामिल हैं :

मामूली या हल्के कार्य करने से यह लक्षण बिगड़ जाते हैं।

फ्यूकस वेसिक्यूलोसिस
सामान्य नाम :
सी केल्प
लक्षण : फ्यूकस वेसिक्यूलोसिस मोटापे के लिए एक अच्छा उपाय है। यह लक्षणों के उपचार में भी उपयोगी है जैसे :

फाइटोलेका डेसेंड्रा
सामान्य नाम: पोक-रूट
लक्षण :
फाइटोलेका मुख्य रूप से शरीर में बेचैनी और दर्द के उपचार में प्रयोग किया जाता है। एंटी-फैट एजेंट के रूप में इसका सफलतापूर्वक उपयोग किया गया है और यह हड्डियों व मांसपेशियों दोनों को प्रभावित करता है। इस उपाय का उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के उपचार में भी किया जा सकता है :

  • ग्रंथियों में सूजन और जलन
  • घाव का निशान
  • जोड़ों, मांसपेशियों और रेशेदार ऊतकों में दर्द और लंबे समय तक जलन
  • गले में खराश
  • हड्डी में दर्द
  • टॉन्सिल में फोड़ा
  • डिप्थीरिया (नाक और गले की श्लेष्मा झिल्ली को प्रभावित करने वाला बैक्टीरियल संक्रमण)
  • टिटनस और ओपिस्थोटोनस (सिर और गर्दन के पीछे की ओर होने वाली ऐंठन और मांसपेशियों की कठोरता)

ठंड और नम मौसम में, बारिश में भीगने पर यह लक्षण बढ़ जाते हैं। दाहिनी ओर लेटने खासकर रात के समय में यह लक्षण और भी खराब हो जाते हैं। पर्याप्त आराम करने के बाद, गर्म वातावरण और शुष्क मौसम में अस्थायी राहत मिलती है।

थायरॉयडिनम
सामान्य नाम : ​
ड्राइड थाइरॉइड ग्लैंड ऑफ दि शीप
लक्षण : यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में मदद करता है :
माइक्सोडेमा (त्वचा और अंतर्निहित ऊतकों में सूजन) और क्रेटिनिज्म (थायरॉयड हार्मोन के असंतुलन के कारण शारीरिक और मानसिक विकास में वृद्धि)।

एंटीमोनियम क्रूडम
सामान्य नाम :
ब्लैक सल्फाइड ऑफ एंटीमॉनी
लक्षण : इस उपाय का उपयोग ज्यादातर गैस्ट्रिक और मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित लक्षणों के उपचार के लिए किया जाता है। इस उपाय से निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक किया जा सकता है :

  • जीभ पर मोटी सफेद रंग की कोटिंग
  • गाउट व पाचन तंत्र से जुड़ी स्थितियां
  • चिड़चिड़ापन

यह लक्षण अम्लीय खाद्य पदार्थों जैसे वाइन का सेवन करने, स्नान करने और शाम के समय में भी यह लक्षण खराब हो जाते हैं। जब मरीज खुली हवा में समय बिताते हैं और कुछ आराम करते हैं, तो इन लक्षणों में सुधार होता है।

कैप्सिकम एनम
सामान्य नाम :
केयेन पेप्पर
लक्षण : केयेन पेप्पर उन लोगों के लिए उपयोगी है, जिनकी मांसपेशियां ढीली व कमजोर होती हैं। इसके अलावा कम जीवन शक्ति वाले और निम्न लक्षणों से ग्रस्त लोगों में भी यह उपाय असरदार है :

  • अल्कोहल विदड्रॉल (बहुत अधिक मात्रा में शराब पीने के बाद शराब का उपयोग बंद कर देना)
  • जोड़ों और हड्डियों में सूजन
  • शराब का सेवन करने वालो में पाचन शक्ति कमजोर होना
  • मांसपेशियों में दर्द और मरोड़

यह लक्षण खाने और गर्मी से बेहतर होते हैं, लेकिन खुली हवा में खराब हो जाते हैं।

ग्रेफाइट्स
सामान्य नाम :
ब्लैक लेड-प्लंबैगो
लक्षण : यह उपाय ऐसे गोरे रंग के व्यक्तियों के लिए उपयुक्त है, जिन्हें मोटापे, कब्ज और स्किन से जुड़ी समस्या है। यह निम्नलिखित लक्षणों को दूर करने में भी मदद करता है :

यह लक्षण अंधेरे में और शरीर को ढंकने से बेहतर होते हैं, जबकि रात में और पीरियड्स के दौरान या बाद में यह लक्षण खराब हो जाते हैं।

बैराइटा कार्बोनिका
सामान्य नाम :
कार्बोनेट ऑफ बैराइटा
लक्षण : बैराइटा कार्बोनिका बुजुर्गों और शिशुओं में विशेष रूप से असर करता है। यह स्क्रॉफुलस वाले बच्चों (टीबी से संबंधित) पर अच्छी तरह से काम करता है, खासकर जिनके टॉन्सिल या पेट में सूजन की समस्या है और धीमी गति से मानसिक और शारीरिक विकास करते हैं। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक करने में मददगार है :

  • मसूड़ों से खून बहना
  • फैटी ट्यूमर, विशेष रूप से गर्दन में
  • ग्रंथियों में सूजन
  • पैरों में पसीना आना
  • टॉन्सिल के पास फोड़ा

यह लक्षण दर्द वाले हिस्से के बल लेटने और चिंता करने पर खराब हो जाते हैं, जबकि खुली हवा में चलने पर बेहतर होते हैं।

कैलियम बिक्रोमिकम
सामान्य नाम :
बाईक्रोमेट ऑफ पोटाश
लक्षण : यह उपाय ऐसे लोगों में अच्छा असर करता है, जिनका वजन अधिक है और रंग साफ होता है। इस दवा की खासियत यह है कि यह जठरांत्र और श्वसन मार्ग के आंतरिक स्तर पर कार्य करती है। यह हृदय, किडनी और रेशेदार ऊतकों पर भी कार्य करती है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी सुधारने में सक्षम है :

  • कमजोरी
  • बच्चों में ठंड, खासकर चबी बेबीज में (जो बच्चे गोलमटोल से होते हैं)
  • लकवा

यह लक्षण सुबह के समय में, बीयर के सेवन के बाद और गर्म मौसम में बिगड़ते हैं, जबकि वे गर्म मौसम में बेहतर होते हैं।

कैल्केरिया कार्बोनिका
सामान्य नाम :
कार्बोनेट ऑफ लाइम
लक्षण : कैल्केरिया कार्बोनिका ऐसे अधिक वजन वाले और ढीली मांसपेशियों वाले व्यक्तियों में अच्छा काम करता है, जिनका रंग साफ है, बहुत पसीना आता है और सर्दी जुकाम की समस्या है। ये लोग अपने मुंह में लगातार खट्टे स्वाद का अनुभव करते हैं। यह निम्नलिखित लक्षणों में भी लाभदायक है :

  • मानसिक और शारीरिक थकान
  • ग्रंथियों में सूजन
  • मांसपेशियों में फोड़े
  • छाती में कम समय के लिए दर्द होना
  • पिट्यूटरी या थायराइड ग्रंथि का सही से कार्य न करना
  • मतली और एसिडिटी

यह लक्षण नम और बरसात के मौसम में, खड़े होने पर और ठंडे वातावरण में खराब हो जाते हैं, जबकि दर्द वाले हिस्से के बल लेटने और सूखे मौसम में यह ठीक हो जाते हैं।

होम्योपैथिक दवाइयों को घुलनशील रूप में प्राकृतिक पदार्थों से तैयार किया जाता है, इसीलिए विभिन्न आहार और जीवन शैली कारकों से इनका असर प्रभावित हो जाता है। इन उपायों से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए होम्योपैथिक उपचार के साथ-साथ निम्नलिखित बातों का भी ध्यान रखना चाहिए :

क्या करना चाहिए

  • स्वस्थ और संतुलित आहार लें
  • नियमित रूप से व्यायाम करें
  • पोषक तत्वों से भरपूर भोजन का सेवन करें, जिसमें कैलोरी कम होती हैं।
  • ढीले-ढाले कपड़े पहनें, कोशिश करें सूती कपड़ा पहनें

क्या नहीं करना चाहिए

  • कॉफी, चाइनीज और हर्बल चाय जैसे पेय पदार्थों से बचें।
  • बीयर या शराब न लें
  • तैलीय भोजन से परहेज करें।
  • भोजन में अधिक मात्रा से चीनी या नमक न लें
  • बतख और गीज के मीट न खाएं

वजन घटाने के लिए होम्योपैथिक उपचार मरीज की स्थिति के आधार पर चुना जाता है। यह दवाएं शरीर की चयापचय दर को तेज करती हैं और वसा को कम करने के लिए प्रेरित करती हैं। इन दवाओं के अधिकतम लाभ के लिए व्यायाम और संतुलित आहार को दिनचर्या में शामिल करें।

ऐसी गर्भवती महिलाओं में होम्योपैथिक उपचार के प्रभावों का अध्ययन किया गया, जिनमें अधिक वजन और मोटापे की समस्या थी। इस डबल-ब्लाइंड (जिसमें न तो प्रतिभागियों और न ही प्रयोगकर्ताओं को पता होता है कि कौन-सा मरीज विशेष उपचार प्राप्त कर रहा है) नैदानिक ​​परीक्षण से पता चला कि होम्योपैथी दवाइयों की वजह से इन महिलाओं में वजन बढ़ने की समस्या नहीं रुकी। हालांकि, इसका प्रभाव नवजात शिशुओं की जीवन शक्ति पर पड़ा और इसलिए होम्योपैथिक दवाओं की कार्रवाई को समझने के लिए अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

बायोमेड एंड फार्माकोलॉजी जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, संतुलित मात्रा में आहार लेने के साथ होम्योपैथिक उपचार लेने से यह अधिक प्रभावी हो जाता है। अध्ययन के लिए, 60 मोटे या अधिक वजन वाले लोगों को दो समूहों में विभाजित किया गया था। एक समूह को होम्योपैथी के साथ उचित पोषण दिया गया, जबकि दूसरे को केवल पोषण उपचार दिया गया। अध्ययन के अंत में पता चला कि पहले समूह में शरीर के वजन में कमी आई। हालांकि, दोनों समूहों के बीएमआई में कोई अंतर नहीं देखा गया।

होम्योपैथिक दवाएं प्राकृतिक पदार्थों से बनाई जाती हैं और यह अत्यधिक घुलनशील होती हैं। यह वयस्कों, बच्चों, बुजुर्गों और गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए अलग-अलग तरह से तैयार की जाती हैं जो कि पूरी तरह से हल्की और दर्द रहित विधि है। हालांकि, होम्योपैथिक दवाओं को अनुभवी चिकित्सक की देखरेख में ही लेना सबसे अच्छा होता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि सभी उपचार सभी के लिए समान रूप से उपयुक्त नहीं होते हैं।

मोटापा का मतलब शरीर के ऊतकों में असामान्य तरीके से वसा का जमाव है। यदि इस स्थिति को अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो यह विभिन्न अन्य समस्याओं के जोखिमों को बढ़ा सकता है, विशेष रूप से हृदय संबंधी कार्यों को प्रभावित करता है। माना जाता है कि होम्योपैथी मोटापे के इलाज के लिए एक प्रभावी तरीका है। यह चयापचय दर बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करता है, जो अतिरिक्त वसा से छुटकारा पाने में मदद करता है। होम्योपैथिक उपचार बुजुर्गों, बच्चों और गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओं सहित बहुत से लोगों के लिए सुरक्षित हैं। हालांकि, किसी योग्य चिकित्सक से बात करने के बाद ही इन उपायों को अपनाना चाहिए।

और पढ़ें ...

References

  1. World Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; Obesity and overweight
  2. Oscar E. Boericke. Repertory. Médi-T; [lnternet]
  3. Vilhena EC, Castilho EA. Homeopathic Treatment of Overweight and Obesity in Pregnant Women With Mental Disorders: A Double-blind, Controlled Clinical Trial. Altern Ther Health Med. 2016 Oct;22(S3):14-22. PMID: 27866182
  4. British Homeopathic Association. Is homeopathy safe?. London; [Internet]
  5. Wenda Brewster O’Reilly. Organon of the Medical art by Wenda Brewster O’Reilly . B jain; New Delhi
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें