जब ताड़ी को तैयार किया जाता है, तो यह ताजा और मीठी होती है। लेकिन यह 24 घंटों के लिए ही ताजा और मीठी रहती है। इसमें कुछ मादक पेय पदार्थों की तुलना में अधिक अल्कोहल होता है। ताड़ी में फरमेंटशन प्रक्रिया (खमीर बनना) के कारण ऐसा होता है।

(और पढ़ें - शराब के फायदे)

  1. ताड़ी के फायदे - Tadi ke fayde
  2. ताड़ी के नुकसान - Tadi ke Nuksan

ताड़ी​ नारियल पेड़ के फूलों के रस या किसी अन्य पाम ट्री जैसे खजूर के रस से बनती है। ताड़ी का स्वाद मीठा होता है। अधिकतर ताड़ी का उपयोग पेय पदार्थों को बनाने और स्वास्थ्य को बेहतर रखने के लिए प्राकृतिक दवाओं के रूप में किया जाता है। ताड़ी में पीएच स्तर 8 से 9 होता है। ताड़ी पोषक तत्व का भंडार मानी जाती है। इसमें सुक्रोज, प्रोटीन, एस्कोरबिक एसिड, फाइबरएमिनो एसिड और विटामिन की भरपूर मात्रा पाई जाती है।

(और पढ़ें - पेय पदार्थ के फायदे)

ताड़ी पीने के फायदे हैं वजन बढ़ाने में सहायक - Tadi peene ke fayde hain wajan badhaane mein sahayak

पतला शरीर हर किसी इंसान की पसंद नहीं होता क्योंकि अधिक वजन कम होना कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। ऐसे बहुत से लोग होते हैं जिन्हे वजन बढ़ाने में कठिनाई होती है। अगर आप भी उन्हीं व्यक्तियों में से एक हैं तो आपको एक बार जरूर ताड़ी को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।

  1. नारियल का दूध, हल्दी पाउडर और ताड़ी को अच्छे से मिक्स करें।
  2. अब नारियल के दूध, हल्दी पानी और वाइन को उबाल लें।
  3. इसके बाद इस गर्मागर्म मिश्रण का आनद लें।

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के तरीके)

ताड़ी के लाभ करें कब्ज को दूर - Tadi ke labh karen kabj ko dur

कब्ज शरीर में फाइबर की कमी के कारण होती है। अगर आप अपने पाचन तंत्र को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो आपको भरपूर मात्रा में फाइबर का सेवन करना चाहिए। आप फल या ताजा सब्जियों से फाइबर प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन फल और सब्जियों के अलावा, ताड़ी में भी फाइबर पाया जाता है। इसलिए अगर आप कब्ज को दूर करना चाहते हैं तो आपको एक बार ताड़ी का सेवन जरूर करना चाहिए।

(और पढ़ें - कब्ज दूर करने के उपाय)

ताड़ी है पेट दर्द में लाभकारी - Pet dard mein labhkari hai tadi

देर से भोजन करना, गलत भोजन का सेवन और संवेदनशीलता (किसी प्रकार की कोई एलर्जी) जैसे कारणों से पेट दर्द हो सकता है। हममें से अधिकतर लोग पेट दर्द को हल्के में लेते हैं, लेकिन आपको पेट दर्द की परेशानी को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि यह कई प्रकार की समस्याओं का कारण बन सकता है। इसलिए अगर आपको पेट दर्द की समस्या है, तो आपको ताड़ी का सेवन जरूर करके देखना चाहिए। 

  1. आधा गिलास गर्म पानी, इमली और ताड़ी लें।
  2. अब इमली और ताड़ी को गर्म पानी में मिलाएं। (और पढ़ें - गर्म पानी पीने के फायदे)
  3. इस मिश्रण को अच्छे से मिलने तक हिलाएं।
  4. इसके बाद छानकर इसका सेवन करें।

(और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)

ताड़ी पीने के लाभ दिलाएं बुखार से राहत - Tadi peene ke labh dilayen bukhar se raahat

अभी तक कई लोगों को यह पता नहीं है कि ताड़ी के सेवन से बुखार का इलाज किया जा सकता है। जब हमारी इम्युनिटी कमजोर होती है तो हम अक्सर बीमारियों की चपेट में आते रहते हैं। बुखार भी हमारे शरीर में प्रतिरक्षा प्रणाली की कमजोरी का कारण होता है। ब्राउन शुगर को ताड़ी के साथ मिक्स करके पीने से शरीर को गर्मी मिलती हैं, जिससे बुखार और उससे जुड़े लक्षणों को दूर करने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़ें - बुखार भगाने के घरेलू उपाय)

ताड़ी के फायदे बनाएं हड्डियों को मजबूत - Tadi ke fayde banayen haddiyon ko majboot

आपको यह जानकार हैरानी होगी कि ताड़ी के सेवन से हड्डियों को मजबूत किया जा सकता है। हड्डियों के घनत्व को बनाये रखने के लिए कुछ विटामिन्स और खनिज पदार्थ की जरूरत होती है। क्योंकि बोन डेंसिटी हमारी उम्र के साथ साथ कम होती जाती है जिससे ऑस्टियोपोरोसिस जैसी कई प्रकार की हड्डियों से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

इसलिए, यदि आप बोन डेंसिटी को बनाये रखना चाहते हैं तो आप सीमित मात्रा में ताड़ी का सेवन शुरू कर सकते हैं।

(और पढ़ें - हड्डियां मजबूत करने के उपाय)

ताड़ी का सेवन करें स्तनपान के लिए - Tadi ka sewan kare stanpan ke liye

ताड़ी का सेवन उन माताओं के लिए बहुत ही लाभकारी है जिन्होंने हाल ही में बच्चे को जन्म दिया है। कभी-कभी दूध का सुचारू रूप से ना निकलना स्तनपान की प्रक्रिया में परेशानी पैदा कर सकता है। ऐसे में माताओं को चिंता करने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि ताड़ी​ का सेवन, स्तन दूध से जुड़ी हर समस्या में मदद कर सकता है। यह कई लोगों द्वारा सिद्ध किया गया है कि ताड़ी​ का सेवन दूध को सुचारू बनाने के लिए बहुत उपयोगी होता है।

(और पढ़ें - स्तनपान से जुड़ी समस्याएं)

ताड़ी का उपयोग बढ़ाएं आँखों की रोशनी - Tadi ka upyog badhayen aankhon ki roshani

ताड़ी​ आंखों के स्वास्थ्य को अच्छा बनाए रखने में मदद कर सकती है। इसमें विटामिन सी (एस्कॉर्बिक एसिड) नामक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो अन्य फलों और सब्जियों में भी होता है। इसके अलावा इसमें विटामिन बी 1 (थायामिन) भी पाया जाता है जो हमारी दृष्टि में सुधार करने में सहायता करता है। पश्चिम और मध्य अफ्रीका में, अधिकांश निवासियों ने आंखों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए ताजा ताड़ी का सेवन करने की सलाह दी है।

(और पढ़ें - आंखों की रोशनी बढ़ाने के उपाय)

पाम वाइन फॉर हार्ट - Palm Wine for Heart

एक रिसर्च के अनुसार ताड़ी का सीमित मात्रा में सेवन आपके ह्रदय के लिए लाभकारी हो सकता है। यह हार्ट फेलियर जैसी कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों के विकास का जोखिम कम करने में मदद करती है। 2008 में लिंगबर्ग और एज्रा द्वारा किये गए अध्ययन के अनुसार ताड़ी में पोटेशियम होता है जो हृदय को स्वस्थ रखने और हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है। हालांकि ध्यान रखें कि इसका अधिक मात्रा में सेवन आपके लिवर को नुकसान पंहुचा सकता है।

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के उपाय)

ताड़ी के गुण बचाएं कैंसर से - Tadi ke gunn bachayen cancer se

ताड़ी में कैंसर से लड़ने की क्षमता होती है। हालांकि, यह बात आपको अविश्वसनीय लग सकती है, लेकिन यह सच है। ताड़ी में रिबोफ्लाविन पाया जाता है जो विटामिन बी 2 के नाम से भी जाना जाता है।

रिबोफाल्विन एक एंटीऑक्सीडेंट है जो कुछ प्रकार के कैंसर पैदा करने वाले फ्री रेडिकल से लड़कर आपकी रक्षा करता है। यदि ताजा ताड़ी का सिमित मात्रा में सेवन किया जाए तो आपके शरीर को उचित मात्रा में विटामिन बी 2 का पोषण प्राप्त हो सकता है।

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाना चाहिए)

ताड़ी है त्वचा के लिए उपयोगी - Tvcha ke liye upyogi hai tadi

ताड़ी में आयरन और बिटामिन बी की भरपूर मात्रा होती है। ये पोषक तत्व त्वचा, बालों और नाखूनों को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ही जरूरी होते हैं। हमारे शरीर में कुछ कोशिकाओं के विकास, वृद्धि तथा सही कार्यकलाप के लिए आयरन बहुत जरूरी होता है। ताड़ी में मौजूद ये गुण हमारे ऊतकों की मरम्मत (रिपेयर) और स्वस्थ कोशिकाओं के विकास को बढ़ाने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - त्वचा की देखभाल कैसे करें)

ताड़ी पीने के नुकसान भी हो सकते हैं, जैसे:

(और पढ़ें - गर्भावस्था में होने वाली परेशानी)

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ