myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

बार बार पेशाब जाना, गर्भावस्था के सबसे आम लक्षणों में से एक है और यह दिक्कत लगभग छह हफ़्तों में अर्थात पहली तिमाही में शुरू हो जाती है। हालांकि बार बार पेशाब आना, गर्भावस्था में चिड़चिड़ाहट पैदा करने वाले लक्षणों में से एक है। इस समस्या से आपको या आपके बच्चे को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है। वास्तव में, यह विषाक्त पदार्थों (Toxins) को शरीर से बाहर निकालने का सबसे सही तरीका है। जब तक इसके अलावा और कोई अन्य लक्षण अनुभव नहीं होते हैं, तब तक गर्भावस्था के दौरान बार बार पेशाब आना पूरी तरह से सामान्य है।

दूसरी तिमाही के दौरान जब गर्भाशय आपके पेट की गुहा (Abdominal cavity) में बढ़ जाता है, तो इस परेशानी से राहत मिल जाती है। हालांकि बहुत अधिक राहत नहीं होती है। हालांकि अधिकांश महिलाओं का कहना है कि उन्हें गर्भावस्था के अंतिम समय अर्थात लगभग गर्भावस्था के 35वें हफ्ते से और अधिक बार पेशाब जाना पड़ता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण)

  1. प्रेग्नेंसी में बार बार पेशाब आने का कारण - Frequent urination in pregnancy causes in Hindi
  2. प्रेग्नेंसी में बार बार आने वाली पेशाब पर कैसे काबू पाएं - Avoid frequent urination during pregnancy in Hindi
  3. गर्भावस्था में छींकते या हंसते समय मूत्र निकल जाना - Leakage of urine while sneezing or laughing during pregnancy in Hindi
  4. क्या प्रेग्नेंसी में बार बार पेशाब आना किसी समस्या का संकेत है - Is frequent urination during pregnancy ever a sign of a problem in Hindi
  5. गर्भावस्था में बार बार मूत्रत्याग की समस्या कब ठीक होती है - When will frequent urination during pregnancy ease up in Hindi
  6. गर्भावस्था में बार बार पेशाब आना के डॉक्टर

गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक पेशाब होने के कुछ कारण निम्नलिखित हैं:

हार्मोनल परिवर्तन

एचसीजी हार्मोन जो गर्भावस्था के दौरान सक्रिय होता है, अत्यधिक पेशाब आने के प्रमुख कारणों में से एक है। यह पेल्विक क्षेत्र और गुर्दे की ओर रक्त प्रवाह बढ़ाता है, जो फिर ज्यादा अच्छे से काम करते हैं। आपका शरीर विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने की कोशिश करता है।

मूत्राशय पर दबाव पड़ना

आपका मूत्राशय, बिना गर्भावस्था के करीब 500 मिली. मूत्र एकत्रित रख सकता है। लेकिन पहली तिमाही के दौरान, आपका गर्भाशय फैलता है और इसे मूत्राशय पर ले जाने के लिए संकुचित करता है। एक संकुचित मूत्राशय अधिक मूत्र एकत्रित नहीं रख सकता है इसीलिए जितनी जल्दी हो सके मूत्राशय खाली करने की कोशिश करता है। गर्भावस्था की शुरुआत में बार बार पेशाब आने का यह प्रमुख कारण हो सकता है।

अतिरिक्त तरल पदार्थ

आपकी पूरी गर्भावस्था के दौरान रक्त का स्तर बढ़ता है, और यह प्रेग्नेंसी के पहले से लगभग 50% अधिक होता है। इसलिए, अतिरिक्त तरल पदार्थ बनते हैं जो किडनी में एकत्रित होते हैं और बार बार पेशाब आती है।

मूत्र पथ संक्रमण

यूटीआई या मूत्राशय के संक्रमण का अगर उपचार न न किया जाये तो यह गंभीर समस्याएं पैदा कर सकता है। बार बार पेशाब आना उनमें से ही एक है। अन्य लक्षणों में पेशाब के दौरान जलन, पेशाब के अंत में दर्द और मूत्र में रक्त आता है।

यदि यूटीआई का इलाज नहीं किया जाता है, तो यह किडनी संक्रमण (Pyelonephritis- पायलोनेफ्राइटिस) का कारण बन सकता है, जिसमें बुखार, उल्टी और गंभीर पीठ दर्द हो सकता है। इसके लिए अंतःस्रावी (Intravenous) एंटीबायोटिक दवाओं और अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता पड़ सकती है। इससे समयपूर्व प्रसव और मिसकैरेज का खतरा बढ़ सकता है।

बार बार मूत्रत्याग की आवश्यकता, ज्यादातर गर्भवती महिलाओं के जीवन का एक अनिवार्य तथ्य है। लेकिन निम्न युक्तियां बार बार बाथरूम जाने की दिक्कत को सीमित कर सकती हैं:

  1. कुछ पेय पदार्थों का सेवन न करें: कॉफी, चाय या कुछ कार्बोनेटेड पेय (जैसे सोडा) न पिएं क्योंकि ये सभी मूत्रवर्धक (Diuretics) होते हैं, जो अधिक मूत्र बनाते हैं और आपको अधिक बार पेशाब करने की ज़रूरत होती है।
  2. मूत्राशय को खाली करें: जब आप पेशाब करते हैं, तो अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करने के लिए आगे की और झुकें।
  3. पेशाब को रोके नहीं: जैसे ही आपको मूत्रत्याग करने की आवश्यकता महसूस हो, बाथरूम में जाएं। वास्तव में लंबे समय तक पेशाब को रोके रहने से आपके पेल्विक क्षेत्र की मासपेशियां कमजोर हो सकती हैं।
  4. कीगल व्यायाम करें: कीगल व्यायाम मूत्रमार्ग (Urethra) पर नियंत्रण पाने में मदद करता है। इस एक्सरसाइज की सबसे अच्छी बात यह है कि ये व्यायाम कहीं भी और कभी भी किया जा सकता है। आप दिन में तीन बार 10-20 संकुचनों के साथ 10-10 सेकंड के लिए ये व्यायाम कर सकती हैं।
  5. पैड का उपयोग करें: खासकर अगर आपको खांसी है या छींकें आती हैं तो सैनिटरी पैड का उपयोग करें। क्योंकि खांसने, छींकने या भारी वस्तुओं को उठाने वाली गतिविधियों में कभी-कभी मूत्र का रिसाव हो सकता है और यह आपको शर्मिंदा भी कर सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में व्यायाम)

आपके गर्भाशय द्वारा, खांसने, हंसने, छींकने, भारी वस्तुएं उठाने या कुछ प्रकार के व्यायाम जैसे जॉगिंग करते समय आदि में मूत्राशय और श्रोणि की कमजोर मांसपेशियों पर पड़ने वाले दबाव के कारण, मूत्र निकल सकता है। इसे "तनाव मूत्र असंयम" (Stress urinary incontinence) कहा जाता है, और यह तीसरी तिमाही या प्रसव के बाद के समय में होने की संभावना होती है।

(और पढ़ें - गर्भधारण करने के उपाय और नॉर्मल डिलीवरी कैसे होती है)

आप इसे कुछ हद तक रोक सकती हैं, इसलिए पेशाब की इच्छा को नज़रअंदाज़ न करें और व्यायाम करने से पहले मूत्रत्याग ज़रूर कर लें।

कीगल अभ्यास करना, जो श्रोणि क्षेत्र की मांसपेशियों को मजबूत करते हैं, तनाव मूत्र असंयम को कम करने में भी मदद कर सकते हैं और इससे प्रसव के बाद ठीक होने में आसानी होती है। गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में कीगल व्यायाम करना और प्रसवोत्तर बाद जारी रखना अच्छा उपाय है और अगर ज़रूरत हो, तो मूत्र लीक होने की स्थिति में मिनी पैड या पैन्टी लाइनर (Panty liner) का उपयोग करें।

(और पढ़ें - महिलाओं में पेशाब रोक न पाने की समस्या को हल करेंगे ये उपाय)

बार बार पेशाब आना, मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई) का संकेत हो सकता है। यह गर्भवती महिलाओं में होने वाला सबसे सामान्य प्रकार का बैक्टीरियल संक्रमण है। उपचार न किये जाने पर यूटीआई किडनी संक्रमण, समय से पहले प्रसव (Preterm labor) या दोनों का कारण बन सकती है। निम्न में से कोई भी लक्षण होने पर डॉक्टर से बात करें:

  1. पेशाब के दौरान जलन या दर्द होने पर।
  2. खूनी पेशाब होने पर।
  3. बिना पेशाब के मूत्रत्याग की इच्छा उत्पन्न होने पर।

(और पढ़ें - योनि में बैक्टीरियल संक्रमण)

प्रसव के बाद भी, बार बार पेशाब महसूस होने की प्रक्रिया पहले कुछ दिनों तक धीमी नहीं होती है, क्योंकि शरीर प्रेग्नेंसी के दौरान अर्जित किये हुए अतिरिक्त तरल पदार्थों को निकालने का प्रयास करता है। जब सभी अतिरिक्त तरल पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, तो मूत्रत्याग की प्रक्रिया  पहले जैसी ही हो जाती है। लेकिन, यदि यह स्थिति लंबे समय तक रहती है, तो आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

कीगल अभ्यास प्रसव के बाद महिलाओं में मूत्र असंयमितता की समस्या से बचाव करता है। इसके अलावा, अतिरिक्त वजन जो आप इस दौरान अर्जित कर लेती हैं उसे कम करने से भी मूत्र असंयमितता का जोखिम कम हो जाएगा।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में वजन बढ़ना)

Dr. Giri Prasath

Dr. Giri Prasath

सामान्य चिकित्सा

Dr. Piyush Gupta

Dr. Piyush Gupta

सामान्य चिकित्सा

Dr. Sumesh Nair

Dr. Sumesh Nair

सामान्य चिकित्सा

और पढ़ें ...