myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

ज्यादातर सभी अपने जीवन में मांसपेशियों में ऐंठन का अनुभव करते हैं। मांसपेशियों में ऐंठन सोते, चलते या खेलते समय महसूस हो सकती है। मांसपेशियों में ऐंठन का एहसास ज्यादातर जांघ और पिंडली में होता है। इनके अलावा ऐंठन की समस्या पेट की मांसपेशियों, हाथ, बाजू और पैरों में भी हो सकती है। मांसपेशियों में ऐंठन के कारण आपको उस क्षेत्र पर बहुत तेज दर्द होता है। दर्द के साथ-साथ उस जगह सूजन भी शुरू होने लगती है। किसी भी मांसपेशी में अचानक से कभी भी संकुचन हो सकता है।

आम मांसपेशियों की ऐंठन के इलाज के लिए आमतौर पर दवाई की जरूरत नहीं होती। लेकिन मांसपेशियों में ऐंठन की असहजता को कम करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस लेख में हमने आपको मांसपेशियों में ऐंठन के लिए घरेलू उपाय बताये हैं, इन उपायों की मदद से आपको मांसपेशियों में ऐंठन की समस्या नहीं होगी।

(और पढ़ें - मांसपेशियों में ऐंठन के कारण)

तो चलिए बताते हैं मांसपेशियों में ऐंठन के घरेलू उपाय –

  1. मांसपेशियों में ऐंठन के लिए कोल्ड कम्प्रेस का इस्तेमाल करें - Maspeshiyo me aithan ke liye cold compress ka istemal kare
  2. मांसपेशियों की ऐंठन के लिए मसाज - Muscle cramps ke liye massage
  3. मांसपेशियों में ऐंठन के लिए स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करें - Maspeshiyo me aithan ke liye stretching exercise
  4. मांसपेशियों में ऐंठन का उपाय है सेंधा नमक - Maspeshiyo me aithan ke liye sendha namak
  5. मांसपेशियों में ऐंठन हो तो ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं - Maspeshiyo me aithan ho to jyada se jyada pani piye
  6. मांसपेशियों की ऐंठन सही करने के लिए लौंग के तेल का उपयोग करें - Maspeshiyo ki aithan sahi karne ke liye laung ke tel ka upyog kare
  7. मांसपेशियों में ऐंठन के लिए संतुलित आहार खाएं - Maspeshiyo me aithan ke liye santulit aahar khaye
  8. मांसपेशियों में ऐंठन को कम करने के लिए सही अवस्था में बैठें - Muscle cramps kam karne ke liye sahi position me bethe
  9. मांसपेशियों में ऐंठन कम करने के लिए सेब का सिरका - Maspeshiyo me aithan kam karne ke liye seb ka sirka
  10. मांसपेशियों में ऐंठन की रोकथाम के लिए सिकाई करें - Maspeshiyo me aithan ki roktham ke liye sikai kare

मांसपेशियों में ऐंठन को कम करने के लिए आप कोल्ड कम्प्रेस (बर्फ से सिकाई) का इस्तेमाल कर सकते हैं। प्रभावित क्षेत्र पर कोल्ड कम्प्रेस लगाने से आपको मांसपेशियों की ऐंठन से जल्द ही आराम मिलेगा। कोल्ड कम्प्रेस दर्द को कम कर देता और सूजन को दूर करने में मदद करता है। इस बात का ध्यान रखें कि आप बर्फ को सीधा अपनी त्वचा पर न लगा लें, क्योंकि इससे आपकी त्वचा में सूजन बढ़ सकती है। एक कपड़े या तौलिये में बर्फ को बांधकर प्रभावित क्षेत्र के लिए उपयोग करें।

कोल्ड कम्प्रेस का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. सबसे पहले एक कपडे में बर्फ के कुछ टुकड़े रखें।
  2. अब प्रभावित क्षेत्र पर कपड़े को 10 से 15 मिनट के लिए हल्के हाथ से घुमाते रहें।
  3. इस प्रक्रिया को पूरे दिन में कई बार तीन से चार दिन तक दोहराएं।
  4. इसके अलावा आप मांसपेशियों की ऐंठन को कम करने के लिए ठंडे पानी से भी नहा सकते हैं। 

(और पढ़ें - मांसपेशियों की कमजोरी के लक्षण

मांसपेशियों में ऐंठन आमतौर पर मांसपेशियों को सख्त कर देती है। तो प्रभावित क्षेत्र पर होने वाले दर्द को महसूस करें और फिर उस क्षेत्र पर अंगूठे से मसाज करें। तब तक मसाज करें जब तक आपको आराम न मिल जाए। अन्य शब्दों में कहें तो, ऐंठन का इलाज करने के लिए उस क्षेत्र पर अंगूठे से दबाव बनाएं। इस प्रक्रिया को स्टीमुलेंट थेरेपी (stimulant therapy) कहते हैं। आप मसाज करने के लिए कई तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे अरंडी का तेल, जैतून का तेल, नारियल तेल आदि। मसाज 10 से 15 मिनट तक जरूर करें, करने के बाद उस क्षेत्र को गर्म तौलिये से बांध लें। यह प्रक्रिया मांसपेशियों के तनाव को कम करने में मदद करेगी।

नोट - अगर मसाज करते समय आपको उस क्षेत्र पर दर्द महसूस होता है तो मसाज करना रोक दें।

(और पढ़ें - पैरों की मसाज कैसे करें)

अधिक तेज गति वाले व्यायाम से पहले अगर आप वार्म अप नहीं करते हैं तो इससे भी आपकी मांसपेशियों में ऐंठन आ सकती है। कोई भी व्यायाम करने से पहले 10 से 15 मिनट तक वार्म अप एक्सरसाइज जरूर करें। धीरे-धीरे एक्सरसाइज की गति को बढ़ा दें। फिर जिस क्षेत्र में ऐंठन आयी है उसे 10 से 15 मिनट तक स्ट्रेच करके रखें, इससे उस क्षेत्र का रक्त प्रवाह बढ़ाने में मदद मिलेगी।

(और पढ़ें - स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करने के तरीके)

जब आप वर्कआउट कर लें, तब फिर से मांसपेशियों को स्ट्रेच करें। पैरों और कूल्हों वाले व्यायाम पर ज्यादा ध्यान दें, क्योंकि यहां की मांसपेशियों में सबसे अधिक ऐंठन देखने को मिलती है। इसके अलावा आप स्विमिंग के लिए भी जा सकते हैं। पानी में मांसपेशियों का उपयोग करने (हिलाना-ढुलाना) से मांसपेशियां पानी के अंदर ही स्ट्रेच होने लगती है, जिससे मांसपेशियों के दर्द से राहत मिलती है। साथ ही ठंडा पानी सूजन और दर्द को भी दूर करता है।

नोट - अगर आपको स्ट्रेच करने में दर्द महसूस होता है तो स्ट्रेच न करें।

(और पढ़ें - मांसपेशियों में दर्द के घरेलू उपाय)

सेंधा नमक मांसपेशियों में ऐंठन का इलाज करने में मदद करता है। सेंधा नमक में मैग्नीशियम होता है जो मांसपेशियों को आराम पहुंचाता है और ऐंठन का इलाज करता है। यह उपाय लंबे समय से चले आ रही मांसपेशियों की ऐंठन या फिर बार-बार मांसपेशियों की ऐंठन की समस्या के लिए बेहद फायदेमंद है। इस बात का ध्यान रखें कि आपको सेंधा नमक के पानी से नहाने के लिए अधिक गर्म पानी का इस्तेमाल नहीं करना है। साथ ही, आधे घंटे से ज्यादा अपने शरीर पर इस पानी का इस्तेमाल न करें, क्योंकि इससे आपके शरीर में पानी की कमी हो सकती है। 

(और पढ़ें - मैग्नीशियम युक्त आहार)

सेंधा नमक का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. एक से दो कप सेंधा नमक। (और पढ़ें - सेंधा नमक के फायदे)
  2. गर्म या गुनगुना पानी

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले एक बाल्टी या बाथ टब में गर्म पानी भर लें।
  2. अब उसमें सेंधा नमक मिलाएं और अच्छे से पूरे मिश्रण को चला लें।
  3. अब इस पानी से 15 से 20 मिनट तक नहाएं।
  4. सेंधा नमक के पानी से नहाने से मांसपेशियों की ऐंठन ठीक हो जाती है, लेकिन अगर आपको बाद में कही भी परेशानी महसूस होती है तो फिर से इस उपाय का इस्तेमाल कर सकते हैं।

नोट - सेंधा नमक का वो लोग न करें जिन्हें हृदय रोग, हाई बीपी (ब्लड प्रेशर) या शुगर की समस्या है।

(और पढ़ें - नसों की कमजोरी के लक्षण)

खेल कूद में भाग लेने वाले (एथलेटिक्स) और जो खेल आदि में भाग नहीं लेते (नॉन एथलेटिक्स) दोनों तरह के लोगों के शरीर में पानी की कमी होने पर मांसपेशियों में ऐंठन की समस्या हो सकती है। पर्याप्त पानी पीने से ऐंठन की समस्या ठीक हो जाती है। ऐंठन के दौरान एक या दो ग्लास पानी जरूर पियें। ऐंठन से बचने के लिए पूरे दिन में सात से आठ ग्लास पानी पी सकते हैं। हालांकि यह मात्रा आपकी जीवनशैली पर निर्भर करती है। अगर आप व्यायाम करते हैं तो पानी पीने की मात्रा को बढ़ा दें। अगर आपको व्यायाम के दौरान बहुत जल्दी-जल्दी मांसपेशियों में ऐंठन होती है तो प्रत्येक वर्कआउट के दो घंटे पहले पानी पियें और व्यायाम के बीच-बीच में भी पर्याप्त पानी पीते रहें। इसके अलावा, पानी पर आधारित फल और सब्जियां भी ज्यादा से ज्यादा खाएं।

(और पढ़ें - पानी कब कितना और कैसे पीना चाहिए)

लौंग के तेल में सूजनरोधी गुण होते हैं जो मांसपेशियों की ऐंठन से होने वाली सूजन को कम करने में मदद करते हैं। साथ ही, इसमें मौजूद एनेस्थेटिक गुण दर्द से राहत दिलाते हैं।

लौंग के तेल का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. दो से तीन बड़ी चम्मच लौंग का तेल। (और पढ़ें - लौंग के तेल के फायदे)

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले लौंग के तेल को गर्म कर लें।
  2. अब इसे प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।
  3. लगाने के बाद पांच से दस मिनट तक हल्के हाथ से मसाज करें।
  4. अगर जरूरत पड़े तो अप इस प्रक्रिया को फिर से दोहरा सकते हैं। 

पोषण शरीर और मांसपेशियों को अच्छे से कार्य करने के लिए और किसी भी समस्या जैसे ऐंठन के लिए बेहद आवश्यक होता है। अपने आहार में कई तरह के विटामिन, पोटैशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम से समृद्ध आहर शामिल करें। विटामिन डी हड्डियों को मजबूत करता है और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है। विटामिन डी से समृद्ध आहार जैसे मछली, मशरूम, टोफू और ओट्स खाएं। विटामिन बी12 भी ऐंठन के लिए बेहद बेहतरीन होता है। विटामिन ई धमनियों के जरिये रक्त प्रवाह को सुधारता है और रात में होने वाली मांसपेशियों में ऐंठन को कम करता है।

विटामिन ई से समृद्ध आहार जैसे साल्मन, आलू, सोयाबीन आदि खाएं। पोटैशियम न खाने से मांसपेशियों में कमजोरी और ऐंठन की समस्या हो जाती है। अपनी डाइट में पोटैशियम से समृद्ध आहार शामिल करें जैसे मछली, शकरकंद, टमाटर, बीन्स, दहीकेला आदि। कैल्शियम की वजह से भी मांसपेशियों में ऐंठन हो सकती है, इसलिए हरी सब्जियां खाएं जैसे पालक, मूली, सलाद पत्ते, अजमोद, ब्रोकली, पत्ता गोभी, शतावरी आदि।

(और पढ़ें - संतुलित आहार का महत्व)

आप जिस तरह से चलते हैं या खड़े होते हैं इससे आपकी मांसपेशियों पर प्रभाव पड़ सकता है, जैसे गर्दन, जांघ, पैरों आदि में मांसपेशियों की ऐंठन हो सकती है। उदाहरण के लिए, रीढ़ की हड्डी में आगे या पीछे की तरफ मोड़ आने पर कूबड़ निकल जाता है, जिसके कारण कमर में ऐंठन, अकड़न और कमर दर्द होने लगता है। अगर आप अपनी गर्दन को सीधा नहीं रखते हैं और गलत तरीके से झुकाकर रखते हैं, तो आपकी गर्दन की मांसपेशियां कमजोर पड़ सकती हैं। इससे आपकी कमर और कंधों की मांसपेशियों में तनाव बढ़ सकता है। शरीर की पोजीशन ठीक रखने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे बैठने के लिए आरामदायक कुर्सी का इस्तेमाल करें, हमेशा सीधे बैठें, कभी भी लम्बे वक़्त तक न बैठें, समय-समय पर उठकर चलें। अगर आपको मांसपेशियों में ऐंठन से काफी दर्द महसूस हो रहा है तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाएं।  

(और पढ़ें - कमर दर्द के घरेलू उपाय)

सेब का सिरका पोटैशियम से समृद्ध होता है और मांसपेशियों में ऐंठन को दूर करने में मदद करता है। शरीर में पोटेशियम की कमी की वजह से भी मांसपेशियों में ऐंठन होना आम है। साथ ही, सेब के सिरके में कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं जो शरीर में तरल पदार्थ को संतुलित रखने में मदद करते हैं। इस तरह शरीर में पानी की कमी नहीं होती।

सेब के सिरके का इस्तेमाल कैसे करें -

सामग्री -

  1. एक छोटा चम्मच सेब का सिरका। (और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे)
  2. एक कप गुनगुना पानी।

बनाने व उपयोग करने का तरीका -

  1. सबसे पहले एक छोटा चम्मच सेब के सिरके को एक कप पानी में मिला लें।
  2. अब इस मिश्रण को अच्छे से मिलाएं और पूरे दिन में एक बार जरूर पीएं।
  3. इसके अलावा आप एक बड़ा चम्मच सेब का सिरका, एक बड़ा चम्मच शहद और एक छोटी चम्मच कैल्शियम लैक्टेट (calcium lactate) को भी एक ग्लास गुनगुने पानी में मिलाकर पी सकते हैं। 
  4. इस मिश्रण को रात को सोने से आधा घंटा पहले जरूर पियें।

(और पढ़ें - टांगों में दर्द के लक्षण

अगर आपको रोजाना रात में मांसपेशियों में ऐंठन होती है तो यह उपाय आप ही के लिए बना है। रोजाना रात को सोने से पांच मिनट पहले मांसपेशियों को स्ट्रेच करने के लिए एक्सरसाइज करें। अगर आपको बीच रात में मांसपेशियों में ऐंठन होती है तो जल्दी से उस क्षेत्र पर गर्म सिकाई करें। प्रभावित क्षेत्र पर हीटींग पैड लगाने से उस क्षेत्र में रक्त के प्रवाह में सुधार होता है, जिससे ऊतकों में फिर से ऑक्सीजन और पानी की पूर्ति होने लगती है। इस प्रकार मांसपेशियों की ऐंठन कम हो जाती है। इसके अलावा आप गर्म कपड़े या पानी की गर्म बोतल का भी उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़ें - सिकाई करने का तरीका)

और पढ़ें ...