जब एक निषेचित अंडा गर्भाशय में प्रत्यारोपित तो हो जाता है लेकिन भ्रूण नहीं बनता है, तो इसे ब्लाइटेड डिंब या एनब्रायोनिक गर्भावस्था के रूप में जाना जाता है।अधिकांश गर्भपात इसी कारण होते हैं। 

पेट में नाल और भ्रूण की थैली बनती है, लेकिन खाली रहती है। कोई बढ़ता हुआ बच्चा नहीं बन पाता है। भले ही कोई भ्रूण न बने, फिर भी नाल मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) का उत्पादन करती है। यही हॉर्मोन गर्भावस्था के लिए जरूरी होता है। रक्त और मूत्र के परीक्षण में देखने पर एचसीजी हॉर्मोन मिल सकता है, इसलिए ब्लाइटेड डिंब का परिणाम सकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण हो सकता है, भले ही गर्भावस्था में भ्रूण न बना रहा हो।

जब एक महिला गर्भवती होती है, तो निषेचित अंडा गर्भाशय की दीवार से जुड़ जाता है। गर्भावस्था के लगभग पाँच से छह सप्ताह में, भ्रूण दिखाई देना चाहिए।इस समय, गर्भकालीन थैली - जहां भ्रूण विकसित होता है - लगभग 18 मिलीमीटर चौड़ी होती है। गर्भावस्था से संबंधित अन्य लक्षण, जैसे स्तनों में दर्द और मतली भी हो सकते हैं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए)

 
  1. ब्लाइटेड ओवम गर्भपात कैसे शुरू होता है - How does a blighted ovum miscarriage begin in hindi
  2. एनब्रायोनिक गर्भावस्था के लक्षण - Symptoms of anembryonic pregnancy in hindi
  3. एनब्रायोनिक गर्भावस्था के कारण - Causes of anembryonic pregnancy in hindi
  4. एनब्रायोनिक गर्भावस्था का उपचार - Treatment of anembryonic pregnancy in hindi
  5. उपचार के विकल्प
  6. क्या एनब्रायोनिक गर्भावस्था को रोका जा सकता है - Can anembryonic pregnancy be prevented in hindi
  7. क्या भविष्य में गर्भधारण में कोई जटिलताएँ हैं - Are there any complications with future pregnancies in hindi
  8. सारांश

ब्लाइटेड डिंब गर्भपात के कारण योनि से रक्तस्राव और पेट में ऐंठन हो सकती है। गर्भपात आमतौर पर आपके नियमित मासिक धर्म की तुलना में अधिक होता है। ऐंठन से राहत पाने के लिए एसिटामिनोफेन जैसी ओवर-द-काउंटर दवा ले सकते हैं। कोई भी भारी वस्तु उठाने या कोई भी ज़ोरदार व्यायाम करने से बचें क्योंकि इससे रक्तस्राव बढ़ सकता है। गर्भपात के बाद आपको कई हफ्तों तक स्पॉटिंग हो सकती है।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में कौन-सा फल खाएं)

 
Women health supplements
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

एक अभिशप्त डिंब कभी-कभी जब तक आपको ये मालूम हो कि आप गर्भवती हैं उससे पहले ही खत्म हो सकता है , जिससे आपको ये लग सकता है कि मासिक धर्म सामान्य से अधिक हो रहा है। ब्लाइटेड डिंब में गर्भावस्था से जुड़े समान लक्षण हो सकते हैं, जैसे:

  • सकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण
  • स्तन में दर्द 

  • मासिक धर्म की अवधि निकल जाना 

जैसे-जैसे गर्भावस्था समाप्त होती है, निम्न लक्षण हो सकते हैं जैसे -

  • योनि से खून निकलना या रक्तस्राव होना
  • पेट में ऐंठन

  • स्तन दर्द खत्म हो जाना 

गर्भावस्था परीक्षण एचसीजी स्तर को मापते हैं। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी के लिए जरूरी सुपरफूड्स)

 
Patrangasava
₹450  ₹500  10% छूट
खरीदें

यह स्थिति किसी ऐसी चीज़ के कारण नहीं है जो आपने गर्भावस्था के दौरान या उससे पहले की हो या नहीं की हो। ब्लाइटेड ओवम का सटीक कारण ज्ञात नहीं है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि यह निषेचित अंडे के भीतर होने वाली क्रोमोसोमल असामान्यताओं के कारण होता है जो आनुवांशिकी, या खराब गुणवत्ता वाले अंडे या शुक्राणु के कारण हो सकता है। ब्लाइटेड डिंब ,गुणसूत्र के भीतर असामान्यताओं के कारण भी हो सकता है। यदि बार-बार ब्लाइटेड डिंब गर्भधारण होता है, तो भ्रूण के क्रोमोसोमल विश्लेषण के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। ब्लाइटेड डिंब इतनी जल्दी उत्पन्न होता है कि इसकी पहचान ही नहीं हो पाती है। हालाँकि, महिलाएं इस स्थिति का इलाज करवा लेने के बाद स्वस्थ गर्भधारण करती हैं। हो सकता है कि ब्लाइटेड ओवम एक या एक से अधिक बार हो। जिन महिलाओं का अंडाणु क्षतिग्रस्त होता है उनमें से अधिकांश महिलाएं सफल गर्भधारण और स्वस्थ बच्चे पैदा करती हैं।

(और पढ़ें - प्रेग्नेंसी में तनाव)

 
Pushyanug Churna
₹450  ₹499  9% छूट
खरीदें

पहले अल्ट्रासाउंड में अक्सर क्षतिग्रस्त डिंब का पता चल जाता है।  अल्ट्रासाउंड में नाल और खाली भ्रूण थैली दिखाई देगी। ब्लाइटेड डिंब आमतौर पर गर्भावस्था के 8वें से 13वें सप्ताह के बीच होता है।

 

यदि प्रसव पूर्व अल्ट्रासाउंड में ब्लाइटेड डिंब का पता चलता है, तो डॉक्टर उपचार के निम्न विकल्प दे सकते हैं:

  • गर्भपात के लक्षण स्वाभाविक रूप से उत्पन्न होने की प्रतीक्षा करना
  • गर्भपात कराने के लिए दवाएं लेना

  • गर्भाशय से उत्पन्न ऊतकों को निकालने के लिए शल्य चिकित्सा अपनाना

डॉक्टर उपचार के विकल्प पर निर्णय लेने से पहले गर्भावस्था की अवधि, चिकित्सा इतिहास और भावनात्मक स्थिति सभी को ध्यान में रखते है ताकि आपके लिए जरूरी दवा या सर्जिकल प्रक्रिया से जुड़े दुष्प्रभावों और मानक जोखिमों पर चर्चा की जा सके। बच्चा नहीं था, फिर भी एक गर्भावस्था नष्ट हो गई। गर्भपात भावनात्मक रूप से कठिन हो सकता है, और गर्भावस्था समाप्त होने में अनुमान से अधिक समय लग सकता है। इस कारण से, कुछ महिलाएं शल्य चिकित्सा या दवा के साथ गर्भपात कराने का निर्णय लेती हैं। अन्य महिलाएं इन विकल्पों से असहज होती हैं और गर्भपात को अपने आप होने देना पसंद करती हैं।

इसलिए सभी विकल्पों पर डॉक्टर से बात करना सही होता है और अगर आप किसी विकल्प से असहज हैं तो भी उन्हें बताएं।

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं)

 
Ashokarishta
₹360  ₹400  10% छूट
खरीदें

सामान्यतः ब्लाइटेड डिंब को रोका नहीं जा सकता। यदि इस स्थिति के बारे में चिंतित हैं, तो संभावित आनुवंशिक कारणों और परीक्षण प्रक्रियाओं के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें, ताकि वे इससे बचने में आपकी मदद कर सकें।

 

किसी भी गर्भपात की तरह, शरीर और भावनात्मक स्वास्थ्य को ठीक होने में समय लगता है। ज्यादातर महिलाएं जो ब्लाइटेड डिंब से गुजरती हैं उनका गर्भधारण सफल होता है। दोबारा गर्भधारण करने से पहले आमतौर पर यह अनुशंसा की जाती है कि आप तीन पूर्ण मासिक धर्म चक्रों की प्रतीक्षा करें ताकि शरीर को पूरी तरह से स्वस्थ होने का समय मिल सके और गर्भावस्था पूरी तरह से ठीक से प्राप्त की जा सके। इस दौरान, शरीर और मानसिक स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ जीवनशैली की आदतों पर ध्यान दें, जैसे:

  • संतुलित आहार लेना 
  • तनाव को दूर रखना

  • व्यायाम

  • दैनिक प्रसवपूर्व ताकत के लिए दवाइयाँ लेना

एक बार गर्भपात हो जाने का मतलब यह नहीं है कि दोबारा भी ऐसा होगा बस इस प्रकार के गर्भपात से जुड़े कुछ कारक हैं जिनके बारे में आपको अपने डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए। इन कारकों में आनुवंशिकी, अंडे की गुणवत्ता और शुक्राणु की गुणवत्ता शामिल हैं। हो सकता है इन कारणों के लिए कुछ परीक्षण किए जाएँ : 

  • प्रीइम्प्लांटेशन जेनेटिक स्क्रीनिंग (पीजीएस), भ्रूण का आनुवंशिक विश्लेषण जो गर्भाशय में आरोपण से पहले किया जा सकता है
  • वीर्य विश्लेषण, जिसका उपयोग शुक्राणु की गुणवत्ता निर्धारित करने के लिए किया जाता है

  • एफएसएच या एंटी-मुलरियन हार्मोन (एएमएच) परीक्षण, जिसका उपयोग अंडे की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद के लिए किया जा सकता है

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए)

 

ब्लाइटेड डिंब का कोई विशिष्ट कारण नहीं है , लेकिन क्रोमोसोमल विसंगतियाँ एक मुख्य कारक हो सकती हैं। जिन महिलाओं को इसका अनुभव होता है उनमें से अधिकांश स्वस्थ गर्भधारण करती हैं।

ऐप पर पढ़ें