myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

प्रेगनेंसी में महिलाओं को इस बात को लेकर ज्यादा चिंता रहती है कि उन्हें इस समय क्या खाना चाहिए जिससे उनके बच्चे का दिमाग तेज हो और गर्भ में पल रहा शिशु स्वस्थ रहे। सही पोषक तत्व बच्चे के विकास के लिए बहुत जरूरी होते हैं। आज हम इस लेख के जरिए जानेंगे की किन खाद्य पदार्थों से वो सभी पोषक तत्व लिए जा सकते हैं जो गर्भावस्था के दौरान गर्भवती और गर्भस्थ शिशु दोनों के लिए आवश्यक होते हैं।

प्रेगनेंसी के लिए कुछ सुपरफूड्स निम्नलिखित हैं:

कद्दू के बीज: 
कद्दू के बीज मैग्नीशियममैंगनीजकॉपरप्रोटीन और जिंक जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। इन्हें स्नैक्स के तौर पर भी खाया जा सकता है। कद्दू के बीजों के सेवन से सभी जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति होती है।

अंडे: 
अंडे अधिक स्वास्थ्यवर्धक होते हैं क्योंकि उनमें लगभग हर पोषक तत्व की थोड़ी मात्रा होती है। एक अंडे में 77 कैलोरी होती है, साथ ही उसमें प्रोटीन और वसा भी होती है। यह कई विटामिन और खनिज से प्रचुर होता है। अंडे में कोलिन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यह बच्चे के दिमाग के विकास और स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है। गर्भावस्था के दौरान कम कोलिन का सेवन न्यूरल ट्यूब दोषों के खतरे को बढ़ा सकता है। अंडे के सेवन से गर्भवती को कोलिन की पर्याप्त मात्रा मिलती है।  

(और पढ़ें - दिमाग तेज करने के घरेलू उपाय)

नारियल पानी: 
नारियल पानी में इलेक्ट्रोलाइट्स अधिक होता है। पोटेशियमकैल्शियम, मैग्नीशियम, और सोडियम जैसे तत्व पाचन तंत्र को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करते हैं। नारियल पानी में कुछ पाचक एंजाइम भी पाए जाते हैं। इसमें विटामिन बी और विटामिन सी भी होता है।

पालक: 
पालक में कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन सी, फाइबरआयरन और फोलिक एसिड होता है। पालक में उच्च मात्रा में आयरन होता है इसलिए इसे गर्भवती के आहार में शामिल करना चाहिए। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में फोलिक एसिड का महत्व)

केला: 
केले में पोटेशियम होता है, जो गर्भावस्था में होने वाली थकान को कम करने में मदद करता है। केले को योगर्ट, स्मूदी और दलिया में मिलाकर भी खा सकते हैं। कुछ लोग सिर्फ केला खाना भी पसंद करते हैं। जैसे भी आपको यह फल खाना पसंद हो इसे वैसे ही खाएं जरूरी यह है की केला खाना सेहत के लिए बहुत गुणकारी है।

गाजर: 
गर्भवती महिलाओं के लिए विटामिन ए बहुत जरूरी होता है क्योंकि यह उनके बच्चे की त्वचा, आंखों, दांतों और हड्डियों के विकास में मदद करता है। गाजर विटामिन ए का बेहतरीन स्रोत है। गाजर में पाया जाने वाला फाइबर कब्ज को कम करता है और आंतों को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है। 

(और पढ़ें - हड्डियों को मजबूत बनाने के घरेलू उपाय

ब्रोकली: 
ब्रोकली कैल्शियम और फोलेट जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है जो स्वस्थ गर्भावस्था के लिए आवश्यक है। यह फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट का भी स्रोत है। ब्रोकली में विटामिन सी होता है।

संतरा: 
संतरे में फोलेट, फाइबर और विटामिन सी होता है। संतरे का सेवन शरीर में पानी की पूर्ति का अच्छा स्रोत है। संतरे में 90 प्रतिशत पानी होता है, इसलिए इसके दैनिक सेवन से तरल पदार्थ की आवश्यकता पूरी होती है।

डेयरी प्रोडक्ट: 
गर्भावस्था के दौरान कैल्शियम एक महत्वपूर्ण खनिज है, डेयरी उत्पादों का सेवन करने से कैल्शियम की कमी नहीं होती। दुग्ध उत्पादों में दूधपनीर और दही का सेवन किया जा सकता है।

उपर्युक्त सभी खाद्य पदार्थों के सेवन से गर्भावस्था के समय हेल्दी रहा जा सकता है साथ ही गर्भ में पल रहा शिशु भी स्वस्थ रहेगा। अगर आपको लगता है कि इन सभी खाद्य पदार्थों के अलावा आपको और भी कुछ खाना है तो डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही किसी अन्य खाद्य समाग्री को अपनी सूची में जोड़ें।

और पढ़ें ...