myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपनी हर छोटी बड़ी बात पर गौर करने की जरूरत होती है। प्रेगनेंसी में गलती से भी हुई जरा सी चूक अपने साथ गंभीर परिणाम भी ला सकती है। इस समय महिलाएं अपने पहनावे से लेकर कॉस्मेटिक तक काफी चीजों में बदलाव कर लेती हैं। महिलाएं जब भी किसी शादी, पार्टी या किसी अन्य सामाजिक कार्यक्रम में जाती हैं तो उन्हें मेहंदी लगाने का ख्याल आता है।

कई बार महिलाएं गर्मियों के मौसम में गर्मी से परेशान होकर ठंडक पाने के लिए बालों में मेहंदी लगाती हैं लेकिन गर्भावस्था में महिलाओं के मन में बहुत से सवाल होते हैं। वो जानना चाहती हैं कि गर्भावस्था के दौरान बालों या हाथों में मेहंदी लगानी चाहिए या नहीं? क्योंकि कई लोगों का मानना है कि प्रेगनेंसी में बालों में मेहंदी लगाना सुरक्षित नहीं होता है। इसमें कई तरह के केमिकल्स होते हैं जो शिशु की सेहत के लिए हानिकारक होते हैं। आज का हमारा लेख भी इसी विषय पर है कि गर्भावस्था में बालों और हाथों में मेहंदी लगाना सुरक्षित है या नहीं?

  1. गर्भावस्था में बालों में मेहंदी लगाना चाहिए या नहीं - Pregnancy me balo me mehandi lagana chahiye ya nahi
  2. गर्भावस्था में हाथों में मेहंदी लगानी चाहिए या नहीं - Pregnancy me hatho mein mehndi lagani chahiye ya nahi
  3. गर्भावस्था में काली मेहंदी लगानी चाहिए या नहीं - Pregnancy me Kali mehndi lagani chahiye ya nahi
  4. गर्भावस्था में मेहंदी लगाने के टिप्स - Pregnancy me mehndi lgane ke tips

शुद्ध मेंहदी, जिसमें कोई रसायन नहीं होता है इस तरह की मेहंदी का इस्तेमाल गर्भावस्था के दौरान बालों को रंगने के लिए सुरक्षित है। हिना एक प्राकृतिक हेयर डाई है, अक्सर इसका इस्तेमाल बालों को रंगने के लिए किया जाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि हिना बालों को सुन्दर और मजबूत बनाती है, यह बालों की गुणवत्ता में सुधार करती है।

(और पढ़ें - डिलीवरी के बाद बाल झड़ने के कारण)

ज्यादातर महिलाएं बालों में गहरा रंग पाने के लिए मेहंदी में चाय, कॉफी, लौंग, हेयर ऑयल, निम्बू का रस या कच्चे अंडे आदि का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन गर्भावस्था के दौरान कच्चे अंडे का इस्तेमाल करते वक्त सावधान रहना चाहिए क्योंकि इसमें साल्मोनेला बैक्टीरिया होता है जो गर्भवती को बीमार कर सकता।

मेहंदी लगाना तो लगभग हर स्त्री को पसंद होता है लेकिन गर्भावस्था में महिला को खुद पर कुछ भी आजमाने से पहले अपने शिशु का ख्याल रखना पड़ता है इसलिए ऐसे में उन्हें हाथ-पैर में मेहंदी बहुत सोच समझ कर लगानी चाहिए क्योंकि हर महिला की त्वचा अलग-अलग होती है।

मेहंदी लगाने की प्रक्रिया में एक ही पोजीशन में काफी देर तक बैठना पड़ता है जिसकी वजह से असजता महसूस हो सकती है। ज्यादा देर तक एक ही मुद्रा में बैठने से बेचैनी हो सकती है।

(और पढ़ें - हाथ में दर्द का इलाज)

मेहंदी का लेप ठंडा होता है इसलिए इसे सिर और हाथ में लगाने से ठंडक महसूस होती है। इसे गर्मियों में लगाना तो ताजगी से भरपूर हो सकता है लेकिन इसे सर्दी के मौसम में नहीं लगाना चाहिए इससे ठंड लग सकती है। मेहंदी की खुशबू से गर्भवती को जी मिचली की समस्या भी हो सकती है। अगर इसे लगाने से हाथ-पैरों में सूजन और दर्द आदि महसूस होता है तो डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए। 

काली मेहंदी में पैरा-फेनिलिडामाइन (पीपीडी) रसायन होता है जिसे प्रायः हेयर डाई बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। काली मेहंदी का इस्तेमाल करना गर्भावस्था में बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है क्योंकि इसका इस्तेमाल करते समय अगर यह त्वचा में लग जाता है तो इससे सूजन और एलर्जी जैसी समस्या उतपन्न हो सकती हैं।

(और पढ़ें - चमकदार त्वचा के उपाय)

इससे गर्भवती को कुछ समय के लिए दर्द महसूस हो सकता है और त्वचा को लम्बे समय के लिए नुकसान पहुंच सकता है। अक्सर महिलाएं गर्भावस्था के पहले काली मेहंदी का इस्तेमाल करती हैं लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान इसका इस्तेमाल करना हानिकारक हो सकता है। क्योंकि गर्भावस्था के दौरान, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली थोड़ी कमजोर हो जाती है जिसके कारण इस समय बीमार होने और एलर्जी का खतरा बढ़ जाता है।

अगर आप गर्भावस्था में मेहंदी लगाना चाहती हैं तो निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें:

  • मेहंदी का पेस्ट घर पर ही बनाना चाहिए। अगर मेहंदी की ताजा पत्तियों का इस्तेमाल किया जाए तो यह ज्यादा सुरक्षित रहता है। शहरों में मेहंदी की पत्तियां आसानी से उपलब्ध नहीं होती इसलिए किसी अच्छे ब्रांड के मेहंदी पाउडर का इस्तेमाल एक बेहतर विकल्प है।  
  • पैकेट में लिखी जानकारी को ध्यान से पढ़ना चाहिए। ऐसी मेहंदी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जिसमें बालों का रंग बढ़ाने के लिए रसायनों का इस्तेमाल नहीं किया गया हो।
  • एलर्जी से बचने के लिए पूरे बालों में मेहंदी लगाने के पहले बालों के कुछ हिस्से में मेहंदी लगाकर देखना चाहिए। अगर किसी तरह की जलन या खुजली हो रही हो तो तुरंत धो लेना चाहिए और डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए।

(और पढ़ें - त्वचा में जलन के कारण)

गर्भावस्था में मेहंदी लगाना सुरक्षित है। पत्तियों वाली मेहंदी का ही इस्तेमाल करना चाहिए। बालों में रंग लाने के लिए हेयर डाई या फिर रसायन वाली मेहंदी का इस्तेमाल न किया जाए। पत्तियों से बनी मेहंदी बालों को हल्का भूरा रंग देती है। रसायन रहित मेहंदी प्रेगनेंसी में भी लगाई जा सकती है।

और पढ़ें ...