कैंसर होने के बाद दिए जाने वाले ट्रीटमेंट में से एक है कीमोथेरेपी. कीमोथेरेपी के दौरान और इसके बाद खान-पान का खास ध्यान रखना जरूरी होता है. इस स्थिति में एक हेल्दी डाइट लेना जरूरी है, जिसमें पोषक तत्वों से भरपूर सब्जियां, फल, प्रोटीनफाइबर युक्त खाद्य पदार्थ शामिल हों. कैंसर से पीड़ित लोगों को अक्सर सामान्य से अधिक कैलोरी की आवश्यकता होती है, क्योंकि कीमोथेरेपी के बाद शरीर बहुत कमजोर हो जाता है. ऐसे में अंडे, मछली और बीन्स जैसे प्रोटीन युक्त चीजों का सेवन करने से शरीर को प्रोटीन और कैलोरी दोनों मिलते हैं.

आज इस लेख में जानेंगे कि कीमोथेरेपी के बाद क्या खाना चाहिए, क्या नहीं -

(और पढ़ें - कीमोथेरेपी के दौरान न दें विटामिन सप्लिमेंट्स)

  1. कीमोथेरेपी के बाद क्या खाना चाहिए
  2. कीमोथेरेपी के बाद क्या नहीं खाना चाहिए
  3. सारांश
कीमोथेरेपी के बाद क्या खाएं, क्या नहीं के डॉक्टर

कीमोथेरेपी करने के बाद कैंसर कोशिकाओं के बढ़ने की गति बहुत कम हो जाती है या रुक जाती है, लेकिन कीमोथेरेपी के कारण शरीर में होने वाली कमजोरी के चलते सेब और अंगूर का रस व हर्बल चाय जैसी चीजों का सेवन करना चाहिए. आइए, विस्तार से जानें कि कीमोथेरेपी के बाद क्या खाना चाहिए -

प्रोटीन युक्त फूड

कीमोथेरेपी होने के कुछ दिनों बाद तक दिनभर में छोटे-छोटे मील लेने चाहिए. तीन बार खाने के बजाय चार से पांच बार खाना चाहिए. हर मील और नाश्ते में अंडे, सोया, पनीर और टोफू जैसे प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए.

(और पढ़ें - कीमोथेरेपी के दौरान क्या खाएं)

लो फैट फूड

फैट फूड और लो फैट वाले दूध उत्पाद का चयन करें. चबाने और निगलने में आसान सॉफ्ट फूड जैसे खिचड़ी और दलिया का सेवन करना चाहिए.

(और पढ़ें - फेफड़ों का कैंसर)

सब्जियां और फल

आहार में रोजाना कम से कम 2.5 कप फल और सब्जियों का सेवन करना चाहिए. कच्ची और पकी हुई सब्जियां दोनों तरह की खाई जा सकती हैं. साथ ही हरी और पीली सब्जियां, खट्टे फल, बीन्स, मटर और दाल को अपने आहार में शामिल करें और इनका नियमित रूप से सेवन करें.

(और पढ़ें - रेडिएशन थेरेपी के फायदे)

लिक्विड फूड्स

पानी के अधिक सेवन के साथ लिक्विड फूड्स जैसे सेब और अंगूर का रस, हर्बल चाय, अदरक और पुदीने की चाय या ब्लैक टी इत्यादि ले सकते हैं. इसके अलावा, फ्रूट नेक्टर जो चीनी और पानी से मिलकर बनते हैं, का भी सेवन कर सकते हैं, जैसे केला, खट्टे चेरी और ब्लैक कर्रेंट.

(और पढ़ें - रेडिएशन के बाद क्या खाएं)

पोषक तत्वों से भरपूर फूड

शरीर को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक विटामिन और मिनरल्स युक्त पोषक तत्वों के साथ ही फाइबर युक्‍त फूड्स का सेवन करना चाहिए, जैसे - गेहूं की रोटी, जई, ब्राउन राइस या अन्य साबुत अनाज खाएं. ये खाद्य पदार्थ कार्बोहाइड्रेट, विटामिन, खनिज और फाइबर की आवश्यकता को पूरा करने में समर्थ हैं. इसके अलावा, ओमेगा-3 फैटी एसिड और हेल्दी वसा की कमी को पूरा करने के साथ ही शरीर में एनर्जी बनाएं रखने के लिए मछली और अखरोट जैसी चीजों का सेवन करना चाहिए.

(और पढ़ें - रेडिएशन के दौरान क्या खाएं)

मीट

यदि आप नॉनवेज खाना चाहते हैं, तो बिना छिलके वाले स्किन मांस और छोटे-छोटे पीस (लगभग 170 से 200 ग्राम प्रतिदिन) ही खाएं. रेड मीट को प्रति सप्ताह आधा किलो से अधिक न खाएं. नॉन-वेज को पकाने के लिए कम वसा वाले खाना पकाने के तरीकों का प्रयोग करें, जैसे कि बॉयलिंग, स्टीमिंग, ग्रिलिंग और रोस्टिंग.

(और पढ़ें - कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज)

इन फूड्स को थोड़ा रुक कर खाएं

फैट, नमक, चीनी, स्मोक्ड या मसालेदार खाद्य पदार्थ और प्रोसेस्ड मीट को तुरंत डाइट में शामिल करने के बजाय थोड़ा समय लेकर धीरे-धीरे शुरू करें.

(और पढ़ें - कैंसर के लिए होम्योपैथिक दवा)

ठंडे खाद्य पदार्थों का सेवन करें

ठंडे खाद्य पदार्थों की गंध कम होती हैं और विशेष रूप से उस समय महत्वपूर्ण हैं, जब आपको मतली महसूस होती है. गर्म खाद्य पदार्थों में अधिक स्पष्ट गंध हो सकती है, इसलिए कुछ खाद्य पदार्थों को खाने में समस्या हो सकती है.

(और पढ़ें - कैंसर के लास्ट स्टेज के लक्षण)

आहार विशेषज्ञ से बात करें

जब आप कैंसर के लिए कीमोथेरेपी का कोर्स समाप्त करते हैं, तो डायटिशियन से बात करने में आपको मदद मिल सकती है. एक डायटिशियन आपको हेल्दी डाइड पर लौटने में मदद कर सकता है या डाइट मैनेजमेंट में हेल्प कर सकता है. साथ ही वह संतुलित व पौष्टिक खाने की योजना बनाने में मदद कर सकता है.

(और पढ़ें - कैंसर में क्या खाएं)

कीमोथेरेपी के बाद खान-पान का बहुत ध्यान रखना चाहिए. ऐसी चीजों को बिल्कुल नहीं खाना चाहिए, जो कैंसर के इलाज को बिगाड़ दें, जैसे- कच्ची मछली, कच्चे मेवा, मसालेदार खाना, बांसी खाना, फंफूदी वाला खाना, नशीले खाद्य पदार्थ और मीठे खाद्य पदार्थ. आइए जानें,  कीमोथेरेपी के बाद क्या नहीं खाना चाहिए -

  • कच्ची मछली या शैलफिश न खाएं, जैसे सुशी और बिना पका ऑयस्टर.
  • कच्चे मेवे का सेवन न करें.
  • मसालेदार और तली हुई चीजों का सेवन न करें.
  • ऐसे खाद्य पदार्थों को न खाएं, जो लंबे समय तक बिना ढके रखी हुई हैं.
  • बाहर का खाना, सलाद या रेस्तरां का फूड खाने से बचें.
  • ऐसे खाद्य पदार्थ न खाएं, जिनमें फफूंदी के लक्षण दिख रहे हों.
  • 2 घंटे से अधिक समय तक कमरे के तापमान पर रखे या खराब होने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन न करें.
  • रेफ्रिजरेटर में 3 दिन से अधिक समय से रखा हुआ खाना न खाएं.
  • गर्म तापमान में रखे हुए मांस, चिकन, टर्की या मछली को न खाएं. 
  • बैड फैट युक्त या मीठे खाद्य पदार्थ खाने से बचें.
  • खाद्य पदार्थ जो आपके मुंह को चोट पहुंचा सकते हैं, जैसे - बहुत मसालेदार, खट्टे, नमकीन, कठोर या कुरकुरे.
  • बीयर और वाइन सहित शराब का सेवन करने से बचें. साथ ही तंबाकू उत्पाद और सिगरेट का उपयोग न करें.

(और पढ़ें - पेट के कैंसर का होम्योपैथिक इलाज)

कीमोथेरेपी से पहले, दौरान और बाद में मरीज को संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए. कीमोथेरेपी के बाद मरीज को प्रोटीन और कैलोरी युक्त फूड जैसे उबले हुए अंडे, हरी पत्तेदार सब्जियां, फल और लिक्विड खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए, जिन्हें आसानी से पचाया जा सके. इसके अलावा, शराब व धूम्रपान के साथ ही कच्चे और बांसी खाने से बचना चाहिए. साथ ही प्रोसेस्ड फूड, जंक फूड और बाहर के खाने को नजरअंदाज करना चाहिए. कीमोथेरेपी के बाद डाइट में बदलाव के लिए डायटीशियन की मदद भी ले सकते हैं.

(और पढ़ें - मुंह के कैंसर में क्या खाएं)

Dr. Anil Heroor

Dr. Anil Heroor

ऑन्कोलॉजी
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Kumar Gubbala

Dr. Kumar Gubbala

ऑन्कोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव

Dr. Patil C N

Dr. Patil C N

ऑन्कोलॉजी
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Amit Agarwal

Dr. Amit Agarwal

ऑन्कोलॉजी
19 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ