myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कई महिलाएं सिजेरियन डिलीवरी के बाद अपने दूसरे बच्चे का जन्म नॉर्मल डिलीवरी से करवाना चाहती हैं। लेकिन ऐसा हो पाएगा या नहीं इस बारे में महिलाओं के मन में कई तरह के प्रश्न होते हैं। आपको बता दें कि सिजेरियन डिलीवरी के बाद भी महिलाओं को आसानी से नॉर्मल डिलीवरी हो सकती है, लेकिन इसमें उनके स्वास्थ्य संबंधी कई कारक का ध्यान रखना होता है। डॉक्टर से पूरी जांच करवाने के बाद ही आप नॉर्मल या सिजेरियन डिलीवरी का फैसला लें।

(और पढ़ें - टेस्ट ट्यूब बेबी)

सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी सही है या नहीं, इसका फैसला करने के लिए माँ और उसके बच्चे का डिलीवरी के बाद स्वास्थ सबसे बड़ा कारक होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह हर महिला के लिए सुरक्षित विकल्प नहीं होता है।

सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी के विषय पर महिलाओं की उत्सुकता को देखते हुए आपको इसके बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। साथ ही इस लेख में आपको यह भी बताया जाएगा कि किन परिस्थितियों में सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी की संभावनाएं अधिक या कम होती है, इसके क्या फायदे और जोखिम होते हैं, आदि।

(और पढ़ें - pregnancy week by week in hindi)

  1. कितनी प्रतिशत महिलाओं को सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी हो जाती है - Kitni pratishat mahilaon ko cesarean delivery ke baad normal delivery ho jaati hai
  2. सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी की संभावना ज्यादा कब होती है - Cesarean delivery ke baad normal delivery ki sambhavna jyada kab hoti hai
  3. सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी की संभावना कम होने के कारण - Cesarean delivery ke baad normal delivery ki sambhavna kam hone ke karan
  4. सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी के फायदे - Cesarean delivery ke baad normal delivery ke fayde
  5. सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी के जोखिम - Cesarean delivery ke baad normal delivery ke jokhim
  6. दोबारा सिजेरियन और सिजेरियन के बाद नॉर्मल डिलीवरी के बीच अंतर - Comparing a repeat cesarean to a VBAC in hindi

बीते वर्षों के कुछ आंकड़ों पर नजर डालें तो पता चलता है कि भारत में सिजेरियन डिलीवरी के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है। भारत के बड़े शहरों में खासकर सिजेरियन डिलीवरी के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिली है।

(और पढ़ें - प्रसव का सही समय)

अगर आप सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं, तो यह जानकर आपको बेहद खुशी होगी कि करीब 90 प्रतिशत महिलाओं में सिजेरियन डिलीवरी के बाद भी नॉर्मल डिलीवरी की संभावनाएं होती हैं।

सिजेरियन के बाद नार्मल डिलीवरी होने की सम्भावना ज्यादा उन महिलाओं में होती हैं जिनकी पहले सिजेरियन के अलावा कम से कम एक बार नार्मल डिलीवरी भी हो चुकी है, और उन्होंने स्वास्थ कारकों को समझने के बाद नार्मल डिलीवरी का चयन किया। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में अल्ट्रासाउंड कब करना चाहिए)

अध्ययनों पर नजर डालें तो पता चलता है कि 60 से 80 प्रतिशत महिलाएं सिजेरियन डिलीवरी के बाद भी सफलता पूर्वक नॉर्मल डिलीवरी से बच्चे को जन्म दे चुकी हैं। आपको इस विषय पर पूरी जानकारी लेने और अपने डॉक्टर से बात करने के बाद ही सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी के विकल्प को चुनना चाहिए।  

(और पढ़ें - गर्भावस्था के महीने)

"अमेरिकन कॉलेज ऑफ़ ओबस्टेट्रिकियंस एंड गायनोलॉजिस्ट" के मुताबिक निम्नलिखित सभी मानदंडों को पूरा करने वाली महिलाओं में सिजेरियन डिलीवरी के बाद भी नॉर्मल डिलीवरी की संभावनाएं बढ़ जाती है:

  • सिजेरियन के दौरान आपके गर्भाशय में लगा चीरा टी आकार (T-shaped) का या खड़े (vertical) आकार का होने के बजाय आड़े (horizontal) आकार और कम गहरा होना चाहिए। अगर यह चीरा टी (T)-आकार या खड़े आकार का हो, तो ऐसे में गर्भाशय फटने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। (और पढ़ें - लड़का पैदा करने के उपाय से जुड़े मिथक)
  • आपकी श्रोणि (पेल्विक) जन्म के समय बच्चे को सुरक्षित बाहर लाने के लिए बड़े आकार की होनी चाहिए। डॉक्टर कुछ टेस्ट करने के बाद आपकी श्रोणि के आकार का अनुमान लगा सकते हैं। (और पढ़ें - गर्भावस्था में पेल्विक दर्द)
  • गर्भाशय में पहले कोई सर्जरी जैसे गर्भाशय फाइब्रॉएड को हटाने के लिए मायोमेक्टोमी, आदि न की गई हो। (और पढ़ें - गर्भाशय कैंसर का इलाज)
  • पहले कभी आपका गर्भाशय न फटा हो।
  • आपको कोई चिकित्सीय या प्रसूति संबंधी समस्या, जैसे प्लेसेंटा प्रिविआ (Placenta Previa) या बड़े फाइब्राएड, नहीं होनी चाहिए। इनसे नॉर्मल डिलीवरी में जोखिम बढ़ जाता है। 

(और पढ़ें - गर्भावस्था में होने वाली परेशानी)

सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी की संभावनाओं को कम करने वाले कारण हैं:

सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी की सफलता के विषय पर अपने डॉक्टर से बात करें और इसके फायदे व जोखिम के बारे में भी पूरी जानकारी प्राप्त करें।

(और पढ़े - प्रेग्नेंट होने का तरीका)

सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी चुनने से आप पेट की सर्जरी और इससे संबंधित अन्य जोखिमों से सुरक्षित रहती हैं। 

(और पढ़ें - गर्भ में बच्चे का विकास कैसे होता है)

सिजेरियन डिलीवरी में अत्यधिक रक्तस्राव की वजह से खून चढ़ाने (blood transfusion) की जरूरत पड़ सकती है। कुछ दुर्लभ मामलो में यह हिस्टेरेक्टॉमी (Hysterectomy: गर्भाशय को निकालने की सर्जिकल प्रक्रिया) का कारण भी बन सकता है। साथ ही इस प्रक्रिया के दौरान कई तरह के संक्रमण और अंगों को क्षति पहुँचने का खतरा होता है। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में क्या करें)

सी-सेक्शन डिलीवरी में आपको नॉर्मल डिलीवरी के मुकाबले अधिक समय तक अस्पताल में रहना पड़ता है और आपको ठीक होने में भी अधिक समय लगता है, जिससे आपको काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

(और पढ़ें - प्रेग्नेंसी में यूरिन इन्फेक्शन का इलाज)

यदि आप भविष्य में और बच्चों को जन्म देने पर विचार कर रहीं हैं, तो आपको मालूम होना चाहिए कि हर सिजेरियन डिलीवरी से आपको भविष्य में प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भनाल संबंधी समस्याएं जैसे प्लेसेंटा प्रिविआ (Placenta previa) और प्लेसेंटा एक्रिटा (Placneta accreta) होने का खतरा अधिक हो जाता है। गर्भानाल संबंधी इन समस्याओं से रक्त स्त्राव अधिक होता है और ये समस्याएं आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकती हैं।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में रक्तस्राव रोकने के उपाय)

आपकी सभी स्वास्थ्य स्थितियां सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी के पक्ष में होने के बावजूद भी आपको कई तरह के जोखिम की संभावनाएं बनी रहती हैं।

इस दौरान पहले की सिजेरियन डिलीवरी में लगाए गए चीरे की जगह पर गर्भाशय फटने की संभावना होती है। लेकिन ऐसा बहुत ही कम होता है, लगभग 1 प्रतिशत से कम मामलों में। गर्भाशय फटने की वजह से आपका ज्यादा खून बह सकता है और गर्भ में पलने वाले बच्चे को ऑक्सिजन पहुंचने में मुश्किल हो सकती है। 

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी डाइट चार्ट

अगर आपको नॉर्मल डिलीवरी में मुश्किल आती है, तो हो सकता है कि आपको घंटो प्रसव पीड़ा में रहने के बाद भी बच्चा बाहर न आये और आपको सिजेरियन डिलीवरी करवानी पड़े। इसे अनियोजित सिजेरियन डिलीवरी (unplanned c-section) कहते हैं।

अनियोजित सिजेरियन डिलीवरी में सर्जरी से संबंधी अन्य समस्याओं का जोखिम बढ़ जाता है, साथ ही अधिक खून बहने की वजह से आपको खून चढ़ाने की संभावनाएं भी बन जाती हैं। कुछ दुर्लभ मामलों में आपको हिस्टेरेक्टॉमी का भी सामना करना पड़ सकता है। इससे गर्भाशय और चीरे के घाव में संक्रमण की संभावना भी बढ़ जाती हैं। 

(और पढ़ें - गोरा बच्चा पैदा करने के उपाय से जुड़े मिथक)

अनियोजित सिजेरियन डिलीवरी से गर्भ में पलने वाले बच्चे को दीर्घकालिक तंत्रिका क्षति या मृत्यु होने का भी खतरा होता है। ऐसा होने की संभावना बहुत कम होती है, लेकिन फिर भी अनियोजित सिजेरियन डिलीवरी से होने वाले खतरे सामान्य डिलीवरी या नियोजित सिजेरियन डिलीवरी से कहीं अधिक होते हैं।

(और पढ़ें - गर्भाशय संकुचन क्या है)  

दोबारा सिजेरियन डिलीवरी सिजेरियन डिलीवरी के बाद नॉर्मल डिलीवरी
सर्जिकल प्रक्रिया का सामान्य जोखिम गर्भाशय फटने की संभावना 1% से कम होती है। अगर गर्भाशय फट जाता है तो आपको रक्त की कमी, हिस्टरेक्टॉमी, मूत्राशय (bladder) को नुकसान, संक्रमण, और रक्त के थक्कों संबंधी समस्या हो सकती हैं।
करीब चार दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है करीब दो दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है
सर्जरी के घाव, गर्भाशय और मूत्राशय में संक्रमण हो सकता है अगर नॉर्मल डिलीवरी नाकामयाब हो और सिजेरियन डिलीवरी करवानी पड़े, तो ऐसे में संक्रमण का खतरा दोगुना हो जाता है।
मूत्राशय, आंत और उसके पास के अंगों पर चोट लग सकती है  बच्चे के जन्म के समय मुश्किल आने पर योनि के फटने और सर्जिकल चीरा लगाने की जरूरत पड़ सकती है।
सर्जरी के दौरान लगे चीरे में दर्द हो सकता है। कुछ समय के लिए योनि के पास दर्द महसूस हो सकता है।
बच्चे को सांस संबंधी समस्या हो सकती है, लेकिन ऐसा बहुत कम होता है। बाहर आते समय बच्चे के फेफड़े साफ हो जाते हैं।
ऑपरेशन के बाद पैरों और पेल्विक में खून का थक्का बन सकता है।  
एक से ज्यादा बच्चे चाहने वाली महिलाएं यदि हर बार सिजेरियन डिलीवरी कराएं तो इससे उनको खतरा हो सकता है।  

 

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें